मूठ मारता बेटा देख मा की चूत हुई गरम

हेलो दोस्तों और प्यारे रीडर्स. थॅंक्स फॉर युवर फीडबॅक. ऐसे ही सपोर्ट करते रहो, और इन्फ्लुयेन्स करते रहो. सॉरी फॉर बीयिंग लाते. मैं तोड़ा काम में बिज़ी था, तो स्टोरी का 3र्ड पार्ट आने में बहुत देर हो गयी. अब देर ना करते हुए स्टोरी पे आते है.

हुआ यू था, की मा को वो सब के बारे में पता चल गया था, जो मैने उनके साथ किया था, और उन्होने मुझसे प्रॉमिस लिया था, की शादी से पहले ये सब कुछ भी ना करू. उसके बाद मैने उनके बारे में सोच-सोच के बस कुछ दिन हिला-हिला के टाइम काटा.

एक दिन पापा किसी काम से बाहर जाने वाले थे 30-35 दिन के लिए. तो मैं तोड़ा खुश हो गया. वो दिन सनडे था, तो मैने जाके पापा को स्टेशन छ्चोढा, और कार लेके वापस आ रहा था. तब मैने एक कपल को किस करते देखा. मेरा मूड तोड़ा बनने लगा, तो मैने मेडिकल स्टोर पे रोका जहा से मैं सारे सेक्षुयल समान लेता था.

वहाँ से 2 ड्यूर्क्स के स्ट्राबेर्री और चॉक्लेट फ्लेवर वाले डॉटेड आंड एक्सट्रा तीन कॉंडम लिए. और मॅनकाइंड की वियाग्रा लाया 10 टॅब्लेट्स. एक एक्सट्रा टाइमिंग लोशन भी लाया मानफ़ोर्से का. जाते हुए मैं एक मटन की दुकान से 1 क्ग मटन भी लेके गया. तब दिन के 12:30 बाज रहे होंगे.

फिर घर पहुँचा तो देखा मा खाना बना रही थी. तो मैने जाके उनको मटन दिया, और बनाने को कहा. बीटीयौ वो बहुत अची कुक भी है. तो एक-दूं बढ़िया तरीके से खाना बना दिया. खाना बनने के बाद मुझे खाने पे बुलाने को जब मेरे रूम में गयी, तो देखा मैं बातरूम में था.

वो वापस लौट ही रही थी की उन्होने सुनी कुछ आवाज़. मैं उनका नाम लेके हिला रहा था-

मैं: आह शालिनी, कितने मस्त चूचे है, और क्या रसीली चूत. मॅन करता है रोज़ रात दिन बस तुमको छोड़ता राहु.

वो सुन के गुस्सा हो गयी, और दरवाज़ा नॉक करने को हाथ से मारा ही था, तो मेरा दरवाज़ा खुल गया. मुझे लोशन लगा के मूठ मारते हुए उन्होने देख लिया, और उस वक़्त मैं हाथ में मोबाइल लेके उनकी वीडियो जो बनाई थी देख रहा था. मैं उनको देख के घबरा गया, और मेरा लंड च्छुपाने लगा.

फिर उन्होने खींच के एक छाँटा मारा, और मोबाइल चीन के ले गयी. वो गुस्से से आग बाबूला होने लगी. मैने 2:30 बजे तक कुछ भी नही खाया था, ना ही उन्होने कुछ खाया था. फिर उन्होने मुझे गुस्से से बाहर से ही बुलाया.

मा: रघु, बाहर आके खाना खा ले.

मैं दर्रा सहमा सा जाने लगा. वो मुझे देख भी नही रही थी. मैं चुप-छाप जाके डिन्निंग टेबल पर बैठा ही था, की वो खाना रख के चली गयी टीवी के पास.

मैने उनसे पूछा: आप नही खाएँगी?

तो उन्होने कुछ नही कहा. जब मुझे पता चल गया वो भी नही खाई थी गुस्से से, तो मैं जाके उनके पैर के पास बैठ गया, और सॉरी कहने लगा. कुछ देर गिड़गिदने के बाद वो बोली-

मा: तू मेरी कसम खा के फिर या सब क्यूँ कर रहा था?

