हब्बी ने नीशी को रंडी बनाया

हेलो दोस्तो, आप सबकी पर्सनल रखेल नीशी मेहरा वापिस एक नयी स्टोरी लेके आई है, मेरा नाम नीशी मेहरा है और पहले भी काफ़ी स्टोरीस लिख चुकी हू, एज 24 और फिगर 34-26-34 है, शादी हो गयी है और शादी के बाद इतनी मस्ती नही कर सकती जितना पहले करती थी. पर नॉटी पहले से ज़्यादा हो गयी हू.

तो स्टोरी स्टार्ट करती हू, शादी के बाद भी मेरी हवस बढ़ती जा रही है, मै कभी एक लंड से खुस रह ही नही सकती, हू ही रंडी, कभी हब्बी के दोस्तो को सेडूस करती, या फिर पड़ोसी कॉलेज बॉय को, बट सेक्स नही कर पा रही थी, क्यूकी हब्बी को पता चल जाएगा वो डर था.

हब्बी का दोस्त तनवीर घर पे आता जाता रहता था, सब दोस्तो को मै सेडूस करती, लेकिन तनवीर मुझे सेडूस करता, चाहे हम डिनर करने गये हो या फिर दोस्तो के साथ मूवी देखने, वो मेरे पास बैठ जाता, और धीरे से मेरी चूत सहलाता, पर कभी अकेले मै मिलना नही हुआ, वरना पक्का मुझे अपनी रखेल बनाकर चोदता वो.

जब भी मैच देखने या फिर शराब पीने हब्बी के साथ, वो घर आता तो कोई ना कोई तरीके से मुझे सेडूस कर देता, किचन मे आके ओवर दी क्लोथ्स फक करता, या फिर स्मूच करता, और आते जाते बूब्स और गांड दबाता, एंड मच मोर.

मुझे हब्बी के बर्थडे पर सर्प्राइज़ देना था, पूरा घर सज़ा के, कैंडल्स से, बट मै अकेली तो कर नही सकती, सो मैने हब्बी के जाने के बाद तनवीर को कॉल किया, की कैंडल्स के साथ कंडोम्स भी लेके आ जाओ.

थोड़ी ही देर मे वो आ गया, अंदर आते ही उसने एक सॉलिड किस किया, और फिर मेरे ड्रेस की ज़िप खोल के बूब्स दबाने लगा.

यह कहानी भी पड़े  हिन्दी कामुकता कहानी - राजू की बहने

मै – सुनो तनवीर, रूको.

उसने मेरी एक ना सुनी, और किस करता रहा, उसे मै पहली बार इतनी फ्रीली मिल रही थी.

मैने धक्का दिया, – सुनो, रात को 9 बजे हब्बी आएँगे, इस लिए पहले सब डेकोरेट कर देते है, और कैंडल्स रख देते है, फिर मै तुम्हारी 9 बजे तक,वो खुस हो गया और जल्दी से सब डेकोरेट करने लगा, मै कैंडल्स लगाने लगी.

2 घंटे मै तो सब ख़तम हो गया, फिर हमने लंच किया, कुत्ते ने यहा भी सेडूस करने का मौका नही छोड़ा, मुझे अपनी गोद मे बिठाकर चूत सहलाते हुए खिलाया, मै पूरी गरम हो चुकी थी, तनवीर मुझे हमारे ही बेडरूम मे ले गया.

तनवीर – नीशी, आज के दिन मे मैं तेरा पति, साली कमाल की है तू, क्या फिगर है, रोज़ बुला लिया कर जानेमन.

मै – सिर्फ़ बाते ही करेगा, या और कुछ भी?

वो ज़ोर से कूद पड़ा मुझपे और मेरी बॉडी पे हर जगह बाइट करने लगा, ओ.एम.जी, पागल कुत्ते की तरह मुझे चाट ने लगा, मै भी कम नही थी, मैने उसका लंड पकड़ के सहलाना स्टार्ट किया, उसको सेडूस करने लगी, ओ.एम.जी, कितना बड़ा, आज तो मै मर गयी समझो, उसने किस करते हुए बूब्स दबाने स्टार्ट किया और एक हाथ से फिंगरिंग करने लगा.

मै पूरी मदहोश हो कर उसके कंट्रोल मे आ गयी, फिर उसने नीचे जा कर मेरे टॅंगो के बीच अपना सर रख के चूत चाटना शुरू किया, ओ.एम.जी दैट फीलिंग, ! मै पागलो की तरह चिल्लाने लगी. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

यह कहानी भी पड़े  बॉयफ्रेंड ने मेरी मम्मी और मुझे चोदा

येस तनवीर, आहह फुक्ककक, यू आर ऑसम, ओएमजी, लव्ली, यअहह.

फिर उसने लंड मेरी चूत पे रखा, और बाते करने लगा.

आइ वास लाइक – सेक्स के बीच मे कौन बाते करता है, फिर भी.

वो मेरी तारीफ़ करने लगा, किस करने लगा, इस बीच पता ही नही चला की कब उसने लंड घुसा दिया, ओएमजी, स्मार्ट मूव, आधा लंड चूत मे घुसा दिया और मुझे पता भी नही चला, और फिर चुदाई शुरू, वॉव, उसने स्लोली स्लोली स्पीड बढ़ाई, और मै आसानी से चुदने लगी, यअहह फुक्ककक तनवीर, यू आर रियली सुपर्ब.

तनवीर – मैने बोला ना, तेरा पति बना दे, रोज़ आऊंगा.

मै – वो तो मै बिना पति बनाए बुला सकती हू.

तनवीर – तो फिर ये ले.

अहह उसने रियल चुदाई स्टार्ट की, फास्ट एंड डीप, ओएमजी, यअहह फुक्ककक, आहह यअहह माइ गॉड, फक मी फास्टररर, ओह यअहह दैटस मा बॉय, उसने और तेज़ी से चुदना शुरू किया आहह ओएमजी, मुम्माआ, आधे घंटे तक चुदाई करता रहा और फिर पूरा स्पर्म मेरे बूब्स पे निकाला, और फिर हम साथ मै नहाने गये, वाहा उसने फिर से क्विक्ली मेरी चुदाई की, फिर थोड़ी मस्ती की और हब्बी के आने से पहले वो चला गया, मैने हब्बी को बर्तडे सर्प्राइज़ दी, और हमने कैंडल लाइट डिनर किया

थोड़े दिन बाद हब्बी के दोस्त विवियन का मुझे मेसेज आया, – रंडी, मै भी तेरे पति का दोस्त हू.मेरा नंबर कब आएगा.

मै डर गई, मैने तनवीर को फोन किया, उसने बताया की विवियन ने हमारी फोटो देख ली उस दिन की..

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!