मेरे दोस्त का गॅंडू बाप

मैं दीवानो की तरह अपने दोस्त के बाप की गॅंड मार रहा था, अंकल ने जब अपनी गॅंड से मेरे लवडे को दबाया मैं तो जैसे पागल हो गया मैं पूरी जोश मे अंकल के होट अपने होठों मे लिए और चूसने लगा.

अंकल ने अब मेरे पसीने से भरे बदन को नीचे लेटे लेटे चूमने लगे, अन्न्न्कीई आन्न्नन्किित्त्त आआहह बेटाहह, आंक्‍ाअल्ल ओह आंकााआआाअल्ल्ल ह ह अहह मैं पागल घोड़े की तरह संवार था.

कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट सेक्षन मे ज़रूर लिखे, ताकि देसीकाहानी पर कहानियों का ये दौर आपके लिए यूँ ही चलता रहे.

बेटा लॅंड का पानी गॅंड मे ही डालना लव यूहह अंकित आअहह मज़ा आरा हैं मेरे मर्द तूमम्म क्या चोदते हो आअष्ह मैं भी मधहोश उनपर हिल रहा था अंकलल्ल्ल यहह तोह्ह्ह्ह्ह बॅडलक्क है राहुल्ल्ल तुम्हाराआआअ बेटा है नही आअहह अपकू पता नही वो कैसे आह चोदताह हैं उउंम लड़की दो दिन तक आ ह ठीक से चल नही आ अहह आहह पाती..

तूमम्म बस सोचो की माइइ आह आह आह राहुल्ल्ल हुउऊउ ओउउऊर तुम्हारी आह आह आह मार र्ररर रहा हू अहह मेरे लंड का पानी फवारे की तरह अंकल की गॅंड मे गिरने लगा अंकल ने ज़ोर से मेरे कंधो को पकड़ा और आँखें बंद करके कहा रहुल्ल. देसी सेक्स स्टोरीस

Pages: 1 2

error: Content is protected !!