भाई-भाई की शादी और सुहागरात की स्टोरी

अब तक आपने पढ़ा, की जब कोई घर पे नही था तब मेरे छ्होटे भाई ने मुझे छोड़ा और मुझे गे होने का एहसास दिलाया. रोहित मुझे अपनी पत्नी बना चुका था. अब आयेज पढ़िए-

दूसरे दिन सुबा रोहित मेरे पास आया और मुझे जगाया.

रोहित: गुड मॉर्निंग मी वाइफ, मी जान, मी बेबी, मी लोवे, मी स्वीट हार्ट. ये कह कर उसने मेरे माथे पे किस किया.

मैने घड़ी में देखा तो सुबा के 9:30 बाज चुके थे. मैं इतनी देर कभी सोता नही हू.

मे: गुड मॉर्निंग बेबी.

रोहित: कैसे हो जान?

मे: बहुत दर्द हो रहा है. गांद सूज गयी है, और जलन भी हो रही है.

रोहित: ऑश मेरी जान को दर्द हो रहा है?

ये कह कर उसने मुझे बाहों में लिया. फिर मेरे सर पे हाथ फिराया और कहा-

रोहित: चलो फटाफट तैयार हो जाओ. मैं हम दोनो के लिए ब्रेकफास्ट बनता हू.

मे: मुझसे उठा भी नही जेया रहा बेबी.

रोहित: ऑश मेरी बेबी से उठा भी नही जेया रहा.

ये कह कर मुझे उसने गोदी में उठाया, और बातरूम में लेके गया. मुझे उसने फ्रेश होने को बोला. बुत मुझे लेट्रीन नही आ रही थी. रोहित बातरूम में आया, मेरे ब्रश पे पेस्ट लगाया, और मुझे ब्रश करने को बोला.

मैने 5 मिनिट्स में ब्रश किया और मूह धोया. रोहित ने गीज़र ओं करके शवर चालू किया, और मुझे नहलाया. फिर मुझे बेडरूम तक छ्चोढ़ दिया.

रोहित: बेबी फटाफट कपड़े पहनो. तब तक मैं ब्रेकफास्ट रेडी करता हू, और दूध गरम करता हू.

ये कह के वो चला गया. 15 मिनिट्स में मैं कपड़े पहन के रेडी हो गया. उतने में वो ब्रेकफास्ट कमरे में लाया. मुझे उसके हाथो से ब्रेकफास्ट खिलाया, और मेरे हाथ में दूध का ग्लास देके पीने को बोला. मैने पूरा दूध पे लिया. रोहित ने मुझे एक अंतासिद और पाईं किल्लर की टॅबलेट दी, और मुझे रेस्ट करने को बोला.

रोहित: बेबी ये टॅबलेट लेलो, इससे तुम्हे आराम मिल जाएगा.

मैने टॅब्लेट्स ली, और सो गया. दोपहर में करीब 1 बजे उसने मुझे लंच के लिए उठाया. उसने लंच मुझे तली में दिया. उसने बैंगन की सब्ज़ी, चपाती, और डाल-चावल बनाए थे. हम दोनो ने लंच स्टार्ट किया.

मे: खाना बहुत अछा बनाया है बेबी.

रोहित: थॅंक्स बेबी.

मे: वेलकम मी डियर.

रोहित: जान आपके लिए ईव्निंग एक सर्प्राइज़ है.

मे: क्या सर्प्राइज़ है बेबी?

रोहित: वो आपको ईव्निंग में ही पता चलेगा.

मे: प्लीज़ अभी बता दो ना जान.

रोहित: अभी बता दूँगा तो सर्प्राइज़ कहा रहेगा बेबी?

मे: ओक बेबी, मुझे ईव्निंग का इंतेज़ार रहेगा.

मैने दिन भर आराम किया था. बुत रोहित सुबा से घर के कामो में ही लगा हुआ था. घर की सॉफ-सफाई की, खाना बनाया, और बर्तन धोए थे उसने.

मे: अब आप भी तोड़ा आराम करो बेबी. बहुत काम किया सुबा से. तक गये होंगे आप.

रोहित और मैं बेडरूम में गये. रोहित आराम करने के लिए बेड पे गया, और जाके लेट गया.

उसने अपनी बाहें फैला के मुझे उसकी बाहों में आने का इशारा किया. मैं भी बेड पे गया तो उसने मुझे अपनी बाहों में कस्स के पकड़ लिया. उसने मेरे होंठो पे किस किया, और मुझे बोला-

रोहित: ई लोवे योउ मी वाइफ. बहुत प्यार करता हू आपसे.

मे: ई लोवे योउ टू बेबी. लोवे योउ सो मच.

मुझे उसकी बाहों में जन्नत का एहसास हो रहा था, और एक सुकून मुझे उसकी बाहों में मिल रहा था जैसा मैं हमेशा चाहता था, बुत मुझे कभी नही मिला था. मैं अपने आप को उसकी बाहों में सुरक्षित महसूस करने लगा.

