भाभी ने सेक्स की गोली खिलाकर चूत चुदवाई

हम देख रहे थे कि वो थकने लगी है. हमने अब खुद ही उसके मुंह को चोदना शुरू किया. तेजी से उसके मुंह में लंड को घुसेड़ने लगा. वो पूरे लंड को अंदर तक ले रही थी. हमें गजब का मजा आ रहा था. इतना मजा हमें कभी नहीं मिला था.

तीन-चार तक मिनट तक भाभी के मुंह को हमने चोदा तो भाभी परेसान हो गई. अब वो अपने हाथ से हमारे लंड की मुठ मारने लगी. साथ ही वो लंड को अंदर लेकर चूस भी रही थी. अब उसके नर्म हाथ और गर्म मुंह का मजा हमको मिलने लगा. हम तेजी से उसके मुंह में गांड हिला कर लंड को दिये रहे. फिर दो मिनट में ही भाभी के मुंह में पानी निकाल दिये.

भाभी लंड का सारा पानी पी गयी. फिर वो मुझे दूसरे कमरे में ले गयी. वो कमरा बेडरूम था. वहां पर ले जाकर वो बतायी कि इसमें मेरे पति मेरी चूत को चोदते हैं. मैं तुमसे भी इसी कमरे में अपनी चूत को चुदवाऊंगी.

फिर वो मेरे सामने ही बेड पर चूत को फैला कर लेट गई. उसकी चूत में से अभी भी हल्का पानी लगा हुआ था. वो अपनी चूत को मसलने लगी. मैं भी उसके ऊपर चढ़ गया. उसकी चूचियों को दबाने लगा. उसके होंठों को पीने लगा.

अब वो फिर से गर्म होना सुरू हो गई थी. धीरे-धीरे हमें भी मजा आता जा रहा था. हमारा लंड टाइट बनने लगा था. हम उसकी चूत पर लंड को लगाना चालू किये तो लंड एकदम से खड़ा हो गया. हमारां लंड अब तन गया था.

फिर हमने भाभी की बुर में उंगली करना चालू किया. उसकी फुद्दी से अब फिर से रस चूना चालू हो गया. हम तेजी से उसकी चूत में उंगली करते रहे और वो बहुत ज्यादा गर्म होकर हमें पीठ में नाखून गड़ाने लगी. हम जान गये कि यह अब चुदाई के लिए रेडी है.

यह कहानी भी पड़े  साली को कुतिया बना के चोदा

हमने उसकी टांगों को फैला दिया. उसकी गांड के नीचे तकिया रखे और अपने मोटे, काले लंड को उसकी चूत पर टिका दिये.
वो बोली- आह्ह रामू, घुसेड़ दो इसको. बहुत खुजली कर रही है ये.
मैं बोला- हां भाभी, इस लंड में भी आपकी चूत के लिए बहुत दिनों से खुजली हो रही थी. आपकी प्यास को हम खूब बुझाएंगे अभी.
यह बोल कर हमने भाभी की चूत पर लंड को एक दो बार रगड़ा और फिर उसकी चूत में लंड को घुसा दिया.

हमारा मोटा लंड भाभी की चूत में घुस गया. वो एकदम से चिल्लाई तो हमने उसके मुंह पर हाथ से ढक दिया. फिर उसकी चूचियों को पीने लगे. हमारा लंड अभी आधा भी नहीं गया था.

थोड़ा रुक कर हम उसकी चूत में एक और धक्का लगाये तो उसकी आंख से पानी बह निकला. अब हम उसके होंठों को पीने लगे और उसकी चूचियों को दबाने लगे. धीरे-धीरे अब हमने पूरा लंड भाभी की चूत में घुसेड़ दिया.

फिर उसकी चूत में लंड को घुसा कर उसे गालों पर किस किया. अब वो हमको प्यार देने लगी. हम उसकी चूचियों को दबाते रहे और वो हमारे गालों पर चूमती रही. फिर वो अपने आप ही गांड को उठा कर हमारे लंड की तरफ धकेलने लगी.

हम जान गये कि उसकी चूत अब दर्द नहीं कर रही है. उसके बाद हमने उसकी चूत में लंड को धकेलना शुरू कर दिया. उसकी चूत में लंड को धकेलते हुए हम चूत को चोदने लगे. अब वो भी मजा लेने लगी.

भाभी की चूत में लंड पूरा अंदर जाकर फिर से बाहर आ रहा था. चूत से पच-पच होने लगी थी. मैं बहुत मजे में था. वो भी अपने मुंह से मस्ती में आवाज कर रही थी. आह्ह रामू … मेरी चूत को चोदो, और जोर से चोदो रामू, मैं बहुत दिन से लंड नहीं ली थी. ऐेसे बोल कर वो अपनी चूत को चुदवा रही थी.

यह कहानी भी पड़े  भाभी को प्रपोज़ कर के चुदाई

हम भी ताबड़तोड़ उसकी चूत को पेलने में लगे थे. फिर वो अचानक ही हमसे लिपटने लगी. उसकी चूत से गर्म पानी छोड़ दिया. उसकी चूत का पानी हमें अपने लंड पर महसूस किया. फिर वो आराम से लेट गई. मगर हम नहीं रुके.

आधे घंटे तक उसकी चूत को हमने बजाया. हम भी हैरान थे कि इतनी देर तक हम उसकी चूत को रगड़ रहा था. फिर हमारा पानी निकलने के लिए आ गया. हमने उसकी चूचियों को पकड़ लिया और उनको दबाते हुए उसकी चूत में कई शॉट मारे और फिर अंदर ही झर गये.

हमारा पानी उसकी चूत में चला गया. वो भी आराम से लेटी रही. हम उसके ऊपर पड़े रहे. उसके बाद हम अलग हुये तो देखा कि उसकी चूत हमारा सफेद पानी निकल रहा था. उसने उठ कर अपनी चूत को कपड़ा लेकर साफ किया.

उसके बाद हम नंगे ही लेट गये. रात को एक बार फिर से हमने उसकी चूत को बजाया. मगर अबकी बार हम दस मिनट में ही झर गये. हमें समझ नहीं आया कि अबकी बार हम भाभी की चुदाई ज्यादा देर तक क्यों नहीं कर सका.

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!