बॉयफ्रेंड ने मेरी माँ की चुदाई

बॉयफ्रेंड ने मेरी माँ की चुदाई

Boyfriend ne Meri Maa ki Chudai Sex Kahani

Boyfriend ne Meri Maa ki Chudai Sex Kahani

हाय दोस्तों, जोगेश्वरी आप सभी का नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम में बहुत बहुत स्वागत करती है. मैं और मेरी सभी सहेलियां पिछले १ साल से नॉन वेज स्टोरी की मस्त कहानियाँ पढ़ते रहे है. मैंने सोचा है की आपको अपनी सेक्सी स्टोरी सुनायुं. मेरी अपनी नारंगी पेंटी को खूब मल मलकर साफ किया अपर मेरे बॉयफ्रेंड निखिल के लंड से निकले माल के ताजे दाग साफ होने का नाम ही नही ले रहे थे. मैंने अपनी पेंटी को सलवार सूट और अन्य कपड़ों के साथ वाशिंग मशीन में डालकर धोया, तब जाकर पेंटी के निशान साफ साफ. ये सिलसिला पिछले ६ सालों का था. निखिल से मेरी मुलाकात कॉलेज में हुई थी. तबसे वो मेरा बॉय फ्रेंड था. निखिल मेरे घर पर आकर ही मुझे चोदता था. मेरी मेरी पेंटी में हर बार उसके लंड से निकले ताजे माल के दाग लग जाते थे जो मुस्किल से छूटते थे.

मैंने निखिल को अपने कमरे में ले जाकर खूब चुदवाती थी और मजे मारती थी. सायद मेरी माँ मुझसे जलती थी. एक दिन माँ बिगड़ गयी.

“निखिल को घर पर लेकर मत जाया करो जोगेश्वरी!! अगर तुमको चुदवाना ही है तो बाहर किसी पार्क में चुदवा लिया करो” माँ बोली

“क्यों तुमको क्या दिक्कत है??” मैंने पूछा

“..बेटी तुम तो उससे खूब चुदवाती हो. जिन्दगी के मजे मारती हूँ और मैं ये सब देखकर बिन पानी की मछली की तरह तड़पती हूँ. बेटी मुझे जलन होती है!!’ माँ बोली. ये सुनकर मुझे बहुत आश्चर्य हुआ. अगले दिन शाम को मेरा बॉयफ्रेंड निखिल आया तो हमदोनो कमरे में चले गये. उसने मेरा सलवार सूट निकाल दिया और बोला “आओ जान कुछ मस्ती हो जाए”. मैंने निखिल से कहा की वो मुझे तो रोज चोदता है, पर ये सब देख देख कर मेरी माँ को जलन होती है. इसलिए उसे किसी दिन मेरी माँ की चूत की सिटी भी खोलने चाहिए. निखिल राजी था. जब चुदवाकर मैं बाहर निकली तो निखिल मेरे साथ था. मेरी माँ स्वेटर बन रही थी. मैंने निखिल को इशारा किया की माँ को लाइन दे.

“हाय आंटी !! आप बहुत सुंदर लग रही है!!!’ निखिल बोला. मेरी माँ तो ये सुनकर बिलकुल चौंक गयी. क्यूंकि बड़े दिनों ने किसी ने उनकी तारीफ़ नही की थी. पर दोस्तों मेरी माँ आज भी बढ़िया माल थी. ४२ साल की होंगी , पर आज भी उनका फिगर मेंटेन था. मेरा बॉयफ्रेंड निखिल बात करने में बहुत होशियार था. उसने मेरी माँ के हाथ पकड़कर चूम लिया.

यह कहानी भी पड़े  Train Me Hua Choot Ka Intjaam

“माँ जी आप मुझसे प्यार करेंगी???’ निखिल ने माँ को प्रपोस मार दिया. माँ थोडा घबरा गयी. मेरी ओर देखने लगी. मैं आँखों से इशारा किया की मैंने उनका काम कर दिया और निखिल से माँ की सेटिंग करवा दी है. माँ खड़ी हो गयी.

“जोगेश्वरी !! मेरी जान ! आज मैं तुम्हारी माँ को जन्नत की सैर करवाने ले जा रहा हूँ” निखिल बोला. माँ का हाथ उसने पकड़ लिया और कमरे में ले जाने लगा. कमरे में मेरी माँ किसी रंडी की तरह चुदने वाली थी. निखिल का इतना स्टैमिना था की वो एक साथ २ नही बल्कि ४ ४ औरते सम्हाल सकता था.

