दोस्त के साथ मिल कर हाईफाई औरत की चूत गांड की चुदाई की-1

दोस्त के साथ मिल कर हाईफाई औरत की चूत गांड की चुदाई की-1

(Dost Ke Sath Mil Kar Hi Fi Aurat Ki Choot Gaand Chudai Ki- Part 1)

Aurat Ki Choot Gaand Chudai Ki- Part 1नमस्कार दोस्तो, आपके दोस्त रवि का आपको तहे दिल से नमस्कार!
जो दोस्त मेरी कहानियाँ पढ़कर मुझे ईमेल करते हैं उन सभी का भी धन्यवाद और अन्तर्वासना का भी धन्यवाद, जिसकी वजह से मेरी कहानियाँ आप लोगों तक पहुँच रही हैं।

मेरी इस कहानी में मैं अंकुर का स्पेशल धन्यवाद दूंगा, जिसने बिना किसी अवरोध के अपना नाम छपने की अनुमति दी और सारिका और हमारी चुदाई की पूरी कहानी आप तक पहुँच पाई।

दोस्तो, यह कहानी है मेरी दोस्त सारिका की, सारिका जो दूधिया जिस्म की मालकिन है, उसकी एकदम सुडौल छातियां हैं और वो कसरत करके अपने आपको एकदम फिट रखने वाली पूरी हाईफाई मॉडल औरत है।
वो है तो शादीशुदा, परन्तु उसका पति विदेश में रहता है और इस वजह से वो साल में एक दो बार ही आ पाता है।

सारिका आजकल के नए विचारों वाली औरत है, मेरी अन्तर्वासना कहानियों की दीवानी है, वो अक्सर मुझसे हर तरह की बातें करती रहती है।

मेरी वाइफ ने पंद्रह दिनों के लिए मायके जाना था क्योंकि उसके भाई की शादी थी, मैंने तो शादी वाले दिन ही जाना था।
तो उसने मेरे पास आने का प्रोग्राम बना लिया, मैंने अपनी बीवी को सारिका के आने के बारे में बता दिया था।

वो बताए समय के अनुसार आई और मैंने उसे स्टेशन से पिक किया और अपने पास ले आया।

उस वक्त उसने सिंपल सलवार कमीज़ पहना था, पंजाबी सूट में भी वो खूब जंच रही थी।
स्टेशन से घर तक के पूरे रास्ते हम दोनों घर की घरेलू बातें करते हुए ही आए।

घर आकर मैंने उसे चाय बना कर दी।
फिर उसने कहा- सबसे पहले मैं नहाना चाहती हूँ।
मैंने उसे टॉवल दिया और वाशरूम दिखाया, तब तक मैंने कप वगैरह रख दिए, बाहर मेन गेट को अन्दर से लॉक कर दिया।

यह कहानी भी पड़े  अंकल और आंटी को एकसाथ चोदा

अब जैसे ही वो नहा कर बाहर आई.. तो मेरी आँखें चुंधिया गईं.. क्या गजब ढा रही थी। उसने अपना सूट बदल लिया था और वो मस्त पटाखा माल लग रही थी।

मैंने उसे जैसे ही देखा तो सीधा उसके पास जाकर कमेन्ट मारा- डियर, बड़ी मस्त लग रही हो..
तो उसने कहा- थैंक्स डियर..

साथ ही उसने मुस्कुराते हुए अपने होंठों को मेरी तरफ करते हुए भींचा। मैंने भी बिना मौका गंवाए उसके होंठों को अपने होंठों में ले लिया, उसने भी बहुत उत्साहित होकर मेरे होंठों का चुम्बन ले लिया।

तभी मैंने उसकी पीठ पर हाथ फेरा, फिर उसकी गांड थपथपा कर बोला- वाओ जान, बहुत मस्त सम्भाल कर रखी है ये!
उसने भी गांड मटका कर कहा- क्यों रखनी नहीं चाहिए क्या, साले इसी गांड को देखकर एक से एक हरामी लौंडों का सड़क पर चलते देखकर ही पानी छूट जाता है।

मैंने देखा वो थोड़ा उत्तेजित होने लगी थी, मैंने भी अपना हाथ उसके जिस्म पर फिराना चालू रखा।
तभी मैंने कहा- साली.. पता तो तभी चलेगा.. जब आज मेरे लौड़े का पानी इस पर छूटेगा।
इसी के साथ ही मैंने एक सिसकारी ली तो उसने फिर गांड मटका कर कहा- डार्लिंग, ये तो रेडी है, अब ये तो तुम्हारी हिम्मत है मेरे राजा कि कितना मजा लेते और देते हो?

तो मैंने उसको पकड़ा और एक साथ काफी चुम्बन उसके गालों और होंठों पर कर दिए और साथ ही मम्मों को दबा दिया।

फिर तो हम अपने अन्दर से उठ रही वासना की तरंगों में बहते चले गए, हम दोनों वासना के सागर में गोते लगा रहे थे।
मैंने उसे चूमते हुए कहा- साली चिकनी.. बोल, आज कितना बेशर्म कर दूँ अपनी रानी को!
सारिका अपनी सलवार को खोलती हुई बोली- जितना कर सको राजा.. मैं रेडी हूँ।
मैंने उसका एक चूचा दबोचते हुए कहा- सोच ले बहन की लौड़ी.. कहीं ‘बस..’ न हो जाए!

यह कहानी भी पड़े  एक रात जवान मौसी के साथ की मजेदार चुदाई

अब तक वो अपनी सलवार उतार चुकी थी। वो सिर्फ अपनी पेंटी और ब्रा में ही, मेरे होंठों को होंठ मिलाते हुए बोली- मेरी ‘बस..’ तो नहीं होती, तुम अपना सोचो राजा!

मैंने सारिका के एक मम्मे को ब्रा के ऊपर से दबाते हुए उसके होंठ को चूमते हुए कहा- मादरचोद, आज तुम्हारी जवानी की माँ चुदेगी, आज की तुम्हारी बेहतर परफार्मेंस बताएगी कि तुम मेरे साथ कितनी देर तक चल सकती हो जानेमन!

यह कहते हुए मैंने एक-साथ दो-तीन चुम्बन उसके होंठों के ले लिए। उसके बाद तो हम दोनों की वासना की आग धधक चुकी थी।
मैंने सारिका के बदन के ऊपर हाथ फिराया और फिर उसकी गांड पर जाकर मेरा हाथ अटक गया।

मैंने सारिका की गांड को पेंटी के ऊपर से ही थोड़ा सहलाया और फिर उसकी गांड को थपथपा कर बोला- साली.. रांड की गांड तो बहुत मस्त लगती है.. बाकी खेल शुरू होने पर पता चलेगा कि मेरी जान कहाँ तक खेल पाती है।

इसके साथ ही मैंने सारिका के होंठों को फिर अपने होंठों में ले लिया और इस बार मैंने सारिका के होंठों को करीब दो तीन मिनट तक लगातार चूसा, जिससे सारिका मस्त हो उठी।

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!