फ्रेंड के साथ एमोशन्स से भरे सेक्स की कहानी

मेरा नाम काव्या है, और मेरी फिगर 34-27-36 है, और मेरी पड़ोसन का नाम सेजल है. उसका फिगर 36-30-38 है. हम दोनो के हज़्बेंड एक-दूसरे को लीके करते है, और वो हमे पता चल गया. आपने मेरी लास्ट स्टोरी नही पढ़ी तो वो पहले पढ़ लेना, आपको पता चला जाएगा. यहा से मैं मेरा लास्ट पार्ट कंटिन्यू कर रही हू.

सेजल: मुझे कुछ समझ नही आ रहा. मुझे सब अजीब लग रहा है. पर मेरे मॅन में बहुत कुछ चल रहा है.

काव्या: हा यार, हमारी एक ग़लती हमारा रीलेशन खराब कर सकती है.

सेजल: बात तो तुम्हारी सही है. पर मेरा मॅन कर रहा है (वो चुप हो गयी).

काव्या: क्या मॅन कर रहा है? अर्रे बताओ ना, अब हम आचे दोस्त है. तुम मुझे बोल सकती हो. और अब हमारे बीच कुछ भी च्छूपना नही चाहिए (ये बोलते टाइम मैं सेजल के पास गयी, और मेरे दोनो हाथो से उसका फेस पकड़ लिया).

सेजल ( मुझे टाइट हग करते हुए): कैसे बतौ तुम्हे? मुझे तेरी जैसी दोस्त नही मिलेगी कोई. और मैं तुझे खोना नही चाहती.

काव्या: अर्रे मेरी जान. तुम जो भी हो बिंदास बोलो. मुझे तेरी किसी भी बात का बुरा नही लगेगा. प्रॉमिस.

सेजल: मैं अनुज को बहुत लीके करती हू. मुझे वो बहुत क्यूट लगता है. उसके साथ टाइम स्पेंड करना अछा लगता है मुझे. मैं जानती हू ये ग़लत है, पर क्या करू?

मैं सच में उस टाइम शॉक्ड थी. मुझे नही पता था की सेजल भी अनुज को लीके करती थी. सेजल की बात सुन कर मेरा दिमाग़ हिल गया. रीज़न ये नही था की अनुज मेरा हज़्बेंड था. पर रीज़न ये था की सेजल की तरह मैं भी उसके हज़्बेंड प्रतीक को लीके करती थी. मैने सोच लिया की मैं भी उसको सच बता देती हू.

काव्या: मैं भी तुमसे आज एक बात कहना चाहती हू.

सेजल कुछ बोल नही रही थी. उसकी आँखों से आँसू निकल रहे थे. वो इस बात का प्रूफ था, की उसके एमोशन सकचे थे, और वो मेरी दोस्ती की बहुत कुछ वॅल्यू कर रही थी. सेजल जैसी दोस्त लाइफ में होना वो बहुत लकी बात थी मेरी लिए. और मुझे सेजल के साथ बहुत सुकून मिलता था.

काव्या: सेजल मैं भी प्रतीक को लीके करती हू. उसको फर्स्ट टाइम देखा तब से उसपे फ्लॅट हो गयी हू. प्रतीक बहुत केरिंग बंदा है. मुझे उसकी जॉलाइन बहुत क्यूट लगते है.

मेरी बात सुन कर सेजल रिलॅक्स हो गयी. मुझे लगा पहले उसको गिल्टी फील हो रहा था, की वो उसकी दोस्त के हज़्बेंड के बारे में ये सब सोच रही थी. पर मैने उसको भी प्रतीक के बारे में बता दिया, तो उसका मॅन शांत हो गया. हमने एक-दूसरे के दोनो हाथ पकड़ लिए, और एक-दूसरे की और देखा. सेजल को देख कर मेरी आँखों में आँसू आ गये. वो मोमेंट मैं लाइफ में कभी नही भूल सकती.