तब मैं चुप रहा.

फिर वो बोली: मुझे तुझसे बात नही करनी है. और ये वीडियो कहा से आई?

मैं तब भी चुप था.

फिर वो पूछने लगी: हरंखोर कुछ बोलेगा भी या नही?

मैं रोने लगा और बोला: मैं क्या करू? आप कुछ करने नही देती. बाहर करके मैं घर की इज़्ज़त मिट्टी में नही मिलना चाहता. सेक्स मेरे दिमाग़ में चढ़ गया है. कुछ कंट्रोल नही हो रहा, तो आपकी वीडियो देख के हिला के काम चला रहा था. मैं क्या करू? मुझे मॅर जाना चाहिए. ऐसी गंदी सोच रख के जीने से बेहतर मॅर जाना.

तो उन्होने फिर एक छाँटा लगाया, और बोला: ये क्या बोल रहा है. तेरे साइवा मेरा है ही कों, जिसे देख के मैं जियूंगी? मैं भी स्यूयिसाइड कर लूँगी.

और वो रोने लगी. तब मैने मा को चुप कराया, और उनके पास बैठा. कुछ देर इधर-उधर की बातें की. फिर मैं बोला-

मैं: बहुत इनटेन्स माहौल बन गया, और आपने कुछ खाया भी नही. रूको आप, मैं आपके लिए खाना लेके आता हू.

फिर मैं जाके खाना लेके आया, और उनको अपने हाथो से खिलाया, और वो रो पड़ी. वो फिर मुझे पूछने लगी-

मा: इतना प्यार करता है मुझसे. फिर ये सेक्स के बारे में क्यूँ दिमाग़ में ला रहा है?

मैं बोला: मैं आपको दो 3 बार नंगी देख के कंट्रोल नही कर पा रहा था. मेरे दिमाग़ में हेवी हो गया.

फिर वो मुझे खिलाने लगी, और खाना खाने के बाद हम साथ बैठ के मोविए देखने लगे. कुछ अछा नही था, तो मैने नेत्फलिक्ष पर एक रोमॅंटिक हॉलीवुड मोविए लगा दी, और दोनो देखने लगे. फिर ऐसे ही बात-चीत चल रही थी, की एक किस्सिंग सीन आया. मैने काट दिया तो मा मुझे देखने लगी और कहने लगी-

मा: मा को नंगी देखना ठीक है तेरे लिए, और किस देखना बुरा लगता है (कॉमेंट करने के जैसे बोली वो).

मैं तोड़ा शरमाया और वापस लगा दिया. उसमे तब बहुत इनटेन्स किस्सिंग सीन चल रहा था, और वो लड़का उस लड़की की आस भी दबा रहा था. तो मेरा खड़ा होने लगा, और मा ने ये देख लिया. वो भी थोड़ी गरम होने लगी. तब उन्होने मुझसे पूछा-

मा: तेरी कोई गफ़ नही है क्या?

मैने नही बोला.

मा: क्यूँ नही है?

मैं: मुझे लड़कियाँ पसंद नही है.

मा: फिर?

मैं: मुझे औरते पसंद है, जो सेक्सी हो और सुंदर भी, आपके जैसी.

वो मुझे मज़ाक से मारने लगी और कहने लगी-

मा: बदमाश!

फिर वो बोली: एक बात बतौ, किसी को बताना मत.

मैं भी तेरे पापा के साथ बहुत मस्ती करती थी. लेकिन आज काल वो मुझे छूटे तक नही है. पता नही क्या हो गया उनको.

मैं पूछा: क्या आप पापा के साथ अभी सेक्स नही करते?

वो मुझे झूठे-मूत्े मूह करके बोलने लगी: बदमाश अपनी मा से ऐसे पूछते है?

और फिर मैने पूछा: बताओ ना.

तब वो बोलने लगी: नही.

मैने पूछा: फिर आपका मॅन नही करता?

तब वो थोड़ी फ्रॅंक हो गयी थी.

