पोलीस वाला बना गांद का दुश्मन

दूसरे दिन मैं सो कर उठा. अब मा से बात करने में शरम आ रही थी, क्यूंकी पहली बार उसे चूड़ते देखा और वो भी कोई और मर्द से, और मैने भी अपना माल निकाला. तो मैं चुप-छाप ब्रेकफास्ट करता हू, और बाहर निकल जाता हू.

किसी से मिलने का मॅन नही था पर एक दोस्त मिल जाता है. मैने बहुत सालों पहले उसका लंड चूसा था. पर उसने मेरी गांद कभी नही मारी थी.

वो दोस्त: अर्रे राज, बड़े दीनो बाद.

मैं: मैं वो छुट्टी में आया हू.

वो दोस्त: ऑश, अब कहा रहते हो?

मैं: कॉलेज में हू, तो दूसरे शहर से आना-जाना लगा रहता है.

वो दोस्त: सही है.

तभी एक जवान आदमी अपनी बिके हमारे पास आ कर रोकता है, और उसको देख के मैं शॉक हो जाता हू. वो और कोई नही बल्कि वही पोलीस वाला था, जो मुझे हाइवे की साइड पे गांद मरवाते हुए पकड़ा था, और जिसने मेरा मूह छोड़ा था.

वो दोस्त: अर्रे राज, इनसे मिलो यार, मेरे छ्होटे मामा है. पोलीस इनस्पेक्टर की नौकरी लगी है.

मैं (दर्र के मारे): नमस्ते.

पोलीस वाला: अर्रे तू, तू तो…

वो दोस्त: अर्रे मामा यार मेरा बचपन का दोस्त है यार. कॉलेज चला गया था, अब लौटा है कितने दीनो बाद.

पोलीस वाला: ऑश अछा.

वो पोलीस वाला मुझे देख के और खुश हो रहा था. पर मेरी किस्मत अची थी या खराब ये तो पता नही, पर उन दोनो से जब बात हो रही थी तब मेरी मा मिल गयी. वो बेज़ार से सब्ज़ी लेकर आ रही थी.

मा: अर्रे राज अपने दोस्तों से मिल रहा है.

मैं: अर्रे मा तुम यहा.

मा: अर्रे मैं तुझे ही खोज रही थी. मेरी सब्ज़ियाँ उठाने में मदद करेगा की नही?

मैं: अर्रे हा मा, दो.

वो दोस्त: नमस्ते आंटी. ये मेरे छ्होटा मामा है. पोलीस में है.

मा: ओह नमस्ते-नमस्ते.

पोलीस वाला: नमस्ते जी नमस्ते.

मैं: चलो मा घर चलते है.

फिर मैं और मा घर के लिए निकल रहे थे. वो आदमी की नज़र मेरी और मा की गांद दोनो पे थी. सबसे ज़्यादा मा की गांद को घूर रहा था. जब वो चलती थी, तो सारी से गांद की शेप का पता लगता था.

फिर हम घर पहुँच गये. फिर कुछ देर बाद मैं देखता हू की वही पोलीस वाला मेरे घर के पास खड़ा था अपनी बिके पे. मैं दर्र रहा था की कही यार मेरे घर पे मेरे राज़ ना खोल दे. फिर शाम के समय मैं घर से निकला तो देखा वो वही खड़ा त. उसने मुझे देखा, और मुझे अपने पास बुलाया.

मैं: क्या हुआ, आपने मुझे बुलाया?

पोलीस वाला: क्यूँ, उस दिन खूब उछाल-उछाल कर गांद मरवा रहा था. आज नही मरवा रहा? और तेरा वो दोस्त कहा है?

मैं: मतलब?

पोलीस वाला: सुन, उस दिन मैं जल्दी चला गया क्यूंकी मैं ड्यूटी पे था. आज फ्री हू. बोल अपनी गांद देगा? तुझे मस्त छोड़ूँगा.

फिर उसने मुझे अपनी तरफ खींचा, और मेरी गांद दबाई. अब मैं हॉर्नी फील करने लगा. जब उसने मुझे अपनी तरफ खींचा, तो मुझे उसका लंड महसूस हुआ. एक-दूं कड़क था. मॅन कर रहा था रास्ते में सब के सामने उसका लंड चूस लू.

फिर उसके साथ बिके पे हाइवे के पास एक होटेल पे गया. रूम में जाते ही वो मुझे पीछे से लिपट गया, और अपनी पंत के उपर से अपना लंड मेरी गांद में रग़ाद रहा था. फिर उसने मुझे बेड पे फेंका, और मेरी पंत उतार दी, और मुझे पूरी तरह नंगा कर दिया.

उसके बाद वो मेरी मोटी चुड़क्कड़ गांद में मूह डाल कर गांद का च्छेद चाटने लगा. जीभ से च्छेद में अंदर-बाहर करने लगा. 3 से 4 बार गांद पे थप्पड़ भी मारे और च्छेद चाट-चाट कर जीभ च्छेद के अंदर डालने लगा. क्या मज़ा आ रहा था. मेरा च्छेद उसने ठीक से पूरा गीला कर दिया.

पोलीस वाला: चल मदारचोड़, अब मेरा लंड चूस.

फिर मैने घुटनो पे बैठ कर उसके मोटा कड़क लंड को चूमा, और फुल रंडियों की तरह चूसने लगा.

पोलीस वाला: आअहह चूस मदारचोड़, आचे से चूस.

