सेक्स कहानी सिलसला चुदाई का

उसने अपनी दोनो बाहें मेरे गले में डाल दो. शी लाइक्ड दा स्ट्रॉंग प्ले ऑफ माइ मसल्स.

“लव मी, जान,” उसने धीरे से मेरे कान में कहा.जैसे के वो जानती हो के मैं क्या सुनना चाह रहा हूँ. यही वो लाइन थी जो उसने मुझसे 10 साल पहले कही थी और उसके बाद हर साल कहती आ रही थी पर मैं क्यूँ कभी उसको प्यार ना कर सका, ये मुझे कभी समझ नही आया.

मैने उसे अपनी बाहों में उठाया और बेड पर गिरा दिया. शी सॅट देर स्माइलिंग अप अट मी. शी वाज़ ब्यूटिफुल, एलिगेंट, ग्रेस्फुल, जेंटल, काइंड आंड हॉट, ऑल अट दा सेम टाइम, एवेरितिंग आइ कुड वॉंट इन ए वाइफ.

“तो इसके अलावा और क्या चाहिए मुझे?” मैने दिल ही दिल में सोचा और मेरा ध्यान कोट की जेब में रखी रेवोल्वेर पर गया.

मैने अपना कोट उतारकर एक तरफ रखा और अपनी ज़िप नीचे की. मेरा खड़ा हुआ लंड फ़ौरन ही बाहर आ गया.

वो मेरा इशारा अच्छी तरह समझती थी. आख़िर ये पहली बार तो नही था के हम एक दूसरे से प्यार कर रहे थे. मुस्कुराती हुई वो उठकर अपने घुटनो पर बैठ गयी, अदा से अपनी ज़ुलफ को लहराते हुए एक तरफ किया और मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ा.

“उम्म, हा,” मेरे मुँह से निकल पड़ा. उसके हाथ कितने ठंडे थे. एक नज़र मैने ए.सी. टेंपरेचर पर डाली.

“यू आर सो हार्ड,” उसने कहा, और मुस्कुराते हुए मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया. हर टंग रेस्ड अराउंड थेथिcक टिप ऑफ माइ लंड अंटिल शी वाज़ लिटरली ड्रूलिंग. वो कभी दूसरी लड़कियों की तरह आराम से नही चूस्ति थी, सीधा लंड मुँह में लेते ही ऐसे चूसने लगती थी के मुझे लगता था के उसके मुँह में ही छूट जाऊँगा. आनंद की एक अजीब सी लहर मेरे पूरे शरीर में दौड़ गयी. मेरा लंड बेन्तेहाँ गरम हो चुका था और उसकी ठंडी गीली जीभ का टच एक अजीब सी उत्तेजना पैदा कर रहा था. खड़े खड़े मेरे पावं काँपने लगे और वो इशारा समझ गयी. वो लंड और भी तेज़ी से चूसने लगी. कभी मुँह में लेती तो कभी अपने होंठ लंड पर फिराने लगती.

यह कहानी भी पड़े  मुझे आंटी मत बोलो रंडी बोलो

आंड देन हर फिंगर्स रीच्ड आउट आंड फाउंड माइ बॉल्स. शी लाइट्ली करेस्ड देम, फोंदलिंगथें आंड प्लेयिंग वित देम और इसने जैसे मेरे दिल-ओ-दिमाग़ में एक जादू सा पैदा कर दिया. जिस तरह से मेरा लंड उसके मुँह में झटके खा रहा था, उससे मुझे पूरा यकीन था के वो भी समझ चुकी थी के मुझे कितना मज़ा आ रहा था. मैने अपने दोनो हाथों से उसके सर को पकड़े और अपने पेट की तरफ खींची लिया. मेरा पूरा लंड उसके मुँह गले तक उतार गया.

शी गॅस्प्ड, फीलिंग दा ब्लंट टिप ऑफ माइ कॉक बाउन्स ऑफ दा रूफ ऑफ हर माउत. शी स्वॉलोड हार्ड आंड देन माइ प्रिक रेस्ड पास्ट हर टॉन्सिल्स.
मेरा खड़ा लंड उसके गले के अंदर तक उतर चुका था. एक पल के लिए उसने पिछे हटने की कोशिश की, शायद उसका दम घुटने लगा था, पर फिर वो धीरे से शांत हो गयी और लंड के निचले हिस्से पर अपनी जीभ फिराने लगी.
कुच्छ पल बाद वो पिछे को हुई और लंड मुँह से निकाल कर लंबी लंबी साँस लेने लगी. देन शी टेन्स्ड हर जॉस और दांतो से मेरे लंड पर काटा. जिसमें मुझे तकलीफ़ होनी चाहिए थी उसमें भी मुझे मज़ा ही आया. आइ ग्रोंड. आंड शी इमीडीयेट्ली सक्ड इट बॅक इन हर माउत.

“… निकलने वाला है मेरा! बस करो, बस नही तो मुँह में ही निकल जाएगा! प्लीज़!”

उसने लंड मुँह से निकाला और पिछे को होकर बैठ गयी. मैने आगे बढ़कर उसका हाथ पकड़ना चाहा पर वो तेज़ी के साथ पिछे होते हुए आराम से लेट गयी और मेरी तरफ देख कर मुस्कुराने लगी.

यह कहानी भी पड़े  पहली चुदाई मैंने अपनी टीचर के साथ की

मैने अपनी पेंट के बटन खोले और उसको उतार कर पूरी तरह नंगा हो गया. मुझे देखते हुए उसने भी अपने गाउन के स्ट्रॅप्स अपने शोल्डर्स से खिसकाये और लेटे लेटे ही गाउन सरका कर अपने घुटनो से नीचे कर दिया.

हमेशा की तरह वो नीचे से नंगी थी. गाउन के नीचे कुच्छ भी नही था.

“फक मी नाउ” उसने अपनी बाहें मेरी तरफ फेलाइ “लव मूव, चोदो मुझे”

वो अच्छी तरह जानती थी के मुझे बिस्तर पर इस तरह की बातें कितना एग्ज़ाइट करती थी और वो इनका इस्तेमाल करना भी बखूबी जानती थी. बिस्तर पर चढ़ता हुआ मैं उसके करीब पहुँचा.

उसने अपनी टांगे धीरे से फेलाइ और हवा में उपेर को उठा ली.

“मेरी चूत को तुम्हारे लंड का इंतेज़ार है. आ जाओ. चोदो मुझे”

ये मेरे लिए बहुत से कहीं ज़्यादा था. मेरा लंड पूरे जोश में आ गया और मैं फ़ौरन उसकी टाँगो के बीच आ गया. लंड हाथ से पकड़ कर उसकी चूत पर रखा.

“गेट इन …. इन वन शॉट …” उसने नीचे से अपनी गांद उपेर को उठाई.
मैने ज़ोर से धक्का मारा और मेरा लंड उसकी गीली चूत में अंदर तक धस गया.

Pages: 1 2 3 4

Comments 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!