प्लेबाय जॉब के कारण मा को चोद ना पड़ा

हेलो दोस्तों, मेरा नाम अंकित गुप्ता है, और आज मैं आ आपको अपने जीवन की एक ऐसी घटना के बारे में बताने जेया रहा हू, जो शायद ही किसी के साथ हुआ होगा.

सबसे पहले मैं अपने और अपनी फॅमिली के बारे में बता डू. दोस्तों मैने पिछले साल ही अपना कॉलेज ख़तम किया है, आंड अभी जॉब कर रहा था. मेरी फॅमिली में मैं, मेरी मा, और पापा ही रहते है.

मा की आगे 40 यियर्ज़ है, पापा की 56 यियर्ज़, आंड मैं अभी 22 साल का हू. मेरी मों की कम उमर में शादी हो गयी थी, इसलिए उनकी और मेरी आगे में गॅप कम है. हम लोग एक नॉर्मल फॅमिली से आते है, और मेरी मा भी एक धार्मिक लेडी है. इसलिए मुझे बचपन से ही उनके प्रति कभी कोई ग़लत भावना नही प्रकट हुई.

मैं कॉलेज ख़तम करके प्राइवेट इंटीरियर डिज़ाइनिंग का जॉब करने लगा था. मगर मेरी जॉब से मुझे उतना पैसा नही मिल पा रहा था, और यहा मेरे घर में मेरे दाद की दुकान ऑनलाइन बिज़्नेस की वजह से उतना ख़ास नही चल रही थी. मेरी मों की भी एक्सपेक्टेशन बहुत थी मुझसे.

मुझे उन्हे हर मंत 10 थाउज़ंड देने होते थे. मैने कभी पूछा नही वो पैसे क्या करती थी. जब मेरा खुद का खर्चा बढ़ने लगा तो मैं ड्रिंक करने लगा. उससे मेरी बजेट और ज़्यादा हिलने लगी. मेरा एक दोस्त है, जिसका पोलिटिकल बॅकग्राउंड है. उसने मुझे एक सजेशन दिया. उसकी जान-पहचान वाले के एस्कॉर्ट चलते है, उसमे सिर्फ़ फीमेल नही माले की भी जॉब होती है.

पहले तो मुझे अजीब लगा. मगर जब उसने मुझे पेमेंट का समझाया, तो मेरी आँखें खुली की खली रह गयी. हर सेशन का 3000 और मंत में 8-12 सेशन आराम से मिलेंगे.

काफ़ी सोच विचार करने के बाद मैं एस्कॉर्ट में चला गया, और पिछले 3 मंत से मैं एस्कॉर्ट में काम कर रहा हू. आपको मैं बता डू, जिस एस्कॉर्ट में मैं काम करता हू, वाहा फीमेल क्लाइंट आंड माले एस्कॉर्ट दोनो का फेस पूरा मास्क से कवर होता है, सिर्फ़ लिप्स खुले होते है. आप रे म्यस्तेरीओ के मास्क को समझ सकते है.

इस सिस्टम की वजह से फीमेल क्लाइंट्स बिंदास रूम में मास्क लगा कर एंजाय करती थी, और मुझे भी फुल सेफ्टी हो गयी थी, की कोई जान-पहचान का आ भी गया तो कुछ नही होगा.

यहा पर दो टाइप की सर्वीसज़ होते थी. पहले लॅडीस हॉल में स्ट्रीप डॅन्स होता है. जहा मैं और मेरे जैसे एस्कॉर्ट बाय्स न्यूड होते है, सिर्फ़ मास्क लगा के. फिर लॅडीस आती है, और वो हमारे प्राइवेट पार्ट्स के साथ खेलती है और ड्रिंक करती है. फिर अगर किसी को पसंद आए, देन उसे फर्स्ट फ्लोर में सेक्स के लिए शिफ्ट किया जाता है.

सब कुछ ठीक चल रहा था. मैं अपने घर में खूब पैसे देने लगा था. मेरी मों भी अपने फ्रेंड के साथ खूब सारी शॉपिंग करती थी. मेकप करती थी. ऐसा लग रहा था जैसे उनकी आगे 10 साल कम हो गयी हो. वो अक्सर अपनी फ्रेंड मीनल आंटी के साथ शॉपिंग करने लगी थी. कभी-कभी घूमने भी जया करती थी.

