पड़ोस की लड़की का गुलाम बन गया

ही दोस्तो मेरा नामे है अनिल उमर 21 हाइट 5’7 और मेरा लंड बहुत छोटा है. मई मुंबई का रहने वाला हू. ये स्टोरी मेरे साथ हुई एक रियल घटना पर आधारित है.

तो चलिए स्टोरी शुरू करते है. तो बात उन दीनो की है जब लॉक्कडोवन् लगा था. शुरू मे मुझे 15 की आगे से ही स्लेव बनने का शौक था. और मई कभी कोई पनटी सुंगने लगता तो कभी पी चाटने लगता खुद का निकाल के.

तो एक दे मई च्चत पर घूम रहा था. तो अक्चाणक पड़ोसी की च्चत से एक पनटी आकर मेरे पास गिरी. वो पनटी थोड़ी गंदी थी और उसपे पानी लगा हुआ था.

मेने वो पनटी उठाई और देखा आस पास कोई नही था. तो मेने उसे उठाया और अपने नाक के पास ले जाकर उसे सुंगने लगा. फिर मेने उसकी गंदी वाली जगह को जीभ से चाटने लगा.

उसी टाइम पड़ोसी की लड़की खुद की की च्चत पर आ गयी कपड़े सूखने और मुझे उसकी पनटी चाटते हुए देख लिया. उस लड़की का नामे था अंजू उमर, 20 साल, रंग गोरा था. और फिगर था 34 30 32 और वो स्टडी करती थी.

मई अचानक पीछे देखा वो लड़की अपनी च्चत से मुझे घूर रही थी. की मई उसकी पनटी के साथ ये क्या कर रहा हू. मेने मौके को समझा और उससे माफी माँगने लगा. की आप जो बोलॉगी मई करूँगा पर प्लीज़ इस बारे मे आयेज किसी को मत बताना.

वो बहुत गुस्से मे थी और मुझे अपने पास बुलाया. और कहा जो कहूँगी करोगे? मेने हन मई सिर हिलाया. तो उसने मेरे गाल पर एक जोरदार तपद मारा.

मेने कहा ये क्या कर रही हो? तो वो बोली चुप, तूने कहा ना जो कहोगी करूँगा. ये तो मेरा गिफ्ट है तेरे लिए. तो मेने कहा अब मुझे क्या करना होगा?

वो बोली की रुक थोड़ी देर मॅज आती हू. और वो ऐसा बोलके चली गयी और मई वेट करने लगा. लगभग 10 मिनिट्स बाद वो आई और खा इधर आ.

मई उसके पास चला गया. तो उसने पूछा बता मेरी पनटी के साथ क्या कर रहा था? मेने खा कुछ नही. वो बोली सच सच बता वरना सबको इस बारे मे पता चल जाएगा.

मेने खा वो उसपे पानी लगा हुआ था उसकी खुसभू से मई पागल हो गया और उसे चाटने लगा. वो हंस पड़ी और बोली अछा और कुछ तो नही किया ना तूने? मेने खा नही.

तो बोली अछा तुझे क्या पसंद है? मेने शरमाते हुए खा स्लेव बनना. वो बोली स्लेव मतलब? तो मेने उसे स्लेव स्टोरी दी और वो उन्हे वाहा बेत कर पढ़ने लगी.

मई तब तक खड़ा रहा. एक स्टोरी रेड करने के बाद वो मुस्कराय और खा अछा स्लेव बनना है.. मेने खा हन. उसने खा चल घुटनो पर बेत कुत्ते. मई घुटनो पर बेत गया.

तो वो बोली कपड़े कों तेरी मा आ कर उतरेगी?! कुत्ते चल कपड़े खोल अपने सेयेल! मई एक एक कर के अपने कपड़े उतरने लगा और अंडरवेर मे आ गया.

मेने अंडरवेर नही उतरी, उसने गुस्से से मेरे मूह पर थप्पड़ मारे दोनो गाल पर. और बोली कुत्ते अंडरवेर कों तेरा बाप उतरेगा साले?! पूरा नंगा हो!!

