मा, बेटा, और आंटी की थ्रीसम सेक्स स्टोरी

पिछली स्टोरी में आपने पढ़ा की मेरी सहेली नीता और मैं एक पार्टी में चली गयी थी. नीता को मेरे घर पर मेरे बेटे ने ही अंजन लड़का बन कर अंधेरे में छोड़ने का प्लान बना लिया था. नीता पूरी रात मेरे घर पर ही रुकने वाली है.

वो और मैं करीब 10:30 बजे घर आ गयी. आते ही नीता को बोला-

मिताली: तुम आचे से नहा कर आ जाओ. सीधा टोलिया लपेट कर ही रूम में आ जाना ताकि टाइम ना लगे.

नीता नहाने गयी तो मेरा भी मूड बन गया. मैं नीता के साथ ही बातरूम में चली गयी. नीता स्माइल दे रही थी.

मैने बोला: बॉय तैयार है. वेट कर रहा है.

मैं और नीता दोनो नंगी हो गयी. नीता मेरी तरफ देख कर बोली-

नीता: बहुत मस्त हो यार.

वो खुद भी कोई कम नही थी. उसके बड़े-बड़े बूब्स मस्त थे. मैने उसको अपनी और खींचा और लिप्स पर किस किया, और उसकी गांद दबा दी.

नीता: लगता है तुम भी मुझे छोड़ॉगी.

मिताली: यार तुझे तैयार कर रही हू. आज तो तेरी छूट का बंद बजने वाला है.

हम दोनो नहा ली. मैने नीता को बोल दिया की रूम में चुप-छाप नंगी हो जाए. आँगन की लाइट ऑफ थी. फिर मैने उसका हाथ पकड़ा, और रूम की तरफ चल पड़ी.

नीता: ऑश यार नंगी हो कर घूमने में भी बहुत मज़ा है. आज पता चला.

मिताली: ह्म नंगी हो कर मरवाने में और भी मज़ा आएगा. अंधेरा करती हू. कुछ दिख तो नही रहा ना?

नीता: यार मुझे तो बस बॉय ला दो. सब ठीक है.

मैं रूम से बाहर आई, और साथ वाले रूम में बेटा रोहित एक-दूं नंगा हो कर वेट कर रहा था. मैने गाते खोला, तो वो झट से तैयार हो गया. मुझे नंगी देखते ही स्माइल दी. उसका एक हाथ मेरी छूट पर था, और दूसरे हाथ से सिर पकड़ कर मुझे किस किया. मैने उसको सब बता दिया.

मैं उसका लंड पकड़ कर उसको रूम में ले आई. बेड पर नीता को अंधेरे में पकड़ा, और दोनो को पास कर दिया.

मिताली: ये मेरी बेस्ट फ्रेंड है. इसको जी भर कर छोड़ना है. कोई कमी नही रखनी.

रोहित ने झट से नीता को अपनी बाहों में भर लिया. नीता भी उससे चिपक गयी. दोनो एक-दूसरे की पीठ पर हाथ फेरने लगे. मैने नीता के बूब के हाथ लगाया तो पता चला की दोनो बूब एक-दूं रोहित के सीने से लगे हुए थे.

रोहित: ऑश आअहह.

नीता: ऑश यार बहुत मस्त है यार. ऑश दिल खुश कर दिया मेरा.

मुझे कुछ भी दिख नही रहा था. मैं दोनो के बिल्कुल पास थी. बेटा उसके उपर लेट कर उसके लिप्स और गाल चूस रहा था. नीता भी उसका खूब साथ दे रही थी.

नीता: ऊओ याअर आउच ऑश चूसो मेरी जान. चूस लो मुझे मज़ा आ रहा है. बहुत मस्त हो यार.

नीता कुछ बोलती तब तक बेटा उसके गाल चूसने शुरू कर देता. उसकी बस ह्म आअहह की थोड़ी बहुत आवाज़ आ रही थी.

बेटा नीता के खूब मज़े ले रहा था. मेरे पास मेरी सहेली मेरे बेटे से मरवा रही थी. बेटे ने मेरी भी छूट छोड़-छोड़ कर रेल बना रखी थी. इसी बहाने तोड़ा आराम मिल गया. बेटे ने अब नीता के बूब चूसने शुरू कर दिए थे.

नीता: ऑश मी गोद, मॅर गयी यार. ऑश डार्लिंग, बहुत मस्ती चढ़ा दी तूने. कम बॉय बूब का दूध पी लो सारा. ऑश, क्या मस्त चूस रहे हो. मिताली यार कभी सोचा भी नही था की कोई इतना मज़ा देगा मुझे. ये बॉय तो मेरे लिए पर्मनेंट बुक कर दो. श वाह मेरे शेर बहुत पवर है तेरी.

