Hindi Porn Kahani हरामी बलमा

जब राजा सब कुच्छ चाट चुका था तो मैने ज़कु को नीचे लिटा दिया और उप्पेर चढ़ कर उसके लंड पर अपनी चूत रगड़ने लगी,” ज़कु, मेरे मालिक अब तो अपनी बीवी को चोद सकोगे या नहीं? पहली बारी में तो मूह में ही झाड़ गये थे, अगर मर्द हो तो अब चूत में झाड़ कर बतायो. बहनचोद औरत की चूत चोदने के लिए होती है, ना कि उसका मूह, अब खड़ा करो और चोदो मुझे अगर आगे से मुझे पत्नी कहना है तो.” मैने ज़कु को भी उकसाने की कोशिश की. मेरी चुचि उसके मूह के पास लटक रही थी. उसने मेरे निपल को मूह में ले लिया और नीचे से उसका लंड मेरी चूत के दरवाज़े पर दस्तक दे रहा था. मैने उसको और छेड़ा,” ज़कु, बेटा, शाबाश, मम्मी की चुचि चूस रहे हो? चूसो बेटा, पी लो मम्मी का दूध.”

ज़कु तिलमिला उठा और उसने मेरे चूतड़ कस कर थाम लिया और मुझे अपने लंड पर गिरा दिया. उसका हलब्बी लंड एक ही झटके में मेरी चूत में घुस्स गया. मेरी चूत पहले ही अपन जूस से चिकनी हो चुकी थी. मैने उप्पेर से झटके मारते हुए चुदवाना शुरू कर दिया. उसका मोटा लंड मुझे बहुत मज़ा दे रहा था,” राजा भाई, देख तेरा दोस्त तेरी बेहन को ठीक से चोद रहा है ना? अपनी रान्ड को चुदते हुए देख कर मेरा बालमा मज़े ले रहा है ना? राजा भाई, तुमने मुझे अपने दोस्त को तोहफे के रूप में देकर साबित कर दिया है कि तुम अपनी बीबी के दलाल हो. अपनी बीबी के नंगे जिस्म से लंड खड़ा हो रहा है ना तेरा. अपने दोस्त के लंड का रस पीने वाले नमार्द साले देख क्या हो रहा है? अब चोद ले अपनी बेहन की गांद भी साले”

यह कहानी भी पड़े  55 साल की मोटी आंटी की चूत मारी

राजा अपनी बे-इज़्ज़ती को भूल कर मेरे पीछे जा खड़ा हुआ और मेरी गांद चाटने लगा. फिर उस्णे मेरी गांद पर अपना लंड टीका दिया और उस्खो अंदर धकेलने लगा. क्रीम लगी होने के कारण लंड घुसने में कोई खास परेशानी नहीं हुई और नंदिनी रंडी करने लगी दो दो लंडो से डबल चुदाई. नंदिनी साली का सॅंडविच बना हुआ था और ज़कु नीचे से और राजा उप्पेर से मेरी चुदाई कर रहे थे. राजा ने ठीक कहा था, ऐसी चुदाई का मज़ा औरत को रोज़ रोज नहीं मिलता. शराब का नशा और ज़कु और राजा के लंड मुझे जन्नत की सैर करवा रहे थे. मुझे नहीं याद की कितनी देर चुदति रही मैं, कितनी देर दोनो मर्द मुझे नोचते रहे. लेकिन मज़ा बहुत मिला मुझे. पहले झड़ने वाला राजा था जो हाँफ रहा था और मेरी गांद चोद रहा था,” ओह्ह्ह्ह ज़ाआन, मैं झाड़ा…..तुम चोद्ते रहो मेरी नंदिनी दीदी को…बहुत बड़ी गश्ती है आपकी बीवी……मुझे बहुत मज़ा देती है साली….ओह ज़कु चोद मेरी रान्ड को.”

ज़कु ने मुझे अपने सीने से चिपका लिया और चोदने लगा. मेरी चूत अंदर भी लावा फूटने को था. मैं ज़ोर ज़ोर से ज़कु के लंड पर चूत मार रही थी.” ऊऊओह नंदिनी……मैं झार रहा हूऊऊ……अहह मैं झराअ” मेरी चूत का बुरा हाल था, रस नदी के समान बह रहा था.” मैं भी गइईई मालिक…मेरी चूत झड़ीईई” बस दोस्तो उसके बाद तो मुझे चुदाइ का ऐसा चस्का लगा की मैने अपने मुहल्ले का कोई भी जवान लंड नही छोड़ा जिससे मैने ना चुदवाया हो
समाप्त……………..

यह कहानी भी पड़े  रेलगाड़ी का सफर

Pages: 1 2 3 4 5 6 7

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!