Tag «Hindi Sex Story»

मेरी जानू और उसकी माँ

यह उस समय कि बात है जब मैं अपने गाँव से 150 किमी दूर शहर में रहकर बीकॉम 2 की पढ़ाई कर रहा था। शहर में मैं कमरा लेकर अकेला रहता था, मैं अलग से फ़ैमिली रूम में रहता था इसलिये वहाँ आस-पास के लोगों से अच्छी जान-पहचान हो गई थी। और तो और मेरी …

हिमालय की वादियों में ट्रेनिंग

बात उस समय की है जब मैं हिमालय की वादियों में ट्रेनिंग पर था। वैसे मैं मैदानी क्षेत्र का रह्ने वाला हुँ और पर्वतीय भ्रमण का यह मेरा प्रथम अवसर था। होस्टल में पूरे देश के प्रतिभागी थे। गर्ल्स व बॉयस होस्टल साथ-साथ थे। उनमें एन्ट्रेंस अलग-अलग थी, पर अन्दर एक गलियारे से जुड़े थे, …

मेरी पड़ोसन जिया चुदाई कहानी

यारे दोस्तो, मेरा नाम वीरू, बीस साल का हूँ। मैं कॉलेज के प्रथम वर्ष में हूँ। मैं एक मध्यवर्गीय परिवार से हूँ। मैं शर्मीले स्वभाव का सीधा सा दिखने वाला लड़का हूँ, राजस्थान के श्री गंगानगर में रहता हूँ। मैं आपको अपनी पड़ोसन जिया के साथ हुए पहला अनुभव बताने जा रहा हूँ। वह 18 …

वासना की अग्नि – 1

प्रगति का जन्म तमिलनाडू के एक गरीब परिवार में हुआ था। उसके पिता बागवानी का काम करते थे और माँ घरों में काम करती थी। प्रगति की दो छोटी बहनें थी जो उससे 3 साल और 5 साल छोटी थी। प्रगति इस समय करीब 18 साल की थी और उसका ज़्यादा समय अपनी बहनों की …

भाभी की चुदाई

हैलो! दोस्तों मेरा नाम विवेक वर्मा है मैं दिल्ली से हूं। मैने अन्तर्वासना पर बहुत से स्टोरी पढ़ी हैं इसलिये मैं भी अपनी एक स्टोरी लिखने जा रहा हूं जो कि सच्ची है। बात उन दिनो की है जब मैं ने १२ वीं के एक्साम दिया था मेरे भाई भाबी मुम्बई मैं रहते हैं मैं …

पति,पत्नी,सास ,ससुर की रासलीला

मेरा नाम पार्थो है और मैं अपने मा बाप का एकलौता बेटा हूँ. मैं २८ साल का हूँ. मैं रोज़ एक्सेर्सिसे करता हूँ और नहाने के पहलेशारेर पर खूब तेल माता हूँ. मेरा तंदुरस्ती इसीलिए काफी अच्चीहाई. मेरा लुंड करीब १०” लुम्बा और करीब ३ ½” मोटा है. पहलेमेरा लुंड का सुपर काफी लाल रंग …

मेरा मतलब एकदम मस्त बेटी है आपकी – 4

” राज की इतने दिनो की बातो से उसे यकीन हुआ था कि राज सच बोल रहा है. उसे पता था कि भले राज उसको मा बेहन की गालियाँ देता है लेकिन वो उतना प्यार भी करता है. जवाब मे शन्नो बोली, “राज मे जानती हूँ कि तू मुझे सच मे चाहता है. तेरे उप्पर …

मेरे पड़ोस की पर्दानशीं लड़की ने मुझ पर भरोसा किया – 2

गौसिया स्खलित होने के बाद सनसनाते दिमाग के साथ बेजान सी पड़ गई जैसे बेहोश हो गई हो। मैं भी थक गया था तो मैं भ उसकी बगल में लेट कर अपनी साँसें दुरुस्त करने लगा। करीब पांच मिनट बाद उसने आँखें खोलीं और मुझे बड़े अनुराग से देखने लगी। ‘क्या वाकई हर बार इतना …

error: Content is protected !!