मैं केसे एक जिगलो बना

फिर आंटी ने मुझे ज़मीन पर लेटा कर मेरा लॅंड अपनी गॅंड मे डालकर उछलने लगी और मेरे हाथ अपने बूब्स पर रख दिए और मैने तेज़ी से दबा-दबा कर उनको और ज़्यादा मज़ा दे रहा था और फिर वो डॉगी बन गयी मैने पीछे से गॅंड मारने लगा और आंटी अपनी दो उंगलियाँ चुत मे डाल कर और तेज़ और तेज़ चोदो चिल्ला रही थी, करीब 20 मिनट गॅंड मारने के बाद मैं उनकी गॅंड मे ही झड़ गया और आंटी बहुत तेज़-तेज़ साँसे लेते हुए मुझे स्माइल पास करने लगी, फिर एक लंबा किस दिया उसके बाद हमने एक दूसरे को शोवर दिया और फिर बाहर आ कर अपने-अपने कपड़े पहने और फिर आंटी ने मुझे अपनी पॉकेट मे से 5000 रुपये दिए और बोली तुम चाहो तो मैं तुम्हें रोज़ इतना मज़ा और इससे ज़्यादा पैसा दूँगी, मैं बोला हान मुझे ज़रूरत है तो आंटी ने नंबर एक्सचेंज किया और बोली तुमको मेरी बहुत सारी फ्रेंड को चोदना होगा, वो तुमको मज़ा भी देंगी और पैसे भी जब भी दिल करे मुझे कॉल कर देना मैं अपनी फ्रेंड्स को तुमसे मिलवा दूँगी, मैं थॅंक्स बोल कर वाहा से निकल गया और उसके बाद मैने बहुत सारी आंटीस को चुदाई का सुख दिया, वो मैं आप लोगो को नेक्स्ट स्टोरी मे बतौँगा.

और हान किसी भी फीमेल्स को मेरी सर्विस चाहिए तो मुझे मैल करे और मालेगाओं की फीमेल्स से हो किसी भी उमर की नो प्रॉब्लम फुल प्राइवसी, मेरी मैल आईडी है “[email protected]”, थॅंक्स ऑल लव यू बाइ. कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट्स मे ज़रूर लिखे, ताकि हम आपके लिए रोज़ और बेहतर कामुक कहानियाँ पेश कर सके – डीके

यह कहानी भी पड़े  शादी मे चुदाई इन कानपुर

Pages: 1 2

error: Content is protected !!