“माँ !! बेस्ट ऑफ़ लक फॉर फकिंग !!’ मैंने माँ को विश किया. निखिल माँ को कमरे में ले गया. और उसने चुम्मा चाटी करने लगा. वो खड़े खड़े माँ के होठ पीने लगा. दोनों एक दुसरे के गले लग गये. माँ का चेहरा शर्म से लाल था. क्यूंकि आज सबको मालूम हो गया था की ४० साल के होने के बावजूद मेरी माँ किसी १६ साल की लौंडिया की तरह चुदासी है और लौड़ा खाना चाहती है. इसलिए माँ थोडा झेंप रही थी. धीरे धीरे मेरा बॉयफ्रेंड निखिल माँ के बूब्स दाबने लगा. फिर दोनों बिस्तर पर चले गये. मैं सोची की देखे निखिल किस तरह मेरी माँ को लेता है. इसलिए मैं बाहर दरवाजे पर खड़ी हो गयी और दरवाजे में लगे छेद ने देखने लगी. मेरा बॉयफ्रेंड निखिल मेरी माँ को उसी तरह से प्यार कर रहा था जैसे वो मुझे प्यार करता था. दोनों बड़ी देर तक आपस में आलिंगन में रहे. निखिल मेरी माँ के गुलाबी होठो को बड़े प्यार और नखरे से चूमता रहा.

“माँ जी !! आपकी लौंडिया को तो मैंने खूब पेला है. आगे से, पीछे से, गोद में उठाकर, हर तरह से. इसलिए आप बता दीजिये की आप को किस तरह से चुदाई पसंद है???” निखिल बोला. मेरी माँ हँसने लगी.

यह कहानी भी पड़े  ससुर से मेरी पहली चुदाई

“बेटा !! तुम जिस तरह से मुझे लेना चाहो .लो! मुझे तो बस तुम्हारा लंड ही चाहिए!!” मेरी माँ बोली. फिर मेरा बॉयफ्रेंड निखिल धीरे धीरे मेरी माँ का ब्लाउस उतारने लगा. कुछ ही देर में उसने माँ को साड़ी निकाल दी और ब्लाउस उतार दिया. मेरी माँ की ब्रा भी निखिल ने खोल दी. इस वक़्त वो मेरी चुदासी माँ के मस्त मस्त ३४ साइज़ के बूब्स पी रहा था. माँ का फिगर आज भी मेंटेन था.

“माँ जी !! आप जो ४० में भी जवान लगती है. क्या आपके पति से आपको खूब नही पेला??’ निखिल ने पूछा

“अरे बेटा !! इससे पहले वो मुझे जादा और जी भरके चोद पाते उनको ब्लड कैंसर हो गया और वो दुनिया को प्यारे हो गये” मेरी बोला बोली. निखिल खुश हो गया.

“कोई बात नही मा जी !! ..अब मैं आ गया हूँ. आपको और आपकी लौंडिया , दोनों की चूत रोज माजूँगा !! खूब चोदूंगा आप दोनों माँ बेटी को”निखिल बोला. उसने अपने कपड़े निकाल दिए और मेरी माँ की पेंटी भी निकाल दी. पर फिलहाल वो माँ के ३४” के दूध पी रहा था. ये सब देखकर मेरी चूत में खुजली होना शुरू हो गयी थी. अब मुझे अपनी माँ से जलन होने लगी थी. निखिल माँ के तने और कसे निपल्स को मुँह में भरे हुए था और दांतों से खूब चबा रहा था. ये सीन मैंने दरवाजे के पीछे से देखा तो मैं खुद को रोक ना सकी और अपनी चूत में ऊँगली करने लगी. फिर मेरा बॉयफ्रेंड निखिल मेरी माँ के मखमली पेट को चूमने लगा. और धीरे धीरे उनकी सेक्सी नाभि पर आ गया. निखिल माँ की नाभि के अपनी जीभ डाल रहा था. इससे माँ को बडा मजा मिल रहा था. निखिल मेरी माँ को खूब तडपा रहा था. फिर वो माँ के पेडू के हल्के हल्के बाल तो चूत तक आते थे, उनको अपनी जीभ से चाटने लगा. कुछ देर बाद निखिल मेरी माँ के भोसड़े पर पहुच गया था. मैं कमरे के दरवाजे के पीछे खड़ी थी और ये देख देखकर अपनी चूत में ऊँगली कर रही थी. मैं जोर जोर से अपनी बुर फेटने लगी.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!