मैं और मेरी मौसी

फिर मैने देखा की मौसी ने अपने पेटिकोट का नाडा खोल दिया था और मुझसे कहने लगी “मैने तेरे लिए कुछ किया अब तू भी मेरे लिए कुछ कर”, मैने कहा “आप बोलिए क्या करना है?”, मौसी ने कहा “मैं तुझे सिखाती हूँ चुत को कैसे चोदा जाता है, तू तेरा लॅंड मेरी चुत मे पेल दे, फिर मज़ा देख”, ये सुन कर मेरे होश ही ठिकाने पे नही रहे, मैं उठा और मौसी के पैरो को फैला दिया, उनकी चुत फूल गयी थी और थोड़ी गीली भी हो गयी थी, मौसी ने कहा “देख क्या रहा है, डाल दे अपना लॅंड चुत मे”, मैने ज़ोर का झटका मारा और पूरा लॅंड चुत मे पेल दिया, मौसी के महू से चीख निकल गयी और आँख से आँसू भी मैं वैसे ही रुक गया, थोड़ी देर रुकने के बाद मैने धीरे-धीरे झटके देना स्टार्ट किया, कभी मैं मौसी को किस कर रहा था, कभी उनके बूब्स को चूस रहा था, मौसी के लिप्स को तो पूरा गीला ही कर दिया था मैने, कुछ देर बाद मौसी ने कहा वो झड़ने वाली है, मैने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी थी, जैसे-जैसे मैं झटके देता था उनके बूब्स उछलते थे, ये देख के और भी मज़ा आता था, मौसी झड़ चुकी थी पर मैं अभी तक चोद रहा था, मैने स्पीड और भी तेज़ करदी.

मौसी ने कहा “हाए कितना अछा चोद ता है रे तू, तुझसे ही शादी की होती तो अछा होता, जब तक तू यहा है रोज़ मुझे चोदने आया कर, तेरी मा को मैं समझा दूँगी”, मैने कहा “हान, रोज़ आउन्गा और चोद्न्गा तुझे, तेरी चुत मेरे लिए हमेशा खुली रखना”, मौसे ने कहा “कभी भी आजा ये चुत अब तेरी है”, मेरे झटकों की स्पीड और तेज़ हो गयी थी, अब मैं झड़ने वाला था, मौसी ने कहा “लगता है तू झड़ने वाला है प्लीज़ बाहर निकाल देना अंदर मत झड़ना”, मैने कहा “चुत का मालिक मैं हूँ, मैं जहा चाहूं वाहा अपना माल डालूँगा, मैं तो तेरी चुत मे ही झड़ने वाला हूँ”, मौसी ने कहा “नही ऐसा मत करना वरना मैं गर्भवती हो जौंगी”, मैने कहा “मेरा लंड ले सकती हो तो मेरा बच्चा क्यो नही, अब तो जब तक तू गर्भवती नही हो जाती तब तक मैं तुझे चोदत ही रहूँगा”, ये सुन कर मौसी रोने लगी और बोली “भगवान के लिए ऐसा मत करो”, मैं कहा सुनने वाला था, मेरे झटके और भी तेज़ हो गये थे, आख़िर मैने एक ज़ोर का झटका दिया और मैने पिचकारी चुत के अंदर ही मार दी और थक के मौसी के उपर लेट गया, मेरे लॅंड से निकला हुआ माल अब मौसी की चुत से बह रहा था, मौसी रो रही थी क्योकि वो जानती थी की ये अंत नही शुरूवात है. आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी प्लीज़ नीचे दिए गये कॉमेंट सेक्षन मे कॉमेंट लिखे और मुझे ज़रूर बताइए या आप मुझे मैल भी कर सकते है, मेरी मैल आईडी है “[email protected]”. कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट्स मे ज़रूर लिखे, ताकि हम आपके लिए रोज़ और बेहतर कामुक कहानियाँ पेश कर सके – डीके

यह कहानी भी पड़े  ऑफिस के अंदर चोदा बरखा को

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!