पड़ोसी से चुडवाई चूत और गांद

प्रतीक: वाउ, युवर बूब्स अरे सो हार्ड बेबी. ई लोवे इट. कितने दीनो से इसके लिए तड़प रहा था. मुझे यकीन नही हो रहा, तुम मेरे सामने हो.

काव्या: बेबी मैं आपके सामने हू. मैने तो आपको पहली बार देखा तब से आपकी दीवानी हो गयी हू. आपके जॉलाइन मुझे बहुत आचे लगते है ( मैने प्रतीक के गाल पर किस कर दिया).

प्रतीक: काव्या मैं आज तुझे निचोढ़ दूँगा. मैं बहुत दीनो से तेरे लिए तड़प रहा हू. आज ये दिन आया है.

काव्या: हा, मेरी छूट भी कितने दीनो से आपका लंड पाने के लिए मर्री जेया रही है. आज मेरी प्यास बुझा दो मेरे राजा. तुम मुझे अपनी बीवी बना लो.

मेरा इतना कहते ही प्रतीक ने मुझे गोदी में उठा लिया, और मुझे बेड पर लिटा दिया. मेरी ग्रीन पनटी के उपर से मेरी छूट पर किस किया, और चाटना शुरू कर दिया. मैं एक बार तो प्रतीक के छ्छूने से ही झाड़ गयी थी.

अब उसने मेरी पनटी को निकाल दिया, और मेरी छूट को थोड़ी देर देखा. बाद में उसने मेरी छूट पर किस किया, और लीक करना स्टार्ट कर दिया. मैने दोनो हाथ से चादर को पकड़ लिया, और गांद उठा कर छूट चुस्वा रही थी.

प्रतीक को आचे से पता था, औरतों को कैसे खुश करते है. शायद उसने बहुत सी लड़कियों के साथ सेक्स किया हुआ था. प्रतीक ने उसके दोनो हाथ मेरे बूब्स पर रख दिए, और मुझे लिटा कर बूब्स दबाने लगा.

मैं भी उसके बालों में हाथ घुमा रही थी. फिर एक बार मैं झाड़ गयी और प्रतीक ने छूट का सारा पानी चाट लिया. मैं रिलॅक्स हो गयी. मेरे चेहरे पे सॅटिस्फॅक्षन के भाव थे.

प्रतीक: तुम्हारी छूट का टेस्ट बहुत मस्त है. मेरा बस चले तो रोज़ तेरी छूट चातु.

काव्या: हा मेरे हब्बी. अब मैं आपकी हू, जब मॅन करे मुझे बुला लेना.

अब प्रतीक मेरे बगल में आके लेट गये. मैने उनकी चेस्ट पर किस करना स्टार्ट कर दिया, और धीरे-धीरे कमर तक चली गयी. अब मैने उनकी पंत का क्लिप खोला, और पंत निकाल दी. अब वो अंडरवेर में थे. मैने उनके अंडरवेर के उपर से लंड पकड़ लिया. वो अनुज से बड़ा लग रहा था, और मोटा भी. मुझे बहुत एग्ज़ाइट्मेंट होने लगी.

बहुत सालों के बाद मुझे बड़ा लंड मिलने वाला था. मेरे कज़िन ब्रदर का लंड बहुत बड़ा और मोटा था. मैने अंडरवेर पर किस किया, और प्रतीक को नॉटी स्माइल देके अंडरवेर खींच दिया. मेरे सामने प्रतीक का लंड स्प्रिंग की तरह उछाल कर बाहर आ गया.

उनका लंड डार्क ब्राउन था, और उसपे थोड़ी झाँते थी. मैने बिना टाइम वेस्ट करे लंड मूह में लिया और चूसने लगी. मैने लंड पर थूक लगाया, और रग़ाद-रग़ाद कर चूस रही थी. प्रतीक मुझे देख कर स्माइल कर रहा था.

मैं भी एक रंडी की तरह लंड चूस रही थी. किसी ने सच कहा है, नये-नये लोगों से सेक्स करने से हमारी सेक्स लाइफ अची रहती है, और बोरिंग लाइफ से च्छुतकारा मिलता है. 10 मिनिट लंड चूसने के बाद मैं खड़ी हो गयी, और प्रतीक के लंड पर कॉंडम लगा दिया.