मिताली: मेरी चाय्स कभी खराब नही होती. यार पनटी भी महँगी लाती हू, तो छूट के लिए लंड देने वाला भी मस्त होना चाहिए.

रोहित नीता के पेट पर किस कर रहा था. नीता को इससे गुदगुदी होने लगी.

नीता: ऑश यार रहने दो प्लीज़, यहा बहुत गुदगुदी हो रही है. सॉरी यार, प्लीज़ पेट पर कुछ मत करो. किस और कही भी कर लो. बूब्स चूस लो मेरे. ऑश आअहह ऑश अर्रे यार मा ऑश छ्चोढो यार.

रोहित ने मेरा हाथ पकड़ कर अपना लंड पकड़ा दिया. मैं समझ गयी की लंड को नीता की छूट में डालना था.

रोहित का लंड एक-दूं तन्ना हुआ था. मेरे हाथ में आते ही लंड और भी तंन गया. मैं लंड की टोपी की छूट पर रगड़ने लगी.

नीता: ऑश यार ऑश बहुत मस्ती चढ़ गयी. ऑश मम्मी ऑश ऊ माआ बहुत एक्सपीरियेन्स है यार तुमको की लेडी को कैसे गरम करते है. एक मेरा पति है की ये सब बिल्कुल भी नही करता.

रोहित का लंड तंन गया था. उसको बस छूट चाहिए थी. मैने लंड को छूट पर रखा, तभी बेटे ने ज़ोर से शॉट मारा. नीता चीख पड़ी, और लंड छूट में चला गया. 2-4 शॉट में लंड छूट की गहराई में खेलने लगा.

नीता: उई मा मेरी छूट ऑश यार ऑश. मेरी छूट फाड़ेगा ये लंड तो माआ ऊओ यार.

नीता की छूट चूड़ने लगी थी. वो लगातार आ आ करके रोहित को एग्ज़ाइट कर रही थी.

नीता: ऑश आनंह बहुत मज़ा आ रहा है यार. कितने प्यार से छोड़ रहे हो. ऐसी चुदाई तो हर हाउसवाइफ को चाहिए. आअहह कितना मज़े ले रहा है ये लंड. हम हाउसवाइव्स को तो बस ऐसे ही छोड़ने वाले पसंद आते है.

मिताली: ह्म लंड तो कमाल का है यार. छूट का बहुत पानी निकालता है.

नीता: यार ये बॉय बोल नही रहा. इसको कैसी लगी हू एक बार बोल कर बता तो दे.

रोहित फिर धीरे से आवाज़ बदल कर बोला-

रोहित: बहुत मस्त हो आंटी तुम. रापचिक माल हो. ऑश मज़ा बहुत आ रहा है.

नीता: ऑश मज़े तो तुम दे रहे हो मुझे.

मिताली: ऑश बेटे तुम मुझे मों बोल कर छोड़ते हो ना. वैसे ही इसको भी छोड़ो. ये भी तेरी मों ही है.

नीता: ऑश बेटा तेरी मों हू मैं. ऑश तू मेरे बेटे जैसा ही है. अपनी मों को खुश कर दो बेटा श. तेरा बाप तो कोई काम का नही है. तू ही मों को मज़े दे.

मिताली: तेरा बेटा बहुत मज़े देगा. तू हब्बी को भूल जाओगी.

नीता: ह्म सोच रही हू बेटे को ही हब्बी बना लू. ऑश बेटा ऑश, अपनी मों को खुश कर दे बेटा. कम ओं मी लविंग सोन फक युवर बिच मों.

रोहित लगातार नीता को छोड़ रहा था. नीता चुड़वते टाइम बहुत ही सेक्सी आवाज़ निकाल रही थी. नीता शायद 2-3 बार झाड़ गयी थी. उसकी सेक्सी आवाज़ो से मेरा भी मूड बन गया था. रोहित फिर खड़ा हो गया.

रोहित: मों चल मेरी घोड़ी बन जा. पीछे से लूँगा तेरी छूट.

नीता: ऑश घोड़ी तैयार है बेटा. अब तेरे बाप की घोड़ी पर बेटा ही चढ़ेगा. मैं तेरी पर्सनल घोड़ी हू.

रोहित ने नीता को एक तरफ खींच कर घोड़ी बना लिया. फिर ज़ोर से उसकी गांद पर थप्पड़ मारा. नीता की आ निकल गयी.

