उपरवाला सब देख रहा है

इतने सारे डिज़ाइन देखते हुए वो कन्फ्यूज़ होने लग गई तो वो मुझसे कहने लग गई क्यू ना आप ही मेरे लिए चूस करदो. तो मैं बोला की मैं ये कैसे चूस करू तो बोली करदो और अगर आप अपनी गर्लफ्रेंड के लिए लेते तो कौनसा लेते.

उसकी ये बाते सुन कर मैने उससे उसकी ब्रा का साइज़ पूछा तो उसे शायद डाउट था की उसका साइज़ 32 ही है पर वो कनफॉर्म नही थी इसलिए बोलने लग गई की आप ही चेक करलो. तो मैने अब इंची टेप निकाला और चेक करने लग गया.

तब मेरे हाथ उसके बूब्स पर टच करने लग गये और फिर मैने उसकी ब्रा का साइज़ भी ले लिया. अब उसने मेरी चॉइस की ब्रा और पैंटी भी ले ली और फिर वो घर को चली गई पर जाते जाते उसने अपना मोबाइल नंबर मुझे दे दिया और मुझसे कहा की घर पर ज़रूर आना. तो मैने भी उसे कह दिया की सनडे को आऊंगा.

पर सनडे से एक दिन पहले उसका फोन आया तो उसने मुझसे कहा की मेरे पति काम से जा रहे है तो आप सुबह ही घर आ जाओ. उनकी ये बात सुन कर मैं वाहा चला गया और फिर थोड़ी देर बाद जीजू भी घर से निकलने लगे तो हम दोनो उन्हे छोड़ने चले गये.

वापसी मे रिया मुझसे बोलने लग गई की चलो हम कोई मूवी देख कर आते है. तो मैने कहा की ज़रूर चलते है. पर फिर वो बोली की घर जा कर ड्रेस चेंज करके जाएंगे तो हम घर आ गये. पर फिर हम कार मे नही बल्कि हमने मेट्रो ट्रेन ली और ट्रेन मे चढ़ गये.

यह कहानी भी पड़े  गांव की देसी भाभी की चुत चुदाई

मेट्रो ट्रेन मे काफ़ी भीड़ थी तो उसने मुझे अपने पीछे खड़े होने को कहा था तो मैं वाहा ऐसे ही खड़ा रहा जिससे मेरा लंड उसकी गांड पर लग रहा था और वो भी ये जान चुकी थी.

अब हम मूवी देखने पहोचे वाहा गये तो वाहा पर सारी सीट बुक थी तो हमे 3डी देखनी पड़ी जिसमे हम अकेले ही होते है. मूवी देखने मे बहोत मज़ा आ रहा था और उसमे लविंग सीन भी आ रहे थे जिसको देख कर मेरा मूड खराब होने लग गया.

फिर हम घर आ गये तो उसने फिर से मुझे सब इस्टॉक दिखाने को कहा जिसमे से एक उसने पसंद करी और फिर मेरे सामने वो पहेन कर आ गई. तब तो मैं उसे देखता ही रह गया और ये देख कर तो मेरा लंड जैसे खड़ा का खड़ा ही रह गया.

अब वो मेरे पास आई और बोली की कैसी लग रही हूँ तो मैने उसे कहा की बहोत मस्त लग रही हो. ये कह कर मेरा हाथ अपने लंड पर चला गया जो की खड़ा हुआ था और मुझे काफ़ी देर से तंग कर रहा था.

ये देख कर उसने मेरे लंड को पकड़ लिया और मैने उसके बूब्स को पकड़ लिया. अब मैने उसे अपनी बाहो मे भरा और किस करने लग गया. फिर मैने उसके कपड़े उतार दिए और वो अब मेरे सामने बिल्कुल नंगी थी और नंगी तो वो दिखने मे पटाका लग रही थी.

फिर मैने भी अपने कपड़े उतार दिए और उसके हाथ मे लंड दे कर उसे चूसने को कहा तो वो मज़े से चूसने लग गई. करीब 10 मिनिट बाद मैने उसे बेड पर लेटाया और उसे घोड़ी बना कर अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया.

यह कहानी भी पड़े  निशा की चुदक्कड़ चुचियाँ

वो मज़े ले रही थी की मैने तभी ज़ोर के धक्के के साथ लंड अंदर घुसा दिया और वो चिल्लाने लग गई पर मैने उसकी कोई परवाह नही करी और चोदता ही चला गया. थोड़ी देर बाद अब वो भी मज़ा लेने लग गई थी की तभी मैने उसे थोड़ा और उप्पर उठाया और लंड को चूत मे उप्पर नीचे करते हुए लंड को निकाल कर एक दम से गांड मे डाल दिया.

गांड मे लंड जाते ही उसकी आँखों से आँसू आने लग गये और वो रोने लग गई पर मैने तब भी कोई परवाह नही करी और उसे चोदता चला गया. फिर करीब 30 मिनिट की चुदाई के बाद हम दोनो का एक साथ निकल गया और फिर हमने एक साथ बाथरूम मे शोवेर लिया.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2

error: Content is protected !!