बात आज से 5-6 दिन पहले की है. मेरी मों ने मुझसे अचानक 20क माँग लिए. मैने भी हेस्ट-हेस्ट दे दिए. उस दिन मीनल आंटी के साथ मों शॉपिंग करने गयी. शाम में मों शॉपिंग से जब वापस आई, तब मों खुश थी और उन्होने कहा-

मों: बेटा रूको, मैं तुम्हे अपनी नयी सारी पहन के दिखती हू, जो मैं कल मीनल की पार्टी में पहनुँगी.

फिर वो बातरूम में ब्लॅक सारी लेके चली गयी. कुछ देर बाद मुझे क्या हुआ पता नही मैं देखने लगा और क्या-क्या शॉपिंग करी थी सारी के साथ. तब मैने बाग में जो देखा, मेरी आँखें फटी के फटी रह गयी.

मैने देखा मों ब्लॅक कलर की ट्रॅन्स्परेंट पनटी आंड ब्रा भी लेकर आई थी आंड कॉस्ट्ली परफ्यूम्स भी. मैने जल्दी से वापस बाग में रख दिया सब, और सोचने लगा अचानक ये सब क्यूँ लिया था मम्मी ने. क्यूंकी मेरा पापा तो दुकान से आते ही सो जाते थे, और वो कही घूमने भी नही जाते थे.

कुछ देर बाद मों बातरूम से आई आंड यकीन करे दोस्तों, कोई बोल नही सकता उनका 22 साल का बेटा होगा. बहुत सुंदर लग रही थी वो. क्यूंकी मेरे दिमाग़ में उनके प्रति कोई गंदी भावना नही थी, मैने वेरी नाइस कहा, और अपने काम में बिज़ी हो गया.

अगले दिन मेरा रोज़ की तरह ड्यूटी का टाइम हुआ. मैने खाना खाया और ड्यूटी पर चला गया मेडिसिन्स लेने. आपको बता डू हम प्लेबाय को एक मेडिसिन दी जाती थी, उससे हमारा पेनिस लंबे समय तक खड़ा रह पाता था. मैं और मेरे 4 प्लेबाय्ज़ रेडी होके रूम में थे. हमेशा की तरह लॅडीस पार्टी जाय्न करने लगी, और हम लोग अपना काम करने लगे.

मैं सेडक्टिव डॅन्स कर रहा था, की अचानक मेरी नज़र ब्लॅक सारी वाली लेडी के उपर पड़ी. वो बिल्कुल वही सारी पहने थी जो कल मा ने पहन के दिखाई थी. मेरा दिल ज़ोर-ज़ोर से धड़कने लगा. मैने देखा वो लेडी के साथ एक और लेडी है जिसकी शेप मीनल आंटी से मिलती जुलती थी.

मुझे लगने लग गया था, की ये मेरी मा ही थी. मगर मैं कन्फर्म नही बोल सकता था. क्यूंकी मास्क इतना सॉलिड होता है, की किसी को देख के पहचानना नामुमकिन होता है.

खैर मैं इग्नोर करने की कोशिश करने लगा, और एंजाय करने लगा. मैं उन दोनो से दूरी बनाए रखा. वो दोनो दूसरे प्लेबाय्ज़ के साथ एंजाय करने लगी. मैने भी सोचा छ्चोढो, अगर मेरी मों भी हुई तो क्या. मीनल आंटी लेके आई होगी न्यू जगह एक्सप्लोर करने. वैसे भी पापा बुज़ुर्ग हो गये है.

करीब 15 मिनिट के बाद उन दोनो को क्या हुआ, वो मेरे पास आ गयी और मेरे पेनिस से खेलने लगी. मैं कुछ बोल भी नही सकता था बॉस जब नज़र लगाए रखता था. मैने खेलने दिया, और मैने भी उनका साथ देना स्टार्ट किया.

तभी मीनल आंटी के मूह से निकला: देखा अंजलि, असली मज़ा लाइफ का ये है. मेरे होश उडद गये क्यूंकी ये मेरी मों आंड उनकी फ्रेंड थी. मों फिर मेरा हाथ उठा कर अपनी नेवेल में टच करने लगी. मैं बहुत अनकंफर्टबल था क्यूंकी उस टाइम तक भी मेरे अंदर कोई ऐसी फीलिंग नही थी. मैने सोचा मों को इग्नोर करके मीनल के साथ एंजाय करता हू. फिर मैं मीनल आंटी को टच करने लगा.