दोस्तों मैं आपको बता देती हू आप किसी कपल के साथ स्वाप करो, उससे पहले ये बात जान लो की वो तुम्हारी रेस्पेक्ट कितनी करता है. एमोशनली अपने दोस्त से अटॅच्ड होगे तो ही ये करना चाहिए. और एक और बात का ध्यान रहे, की वो आपके पार्ट्नर की रेस्पेक्ट करे.

अगर कोई दो हज़्बेंड वाइफ स्वापिंग करना चाहते है, तो पहले अपनी वाइफ की रेस्पेक्ट करे, और उतनी रेस्पेक्ट आपके स्वाप पार्ट्नर की वाइफ की करे. अगर आप रेस्पेक्ट नही दोगे, तो आपको बाद में गिल्ट फील होगा. और ये रूल यहा लगता है. गिव रेस्पेक्ट आंड टके रेस्पेक्ट.

मैने सेजल के हेड पर किस किया. सेजल मुझसे लिपट गयी. सेजल ने मेरे गाल पर किस कर दिया. मैने उसकी पीठ पर हाथ घूमते हुए उसको रिलॅक्स किया, और खुद भी रिलॅक्स हो रही थी. वो मोमेंट में हमारे कितने एमोशन्स थे, मैं आपको बयान नही कर सकती.

सेजल: मुझे बहुत दर्र लग रहा है. मुझे नही पता पर मुझसे ये सब कंट्रोल नही होता.

काव्या: ठीक है मेरी जान, दोनो कुछ सोचते है. कुछ ना कुछ रास्ता मिल जाएगा.

सेजल: पर डियर मुझे अपने दो कपल के बीच का रीलेशन नही खराब करना. प्रतीक मुझे चीट करके तुमसे सेक्स कर लेगा. और अनुज भी तुमसे चीट करके मेरे से. पर ये सब नही करना हमे. क्यूंकी अगर प्रतीक अनुज से चीट नही करना चाहता हो, और तुमसे सेक्स ना करे, तो मुझे गिल्ट फील होगा.

काव्या: हा तो अनुज प्रतीक को चीट ना करे, और तुमसे सेक्स ना करे, तो मुझे भी गिल्ट फील होगा ही ना डियर.

सेजल: मुझे ये सब बात का दर्र लगता है. मुझे रीलेशन खराब नही करने. पर मेरे में जो आग लगी है, उसका क्या करू?

काव्या: हम सोच समझ कर प्लान करते है. तुम अनुज से क्लोज़ होना शुरू करो, और मैं प्रतीक से होती हू. और हम एक दूसरे की वाइफ के बारे में सिड्यूस करते रहेंगे. जब अनुज और प्रतीक भी हमारी तरह समझ जाएँगे, तब हम स्वापिंग करेगे.

सेजल: ये सही आइडिया है. पर हमारा प्यार हमारे चारो के बीच रहना चाहिए. हमारा रिश्ता नही टूटना चाहिए.

सेजल इतनी समझदार थी की मुझे उससे प्यार हो गया था. मैने सेजल को टाइट हग कर लिया. मुझे आज उसपे बहुत प्यार आ रहा था. सेजल और मैं कब बेड पर लेट गये हमे पता ही नही चला. सेजल मेरे फेस पर किस कर रही थी, और मैं उसके फेस पर. दोनो बहुत खुश थी.

फिर हमारे लिप्स करीब आ गये. उसकी साँसे मुझे फील हो रही थी. हम दोनो शांत हो गयी. फिर ना-जाने क्या हुआ हमारे बीच लीप-किस हो गया. मैने गिवेउप कर दिया. मैने खुद को सेजल के हवाले कर दिया. वो जो कर रही थी मैं उसमे उसका सपोर्ट कर रही थी. मैं और सेजल दोनो अची किस करते है.

सेजल का टेस्ट मुझे अछा लगने लगा था. मैने उसके मूह में अपनी ज़ुबान डाल दी. उससे वो वाइल्ड हो गयी, और ज़ोर-ज़ोर से मेरे लिप्स चूसने लगी. मुझे लगा आज मेरा सारा रस्स निकाल देगी. उसने हाथ त-शर्ट के उपर से मेरे बूब्स पर रख दिया, और वो धीमे-धीमे दबा रही थी.

