मस्त मारवाड़ी भाभी की चुदाई

अब मैने एक एक करके उसकी साड़ी उतार दी और उसके बूब्स ब्लाउस के उप्पर से ही दबाने लग गया. मेरे ऐसे दबाने से एक तरफ भाभी मस्त मज़े ले रही थी और उधर मेरा लोडा भी खड़ा हो कर फाड़ने के लिए तैयार हो गया था.

मैने अब बिना कोई देर किए उसका ब्लाउस उतार दिया और उसे उप्पर से नंगी कर दिया. नंगी होते ही मेरा लंड खुद को ऐसे तड़पते हुए बर्दाश ना कर सका तो उसके कहने पर मैने उसे पूरा ही नंगा कर दिया.

अब मैं उसके मस्त लचीले शरीर को चाटने लग गया, चूसने लग गया जिससे उसके मूह से आअहह आहह की आवाज़े निकलने लग गई. फिर मैने उसकी टाँगे उठाई और उसकी चूत पर अपना मूह रख डाला..

मूह रखते ही उसके मूह से लंबी सी आहह आहह निकल गई और वो मछली की तरह तड़पने लग गई. फिर मैने उसके कहने पर लंड को चूत पर रखा और बिना कोई रेहेम किए ज़ोर से लंड को चूत मे डाल दिया.

चूत मे लंड जाते ही जैसे भाभी को मज़ा आ गया और मज़े मे गांड हिला हिला कर मेरा साथ देने लग गई. मुझे इसमे काफ़ी मज़ा आ रहा था और मैं भी अब जबरदस्त तरीके से चुदाई करने लग गया.

करीब 30 मिनिट की चुदाई के बाद मेरे लंड ने बारिश करी जो की मैने उसकी गुफा मे ही कर दी और वो भी अब तक 5 बार झड़ चुकी थी. अब हम दोनो कुछ देर लिपट कर सो गये और फिर जब उठे तो मैने उसे प्यारी सी किस करके वाहा से चल दिया.

यह कहानी भी पड़े  प्यास बुझाई बगल वाली भाभी की

Pages: 1 2

error: Content is protected !!