डॅल्लूसियी में हुए गंगबांग की सेक्सी स्टोरी

मैं वंश, 18 एअर का, ब.टेक 1स्ट्रीट एअर में हू. 5.6 फीट हाइट, फेर कलर, आवरेज फिट बॉडी, गांद थोड़ी उबरी हुई है मेरी. मेरे जिस्म पर एक भी बाल नही है, एक-दूं चिकना लड़का हू. मैं चंडीगार्ह से हू. स्कूल टाइम से ही मुझे लड़कों में इंटेरेस्ट है.

ये स्टोरी लास्ट एअर डिसेंबर की है. हमारे पड़ोस में एक भैया और उनकी फॅमिली रहती है, जिनके साथ हमेशा से फॅमिली जैसा रिश्ता है. मैं हमेशा भैया और उनकी फॅमिली के साथ घूमने जाता रहता था.

भैया का नाम जसवीर है, वो मॅरीड है, उमर 32 यियर्ज़, प्रॉपर 5.9 फीट टॉल मस्क्युलर सरदार. एक-दूं फेर कलर, हल्की-हल्की फेस पर दाढ़ी, चेस्ट पर भी थोड़े-थोड़े बाल. एक-दूं हीरो है भैया. उनकी वाइफ डॉक्टर है लुधियाना में, इसलिए भैया ज़्यादातर अकेले ही होते है.

एक दिन मैं भैया के घर गया. भैया और टॉ जी और टाई जी सब हॉल में ही बैठे थे.

मैं: क्या बात चल रही है आज?

भैया: अछा हुआ तू आ गया. घूमने चलेगा मेरे साथ?

मैं: क्यूँ, बाकी सब नही जेया रहे क्या?

भैया: मम्मी और पापा अमृतसर जा रहे है. और मैं मेरे मामा के साथ डॅल्लूसियी जेया रहा हू. चलेगा मेरे साथ बोल? कल 9 बजे निकलेंगे हम. मेरे दोस्त का रिज़ॉर्ट है वही रुखना है.

मैं तो वैसे भी भैया के साथ जाने के लिए कभी माना ही नही करता था. मैने तुरंत हा बोल दी. नेक्स्ट मॉर्निंग 8 बजे मैं रेडी हो कर उनके घर चला गया. वाहा भैया और उनके साथ 3 लोग और खड़े थे. उनको देख कर मैने बोला-

मैं: भैया ये कों है?

भैया: ये मेरे डोर के मामा है. तुमने देखा नही है इनको, ये कभी-कभी आते है इसलिए.

फिर भैया ने सभी का नाम बताया. होने को सभी मामा थे, बुत सभी भैया के जीतने ही स्मार्ट और हेरी बॉडी वाले थे. उनके मामा हरप्रीत (36 यियर्ज़, 5.9 फीट टॉल ), गगनदीप (38 यियर्ज़, 5.8 फीट टॉल ), गुरप्रीत ( 40 यियर्ज़,5. 8 फीट टॉल). हमने कार से चलना स्टार्ट किया.

हरप्रीत मामा कार चला रहे थे. उनके साथ भैया और पीछे गगन और गुरु मामा के बीच मैं बैठा हुआ था. हम बातें करते सॉंग सुनते-सुनते लगभग हाफ रूट कंप्लीट कर चुके थे. अभी भैया कार चला रहे थे. तभी-

गुरप्रीत: यार जस्सी सर्दी बहुत है. सर्दी के लिए दारू और बियर तो है रिज़ॉर्ट में?

हरप्रीत: ओन्ली दारू से क्या होगा यार, लड़कियाँ भी तो होनी चाहिए.

भैया: हा-हा दारू का प्रोग्राम तो घर से ही लेकर निकले थे. बस लड़कियाँ वाहा देख लेंगे.