मैं उसकी सलवार के उपर से उसकी गांद दबा रही थी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मेरे लिए ये पहली बार था. मुझे बाद में पता चला की सेजल ने कॉलेज में अपनी फ्रेंड के साथ लेज़्बीयन सेक्स किया हुआ था.

अब सेजल खड़ी हुई, और अपना टॉप निकाल दिया. फिर झुक कर सलवार भी निकाल दी, और मुझे खड़ा किया. मेरी भी त-शर्ट और लेगैंग्स निकाल दी. हम दोनो ब्रा पनटी में हो गये. मैने पिंक कलर की फॅन्सी ब्रा और पनटी पहनी थी, और सेजल ने रेड आंड ब्लॅक डबल कलर में सेक्सी ब्रा पनटी का सेट पहना था. मैं तो उसका फिगर देख के डांग रह गयी. क्या बॉम्ब लगती है वो.

उसके बूब्स ह्यूज लगते है. उसका पेट मेरी तरह स्लिम है. उसकी गांद उभरी हुई लगती है. कर्ली हेर और फेर स्किन. मैं तो सेजल से चिपक गयी.

काव्या: श मी गोद! डार्लिंग तुम कितनी सेक्सी लग रही हो. ई लोवे योउ.

सेजल: ई लोवे योउ टू मी बेबी. तुम भी कम नही हो. तेरे बूब्स मस्त टाइट आंड रौंद है. तेरी गांद भी मस्त है. पर्फेक्ट फिगर है तेरा. सच काहु मेरी जान तेरा फिगर देख कर मुझसे अब रहा नही जाता.

ये बोल कर सेजल मेरे पास आई, और मुझे आँख मारी. मेरे लिप्स पर उसके लिप्स रख दिए, और स्लोली मुझे किस करने लगी. उसको आचे से आता था लड़कियों को कंट्रोल करना. फिर मेरा हाथ पकड़ कर मुझे बेड के पास ले गयी, और मुझे सुला दिया. वो मेरे फेस पर किस करने लगी. धीरे-धीरे वो मेरे गले पर मेरे बूब्स पर किस करती रही. साथ में उसके हाथ मेरी बॉडी को सहला रहे थे. ये सिर्फ़ हवस नही पर हमारा प्यार भी था.

सेजल की आँखों में मेरे लिए सक्चा प्यार था. मैं भी उसको चाहने लगी थी. उसी पल मैने सोच लिया लाइफ में कुछ भी हो जाए, मैं सेजल का साथ नही छ्चोधूंगी.

अब सेजल मेरे पेट पर किस कर रही थी, और उसकी ज़ुबान मेरी नाभि में डाल कर घुमा रही थी. मैं तो तड़प रही थी. ये सोच रही थी, की ये पल मेरी लाइफ में हमेशा के लिए रह जाए. इतने सुकून के मुझे पहली बार एहसास हो रहा था. मुझे उसका हर एक मूव पसंद आ रहा था. मैं सकचे वाले प्यार में गिर गयी थी.

अब मैने भी सेजल को मेरी तरफ खींचा, और उसके लिप्स पर लिप्स रख दिए, और ज़ोरो से किस कर रही थी. सेजल मेरी पीठ पर हाथ घुमा रही थी. कभी वो मेरे उपर, कभी मैं उसके उपर, पर हमारा किस नही टूट रहा था. हम दोनो में से कोई भी ये किस तोड़ना नही चाहता था.

अब हम खड़े हुए और एक दूसरे की ब्रा के हुक खोल दिए, और ब्रा निकाल दी. मेरे बूब्स रौंद थे, और सेजल के मस्त मोटे बूब्स. सेजल मेरे पीछे आ गयी और मेरे दोनो बूब्स हाथ में पकड़ लिए, और दबाने लगी. और उसकी छूट मेरी गांद पर घिस रही थी. अब सेजल ने मेरे बूब्स हाथ में पकड़ लिए, और निपल पर किस किया. वो मेरे निपल चूस रही थी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

सेजल: जिस दिन से तेरे बूब्स को देखा है, मैं उनको हाथ में पकड़ने का सोच रही थी. आज वो दिन आ गया है. आज उसका जाम कर मज़ा लूँगी.

