मकानमालिक मुझे खूब चोदता हे

4 5 मिनिट के बाद मेरा और उसका काम एकसाथ हो गया और हम रिलेस्क हो गए. फिर हम साथ लेटे रहे. वो सीधा लेटा हुआ था और मैंने उसके कंधे के ऊपर अपने सर को रखा हुआ था और एक टांग को फोल्ड कर के उसकी टांग के ऊपर रखी हुई थी. और एक हाथ मैंने उसके पेट के ऊपर रखा हुआ था.

इतने मेर मेरी ननंद का कॉल आया. वो बोली की भाभी शाम को थोडा लेट होगा मुझे ओवर टाइम हे. मैंने सुरेश को फोन कट कर के कहा. लगता हे शालू आज फिर बॉस का लंड लेने जा रही हे. वो हंस के बोला तुम्हे कैसे पता. वो बोली, शालू का बॉस ठरकी हे अपना देसी ही हे. वो यहाँ आया था एक बार डिनर पर. मैंने चुपके से किचन में निचे बैठ के देखा था. वो डाइनिंग टेबल के निचे शालू की चूत में ऊँगली कर रहा था!

रमेश बोला, वैसे शालू भी बड़ी सेक्सी हे उसको भी चोदने का मन करता हे मेरा!

मैंने कहा, शट अप मैं हूँ ना!

और फिर सुरेश बोला जाओ किचन से आयल ले आओ.

मैंने कहा गांड के लिए?

वो बोला, तो तुम्हे क्या लगा मैं बिस्तर में खाना पकाऊंगा.

मैं एक कटोरी में थोडा सा तेल ले आई.

सुरेश ने मुझे बिस्तर में घोड़ी बना के मेरे निचे दो बड़े तकिये लगा दिए. फिर वो मेरी गांड के होल के ऊपर तेल लगाने लगा. उसने गांड को फुल चिकना बना दिया. और फिर अपने लंड के ऊपर मेरे से तेल लगवाया. मैंने उसके लंड को पूरा चमका दिया. फिर उसने कहा चलो मेरी जान अपनी गांड खोलो मेरे .

यह कहानी भी पड़े  खूबसूरत प्रज्ञा मैडम की क्लास में ही चुदाई की

मैंने हाथ पीछे कर के अपने बम्स को दोनों हाथ से फैला दिया. सुरेश ने अपने लंड को मेरी एसहोल पर रख के थोडा सा धकेला. आह्ह्ह्ह की आवाज निकल गई मेरे मुहं से. उसका लंड चिकनाहट की वजह से मेरी में गांड में फिसल सा गया. मैं तकियों के ऊपर वेट डाल के अपनी गांड को पीछे किये हुए थी. सुरेश ने मेरे बूब्स को पकड़ के और एक धक्का दे दिया. उसका लंड पूरा मेरी गांड में घुस गया और मैं आह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह हम्म्म्म अह्ह्ह करने लगी.

वो मेरे बूब्स को मसलते हुए मेरी गांड की चुदाई करता गया.

उसका लंड छिल रहा था मेरी एनाल केनाल को. लेकिन दो मिनिट के अन्दर मुझे भी एकदम से मजा आने लगा.. मैं भी अपनी गांड को ऊपर उछाल के चुदवा रही थी.

सुरेश ने 10 मिनिट मेरी मारी और अपना माल अन्दर छोड़ दिया. फिर वो मेरे ऊपर ही लेट गया उसका लंड मेरी गांड में ही रख के!

एक घंटे के बाद मैं उठी और बोली, चलो मैं निचे जाती हूँ मेरे हसबंड के आने का टाइम हो गया हे. वो बोला, कल आओगी ऊपर?

मैंने कहा, देखती हूँ टाइम मिला तो.

वो बोला टाइम निकाल लेना मेरे लिए. साला तुम्हे देख के लंड खड़ा की खड़ा ही रहता हे!

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!