स्ट्रेंजर आंटी को जाम कर चोदा

हाय, मेरा नाम सॅम है, मैं चंडीगढ़ मे रहता हूँ, मैं छुट्टिया मनाने के लिए मक्ल्न्ड-गंज गया था अपनी फॅमिली के साथ तो वाहा मैने एक स्ट्रेंजर आंटी को सॅटिस्फाइ किया, वो आंटी जो मुझे मिली वो भी चंडीगढ़ से ही थी सो वो चोदने का सिलसिला अभी तक चल रहा है, हर हफ्ते मैं उसे चोदने जाता हूँ, मैं मक्ल्न्ड-गंज मे अपनी फॅमिली के साथ गया था, वाहा पहुँचने के बाद डॅड होटेल मे रूम की बुकिंग करवा रहे थे, मैं हॉल मे काउच पर बैठा था तभी बाहर से एक मस्त सेक्सी आंटी एक छोटे से लड़के के साथ अंदर आई, उसने रेड कलर की कुरती और ब्लॅक लेगिंग पहनी होगी, उसकी उमर 32 से 35 साल के बीच मे होगी, गोरा रंग मस्त फिगर शायद 38,32,38 होगा, उसे देखते ही मेरा लॅंड खड़ा हो गया, मैं उसे ही देखे जा रहा था और अपने लॅंड को बिठाने की कोशिश कर रहा था के इसी बीच उसने भी मेरी तरफ देखा और स्माइल दी, वो भी रूम बुक करवाने चली गयी, भगवान की दया से उसे हमारे साथ वाला कमरा ही मिला, हम दोनो का कमरा 2 फ्लोर पर था और उस होटेल मे लिफ्ट नही थी तो जब वो उपर चढ़ रही तो उसकी मटकती गॅंड देखने लायक थी.

अगले दिन जब वो फिर से मेरे सामने आई तो मेरा लॅंड खड़ा हो गया, मैं अपने लॅंड को छुपा रहा था तभी वो मेरे पास आई और बोली की “अगर तुमसे नही हो पा रहा तो मैं कोशिश करूँ”, ये सुन कर मेरी तो आँखें ही खुली रह गयी और मैं तभी अपने हाथ हटा कर बोला “ज़रूर”, तो वो बोली आज शाम को 6 बजे मेरे रूम मे आ जाना शाम को हमे किसी टेंपल मे जाना था तो मैने मॉम डॅड से सिर दर्द का बहाना बना कर कमरे मे ही रुक गया, 6 बजते ही मैने उसके कमरे की घंटी बजाई, उसने गेट खोला और वो रेड नाइटी मे मेरा वेट कर रही थी, मुझसे रहा नही गया और मैने तभी उसके होंठो को चूम लिया, क्या मज़ा आ रहा था और एक हाथ उसकी मोटी और मुलायम गॅंड पर रखा दूसरा उसके बूब्स पर और 10 मिनट तक उसे वही गेट बंद करके चूमता रहा, फिर मैने उसको अपनी गोद मे उठा लिया और किस करता रहा, क्या मस्त होंठ थे उसके बहुत ज्यूसी उसने अपने बेटे को किसी रिलेटिव के साथ भेज दिया था, फिर उसे बेड पे लिटा कर उसकी नाइटी खोल दी, उसने ब्रा पैंटी नही पहनी थी, क्या नज़ारा था उसके बूब्स और वेस्ट का, फिर मैने उसके बूब्स को चूसा वो धीरे-धीरे सिसकियाँ भर रही थी.

यह कहानी भी पड़े  सुहागरात में टूटी बीबी की सील

उसके मुलायम बूब्स को चूसने मे जो मज़ा आ रहा था उतना मज़ा आज तक नही आया, फिर मैने उसकी चुत को किस किया, उसकी चुत पिंक कलर की थी, मैने उसकी चुत को चूमना शुरू कर दिया, मैं उसकी चुत को चूस रहा था साथ ही अपने दोनो हाथों से उसकी पिंक निपल्स को दबा रहा था जिससे उसको और भी नशा हो रहा था, उसके मूह से मज़े की चीखें ही निकल रही थी अयाया उूुउऊहह ऊओह और अंदर तक जीभ मारो, उसने मेरा सिर अपने हाथों से पकड़ रखा था और अंदर को धकेल रही थी ओह उउउहह आअहह, फिर उसने मेरी पैंट खोल दी और मेरे लॅंड को बाहर निकाला और लॅंड को देख कर उसकी आँखों मे अलग सी चमक आ गयी, उसने लॅंड को चूसना शुरू कर दिया, क्या मज़ा आ रहा था उस टाइम वो बड़े प्यार से मेरे लॅंड को अपने मूह मे लेकर अंदर-बाहर कर रही थी, फिर हम 69 पोज़िशन मे लेट गये और वो मेरा लॅंड बड़े मज़े से चूस रही थी और मैं उसकी चुत, उसकी चुत बड़ी ही गरम हो गयी थी और उसका टेस्ट बहुत ही अछा था, 10 मिनट बाद हम दोनो झड़ गये, फिर उसने कहा की अब देर मत करो बस डाल दो अंदर, तो मैने उसकी गरम चुत मे अपना लॅंड एक ही झटके मे डाल दिया.

उसकी चीख निकल गयी आआआआआ और मैं झटके पे झटका मारता रहा, अब वो एंजॉय करने लग गयी थी आआआ आआयहिी और ज़ोरर्र से फ़ाआड्द्ड़ दो चुउउत मेरिइइ आआहह ओह, लगभग 15 मिनट झटके लगाने के बाद मेरा माल छूटने वाला हो गया, मैने उससे पूछा तो उसने बोला की मेरे मूह मे गिरा दो, तो मैने सारा माल उसके मूह मे गिरा दिया, वो बड़े प्यार से सारा माल पी गयी और फिर 1 घंटा और सेक्स किया, फिर मैने आंटी को बोला की अब मुझे गॅंड मे डालना है तो उन्होने मना कर दिया और बोली की मुझे बहुत दर्द होगा, बोहत समझाने के बाद वो आधा लॅंड अंदर डलवाने के लिए मानी, मैने धीरे-धीरे से हल्का झटका दे कर आधा लॅंड अंदर डाला, फिर एक दम से ज़ोर से झटके देकर पूरा लॅंड अंदर घुसा दिया, उनकी आँखों से आँसू निकल आए और उनकी चीखे निकल गयी आआअहह उउईई मररर गाइिईई, फिर मैं झटके मारता रहा और थोड़ी देर बाद उनको मज़ा आने लगा आआह्हह वाआहह और अंदर तक फेयाड दे आअज इसे तेरा ही इंतेज़ार था मुझे तू ही मालिक है इस गॅंड का, उनकी मोटी मुलायम गॅंड को पकड़ कर मैं झटके मारता रहा और फिर थोड़ी देर बाद मैं झड़ गया.

यह कहानी भी पड़े  डेरे वाले बाबा जी और सन्तान सुख की लालसा-3

Pages: 1 2

error: Content is protected !!