बॉटम ने टॉप बन कर दूसरे बॉटम को चोदा

मेरे कॉलेज में सेकेंड एअर स्टार्ट हुआ. मैं उस वक़्त कॉलेज बस से आना-जाना करता था. वही मेरी मुलाकात फीलिक्स से हुई. फीलिक्स ने इसी साल कॉलेज में फर्स्ट एअर में अड्मिशन ली थी. फीलिक्स दिखने में एक-दूं गोरा-चितता लड़का था, और बहुत शांत और सुशील टाइप का था.

मैने जब पहली बार उसे देखा तो मेरे दिल की ढकान बढ़ गयी, और उसका नाम भी एक-दूं सब से अलग ही था. मुझे वो पहली नज़र में पसंद आ गया था. और लकिली मेरी उसकी बात पहले दिन हो गयी. फिर रोज़ कॉलेज में आना-जाना करते वक़्त साथ में बात होती थी. वैसे मेरा नाम आराव है, और मैं उससे सिर्फ़ एक साल बड़ा हू. मैं दिखने में आवरेज सा हू. और मुझे बॉटमिंग करना बहुत पसंद है.

आज तक मैने कुछ ख़ास करीबी फ्रेंड्स के साथ वक़्त बिताया है. उनके सामने नंगा हुआ हुआ, और उनका लंड चूस कर दिया है. पर आज तक ऐसा कोई नही मिल पाया, जो मेरी गांद की प्यास बुझा सके. मेरा दिल फीलिक्स पर आ गया था. पर मुझे ये पता नही था की वो लड़कों में इंट्रेस्टेड था की नही. और अग्र था, तो क्या वो टॉप था या बॉटम.

कुछ दीनो बाद मेरा बर्तडे था, और मैं अपने फ्रेंड्स को पार्टी देने वाला था, और वाहा मैने फीलिक्स को भी इन्वाइट किया. उसे मैने इन्वाइट किया इसलिए उसे बहुत अछा लगा. फिर एक दिन फीलिक्स कॉलेज बस में मेरे बाजू वाली सीट पर आके बैठ गया. फीलिक्स का हाथ मुझे चू रहा था, और इसलिए मुझे बहुत ही अछा लग रहा था.

उसके दूसरे दिन फीलिक्स ने मुझसे कॉलेज से वापस जाते वक़्त पूछा क्या मैं आज रात के लिए उसके रूम पर आके रुक सकता था, क्यूंकी उसका पार्ट्नर घर गया था, और उसे रात में अकेले रहने में दर्र लगता था. मैं मान गया. मैं एक बाग लेके और कुछ समान लेके उसके रूम पर चला गया. उसने मुझे रिसीव किया और रूम में ले गया.

हम दोनो एक ही बेड पर लेते हुए थे. और दोनो अपने मोबाइल पर लगे हुए थे. कुछ देर बाद में उसकी तरफ मूह करके अपना मोबाइल उसे करने लगा. कुछ देर बाद मैने मोबाइल साइड में रखा, और अपनी आखें बंद कर दी. ग़लती से मेरा हाथ फीलिक्स के हाथ को टच हुआ. तो मैं सीधा लेट गया.

कुछ देर बाद फीलिक्स ने अपना हाथ मेरे हाथ पर रख दिया. मुझे पहले लगा की ग़लती से टच हुआ होगा, पर उसने अपना हाथ हटाया नही. मैने हल्की उंगलियों से उसका हाथ पकड़ना चाहा, और सेम फीलिक्स ने भी हल्के हाथो से मेरा हाथ दबाया. फीलिक्स का सपोर्ट देख कर मैने उसका हाथ पकड़ लिया, और सोने का प्रिटेंड किया.

मैने कुछ देर तक उसका हाथ पकड़ कर रखा था, और कुछ देर में मैने फिर अपना मूह उसकी तरफ किया. मैने आखें खोली तो देखा की फीलिक्स मुझे देख रहा था मैं उसे देख मुस्कुराया और जवाब में फीलिक्स भी मुस्कुराया और मेरे करीब आया. उसने एक हाथ से मेरे गाल पर सहलाया और कहा, “योउ लुक ब्यूटिफुल”. मैं बताना भूल गया की फीलिक्स को सिर्फ़ कन्नडा भाषा आती थी, और इसीलिए हम सिर्फ़ इंग्लीश में बातें करते थे.

मैने कहा, “योउ अरे मोरे ब्यूटिफुल देन मे”. ये सुन उसकी आँखें झुकी, और उसने अपना एक हाथ मेरी चेस्ट पर रखा, और दूसरा हाथ मेरे हाथो में तो था ही. हम दोनो एक-दूसरे को देखते-देखते करीब आने लगे, और पता ही नही चला की कब हमने किस करना शुरू कर दिया.

मेरा लंड यहा नीचे टाइट हो चुका था, और उपर मेरे होंठ फीलिक्स के होंठो का पानी चूस रहे थे. तो वही फीलिक्स भी मेरे होंठो को चूस रहा था, और देखते ही देखते मैं अपनी सुध-बुध खो बैठा. फिर कुछ देर में मैने उसके होंठो से होते हुए उसके गाल और फिर गर्दन पर चूमना शुरू कर दिया.

उसके मूह से आह आह की आवाज़ निकालने लगी. उसने कोई विरोध नही किया, तो मेरी हिम्मत और बढ़ गयी. मैने उसकी गर्दन को दोनो और से चूमा, और छाता. फिर मैं रुक गया. फीलिक्स ने मेरी चेस्ट पर अपना सिर रखा, और मैं उसका एक हाथ अपने हाथ में लेकर दूसरे हाथ से उसके सिर के बालों को सहलाने लगा.