मैने लंड अपने हाथो से पकड़ कर छूट पर सेट किया, और तोड़ा ज़ोर लगा कर बैठ गयी. 1 मिनिट में मैने पूरा लंड छूट में उतार दिया. मेरी आ निकल गयी. तोड़ा दर्द भी हो रहा था. जब दर्द कम हुआ, तो मैं उछाल-उछाल कर छुड़वाने लगी. प्रतीक भी गांद हिला कर मुझे नीचे से छोड़ रहे थे.

प्रतीक ने मेरी कमर से पकड़ कर मुझे हॉर्स राइडिंग करवाई. मैं गांद हिला-हिला कर लंड अंदर घुमा रही थी. मैने ये पोज़िशन पहली बार ट्राइ की थी. छूट में लंड बहुत अछा फील दे रहा था. 10 मिनिट ऐसे चुदाई से प्रतीक को लगा की वो झाड़ जाएगा, तो उसने मुझे उठा दिया. वो फिरसे मेरी छूट चाटने लगा. मैं एक और बार झाड़ गयी, और वो मेरा पानी चाट गया.

उन्होने मुझे घुटनो के बाल बिता दिया, और मेरे सामने लंड लेके खड़े हो गये. मैं समझ गयी और मैने कॉंडम निकाल कर लंड चूसना स्टार्ट कर दिया. प्रतीक का लंड लोहे जैसा था.

काव्या: इतनी ताक़त कहा से लाते हो? आपका लंड ढीला ही नही होता.

प्रतीक: मैने और अनुज ने सेक्स में पवर रहे इसलिए टॅबलेट खा लिया था. आप दोनो को सारी में देख कर हमसे कंट्रोल नही हो रहा था.

काव्या: तो आप दोनो ने स्वापिंग का आइडिया तभी बना लिया था?

प्रतीक: नही, मैं रेडी था तेरी चुदाई करने. और मुझे आज तुम मिल भी गयी.

अब मैं घोड़ी बन गयी, और वो कॉंडम पहन कर पीछे से मुझे डॉगी स्टाइल में छोड़ने लगा. उसका लंड मुझे आचे से फील दे रहा था. प्रतीक पीछे से मेरी गांद पर छानते मार रहा था. मेरी गांद लाल हो गयी थी, और मुझे दर्द भी हो रहा था.

प्रतीक: काव्या तेरी छूट बहुत मस्त है. छोड़ने में मज़ा आ रहा है. तेरी छूट टाइट लग रही है.

काव्या: हा लास्ट 3-4 दिन से चुदाई नही करवाई. और आपका लंड अनुज से तोड़ा बड़ा और मोटा है.

मेरी बात सुन कर प्रतीक खुश हो गया, और मेरी और ताबड़तोड़ चुदाई करने लगा. आज मैं भी खुल कर पड़ोसी के पति का मज़ा ले रही थी. मैने पहली बार प्रतीक को देखा तब से अब तक का सारा सफ़र मेरे दिमाग़ में चल रहा था. मैं बहुत खुश थी. मुझे जो चाहिए था वो मिल गया था.

अब प्रतीक ने मेरी छूट से लंड निकाल दिया और फिर से मुझे चूसने को दे दिया. मैं लंड चूस रही थी, और बातें कर रही थी.

काव्या: आपको कैसा लग रहा है मेरे साथ?

प्रतीक: मत पूछो मेरी जान. तुमने तो मुझे आज जन्नत दिखा दी. आज की चुदाई मैं कभी नही भूल पौँगा.

काव्या: हा पर ऐसा मज़ा और दो लोग ले रहे है. मेरे हज़्बेंड आपकी पत्नी की चुदाई बाहर कर रहे होंगे. सेजल भी मेरी तरह लंड चूस रही होगी.

मेरी बातों से प्रतीक के फेस पे तोड़ा गुस्सा दिखा मुझे.