भैया जैसे मेरे साथ फ्रेंड की तरह रहते थे, वैसे ही इनके मामा भी दोस्त से कम नही थे. ऐसे ही बातें करते-करते हम. फाइनली रिज़ॉर्ट पहुँच गये. रिज़ॉर्ट बहुत बड़ा था. वाहा हमारे अलावा कोई नही था. टाइम कुछ 5 बजे होंगे. वाहा का व्यू एक-दूं आसम था. टेंपरेचर 2°सी हो रहा था, तो सर्दी का अंदाज़ा तो आप लगा सकते हो, बहुत ज़्यादा हो रही थी.

हम सब फ्रेश हो कर मार्केट घूमने के लिए रेडी हो गये. सच बात तो ये थी मामा जी और भैया को लड़कियाँ बुक करने के लिए जाना था. मार्केट घूमने के बाद रिज़ॉर्ट आते-आते हमे 7 बाज गये थे.

गगनदीप: यार लड़कियों की बुकिंग तो कल की हुई है. अब क्या कल तक हाथ से काम ले?

गुरप्रीत: चल कोई नही. रिज़ॉर्ट में चल, मस्त हॉट वॉटर स्विम करके हॉट स्टीम स्पा लेते है. बॉडी रिलॅक्स हो जाएगी.

सब पूल में चले गये, और मैं अपनी स्विम्मिंग अंडरवेर पहन कर रूम से आया. मुझे देखते ही-

गगनदीप: क्या लोंड़िया है क्या जो स्विम करने के लिए भी ये इंग्लीश निक्कर पहन कर आया है?

सब ने ड्रिंक करना स्टार्ट कर दिया.

हरप्रीत: वंश और जस्सी ड्रिंक क्यूँ नही ले रहे?

भैया: खाने के बाद ट्राइ करता हू. और वंश तो करता ही नही है.

गुरप्रीत (नशे में): क्या यार वंश, मर्द हो कर ड्रिंक नही करता. बदन भी कितना चिकना बना रखा है. लोंड़िया है क्या?

ये बोल कर सब हासणे लगे. 15-20 मिनिट स्विम्मिंग करने के बाद सब स्पा में जाने लगे. स्पा रूम स्विम्मिंग पूल के पास ही था. सभी मामा जी पूल से बाहर आ कर अंडरवेर उतार कर टवल लपेटने लगे. सभी के जिस्म को देख कर कोई बोल ही नही सकता ये 35+ थे. रियली, क्या मस्त बॉडी थी सभी की. उनके लोड अभी सोए हुए भी 4+ इंच लंबे और 2.5 इंच मोटे लग रहे थे.

हरप्रीत मामा को छ्चोढ़ कर सब के लोड के पास बहुत बाल थे. मुझसे तो कंट्रोल ही नही हो रहा था. भैया और मैं अपने अंडरवेर में ही स्पा चले गये. स्पा के अंदर सभी मामा दारू के नशे में ही बोलने लगे-

गगनदीप: बीसी वंश, बदन तो बहुत मस्त है तेरा. क्यूँ भाइयों, एक भी बाल नही है लोंडे की जिस्म पर.

हरप्रीत: लेकिन हमने तो सही से देखा ही नही. एक बार पीछे से तो दिखा दे. क्यूँ जस्सी और गुरु, देखोगे?

सभी के फोर्स करने पर मैं कड़ा हो गया. अब सभी मेरी गांद देख रहे थे.

“मस्त है यार तू कसम से मॉडेल बनेगा क्या?” सब मज़ाक-मज़ाक में मेरे से पंगे ले रहे थे. सब हासणे लगे, और सब बढ़िया चल रहा था. तभी भैया बोले-

जस्सी: यार खाना खाने में लाते हो जाएगा. चलो, फिर आ कर बात कर लेना.

हम सब खाना खा कर जैसे फिरसे रूम पर आए, तभी सभी ड्रिंक करने लग गये, भैया भी. तीनो मामा बोलने लगे-

“जस्सी यार, जब से हॉट वॉटर स्विम्मिंग करी है, बहनचोड़ लड़की की छूट लेने का बहुत मॅन है”.

गगनदीप: अछा, लड़की नही तो लड़के की गांद ही दिलवा दे?