फीलिक्स को मेरा प्यार मिल रहा था. उसने मेरी त-शर्ट उपर की, और मेरे पेट पर सहलाने लगा. मैने उसे कुछ नही कहा. उसने धीरे से अपना हाथ मेरे लंड पर रख दिया. उसके छूने से वो और बड़ा हो गया. मैने फीलिक्स को नही रोका तो उसने उसे दबाना शुरू किया. कुछ देर दबाने के बाद मैने फीलिक्स को बिताया, और उसकी त-शर्ट उतार दी. मैने उसकी पीठ और नंगी छाती पर हाथ घुमाए.

उसने मेरी त-शर्ट भी उतरी. वो मेरे उपर आया, और मेरे निपल्स चूसने शुरू किए. मैने उसके बाद पकड़ कर मुझसे अलग करके उसे बेड पर लिटाया. फिर मैने उसकी पंत की ज़िप खोली, और उसकी पंत पैरों से निकाल कर बेड से नीचे फेंक दी. उसने भी मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपने उपर खींचा. फिर उठ कर मेरी पंत उतार फेंकी. हम दोनो अब सिर्फ़ चड्डी में थे.

उसने मेरी और देखा और मेरी चड्डी के दोनो तरफ से पकड़ा, और बिना कुछ कहे मेरी और देखने लगा. मैने भी बिना कुछ कहे उसे मुझे नंगा करने की इजाज़त दे दी. उसने मेरी चड्डी उतरी, और मेरा लंड जो की 6″ का था उसके सामने खड़ा हो गया. उसने बिना देर किए मेरे लंड को हिलाया, और फिर एक झटके में पूरा लंड मूह में ले लिया.

जैसे ही उसने मेरा लंड अपने मूह में ले लिया. मैं किसी और दुनिया में जेया चुका था. उसने धीरे-धीरे मेरा लंड चूसा, और फिर स्पीड बधाई. मैने भी उसका सर पकड़ कर अपना लंड चुस्वाया. वैसे तो मुझे लंड चूसने का भी शौंक है. पर पहली बार कोई मेरा लंड चूस रहा था, और मैं भूल चुका था की मैं बॉटम भी हू.

उसने फिर मुझे आचे से ब्लोवजोब दिया. जब मुझे लगा मेरा निकल जाएगा, तब मैने उसे रोका. मैने उसे बेड से नीचे उतरा, और खुद बेड की साइड पर बैठ गया. मैने उसकी चड्डी उतरी, और उसे मेरी जाँघ पर बिताया. उसकी गोरी-गोरी सॉफ्ट गांद जब मेरी जाँघ पर चिपकी, और वो बैठा तो मैने क्या बतौ. वो फीलिंग कुछ और ही थी.

ऐसा महसूस हो रहा था की उसे दो-चार तमाचे उसकी गांद पर मारु. और साथ ही उसकी गांद को चातु, काटु, और खा जौ. फिर मैने कंट्रोल किया, और उसकी गांद पर एक हाथ रखा, और दूसरे हाथ से उसका चेहरा मेरी और करके फ्रेंच किस किया. फिर फीलिक्स बेड पर बैठा, और अपनी दोनो टांगे उठाई.

मैं समझ गया की वो अपनी गांद मरवाना चाहता था. मैं भी तो बॉटम था, पर उसे देख कर पता नही मुझे क्या हो गया. मेरा मॅन किया उसकी गांद मारने का. मैने टेबल पर आयिल देखा तो उसे लूबे की तरह उसे करके फीलिक्स की गांद पर अपना लंड सेट किया. फिर मैने उसके दोनो पैरों को उठाया.

कुछ देर धीरे-धीरे धक्का देते हुए पहले कुछ अंदर गया, और फिर आधा और फिर पूरा लंड उसके अंदर था. वो चीखा, और चिल्लाया, और लंड बाहर निकालने के लिए रोया. पर पहली बार था, तो दर्द तो होना ही था. फिर जैसे-जैसे मैने उसकी गांद धीरे-धीरे मारी, उसे मज़ा आने लगा.

पहले उसकी आँखों से आँसू आ गये, पर बाद में खुद उसने मुझे गांद मारने को कहा. मैने भी पहली बार उसकी गांद मारी और 15-20 मिनिट तक चुदाई की. मैने अपना सारा माल उसकी गांद और लंड पर निकाल दिया.

फिर मैने भी उसका लंड तुरंत मूह में लिया, और ज़ोरो से चूसने लगा. अभी उसकी के गांद का दर्द कम हुआ ही नही था, की मैने उसका लंड चूसना शुरू किया. 3-4 मिनिट बाद वो मेरे मूह में ही झाड़ गया, और मैं भी उसका सारा माल पी गया.

उस रात तो हम क्लीन करके, और मैं फीलिक्स को अपने उपर लेके सो गे. सुबा उठा तो फीलिक्स मेरे उपर ही था, बिल्कुल नंगा, और उसका लंड मेरे लंड को टच करके सोया था. उस दिन के बाद मैं फीलिक्स का टॉप बन गया, और फीलिक्स भी बॉटम बन कर मुझसे खूब चुदाई करवाता.

उसे मुझसे गांद मरवाने में बहुत मज़ा आने लगा. हमने अलग-अलग जगह अलग-अलग तरीके से गांद चुदाई की. अगर आपको कहानी पसंद आई तो मैने इसका आयेज का पार्ट ज़रूर लिखूंगा. आप अपनी परतिक्रिया जवानिकजोश@आउटलुक.कॉम पर भेजे.

यह कहानी भी पड़े  अजनबी दोस्त के साथ मेरा पहला अनुभव


error: Content is protected !!