मैं फुल मज़े में उसका लंड मूह में लेकर चूस रहा था. उसका 6 इंच का कला मोटा लंड फुल मज़े में चूज़ जेया रहा था. उसके लंड पे थूक कर फिर उसे चाट कर सॉफ कर रहा था. उसे भी मज़ा आ रहा था, और मुझे भी चूसने में मज़ा आरहा था. फिर उसने मुझे डॉगी स्टाइल में बेड पे फेंका. मेरी गांद पे थप्पड़ मार-मार कर उसने लाल कर दिया.

पोलीस वाला: उफफफ्फ़ बहनचोड़, क्या मोटी गांद है तेरी भद्वे. पूरी तेरी मा की तरह गांद है.

मैं: आआहह (गांद पे थप्पड़ पड़ते हुए).

फिर उसने मेरे च्छेद में थूक लगाई, और लंड च्छेद पर सेट करके ज़ोर से अंदर तक घुसा दिया. उफफफफफ्फ़, वो दर्द में जो मज़ा था क्या बोलू. असली रंडी-पन्न का एहसास हुआ. फिर उसने पहले स्लोली-स्लोली छोड़ना शुरू किया. फिर रेल-गाड़ी की तरह रफ़्तार पकड़ ली, और घपा-घाप छोड़ने लगा.

पोलीस वाला: आअहह सेयेल भद्वे, क्या गांद है तेरी. उफफफ्फ़ आअहह.

मैं: आआहह आअहह, छोड़ मदारचोड़ छोड़ आअहह.

वो ज़ोरो से गांद छोड़ रहा था. ठप ठप ठप करके आवाज़ आ रही थी.

पोलीस वाला: तेरी और तेरी मा की गांद बिल्कुल सेम है. आअहह भद्वे ऐसे ही तेरी मा को भी छोड़ूँगा.

मैं: आअहह आअहह आअहह.

पोलीस वाला: बोल अपनी मा छोड़ने देगा? तेरे सामने तेरी मा को रंडी बनौँगा.

मैं: आअहह आहह छोड़ ना साली को.

पोलीस वाला: अछा सेयेल भद्वे, ले ले ले.

मैं: आ छोड़ छोड़ आचे से छोड़.

उसके चुदाई से मेरा मूठ निकल गया. पर वो नही रुका नही, और ऐसे ही 20 से 25 मिनिट बिना मेरी गांद के च्छेद से लंड बाहर निकले लगातार रग़ाद कर मुझे छोड़ रहा था. ऐसे ही मेरी गांद छोड़ते-छोड़ते वो भी झाड़ गया मेरी गांद पे.

पोलीस वाला: आ आ आ.

उसने सारा माल मेरी गांद के उपर फैला दिया. फिर मैं झुक कर, उसके लंड को चूस कर सॉफ करने लगा. उसके लंड पे जो भी माल बचा था, सारा लीक करके चूस रहा था. ऐसे ही चुसाई और चुदाई के बाद हम घर आ गये. मैं अपने घर और वो अपने. दूसरे दिन से वो फिरसे हमारे घर के पास घूमने लगा. मैं और मा बेज़ार गये तो उससे देखा.

पोलीस वाला: नमस्ते-नमस्ते क्या हाल है?

मा: अर्रे आप, वो इसके दोस्त के मामा है ना?

पोलीस वाला: जी हा जी हा. और क्या खरीदारी हो रही है?

मा: बस सब्ज़िया. और आप यहा कैसे?

पोलीस वाला: ऐसे ही मैं निकला था. अर्रे इतना सारा समान, कहिए तो मैं आपको घर छ्चोढ़ डू.

मा: अर्रे तो फिर मेरा बेटा कैसे आएगा?

पोलीस वाला: अर्रे वो आ जाएगा.

फिर मा मुझे बेज़ार की बाग पकड़ा कर उसके साथ बिके पे चली गयी. मुझे भी कुछ समझ नही आया. फिर मैं ऑटो करके घर गया तो उसे घर से निकलते देखा. मा को वो घर तक पहुँचा दिया था. वो मुझे बाहर मिला.

पोलीस वाला: सुन बे गान्डू, यार समान रख के बाहर मिल. तुझे आज फिरसे छोड़ूँगा.

मैं भी चुदाई के खुशी में समान रख के निकल आया. मुझे भी उसका मोटा रसीला लंड चूसने और चूड़ने में मज़ा आता था.

पोलीस वाला: क्यूँ बे, गांद का च्छेद रेडी है? आज और ज़बरदस्त चुदाई करूँगा.

मैं: क्यूँ, पिछली बार छोड़ कर मॅन नही भरा?

पोलीस वाला: चुप मदारचोड़, और चल चुप-छाप.

फिर वो मुझे एक कन्स्ट्रक्षन वाली बिल्डिंग के पास ले गया. उस बिल्डिंग का हाफ कन्स्ट्रक्षन हुआ था, और वाहा कोई आता-जाता नही था. वो मुझे एक कोने में ले गया, और मेरी गांद पे अटॅक मार दिया. वो मेरी पंत खोल के मेरी गांद चाटने लगा.

इसके बाद क्या-क्या हुआ, वो जानने के लिए पार्ट 3 पढ़े. मुझे मेसेज करने के लिए (इंटेस्टाइनल.टूट86@गमाल.कॉम) पर मेसेज करे.

यह कहानी भी पड़े  मा के जन्मदिन पर बेटे के मज़े


error: Content is protected !!