तो मेने खा माफ़ करदो अंजू कोई देख लेगा. तो वो और घुसा और गयी और मेरे लंड पर एक जोरदार लात मारी. मई तो जैसे बेहोश हो गया. मेरे आँखो से आँसू आने ल्गे.

और वो मुस्करते हुए बोली कुत्ते मालकिन बोल मालकिन! मेने खा जी मालकिन. और मेने अपनी अंडरवेर उतार दी और वो ज़ोर ज़ोर्से हँसने लगी. मेरा लुली देख कर वो बोली इससे बड़ा तो 2 साल के बचे का होता है. तू शादी के बाद क्या कर पाएगा.. और वो हँसने लगी.

मई अब पूरा नंगा था उसके सामने. तब वो बोली कुत्ते मेरी चपल चाट और जीभ से इसे सॉफ कर. मई कुत्ते की तरह उसकी चपल को जीभ से चाटने लगा.

और लगभग 10 मिनिट्स मे मेने दोनो चपल एकदम सॉफ करदी. उसपे लगी मिटी चाट गया. वो बोली वेरी गुड कुत्ते और खा मेरे पैर सॉफ कर देख कितने गंदे ह.

मेने जी मालकिन कहते हुए उनके पैरो को जीभ से चाटना शुरू कर दिया और उनकी पैर की फिंगर्स को मूह मई लेके चूसने लगा. 5 मिनिट्स के बाद मेने दोनो पैर च्चत लिए जीभ से.

वो खुश हुई और खा अब तुझे गिफ्ट देती हू, चल अपना मूह खोल कुत्ते. मेने मूह खोला तो मालकिन ने मेरे मूह मई थूकना स्टार्ट कर दिया. और मेने वो सारा थूक पी गया.

फिर वो बोली तेरे सरीर पर एक भी बाल नही होने चाहिए, चल तुझे वॅक्स करती हू. उसके बाद मेरे हाथ पैर बाँध दिए और मुझे वॅक्स किया. और एक जातके मे वो मेरे सरीर के बाल उखाड़ रही थी. मेरी बॉडी जल रही थी और मई रो रहा था क्यूकी मुझे बहुत दर्द हो रहा था.

वो हास रही थी, मेने कहा प्लीज़ छोड़ दो. फिर उसने मूज़े छोड़ा और कहा जेया नहा के आ फिर टुजे एक और सर्प्राइज़ देती हू.

मई अपने घर जेया कर नहा के आया. तो मालकिन ने मुझे बोला तेरे लंड को लॉक कर देती हू. क्यू की वो अब किसी काम का नही है. और मुझे चासटिटी मे बाँध कर दिया और के उन्होने ने पता नही कहा रख दी.

खा जब मई खूँगी अब तभी तू मूत पाएगा कुत्ते. उसने कहा रात को तेरे लिए सर्प्राइज़ है, मे कुछ नही बोला और बस चुप रहा और फिर अपने घर चला गया.

कही ना कही मुझे भी अछा लगा क्यूकी मेरी पर्सनॅलिटी स्लेव की ही है और मई हमेशा से ही बनना चाहता था. और जब अब मुझे एक मालकिन मिल गयी जो बिल्कुल मुझे अपने स्लेव की तरह ही ट्रीट कर रही थी. जैसे की मई उनकी प्रॉपर्टी हू या पर्सनल कुत्ता.

मई मज़ा भी आया और मई दिन भर ये ही सोचता रहा की रात को क्या होने वाला है. मेरा लंड चासटिटी मे लॉक था और मुझे अजीब सा लग रहा था. लेकिन मैने ना तो अपनी मालकिन की कही बातो के खिलाफ कुछ किया और ना ही मुझे बुरा लग रहा था.

अब आयेज की कहानी अगले पार्ट मे.

यह कहानी भी पड़े  ट्रक मे हुई मम्मी की चुदाई

error: Content is protected !!