शीला की जवानी को चोदकर उसे औरत बनाया

कुछ देर बाद उसने अपनी बायीं चूची हाथ में ले ली और उठाकर मुझे दिखाने लगी। मैं हैण्डीकैम कैमरे से शूटिंग कर रहा था पर मेरा तो दिल उसके दूध पीने का कर रहा था। शीला तेज तेज अपनी दाई चूची को दबाने लगी। कितनी स्पंजी और रबर की गेंद जैसी मुलायम निपल्स थी उसकी। माशाअल्लाह। मैं तो शीला के मम्मो का जबरा फैन हो गया था। वो एक बार फिर से अपनी जीभ निकालकर अपनी दाई चूची की निपल को चाट रही थी। ऐसा लग रहा था की वो कोई आइसक्रीम को चाट रही हो। फिर मैं उसके खूबसूरत पतले, सपाट और सेक्सी पेट को रिकॉर्ड करने लगा। उसका जिस्म तो दोस्तों आग का गोला था। मुझे डर था कहीं शीला की जवानी की गर्मी से मेरा हैण्डीकैम कैमरा ही ना पिघल जाए। मैंने उसकी सेक्सी नाभि को रिकॉर्ड कर लिया। फिर कैमरा और झुका दिया और चूत की तरफ कर दिया।

ओये होए..क्या मस्त शर्माती चूत के मुझे दर्शन हो गये थे। शीला सीधे खड़ी हुई थी पर चिकनी चूत मुझे साफ़ दिख रही थी। पर मैं और मस्त फिल्म बनाना चाहता था इसलिए मैं क्लोज अप शॉट लेने के लिए नीचे हैण्डीकैम कैमरा लेकर बैठ गया और मैंने अपनी पड़ोसन शीला की चूत का मस्त पूरा शॉट बहुत पास से ले गया। मुझे लगा रहा था की अपनी और शीला की ब्लू फिल्म बनाने के चक्कर में कहीं मेरा माल ना निकल जाए। क्यूंकि मैं बहुत अधिक उत्तेजित महसूस कर रहा था। मैं घुटनों के बल जमीन पर बैठा था। मैंने कैमरा शीला की रसीली चूत की तरफ कर दिया था। वो हंस रही थी और मुझे अपनी चूत का पूरा शॉट दे रही थी। उसने अपने पैर भी खोल लिए थे। वो अपनी चूत मुझे दिखा रही थी और उँगलियों से सहला रही थी। दोस्तों चूत बिलकुल चिकनी और साफ़ थी। सायद शीला रोज उसे शेव करती होगी। भरी हुई चूत दे दर्शन मुझे हुए तो जिन्दगी का मजा आ गया। चूत के बीच की लाइन मुझे दिख गयी तो उपर तक चली गयी थी। तभी शीला चुदासी महसूस करने लगी और चूत को जल्दी जल्दी उँगलियाँ से सहलाने लगी। मैंने रिकॉर्ड करने लगा।

यह कहानी भी पड़े  मा बेटे के जवानी सेक्स चुदाई

“बहन की लौड़ी .खोल के दिखा!!” मैंने कहा

शीला ने अपनी उँगलियों से चूत खोल दी। बाप रे गुलाबी रंग की चूत की कुवारी झिल्ली जो मैंने देखी तो लंड से पानी टपकने लगा। शीला बिलकुल कुवारी माल थी। एक बार भी चुदी नही थी। एक बार भी लौड़ा नही खायी थी। बहुत देर तक वो मुझे चूत के दोनों होठ खोलकर शॉट देती रही। मैं रिकॉर्ड करता गया।

