नैन्सी और अनम का मधुर मिलन

सम्पादक : वरिन्द्र सिंह

दोस्तो, आज मैं आपको अपनी एक बहुत ही सीक्रेट बात बताने जा रही हूँ। यह बात सिर्फ मुझे और मेरे बॉय फ्रेंड को ही पता है।
अगरदेखा जाये तो वो मेरा बॉयफ्रेंड भी नहीं है।
कई बार तो यह भी सोचती हूँ कि मैंने उसके साथ सेक्स करने के लिए हाँ कैसे कर दी, मगर अब जो हो गया सो हो गया।
आप मेरी बात सुनिए और मुझे बताइये के मैंने जो किया वो गलत किया या सही किया।

मेरा नाम नैन्सी है और मैं दिल्ली में रहती हूँ। घर परिवार बहुत अच्छा है, शादीशुदा हूँ, पति बहुत प्यार करते हैं, दो साल का एक बेटा है।
पति की सरकारी नौकरी है, आमदनी अच्छी है।

शादी से पहले भी सेक्स किया था
शादी से पहले मेरा एक बॉय फ्रेंड था, जिससे मैंने कई बार सेक्स भी किया था, मगर शादी के बाद मैंने एकदम से पतिव्रता नारी का धर्म निभाया, मैंने कभी किसी और की तरफ नहीं देखा।

देखने में मैं बहुत अच्छी हूँ, सुंदर हूँ, गोरा रंग, तीखे नयन नक्श, कजरारी आँखें, 32 बी साइज़ की ब्रेस्ट, उसके नीचे बहुत ही पतली सी कमर, और 32 कमर, कद है 5 फीट 3 इंच, लंबे काले बाल जो मेरी कमर तक आते हैं।
मुझे खुद को पता है कि मैं बहुत खूबसूरत हूँ, लोग मेरे हुस्न की तारीफ अपनी आँखों से करते हैं, जो मैं अक्सर पढ़ लेती हूँ।

मैं हर किस्म का पहरावा पहन लेती हूँ, जीन्स, टी शर्ट, स्कर्ट, साड़ी, सूट, स्लेक्स, काप्री बस बिकनी ही नहीं पहन कर देखी।
खैर अब मुद्दे पर आती हूँ।

यह कहानी भी पड़े  भाई और उसके चार दोस्तों ने खूब चोदा

हमारे पड़ोस में ही एक लड़का रहता है अनम, आज भी उनकी फ़ैमिली से हमारे बहुत अच्छे ताल्लुक़ात हैं, एक दूसरे के घर आना जाना
रहता है।
अनम मुझे भाभी कह कर बुलाता है, मेरा बहुत अच्छा दोस्त है।

उसने मुझे पूरी नंगी देख लिया
ऐसे ही एक दिन मैं घर में अकेली थी, तो सुबह का कोई 11 बजे का वक़्त होगा, पति दफ्तर जा चुके थे, मैं भी नाश्ता करके बेड पे लेटी टीवी देख रही थी।

अभी नहाई नहीं थी, रात वाली ही नाईटी पहनी थी।
एक तो नाईटी स्लीवलेस थी, दूसरे सिर्फ घुटनों तक की थी। अब इसका यह फायदा है कि बच्चे को दूध पिलाने में आसानी रहती है, और बच्चे के बाप के लिए ऊपर उठाने में भी आसानी रहती है।

तो मैं लेटी लेटी टीवी देख रही थी, तभी मेरा बेटा मेरे पास आया और मेरी छाती पर मुंह मारने लगा। मैंने अपनी नाईटी उठाई और उसको अपने सीने से लगा लिया।
वो दूध पीने लगा और मैं ना जाने कब फिर से सो गई।

थोड़ी देर बाद मेरी आँख खुली तो देखा मेरे बिल्कुल पास मेरा बेटा भी सो रहा था, मगर अनम बिल्कुल मेरे पास मेरे बेड पे बैठा था।
मैंने उसे देखा तो एकदम से मुझे अपना ख्याल आया, मैंने खुद को देखा, मेरी नाईटी बिल्कुल ऊपर गले तक उठी हुई थी, और इस हालत में मैं पूरी तरह से अनम के सामने नंगी होकर लेटी थी।

मैंने एकदम से हड़बड़ी में उठ कर अपने कपड़े ठीक किए- अरे अनम तुम कब आए?
अनम ने बड़े प्यार से जवाब दिया- भाभी, मुझे आए तो 15 मिनट हो गए!

यह कहानी भी पड़े  Bhabhi Ki Chikni Choot Chati

उसकी आँखों में शरारत साफ तैर रही थी, मतलब उसने मुझे बता दिया कि पिछले 15 मिनट से वो मुझे नंगी लेटी को देख रहा था। मैंने थोड़ा गुस्से में कहा- पर अगर अंदर आना था तो बैल बजा कर आते, यूं किसी के बेडरूम में चुपचाप से आना क्या अच्छा लगता है?

Pages: 1 2 3 4 5 6

error: Content is protected !!