ये सुन कर मेरे तो मूड ही बन गया.

भैया: क्या मामे तो भी.

रूम का हीटर ओं था और सभी को ड्रिंक के बाद गर्मी लगने लगी.

हरप्रीत: यार गर्मी हो गयी.

ये बोलते ही सब कपड़े उतार कर ओन्ली अंडरवेर में बैठ गये. ओन्ली मैं ही फुल ड्रेस में बैठा हुआ था.

भैया: क्या यार वंश, तू भी उतार दे. हम सब मर्द ही तो है. मेरे साथ तो कभी नही शरमाता.

मैं भी सभी कपड़े उतार कर अंडरवेर में बैठ गया. मुझे अब ठंड लग रही थी. भैया और सभी मामा ने फोर्स करके ड्रिंक पीला दी, बुत मैने ओन्ली 1 ग्लास ही लिया. मेरा सर घूमने लगा. भैया और सभी मामा आपस में बात करने लगे. फिर मुझे बोले-

भैया: वंश, स्पा में तूने चीटिंग करी. तुझे पूरा जिस्म दिखाने को बोला था, और बीसी तूने अंडरवेर तो उतरी ही नही. एक बार सब दिखा ना यार.

मैं भी फुल मूड में था. मैने बिना कुछ सोचे अंडरवेर उतार कर अपनी गांद उनको दिखने लगा.

मैं: देखो भैया. मामू आप भी देख लो.

गगन: क्या मस्त गोरी-गोरी फूली हुई गांद है सेयेल की यार. क्या मक्खन है ये.

भैया: हा यार.

गुरप्रीत: एक बार प्यार करने देगा वंश यार? कब से हमारे लोड बेताब हो रहे है.

मैने भी ड्रिंक के नशे में हा बोल दिया. भैया ने मुझे गोद में लेकर बिस्तर पर लिटा दिया, और सभी मेरे जिस्म पर किस करने लगे. कोई निपल्स चूस रहा था, कोई लिप्स, और कोई गांद. मेरी पूरी बॉडी पर किस कर करके लाल कर दिया था. फिर सभी ने ड्रिंक पी और बॉटल से मुझे भी पीला दी.

अब सब नंगे मेरे सामने थे. सभी मामा के लोड 7 इंच लंबे और 4 इंच मोटे थे. लेकिन सबसे लंबा भैया का था 9 इंच लंबा और 3 इंच मोटा. सभी अपने लोड पर दारू गेर्ने लगे.

भैया: आजा मेरी जान, तेरे भैया का लोड्‍ा बुला रहा है.

भैया और हरप्रीत का लोड्‍ा एक-एक करके डॉगी पोज़िशन में चूसना स्टार्ट किया. पीछे से गुरप्रीत मेरी गांद, और गगन मेरे लोड को चूसने लगा. स्टार्टिंग में बहुत मुश्किल हो रही थी चूसने में. मेरा मूह दर्द हो रहा था. लेकिन आज मेरी सुनने वाला कोई नही था. 10 मिनिट ऐसे ही चूसने के बाद फिर पोज़िशन चेंज करके भैया ने बाग से कॉंडम का बॉक्स और लूब्रिकॅंट निकाला.

हरप्रीत: जस्सी यार पहले मैं लूँगा सेयेल की गांद. आज पूरी फैला देंगे सेयेल की.

मैं: आराम से करना प्लीज़. मेरा फर्स्ट टाइम है.

भैया: कोई नही जान, आराम से करेंगे सब. मैं हू ना.

ये बोल कर गगन और गुरु ने एक साथ अपने लोड मेरे मूह में दे दिए. फिर भैया मेरे निपल्स को ऐसे चूसने लगे, जैसे आज ही दूध निकाल देंगे. तभी हरप्रीत ने मेरी गांद में लूब्रिकॅंट लगा कर अपने लोड को आधा घुसा दिया. सभी ने मुझे कस्स के पकड़ रखा था. मेरा हिलना भी मुश्किल था. दर्द से मैं पागल हो गया था.