“माँ की लौड़ी-चल पलट!!” मैंने कहा

शीला घूम गयी। पीछे से भी वो काफी सेक्सी और कड़क माल लग रही थी। खूबसूरत चिकनी भरी हुई पीठ को देखकर तो मैं मचल रहा था। जी कर रहा था की अभी इसकी भरी हुई गदराई पीठ में अपने दांत गड़ा दूँ। पीठ के बीचो बीच एक गहरी लाइन मुझे उपर से नीचे तक दिख रही थी। साफ़ था की शीला का जिस्म बहुत खूबसूरत था। उसकी पीठ भी कम सेक्सी नही थी। फिर मैंने कैमरा उसकी पतली नागिन जैसी कमर की तरह कर दिया। 28″ की पतली कमर थी उसकी। बस हाथ में कमर पकड़ लो और चोदना शुरू कर दो। यही फीलिंग आई मुझे उनकी कमर देखकर। फिर मैंने हैण्डीकैम कैमरा उसके चूतड़ों की तरफ कर दिया। भाई क्या मस्त मस्त रबर की गेंद जैसे पुट्ठे थे उसके। शीला खुद ही अपने पुट्ठों पर अपनी उँगलियाँ गड़ाने लगी। जहाँ जहाँ उसकी ऊँगली दबती लाल लाल लाइन बन जाती इतने गोरे पुट्ठे थे उसके। अब मुझे उसकी चूत मारनी थी। मैंने बाथरूम में हैण्डीकैम कैमरा को एक अलमारी में लगा दिया। वहां से बाथरूम का पूरा शॉट मिल रहा था।

उसके बाद मैंने शावर खोल दिया। हम दोनों नंगे होकर पानी में नहाने लगे। हम दोनों के जिस्म पूरी तरह से भीग रहे थे। नंगी और भीगी हुई शीला तो मस्त आइटम लग रही थी बाप। मैंने उसे पकड़ लिया और होठो पर किस करने लगा। ठंडे पानी में भीगकर काफी सुकून मिल रहा था। उसने अपना हाथ मेरे कंधों पर रख दिया था। हम दोनों एक दूसरे के होठ पी रहे थे। कुछ ही देर में हम दोनों चुदासे महसूस करने लगे। मेरा हाथ उसके दूध पर चला गया। मैं दबाने लगा। हैण्डीकैम कैमरे में सब रिकॉर्ड हो रहा था। रोज हम दूसरों की चुदाई फिल्मे देखते थे। आज हम खुद अपनी बना रहे थे। शावर के पानी में हम दोनों भीग रहे थे। मैं उसके सेक्सी होठो को बस चूसे जा रहा था। फिर मैंने झुक गया और उसके दूध को हाथ से तेज तेज दबाने लगा। शावर का पानी जब उसकी रसीली 34″ की शानदार चूचियों पर पड़ता था तो वो और चमकने लग जाती थी और बहुत सुंदर लग रही थी। मैंने तेज तेज उसके आमो को दबाने लगा।

यह कहानी भी पड़े  चुलबुली शिरीन और नटखट यास्मीन

फिर मैं अपनी पड़ोसन शीला को जमीन पर लिटा दिया। और उसके उपर लेट गया और उसके बाए मम्मे को मुंह में लेकर चूसने लगा। शीला “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ..अअअअअ..आहा .हा हा हा” की आवाज निकालने लगी। मैं जल्दी जल्दी उसके बूब्स को मुंह में लेकर पीने लगा। जिन्दगी का मजा आ गया दोस्तों। शावर का ठंडा पानी हम दोनों पर गिर रहा था। बहुत ठंडा ठंडा महसूस हो रहा था। मैं जल्दी जल्दी उसकी चूची को चूस रहा था। जीभ से उसकी निपल्स को ठोकर मार रहा था। शीला चुदासी हुई जा रही थी। उसे भी बहुत सनसनी महसूस हो रही थी। मैंने उसे तड़पाने लगा और जल्दी जल्दी अपनी जीभ से उसकी निपल पर ठोकर मारने लगा। वो “..अई.अई..अई..अई..इसस्स्स्स्स्स्स्स्…उहह्ह्ह्ह…ओह्ह्ह्हह्ह..” की आवाज निकालने लगी और कसमसाने लगी। वो बार बार अपनी गांड उठाने लगी।

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!