हम दोनो ऐसे ही सो गये. शाम के 5 बजे हम दोनो की आँख खुल गयी. हम दोनो फटाफट फ्रेश हो गये. रोहित ने हम दोनो के लिए कॉफी बनाई. बुत उसने एक ही कप में कॉफी लाई. मैने उसे पूछा दूसरा कप कहा है, तो वो बहुत ही रोमॅंटिक मूड में बोला-

रोहित: बेबी आज हम दोनो एक ही कप में कॉफी पिएँगे.

मैं माना ही करने वाला था, लेकिन उतने में उसने कहा-

रोहित: अब हम दोनो हज़्बेंड वाइफ है. हम दोनो एक कप में कॉफी पी सकते है मी वाइफ.

मैं मान गया.

मे: ओक जी मी हज़्बेंड जी.

उसने एक घूँट कॉफी पी और कप मुझे दी. मैने भी एक घूँट कॉफी पी और उसे दी. ऐसे करते-करते हमने कॉफी ख़तम कर दी. कुछ देर बाद.

मे: कहा है आपका सर्प्राइज़?

रोहित: 6 बजे तक रूको मेरी रानी, सब पता चल जाएगा.

6 बाज गये. वो मुझे घर के मंदिर में लेके गया. हमारे घर में मंदिर के लिए अलग सा कमरा है. उसे रोहित ने फूलों से सजाया था. उसने दो शेरवानी लाई थी, एक मेरे लिए और एक उसके लिए.

मे: ये सब क्या है डियर?

रोहित: सब पता चल जाएगा. पहले ये शेरवानी पहन के तैयार हो जाते है.

हम दोनो कपड़े पहन के तैयार हो गये.

मे: अब आयेज क्या करना है?

रोहित ने पूजा की तली सजाई थी. फिर हम दोनो ने भगवान की पूजा की, और भगवान का आशीर्वाद लिया. रोहित ने मेरी माँग में सिंदूर भरा और कहा-

रोहित: मैं भगवान के सामने तुम्हे अपने लाइफ पार्ट्नर के रूप में स्वीकार करता हू. और ये कसम ख़ाता हू, की मैं हमेशा आपका साथ दूँगा. क्या आप मुझे आपके लाइफ पार्ट्नर के रूप में स्वीकार करते है? क्या आप मेरा लाइफ टाइम साथ दोगे?

मैने हा में सर हिलाया और कहा: मैं भी आपको अपने लाइफ पार्ट्नर के रूप में स्वीकार करता हू.

रोहित ने मेरी उंगली में एक सोने की अंगूठी पहना दी, और मेरे हाथो को चूमा. उसने एक अंगूठी मेरे हाथ में दी, और उसे पहनने को बोला. मैने उसे अंगूठी पहनाई, और उसके हाथो को चूमा.

मराठी शादी में 5 शादी के गीत होते है उसे मराठी में मंगल-अष्टका बोलते है. वो बोले बगैर शादी नही होती. उसने उसके मोबाइल पे मंगल-अष्टका लगाई. 5 मंगल-अष्टका होने के बाद, हम दोनो ने एक-दूसरे को हार पहनाए. भगवान का आशीर्वाद लिया, और एक-दूसरे को पति-पत्नी के रूप में स्वीकार कर लिया.

मैने उसके पैर छ्छू के उसका आशीर्वाद लिया, और उसने मेरे माथे पे एक किस किया. मिठाई के बॉक्स में से मिठाई निकली, और भगवान को भोग लगाया. एक-दूसरे को मिठाई खिला के मूह मीठा किया.

रात के 8 बाज चुके थे, रोहित ने होटेल से खाना ऑर्डर किया था. फिर हमने एक ही ताली में खाना लिया. उसने पहला नीवाला मुझे खिलाया, और मुझे नाम लेने को बोला. नाम लेना मतलब उखाना बोलना.

रोहित: बेबी नाम लो.

मे: मुझे नही आता.

रोहित: प्लीज़ स्वीटहार्ट मेरे लिए.

मे: इतिहास की किताब पे भूगोल का कवर, रोहित का नाम लेता है उनका लवर.

रोहित: वाउ, मान गया.

मे: अब आपकी बारी.

रोहित: मेरी नज़रो के तीर बहुत शरीर है. आदित्या हमारे दिल के कातिल है.

मे: बहुत बढ़िया.

रोहित: आज रात को क्या मालूम हैईना?

मे (शरमाते हुए): क्या है?

रोहित: आज रात हम दोनो की सुहग्रात है. आज रात एक मिनिट भी सोने नही दूँगा.

मे: सोना कों चाहता है जी.

रोहित: बहुत एंजाय करेंगे, बहुत खुश करूँगा आज मेरी वाइफ को. आज तंन मॅन से तुम्हे अपना बनौँगा. रानी बनौँगा आज तुम्हे, रानी. बनोगी ना मेरी रानी?

मैने शर्मा के हा कह दिया.

तो हमने हमारी सुहग्रात कैसे मनाई, ये मैं आपको अगले पार्ट में बतौँगा. तब तक आप लोग अपना ख़याल रखना. ई लोवे योउ ऑल.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त की सेक्सी बहन की चुदाई


error: Content is protected !!