पति के जूनियर का बड़ा लंड लिया

और दुसरे बूब को वो अपने हाथ से मसल रहा था. मेरे बुर में पानी आ गया था जिस से मेरी पेंटी गीली होने लगी थी. उसने कुछ देर के बाद मेरी मिडी उठाई और पेंटी को साइड में कर दिया और चूत को चाटने लगा. और फिर वो अपनी मर्दानी उँगलियों से चूत को सहला भी रहा था. और उस वक्त वो मुझे डार्लिंग, जानू, स्वीटहार्ट बुला रहा था. फिर उसने मेरी चूत को जितना चौड़ा कर सकता था उतना कर के अपनी जबान को अन्दर डाला. और वो अपने हाथ से मेरे बूब्स, जांघ और गांड को पकड़ के दबा रहा था.

फिर मैं कुछ देर में खड़ी हुई उसकी पेंट को खोला लंड देखने के लिए. अमित बोला, तुम्हारा पति आता ही होगा अभी रहने दो.

मैंने कहा, बस देख तो लेने दो मुझे एक बार.

अमित ने लंड बहार निकाला और मैं सोचने लगी की भले हसबंड आये लेकिन इस लंड को ले लूँ. लेकिन अमित ने मुझे धक्का दे के कपडे ज़िप बंद कर दी. और वो बोला आप भी सही कर लो अपने कपडे. और पांच मिनिट में मेरा हसबंड खाने का पार्सल ले के आ भी गया. हमने बैठ के खाना खाया. पूरी ट्रिप में मैं अमित के लंड के बारे में ही सोच रही थी कसम से!

फिर मैं और मेरे पति आगे उनकी बाइक पर और अमित पीछे अपनी स्कूटर ले के आ रहा था. स्कूटर की लाईट में वो मुझे लाइन मार रहा था. और मैं भी हसबंड की नजरों को बचा के उसे ही देख रही थी पुरे रस्ते में. अमित ने जाते वक्त इशारा दिया की वो कल कॉल करेगा मुझे.

अगले दिन मेरे पति को एक आउटस्टेशन पर जाना था तो वो चले गए. करीब 9 बजे अमित की कॉल आया. मैंने उसे कहा की आज मेरे पति बहार गए हे. वो बोला मुझे पता हे मैंने ही मेन बॉस को बोल के सेटिंग किया हे सब ताकि मैं अपनी जान से मिल सकूँ! उसने कहा की तुम्हारा पति कल आफ्टरनून से पहले आना नहीं हे और आज रात को मैं पूरा मजा दूंगा तुम्हे.

यह कहानी भी पड़े  ख्वाब था शायद

मैंने शाम से ही तैयारी कर ली थी लंड के लिए. मैंने अपनी सब से अच्छी ब्रा, पेंटी और उसके ऊपर ट्रांसपेरेंट साडी पहन ली. वैसे मैं साडी कम ही पहनती हूँ, मेरे हसबंड को मैं साडी में बड़ी अच्छी लगती हूँ हालांकि. जब अमित ने आ के दरवाजे को नोक किया तो मेरा दिल जोर जोर से धडकने लगा था. मैंने डोर ओपन किया उसे अन्दर लिया और फट से दरवाजे को बंद कर दिया. मैंने उसे कहा की मेरा बेटा बेडरूम में सो रहा हे.

उसने मेरी कमर में अपना हाथ रखा और ड्राइंग रूम के दीवान बेड पर ले गया मुझे. उसने मुझे कहा कल से हम बिछड़े तब से तुम्हारे बारे में ही सोच रहा था. और उसने कहा की कल के बाद तो मैं तुमसे और भी प्यार करने लगा हूँ. और उसने ये कह के मुझे एकदम टाईट हग दे दी और मुझे किस करने लगा. वो मेरे क्यूट लिप्स को जैसे अपने होंठो से खाने लगा था.

मेरी साडी का पल्लू निचे गिर चूका था. और वो मेरी एस यानी की गांड को दबा के मसल रहा था और मैंने भी उसके लंड को टच कर ही लिया. उसने अपना शर्ट खोला और उसकी ऊपर की सेक्सी बॉडी मुझे लुभा गई. मैं उसकी चेस्ट को लिक करने लगी क्यूंकि इतनी सेक्सी चेस्ट मैंने पहले कभी नहीं देखि थी. तब मैं अपनी पेंटी, साडी और ब्लाउज में उसके सामने खड़ी हुई थी.

उसने मुझे पीछे घुमाया और पीछे का सिन देखा. और फिर वो मेरी ब्रा के हुक्स को खोलने लगा. उसने कहा डार्लिंग तुम्हारी गांड बड़ी ही सेक्सी हे! मैंने हंस के उसके चहरे के ऊपर एक हाथ मारा और वो बोला, आज नहीं जाने दूंगा मेरी जानेमन को मैं!

यह कहानी भी पड़े  सेक्सी मेच्यूर भाभी गीता का चूत चुदाई

उसने अब मुझे पूरा न्यूड कर दिया और मेरी चूत को खोल के उसको किस देने लगा. मेरी हालत तो एकदम खराब हो गई थी. मेरे पति को ये सब कभी आया ही नहीं था, वो सिर्फ खोलो, डालो और निकालो वाला सेक्स करते थे. अमित ने अपनी पेंट और अंडरवेर भी निकाल दी और मैं उसके लंड को पकड़ के स्ट्रोक देने लगी थी. अमित के लंड के साथ साथ उसके बॉल्स भी एकदम बड़े बड़े थे जैसे की कोई बड़ा लेमन लटका हो वहां पर.

अब मेरी बेताबी एकदम ही बढ़ चुकी थी. मैंने निचे झुक के उसके बॉल्स को चूसा और फिर उसके लंड को अपने मुहं में डाल के चूसने लगी. वो अह्ह्ह अह्ह्ह्ह ओह्ह्ह करने लगा था. मैंने उसके बॉल्स पकडे और पुरे लंड को गले तक भर के चुस्से लगा दिए. वो मदहोश हो के अह्ह्ह अह्ह्ह्ह नाईस, वाऊ अह्ह्ह कर रहा था.

फिर अमित ने मुझे दीवान के ऊपर लिटा दिया और वो मेरे पेट के ऊपर चढ़ गया. उसने मेरे दोनों बूब्स को साथ में लगा दिया और बोला, इन्हें जोर से दबाओ दोनों तरफ से. मैंने ऐसे ही किया. अमित ने एक हाथ से अपने लंड को पकड़ा और वो मेरे निपल्स के ऊपर अपने लंड को घिसने लगा. मेरे बदन में उत्तेजना की एक लहर दौड़ गई. फिर उसने मेरे दोनों बूब्स के बिच में लंड को डाला और बूब्स फकिंग देने लगा.

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!