काव्या: क्यूँ, बुरा लगा आपको? सेजल भी आपको भूल कर अनुज का लंड एंजाय कर रही होगी. अनुज तो सेजल की गांद घूरते रहते थे. आज वो आचे से लंड घुसाएँगे आपकी बीवी की गांद में ( मैं उनको ताना मार रही थी).

प्रतीक: तेरी ऐसी बातों से मुझे गुस्सा भी आ रहा है और मज़ा भी. मेरे रोंगटे खड़े कर दिए. और मेरी बीवी वाहा है तो तुम मेरे साथ हो. अनुज को सेजल की गांद मारने दे. मैं आज तेरी गांद भी सेजल जैसी बना दूगा.

अब उसने मुझे बेड पर झुका दिया, और गांद पर थूक लगाया. मैने गांद मरवाई है पर रेग्युलर नही. मेरी तो गांद बहुत टाइट है. मैने प्रतीक के कहा प्लीज़ यार धीरे से. अब उसने लंड गांद पर रखा और तोड़ा पुश किया. 3-4 ट्राइ के बाद उसके लंड का टोपा अंदर घुस गया.

मैने चादर को फिरसे पकड़ लिया, और रेडी हू ऐसा कह दिया. उसने एक ऐसा झटका मारा, की पूरा लंड गांद फाड़ के अंदर चला गया. मेरी चीख निकल गयी. मैं रोने लगी. प्रतीक ने 1 मिनिट जैसा होल्ड किया, और मैं रिलॅक्स हुई तो धक्के मारना स्टार्ट कर दिया. अब मुझे दर्द कम हो रहा था.

मैने गांद हिला कर लंड लेना स्टार्ट किया. प्रतीक ने चुदाई की स्पीड बढ़ा दी. 2-3 मिनिट के बाद प्रतीक ने गांद में से लंड निकाल दिया और बेड पर लेट गये. मुझे लंड पर बिता दिया, और गांद की चुदाई करने लगे.

प्रतीक: तुम्हारे बूब्स बहुत टाइट है, इतनी चुदाई के बाद भी हिल नही रहे.

मैने अब गांद से लंड निकाल कर छूट में डलवा लिया, और छूट छुड़वाने लगी. मेरी आ निकल गयी थी. गैर मर्द से चुदाई करने में जो मज़ा मिलता है, वो अपने हज़्बेंड के साथ नही आता. मैं तो कहती हू हर एक लेडी को लाइफ में एक बार गैर मर्द से चुदाई करवानी चाहिए. आपको लाइफ का असली मज़ा तब पता चलेगा.

और हो सके तो सभी कपल को ओपन माइंडेड होके स्वापिंग करना चाहिए. रोज एक लंड और एक ही छूट की चुदाई करके बोर होने से अछा है किसी ट्रस्ट वाले कपल के साथ स्वाप करो.

अब प्रतीक ने मुझसे कहा: मेरा निकल ने वाला है क्या करूक?

काव्या: आप लंड बाहर निकाल दो. अपने कॉंडम नही पहना है. मुझे आपके स्पर्म का टेस्ट करना है.

अब मैने लंड मूह में ले लिया और चूसने लगी. 5 मिनिट लंड चूसा, और आचे से हिलाया. प्रतीक का सारा माल मेरे फेस और बूब्स पर गिर गया. मैने वो आचे से चाट लिया. मैं जब उनका स्पर्म चाट रही थी, मैं प्रतीक की आँखों में देख रही थी और मुस्कुरा रही थी.

मेरा ये रूप देख कर किसी को भी प्यार हो जाए. मेरी आँखों में देख लिया, समझो ग़मे ओवर. प्रतीक को पूरा मैने अपने काबू में कर लिया था. अब मैं उसको जो भी कहती, वो करने वाला था.

ये कहानी की शुरुआत है. अभी तो बहुत कुछ होना बाकी है. ये कहानी बहुत लंबी चलने वाली है. सेजल और अनुज के बीच क्या हुआ है, आपको नेक्स्ट पार्ट में पता चलेगा.

यह कहानी भी पड़े  चाचा ने जन्नत दिखाई


error: Content is protected !!