Tag «desi sex story»

बिना पनटी के एरपोर्ट पे जिस्म की नुमाइश

अब आयेज… मैं बेड पर लेती रहती हूँ तभी राकेश सिर कार पार्क कर के उपर आजाते हैं. और मुझसे बोलते माही तैयारी करो चलने की 10:25 की फ्लाइट है हम लोगो की और टाइम सुबह के 6 बजने वेल हैं. इंटरनॅशनल फ्लाइट सो कम से कम 4 घंटे पहले तो एरपोर्ट जाना ही होगा. …

गॅंडू पति की बीवी को चोदा

हेलो फ्रेंड्स, मेरा नाम सोनू शर्मा है और मैं अभी देल्ही मे रहता हू. वैसे मैं महाराष्ट्रा (बुल्डनना) का रहने वाला हू. मैं 23 का हू और मेरे लंड 7 इंच का है. आपका काफ़ी अक्चा प्यार मिला मेरी पिछली स्टोरी पे उसके लिए दिल से सूकरिया “पड़ोस की नेहा आंटी-2” तो चलिए अब स्टोरी …

मारवाड़ी भाभी को चोदा

हेलो फ्रेंड्स, कैसे हो आप सब. मैं फिर से अपनी न्यू सेक्स स्टोरी लेके आया हू. आप सब को हॅपी दीवाली. यह स्टोरी बहोट ही सेक्सी और प्यारी है. इससे पढ़ कर मैल ज़रूर करे और बताए की कैसे लगी मेरे स्टोरी. यह स्टोरी मेरे और एक मारवाड़ी भाभी की सेक्स स्टोरी है. मैने उससे …

आंटी की चूत का भोसड़ा बनाया

धुआंधार ठुकाई से आंटी का पानी निकल चुका था। मैं अब भी आंटी को जमकर चोद रहा था। आंटी को बजाने में मेरे लण्ड को अलग ही मज़ा आ रहा था। आज मैं मेरे लंड की कई दिनों की प्यास को बुझा लेना चाहता था। “आहहह आह्ह सिससस्स आहाहाह आह्ह आहाः ओह उन्ह ओह सिसस्ससस्स।” …

ब्राउन गर्ल रतिका के साथ सेक्स

दोस्तो मैने काफ़ी वक़्त पहले एक कहानी लिखी थी जिसका नाम था ‘चुदाई एक्सप्रेस‘. ये उसका सीक्वल है. जिन्होने वो कहानी नही पढ़ी आप पहले वो पढ़ लेना. एक दिन मैं अपने ऑफीस मे काम कर रहा था तभी मुझे कॉल आया मैने देखा तो वो रतिका का था. रतिका और मेरी अक्सर बातें होती …

गाओ की शादी के मज़े-3

ही ड्के फॅमिली कैसे हैं आप लोग उमीद है पिछले पार्ट अकचे लगे होंगे आप लोगो को. अब आयेज.. कों था उस खेत मे जो चुदाई के इतने मज़े ले रहा था. जब मई और सारा ने झका तो हुमारे होश उड़ गये, और वो थे नेहा और प्रवीण. (शादी मे आया हुआ एक कज़िन). …

कमला की जवानी

तो मई हू विशाल और ये कहानी मेरे पर्सनल लाइफ से जुड़ी हुई है इसलिए मेरे दिल के बड़े क़रीब है. मई चाहता हू की अगर आप प्यारे रीडर्स को मेरी कहानी अच्छी लगे तो प्लीज़ मुझे ए-मैल करें. ताकि मुझे समझ आए की आपको मेरे कहानी अच्छे लगे या नही. साथ ही मई आयेज …

गुल की मोहब्बत

ये कोई कहानी नही बल्कि मेरे जीवन का हिस्सा है. इसे मैने बिल्कुल वैसा ही लिखा है जैसे ये बिता. इसमे केवल प्रेम है, विशुद्ध प्रेम. यह मोहब्बत है गुलनाज़ की. खत-खत, खत-खत, दरवाजे पर दस्तक हुई तो मैं उनिंदा सा उठा, दरवाजा खोला तो सामने वो खड़ी थी. झट से मैने पूछा की कौन …


error: Content is protected !!