मगर मुझे नही पता था इसका मेरी मा पे उल्टा असर पड़ेगा. फिर वो मीनल आंटी को साइड लेके कुछ कहने लगी. मीनल आंटी और मा बॉस के पास गयी और वाहा से चली गयी. मैने सोचा चलो अछा हुआ. मगर तुरंत बॉस मेरे पास आए, मुझे और मेरे साथ राभि जो प्लेबाय है, दोनो को उपर जाने को कहा. मुझे 7 नो. रूम में जाने को बोला, और कहा एक घंटे की बुकिंग है, फुल एंजाय्मेंट देना.

मैं उपर रूम में गया, और जैसे ही अंदर देखा मेरे होश उडद गये. किस और डॅन्स तक तो ठीक था, लेकिन ये सेक्स. मेरे पसीने छ्छूटने लगे. मुझे कुछ समझ नही आ रहा था की मैं यहा कैसे फ़ासस गया. फिर कुछ हिम्मत करके मैं आयेज बढ़ा, और सोचा मों को सच बता डू, और बिना कुछ किए उनको जाने को बोलू ताकि इज़्ज़त बची रहे.

जैसे ही मैं उनके करीब गया, उन्होने मुझे लीप लॉक कर लिया, और ज़ोर-ज़ृ से मेरे लिप्स चूसने लगी. मैने भी साथ दिया. पता नही क्यूँ मुझे तोड़ा-तोड़ा अछा सा लगने लगा. फिर वो बोलने लगी, और मैं भी आवाज़ बदल कर बोलने लगा.

मों: दोस्त आज 6 साल बाद मुझे इतनी खुशी मिला है, थॅंक योउ. मेरी पति ने मुझे 6 साल से हाथ भी नही लगाया.

ये बात सुन के मुझे बहुत मज़ा आया.

मैं: कोई बात नही डियर, आज मैं पूरा मज़ा दूँगा.

मों: मेरे कपड़े तुम उतारोगे या मैं खुद उतारू?

मैने उनकी बात सुनते ही उनकी सारी और पेटिकोट उतार दिए. मैने देखा मों वही ट्रॅन्स्परेंट ब्रा पनटी पहने हुए थी. जैसे ही मैने मों की पनटी उतरी, यकीन करे दोस्तों, ऐसी चिकनी बर मैने किसी की इस उमर में नही देखी. बर पूरी गोरी आंड क्लीन-शेव्ड थी. स्किन इतनी ग्लो कर रही थी, की मेरी आँखें फटी के फटी रह गयी.

मैने उनकी खूब मसाज की, बूब्स सक किए. फिर सेक्स करना स्टार्ट किया. 20 मिनिट के बाद भी वो रुकना नही चाहती थी, और लगभग दो बार झड़ने के बाद मैने उनको कहा-

मैं: माँ, टाइम हो गया है.

मों: तुम यही रहते हो ना? फिर अवँगी मैं.

मैं: माँ एक बात काहु, अगर आप यकीन करे, और मेरे बॉस से शेर ना करे तो?

मों: बोलो-बोलो, क्या बात है?

मैं: माँ बार-बार यहा आपका बहुत पैसा वेस्ट होगा. आप एक काम कीजिए, मुझे अपना नो. दे दीजिए. मैं आपसे संपर्क करूँगा.

मों: तुम अपना नो. दो, मैं सवे करती हू.

मैं: नो माँ, मेरे को नो. याद नही, और मेरा फोन नीचे है, और ग़लती से भी बॉस को पता चला मैं प्राइवेट सर्वीसज़ देने लगा, तो मेरी जान पे बात आ जाएगी.

मों: ओक मेरा नो. लो.

मैं: मैं झुत-मूठ ही बेड के पूछे लिखने का नाटक करने लगा, क्यूंकी मुझे मों का नो. याद ही था.

मों: बाइ डियर

नेक्स्ट पार्ट में बतौँगा मैने 2 दिन पहले मों को कैसे चोदा.

यह कहानी भी पड़े  बार में शुरू हुआ गॅंडू लोगों का गॅंडू-पन्न


error: Content is protected !!