अकेली हाउस वाईफ और सेल्समेन

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम शुभम है। मेरी उम्र 31 है और आप लोगों की तरह में भी की हर एक कहानी को बड़ी रूचि से पढ़ता हूँ क्योंकि ऐसा करने में मुझे बड़ा मस्त मज़ा आता है और आज में अपने जीवन की एक सच्ची घटना के साथ आपके सामने आया हूँ। में उम्मीद करता हूँ कि यह कहानी सभी पढ़ने वालों को जरुर पसंद आएगी और में अपना परिचय देते हुए इसको सुनाना शुरू करता हूँ। दोस्तों में एक घरेलू सामान बेचने वाली प्राइवेट कंपनी में सामान को बेचने का काम करता हूँ। एक बार मेरी कंपनी ने मुझे मध्यप्रदेश के सागर शहर में सामान बेचने के लिए भेजा। हमारी कंपनी ने वहीं के एक लोकल अख़बार में इसका विज्ञापन दे दिया, जिसमें किसी की कोई भी समस्या के लिए उसके घर भी जाना था और मेरी कंपनी ने यह काम मुझे ही सोंप दिया और जो मोबाईल नंबर विज्ञापन में दिया था, कंपनी ने मुझे वो मोबाईल भी दे दिया और अब सुबह शाम कई औरते के फोन मेरे पास आने लगे। कुछ अपने घर को सजाने के बारे में पूछती तो कोई हमारे सामान के बारे में और कुछ सिर्फ वैसे ही मज़े लेने के लिए बात करती। अब में भी अपने इस काम में बड़ा मस्त था। मैंने कुछ घर में अपनी सर्विस भी दी और मैंने सभी उन सभी ग्राहकों की समस्या को हाल कर दिया।

एक दिन मेरे पास एक फोन आया। वो कोई औरत ही थी और उन्होंने मुझसे बोला कि मैंने अपनी नई रसोई बनाई है, इसलिए में आपसे कुछ सहायता कुछ बातें पूछना चाहती हूँ, क्या आप मेरी मदद कर सकते है? मैंने तुरंत कहा कि हाँ क्यों नहीं हमारी कंपनी की यह फ्री सेवा है। आप मुझे अपने घर का पता बताइए, तब उन्होंने अपने घर का पता बता दिया और में उनके घर के लिए निकल पड़ा, करीब दोपहर के 1:30 बजे थे। वो मई का महिना था और ज्यादा तेज गरमी होने की वजह से सभी जगह एकदम सुनसान था और फिर में उस एक कॉलोनी में उनके घर पहुँचा और मैंने दरवाजे पर लगी घंटी को बजाया तो कुछ ही देर में दरवाज़ा खुला, दरवाज़ा खोलने वाली को देखकर में हैरान रह गया, क्योंकि मेरे सामने करीब 37-38 साल की बहुत सुंदर औरत खड़ी थी, वो दिखने में इतनी हॉट सेक्स थी कि उसको एक बार देखकर ही हर कोई बेकाबू पागल हो जाए। वो इतनी मादक थी कि में उसको लगातार घूरकर देखता ही रह गया, वो बहुत ही गोरी उसका भरा हुआ बदन, बड़े आकार के उभरे हुए बूब्स जो बाहर निकलने के लिए तड़प रहे थे, यह द्रश्य देखकर में अपने होश खोकर बिल्कुल पागल हो चुका था। फिर मैंने उन्हे अपना परिचय दे दिया। वो मेरी तरफ देखकर थोड़ा सा मुस्कुराई और अब उन्होंने मुझे अंदर आने के लिए कहा तो उसके बाद में अंदर आ गया और फिर उन्होंने दरवाज़ा बंद कर दिया। दोस्तों उस घर में बहुत शांति थी और एक कूलर चल रहा था। तब मैंने महसूस किया कि शायद उस घर में उस समय उस औरत के अलावा और कोई नहीं था।

यह कहानी भी पड़े  सेक्सी भाभी के साथ मज़ा किया

फिर मैंने उनकी तरफ देखा तो मैंने पाया कि वो मुझे पहले से ही अपनी नशीली नजरों से घूरकर मेरे पूरे शरीर को देख रही थी, में उनसे बोला हाँ आप मुझे बताईए कि आपकी रसोई कहाँ है? तब मेरी आवाज को सुनकर वो चकित हो गई, वो हड़बड़ाती हुई मुझसे बोली हाँ आप आईए किचन यहाँ है। फिर हम दोनों किचन में चले गये तब उन्होंने मुझे बताना शुरू किया कि में यहा बर्तन रखने की जगह चाहती हूँ, यहाँ सींक और यहा गैस रखना चाहती हूँ। तो में भी उनकी सभी बातें बहुत ध्यान से सुन रहा था और मैंने गौर किया कि वो मुझे यह सब बताने के दौरान मुझे छूने की कोशिश लगातार कर रही है। अब मैंने उनसे कहा कि अपने गैस का पाईप निकालने के लिए छेद तो करवाया ही नहीं, वो कहने लगी कि हाँ मैंने करवाया है, आप एक बार नीचे देखो आपको वो छेद दिखाई देगा और में नीचे झुककर उस छेद को देखने लगा, लेकिन मुझे दिखाई ही नहीं दिया। मैंने उनसे कहा कि मुझे दिखाई नहीं दे रहा है। तो वो उस समय मेरे पीछे ही खड़ी थी और में नीचे की तरफ झुका बैठा था वो मुझे दिखाते हुए खड़े खड़े ही झुककर मुझे छेद दिखाने लगी और बोली देखो वो कोने में है उस समय वो बिल्कुल मेरे सर के ऊपर झुकी हुई थी उसके बड़े आकार के बहुत ही मुलायम बूब्स मेरे सर के बिल्कुल ऊपर रखे हुए थे और नीचे झुकने की वजह से मेरे सर पर वो बूब्स दब रहे थे और वो ऐसा जानबूझ कर कर रही थी और मुझे छेद बताने के बाद भी कुछ देर वो ऐसे ही रही और मेरे सर पर अपने बूब्स को दबाती रही।

यह कहानी भी पड़े  Company Ki Bhabhi ko Uske Hi Ghar Par Choda

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!