दोस्त की मंगेतर नेहा की चुदाई

हेल्लो दोस्तो, कैसे हो आप सब?

मेरा नाम राज है. मैं मेरठ मे रहता हूँ. मैं बहोत ही हॅंडसम हूँ. मैं अपनी फॅमिली से दूर रहता हूँ. और तो और मैं यहा जॉब करता हूँ. मैं एक अपने दोस्त के साथ रूम मे रहता हूँ.

मेरे दोस्त का नाम अश्वनी है और वो बहोत ही अच्छा है. वो दिल का बहोत ही साफ है. मैं उसके साथ अपने दिल की हर बात शेयर करता हूँ. और वो मुझसे हर बात शेयर करता है.

मैं आज आपके लिए एक कहानी ले कर आया हूँ जो की बहोत ही मस्त है. और कहानी पढ़ कर आपको बहोत ही ज़्यादा मज़ा आने वाला है. मैंने बहोत ही मज़े से ये कहानी लिखी है और सच कहु तो आपको पढ़ने मे भी बहोत मज़ा आने वाला है.

पर कहानी को बताने से पहले मैं आपको अपने बारे मे बताना चाहता हूँ. मैं बहोत ही हॅंडसम हूँ और तो और मैं जिम भी जाता हूँ और मेरी बॉडी भी काफ़ी अच्छी है.

मैं अपने दोस्त के साथ कई बार ड्रिंक भी करता हूँ क्योकि वो कभी कभी पेग ल्गा लेता है.और उसके साथ रहने के बाद मुझे भी आदत पड़ गई है की मैं भी पेग ल्गा लू. मैं तो जब पीता हूँ तो मैं पागल ही हो जाता हूँ. यानी की मैं शराब मे धुत्त हो जाता हूँ.

मेरे दोस्त की गर्लफ्रेंड है जिसका नाम नेहा है और वो बहोत ही अच्छी है. मैं बहोत ही अच्छे से उसको रेस्पेक्ट देता हूँ. मैं बहोत खुश होता हूँ जब भी मैं उसको देखता हूँ. क्योकि वो इतनी खूबसूरत है की मैं क्या बताउ. वो मेरे दोस्त से बहोत प्यार करती है और मेरा दोस्त भी उससे बाहोट प्यार करता है

यह कहानी भी पड़े  साली से जयपुर में मज़ा

वो हमसे मिलने रूम पर भी आ जाया करती है. और अक्सर मैं उनके साथ मज़ाक करता हूँ. मैं और अश्वनी हमेशा एक साथ ही ऑफीस जाते है. पर एक दिन मुझे बहोत ही तेज बुखार हो रखा था.

तो आज अश्वनी अकेला ही ऑफीस चला गया. और ये पहली बार हुआ था की मैं घर पर था और वो ऑफीस मे था. मुझे 102` बुखार था और मैं घर पर रेस्ट कर रहा था. और उधर मैं अब टीवी पर मूवी देखने लग गया था.

तभी घर की डोर बेल बजी और मैंने खोला तो मैने देखा की नेहा थी. और वो मेरे लिए मेडिसिन ले कर आई थी. और तो और फिर वो मेरे पास आ कर बैठ गई और मूवी देखने लग गई.

तभी मूवी मे कुछ ऐसा सीन आया जिससे की वो मुस्कुरा पड़ी और मैने भी शरम के मारे रोमांटिक सॉंग्स ल्गा लिए. मैं बहोत ही पागल था की तभी उसने मुझे मेडिसिन दी और फिर उसके बाद मैने लेली.

नेहा – तुम्हारी गर्लफ्रेंड न्ही है क्या.

मैं – न्ही मेरा इतना अच्छा नसीब कहा से.

नेहा – अच्छा पर मुझे तो अपने प्यार पर शक होता है.क्योकि वो अभी तक रोमांटिक न्ही है और शादी के बाद पता न्ही होंगे भी या न्ही.

मैं – आप टेन्षन मत लो मैं हूँ.

नेहा – अब तुम मुझे झूठा दिलासा मत दो.

ये सुनते ही मैं खुशी के मारे सातवें आसमान पर पहुच गया. फिर मैने उसका फेस पकड़ा और उसके गुलाबी होंठो को अपने होंठो मे ले कर चूस लिया. नेहा ने मेरा ज़रा भी विरोध न्ही किया था.

ये देख कर मैं काफ़ी जोश मे आया और मैने उसके कोमल होंठो को अपने दांतो से काटना शुरू कर दिया. वो मज़े मे मेरे होंठो को अपने दांतो से काटने लग गई.

यह कहानी भी पड़े  कज़िन सिस्टर के पति से चुदाई की

हम दोनो करीब 10 मिनिट तक चुम्मा चाटी करते रहे. इसी बीच मैने अपने दोनो हाथो से उसके बूब्स मसलने शुरू कर दिए थे. जिससे वो काफ़ी गरम हो गई थी.

मैं – जान अब बहोत हुआ, आओ अब हम दोनो हवस का नंगा नाच करते है.

मेरी बात सुन कर वो कुछ न्ही बोली, मैने धीरे से उसका कुर्ता उतार दिया. साथ ही मैने भी अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिए. फिर मैने उसकी सलवार का नाड़ा एक ही झटके मे खींच कर खोल दिया.

नेहा अब मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा और पेंटी मे ही थी. जो बेहद सेक्सी और हॉट लग रही थी. मैने उसे खड़ा किया और खुद ज़मीन पर घुटनो के बल बैठ कर उसके चिकने गोरे पेट को चूमने लग गया.

मेरे ऐसा करने से नेहा गरम होने लग गई थी, फिर मैने नेहा की पेंटी को अपने दाँत से प्कड़ा और उसकी पेंटी नीचे उतार दी. पेंटी की नीचे उसकी चूत जिसके उपर हल्के हल्के बाल आए हुए थे.

चूत गीली हो चुकी थी, उसमे से बहोत ही मस्त खुश्बू आ रही थी. मैने अपना नाक उसकी चूत पर रखा और चूत को सूंघते हुए अपनी नाक उसकी चूत पर रगड़ने लग गया.

नेहा पागलो की तरह दीवार मे सिर मारने लग गई थी, और ज़ोर ज़ोर से अहहह आ उई मा करने लग गई थी. तभी मैने अपनी जीब से उसके चूत के दाने को चाटना शुरू कर दिया. इससे नेहा से रुका न्ही गया और वो बोली.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2

error: Content is protected !!