काव्या: पहले बोला होता तो मैं तुझे कहा माना करती. मुझे नही पता था तुम लेज़्बीयन हो. तुम जैसी सेक्सी दोस्त को कों माना करता?

सेजल: तुम भी लेज़्बीयन हो?

काव्या: नही बाबा, तुमने आज बना दिया.

अब वो हस्स पड़ी, और पीछे आ कर मेरी पनटी में हाथ डाल दिया, और मेरी छूट पर हाथ घुमा रही थी. वो एक हाथ से बूब्स दबा रहा थी. साथ में उसकी छूट गांद में घिस रही थी. मुझे तो उसके सॉफ्ट हाथ मेरी छूट में बहुत मज़ा दे रहे थे. थोड़ी देर में मेरा पानी निकल गया, और मैं घूम कर उसके पीछे आ गयी.

मैने भी सेम उसके साथ ऐसा ही किया. उसके बड़े बूब्स मेरे हाथ में नही आ रहे थे. मैने उसकी पनटी में हाथ डाला, तो उसकी पनटी गीली थी. उसकी छूट लगातार पानी छ्चोड़ रही थी. अब उसने मेरी पनटी निकाल दी, और खुद भी पूरी नंगी हो गयी. उसने मुझे बेड पर लिटा दिया. वो भी मेरे पास आ कर लेट गयी, और एक पैर मेरे पैर पर रख दिया.

वो उसकी छूट से मेरी छूट रब कर रही थी. और साथ में मेरे बूब्स चूस रही थी. मुझे तो जन्नत जैसा लग रहा था. थोड़ी देर बाद सेजल ने मेरी छूट के पास अपना सर कर दिया. फिर धीरे से मेरी छूट पर उसकी ज़ुबान घुमा दी. उसकी जीभ के टच होते ही मेरे अंदर बिजली दौड़ गयी. मेरे हाथ पैर काँप गये. मुझे गूसेबूमप्स आ गये. वो उसकी ज़ुबान मेरी ग-स्पोर्ट पे लगती और उठा लेती.

उसकी ज़ुबान की टॉप का हिस्सा छूट के दाने को टच करता था, और वो उसी पार्ट तो टारगेट कर रही थी. उसने धीरे-धीरे छूट चाटना स्टार्ट किया, और मैं उसके सर को सहला रही थी और मोन कर रही थी. मेरे से रहा नही जेया रहा था.

काव्या: सेजल प्लीज़ अंदर कुछ डालो यार, बहुत चुल मची है. प्लीज़ कुछ करो.

उसने उसकी एक उंगली डाल दी और फिर बाहर निकाल कर चाट ली. फिर मेरी तरफ देखा, और फिरसे उसने छूट में उंगली डाली, और वो मेरे मूह में डाल दी, और मुझे चाटने को बोला. मैं पहली बार मेरी छूट का टेस्ट कर रही थी. उसने फिर उंगली चाट ली.

अब सेजल ने दूसरा उंगली भी डाल दी, और फिंगर फक करने लगी. मैं बहुत ज़ोर-ज़ोर से आवाज़ निकाल रही थी. सकच में यार बहुत मज़ा आ रहा था. 5-10 मिनिट उसने ऐसा किया. मेरी छूट में से बहुत पानी निकला, और वो सारा पानी चाट गयी. मैं फुल्ली सॅटिस्फाइड हो गयी. अब मैं तक गयी, और वो मेरे पास आ कर लेट गयी. मैने उसको हग कर दिया, और लिप्स किस कर रही थी, और एक टाँग उसके पेट पर डाल कर सो गयी.

आपको नेक्स्ट पार्ट में बतौँगी की हमारा प्यार और एक-दूसरे के पति पर जो अट्रॅक्षन था, उसमे क्या-क्या होता है. आशा करती हू आपको मेरी ये रियल स्टोरी अची लगी हो. आप मेरे आडमिन मूडछंगेरबोय@गमाल.कॉम पर मैल करे.

यह कहानी भी पड़े  पड़ोस की आंटी की जमकर चुदाई


error: Content is protected !!