मैने लंड को पकड़ कर नीता की छूट पर रखा. रोहित के मैने किस किया तो रोहित नीता को छोड़ना छ्चोढ़ कर मुझे किस करने लगा.

नीता: श क्या हुआ यार छोड़ना क्यूँ छ्चोढ़ दिया?

रोहित ने फिरसे शॉट मारे. रोहित मुझे किस कर रहा था, और रुक-रुक कर शॉट मार रहा था. लंड छूट में बहुत स्लोली-स्लोली अंदर जाता, और फिर स्लोली-स्लोली बाहर आता.

नीता: ऑश मी गोद, अब ये क्या कर रहे हो? बहुत मज़ा आ रहा है. ऑश यार तूने कहा से सीखा ये. श ये बर्दाश्त नही हो रहा. मम्मी ऑश आअहह अया बहुत मस्त चुड रही हू. ओह छूट सुन्न सी हो गयी है.

स्लो सेक्स से नीता तड़पने लगी. लंड छूट के अंदर और बाहर बहुत धीरे-धीरे हो रहा था. रोहित ने मेरे कान में कहा-

रोहित: ऑश साली, बहुत मज़ा दे रही है. छ्चोढने का मॅन ही नही कर रहा. थॅंक्स मिताली.

नीता अब रोने लगी थी.

नीता: ऑश काश तू मुझे पहले मिल जाता यार. मेरा हब्बी सला कभी ऐसे नही छोड़ता मुझे. ओह आआहह मॅर गयी यार. अब ज़्यादा मत करो. मुझसे बर्दाश्त नही हो रहा. प्लीज़ तुम्हारे आयेज हाथ जोड़ती हू. ऑश मिताली, प्लीज़ बोलो की ज़ोर-ज़ोर से करे.

रोहित को पता नही क्या सूझी उसने लंड बाहर निकाल लिया. उसने नीता की गांद पर थप्पड़ मारे, और गांद को किस करने लगा.

नीता: उउउई मॅर गयी यार. प्लीज़ बेटा अपनी मों को ऐसे मत तड़पाव. तुम जो बोलॉगे मैं तुम को दूँगी. अब छूट बहुत प्यासी है. प्लीज़ छोड़ो मेरी छूट. तेरे बाप को भी पता चले की बेटा अब मों को छोड़ने वाला हो गया है.

मिताली: ऑश बेटे अब इसको ज़्यादा तड़पाना ठीक नही. तेरे बाप के माल को अपना माल बना कर रंडी की तरह छोड़ो. तेरी मों तेरी रंडी बनेगी.

रोहित ने झट से नीता को छोड़ने लगा. नीता की फिरसे सेक्सी आवाज़ रूम में गूंजने लगी.

नीता: ऑश, चुड गयी यार, आज मम्मी को बेटे ने पेल दिया. उूउउफ़फ्फ़ आउच, मों की छूट चुड गयी यार. मोतेरचोड़ बेटे ने अपनी मों की छूट छोड़ ली. ऑश, कम ओं मी सोन. फक युवर डॅडी’स वाइफ. दूसरे की वाइफ बहुत मज़े दे रही है.

रोहित ज़ोर-ज़ोर से छोड़ने लगा तो रोहित की जाँघ नीता की गांद से टकरा कर फटत-फटत की आवाज़ करने लगी. मैने हाथ लगाया तो पता चला की बेटा उसकी कमर पकड़ कर छोड़ रहा था. नीता के बूब्स भी बहुत ज़ोर-ज़ोर से हिल रहे थे. उनसे भी आवाज़ आ रही थी.

मिताली: इसके बूब्स पकड़ कर छोड़ बेटा. मों के बूब्स पकड़ कर छोड़नी चाहिए

नीता: आह मेरी छूट चुड गयी. ओह याअ ऊओ यार. थॅंक्स ऑश मी फकर सोन. युवर अरे बेस्ट मों फकर. योउ रियली फक्ड मे हार्ड.

थोड़ी ही देर में नीता झाड़ गयी बुत बेटे ने उसको छोड़नी नही छ्चोढी. रोहित ने कुछ देर तक छोड़ा और झाड़ गया.

रोहित ने उसकी गांद पर तपद मार कर उसको खड़ी कर लिया. उसने उसको किस किया और रूम से बाहर चला गया. नीता बहुत खुश थी.

आयेज की स्टोरी और भी मस्त है. बहुत सारी हाउसवाइफ ने इस स्टोरी को बहुत प्यार दिया है. आप सब को थॅंक्स.

यह कहानी भी पड़े  बेटे ने अपनी मां की गांड की सील तोड़ी


error: Content is protected !!