फिर धीरे-धीरे झटके देते-देते 10 मिनिट बाद गुरप्रीत ने मेरी गांद की साइड आ कर मेरी गांद पर से खून सॉफ करा, और कॉंडम लगा कर एक साथ ही पूरा लोड्‍ा घुसा दिया. हरप्रीत ने अभी आधा ही डाला था, लेकिन गुरप्रीत ने पूरा ही आर-पार कर दिया. भैया ने मेरे मूह में तभी लोड्‍ा डाल कर मुझे चीखने भी नही दिया.

10 मिनिट गांद तेज़-तेज़ झटके मारने के बाद अब मुझे मिशनरी पोज़िशन में लिटा दिया. फिर भैया ने ड्रिंक पी कर मुझे किस किया, और पूरी ड्रिंक मुझे पीला दी. तभी गगन ने भी एक साथ ही पूरा लोड्‍ा मेरी गांद में घुसा दिया. मेरा दर्द अब धीरे-धीरे नॉर्मल हो रहा था. गगनदीप बहुत तेज़-तेज़ झटके दे रहा था.

गगन: बीसी, सेयेल की गांद अब हमारी है. अब नही जाने देंगे इसको.

10 मिनिट बाद भैया ने गगन को साइड कर दिया.

गगनदीप: साला कितनी मस्त गांद लेकर घूम रहा है. जस्सी ले तेरे लिए रेडी है अब इसकी गांद.

हरप्रीत: जस्सी का 9 इंच लंबा लोड्‍ा तो फाड़ देगा रंडी की.

भैया: रंडी नही लुगाई बनौँगा आज इसे. सेयेल की गांद अभी भोंसड़ा बन कर ही रहेगी.

भैया मेरी गांद के पास आए. एक दारू की बॉटल लेकर अपने लोड और मेरी गांद पर गिरते-गिरते मेरे पुर बदन पर गिरा रहे थे. सभी मामा मेरे जिस्म पर गिरी दारू को चाटने लगे. भैया ने लोड्‍ा मेरे च्छेद पर रखा, और तेज़-तेज़ मेरी गांद के च्छेद पर मारने लगे.

फिर आधा लोड्‍ा डाल कर तोड़ा आयेज-पीछे करते. फिर निकल देते. ऐसे करते-करते 5 मिनिट तक भैया ने मुझे बहुत मज़े दिए. मैं अपने मूह से लोड्‍ा निकाल कर बोला-

मैं: भैया गांद मारो ना. क्यूँ सता रहे हो?

गुरप्रीत: साली हमे तो इतना प्यार से नही बोल रही थी. ले चूस इसे.

एक साथ दो-दो लोड मेरा मूह छोड़ रहे थे. भैया ने पूरा लोड्‍ा मेरी गांद में डाल दिया, और बॉटल लेकर दारू पीते-पीते मेरी गांद मार रहे थे. भैया बहुत तेज़-तेज़ झटके दे रहे थे. पूरा बेड हिलने लगा. सभी मामा ने एक-एक करके अपना माल मेरे जिस्म पर गिरा दिया. भैया अभी भी बहुत हार्ड छोड़ रहे थे. मैं फुल मज़े में चिल्लाने लगा.

मैं: एयेए श, फक मे डॅडी.

तभी भैया मुझे गोद में लेकर सोफे पर फेस ऑफ पोज़िशन में छोड़ने लगे. दारू की वजह से मुझे कुछ क्लियर समझ नही आ रहा था. सभी मामा भी दारू की वजह से सो गये थे. 20 मिनिट्स छोड़ने के बाद भैया मेरे साथ ही ब्लंकेट लेकर सोफे पर ही सो गये.

नेक्स्ट पार्ट में देखो कैसे 2-2 लोड मेरी गांद का भोंसड़ा बना रहे थे.

एमाइल: लोवेगुरुदेल21@गमाल.कॉम

यह कहानी भी पड़े  भाभी का मसाज और चोदन पति के सामने


error: Content is protected !!