जीजा और साली का हनीमून

मै जीजू से मिन्नत करने लगी की जीजू निकालो ना बहुत दर्द हो रही पर जीजू कहा मान ने वाले थे उसने और झटके देना शुरू कर दिए मै तो बस आआहह…. अयाया….. आआअहह करती दर्द से करहने लगी मेरी आँखो से आसू निकलने . लगी पर जीजू लगातार मुझे चोद्त रहे कुछ देर बाद दर्द से मुझे मजा आने लगा और खुद चूतड़ उठा उठा चुदने लगी. फिर जीजू मेरे मम्मों को सहलाते हुवे मुझे जोरों से चोदने लगा. मेरे मूह से कामुक सिसकारियां निकलने लगीं ‘हूउ … उह … आहा … अहा … और ज़ोर से हां … हां … जीजू आअहह…..अया करीब 10 -15 मिनूट की चुदाई के बाद बस मेरा अब निकलने ही वाला है … आह … जीजू मेरी जान आह … एयेए … आआ … आह मर गई … मेममरा … निकल गया … आह … बस हो गया, मैं समझो कट कट कर रिसने लगी. मैं एकदम से निढाल हो गई. मेरे झड़ने के कुछ ही देर बाद जीजू भी मेरी चूत में ही झड़ गया और मेरे ऊपर निढाल होकर कुछ देर पड़ा रहा. फिर वो मुझे किस करने लगा. मैं भी उसके नीचे दबी अपने आपको पूर्ण संतुष्ट महसूस करते हुए उससे लिपटी पड़ी थी. इसके बाद तो जीजू ने मुझे रात भर सोने नही दिया और पूरी रात चोद्ते रहे ,

मैं उसकी चुदाई से पूरी तरह से संतुष्ट हो गई थी. हमने लास्ट टाइम जब सेक्स किया तो सुबह के 5 बाज चुके फिर हमने बाथरूम मे दोनो ने नंगे ही नहाए और फिर तैयार होकर घर वापस आ गये .जब से जीजू का लंड लिया है तब से बस चुद्ने का बहुत मन करती है .इस कारण नये लंड की तलाश करती हू . की काहनी मे बता उंगी की जीजू के अलावा और किस किस चुदि मेरे प्यारे दोस्तो, यह मेरे फर्स्ट सेक्स की कहानी एकदम सच्ची है. आप मुझे मेल करके बताना कि मेरी यह कहानी आपको कैसी लगी.अगर कोई ग़लती हुवी हो तो अपनी मीना को झमा करना आपकी मैल के इंतजार मे आपकी प्यारी मीना मेरी मेल id- [email protected]

यह कहानी भी पड़े  कच्ची उम्र की कामुकता Part 4

Pages: 1 2

error: Content is protected !!