Tag «Hot kahani»

बेहन को चोदने की तलब

हेलो, मेरा नामे अभिजीत है और सब मुझे अभी बुलाते हैं. मेरा कॉलेज ख़तम होते ही जॉब लग गया था, पर लॉक्कडोवन् की वजह से घर बेतना पड़ा. पापा की जॉब हेल्त डिपार्टमेंट मे थी, तो उनकी शिफ्ट लगी रहती थी. मों एक हाउस वाइफ हैं, थोड़ी ज़्यादा धार्मिक हैं और टोत्को पे जल्दी विश्वास …

बेटे का मूह मा की चूत पर

मैं अपने रूम मे जाने के बाद मों को अनिल बनकर ही किया व्हातसपप पे. पर मों का रिप्लाइ नही आया, वो ऑफलाइन थी तो मैने फिर दबे पाव जाकर उसके रूम मे देखा. तो पापा नीचे लेते हुए थे ओर मों नंगी उनके उपर चढ़ कर छुड़वा रही थी. मैने अपने मोबाइल से भी …

गैर मर्द के साथ सारी रात

आगे की कहानी टीना की जुबानी रात की चाय पिने के बाद सेठी साहब ने मुझे फिर अपनी बाँहों में उठा कर पलंग पर लिटाया और खुद मेरी टांगें अपने कंधे पर रख कर फिर उसके बाद उस रात उन्होंने मुझे ऐसे चोदा ऐसे चोदा की बिना रुके और बिना रेस्ट किये रेलवे के स्टीम …

बदलते रिश्ते और भरपूर चुदाई

यह कह कर सुषमा बिना कोई चिंता के मेरे ऊपर मरे बदन को अपनी नंगी करारी टाँगों के बिच में ले कर मेरे ऊपर सवार हो गयी और अपनी चूत को मेरे लण्ड के करीब लाकर मेरे लण्ड को पकड़ कर अपनी चूत की पंखुड़ियों के केंद्र बिंदु पर सटा दिया। सुषमा अब मुझे चोदने …

पड़ोसी सेठी साहब की दूसरी बीवी बनी

सेठी साहब से चुदवाते हुए आँखें मूंदे हुए भी भी चोरी से पलकोँ के एक कोने से जब सेठी साहब मेरे अंदर अपना वह जबरदस्त लण्ड पेल रहे थे तब मैं सेठी साहब के चेहरे के भाव भाँपने की कोशिश कर रही थी। मुझे सेठी साहब के निचे लेटे हुए भी जब सेठी साहब अपना …

मी रियल फॅंटेसी (ऑफीस सेक्स)

ही, मई संजय बहोट साल के बाद अपनी कहानी लिख रहा हू गलतो हुई तो माफ़ करना. आपको ज़्यादा बोर ना करके डाइरेक्ट्ली जंप करता हू कहानी पे. मुझे किसिको कुछ फीडबॅक देना हो तो, मी ईद – [email protected] पर मैल कर देना या हणगौट म्स्ग. यह कहानी है कुछ आज से 2 साल पहले …

सेठी साहब को शौपा अपना सब कुछ

कहानी टीना की जुबानी मैंने जिंदगी में एक बात सीखी है। अगर आपको फूल चाहिए तो आप को कांटो को भी स्वीकारना पड़ेगा। आप सिर्फ फूल की अपेक्षा नहीं रख सकते। ऐसी अपेक्षा रखने से जिंदगी में निराशा ही प्राप्त होगी, क्यूंकि फूल तो हरेक को चाहिए। जो कांटें ले कर उसकी कीमत चुकाएगा उसे …

मेरे कॉलेज की फेमडोम कहानी

हेलो नमस्ते मेरा नाम प्रेम है और मेरी एक कपड़े की दुकान है. ये मेरी पहली कहानी है इसमे कोई ग़लती हो तो माफ़ करे या फीडबॅक मे बताए. तो अब मे कहानी के बारे मे बताता हू. ये कहानी मुझे एक सपना आता है मे वही बताने जा रहा मई ये फेंडओं स्टोरी है. …


error: Content is protected !!