वो बोलने लगी: हा मॅन तो करता है. लेकिन क्या कर सकते है?

वो मेरे खड़े लंड को चोरी-चोरी देख रही थी. ये मैं देख चुका था. मैने पूछा उनको-

मैं: मा एक बात पूचु, गुस्सा तो नही करोगी?

मा: नही पूच क्या पूछना है?

मैं: क्या मैं पॉर्न देख के तोड़ा हिला लू? मुझे दर्द होने लगा है (और आँखों में इशारा किया अपने खड़े लंड की तरफ).

वो गुस्से से देखने लगी और फिर बोलने लगी: नही.

तो मैं रिक्वेस्ट करने लगा. तब वो मान गयी और कहने लगी-

मा: जो भी करना है यही कर. घर के अंदर जाके तू मेरे बारे में फिर सोच के करेगा ये सब.

तो मैं तोड़ा कन्फ्यूज़ हो गया, और अनकंफर्टबल फील करने लगा.

फिर मैने पूछा: यहा कैसे? आप यही बैठी हो, तो कैसे?

तो वो बोली-

मा: और यहा है ही कों जो देखेगा हमे, और वैसे भी मैं तेरा पहले से ही देख चुकी हू. तो क्या प्राब्लम है?

मैने कहा: फिर भी.

तो वो बोली: यही कर, या फिर मत कर.

फिर मैने शरमाते हुए फोन माँगा, तो वो बोली: फोन में नही, टीवी में चला के देख.

तो मैं और सर्प्राइज़ हो गया (बीटीयौ मॅन उनका भी करने लगा था. छूट में खुजली उनकी भी होने लगी थी. मुझे बाद में पता चला)

फिर मैने मोबाइल लेके टीवी में कनेक्ट कर दिया, और एक लेक्शी लुना की वीडियो चला दी स्टेपमों और सोन वाली. तो उसमे लुना पहले नहा रही होती है, और उसका बेटा उसको मोबाइल में रेकॉर्ड करके मूठ मारता है, और उसको वो पकड़ लेती है, और फिर चुदाई शुरू होती है.

जब वीडियो चल रही थी. तब मैं पंत के अंदर हाथ डाल के हिलने लगा. मा चोरी-चोरी मुझे देखने लगी, और फिर बोली-

मा: ऐसे करेगा तो पंत खराब हो जाएगी. इसे उतार दे.

तो मैं हिचकिचाने लगा. लेकिन उन्होने खुद ही उतार दी. अब मैं अपना लंड च्छुपाने लगा हाथ से. वो मेरा साइज़ देख के वाउ बोली और अंदर ही अंदर खुश हो गयी. फिर वो उठ के वॅसलीन का डिब्बा लेके आई, और मुझे दे दिया.

वो बोली: इसे लगा ले, अछा लगेगा.

मैं शरमाते हुए लगाने लगा, और मा बैठ के पॉर्न देखने लगी. तब वो लड़की उस लड़के का चूस रही होती है, और मा चोरी-चोरी मेरा लंड देख रही होती है. बीच-बीच में वो अपनी छूट रग़ाद देती है, जैसे मुझे ना पता चले वैसे, और बूब्स भी दबाने लगी.

फिर उनसे कंट्रोल नही हुआ, और वो घर के अंदर जाने लगी. वाहा वो सारे कपड़े उतार कर एक ब्लंकेट ओढ़ के आई, और बैठ गयी. फिर अपने हाथ से छूट रगड़ने लगी. मैने उनसे पूछा तो वो कहने लगी उनको ठंड लग रही थी. मैने सोचा बुखार था, तो मैं उठ के उनके माथे और गले पे हाथ से चेक करने लगा, तो देखा टेंपरेचर नही था.

फिर मैने जैसे ही गले पे हाथ रखा, तो पता चला उन्होने अंदर कुछ नही पहना था. इससे मैं सर्प्राइज़्ड हो गया और पूछने लगा-

मैं: टेंपरेचर तो नही है, और आपने कुछ भी पहना क्यूँ नही?

तो वो हकलाते हुए बोली: बेटा मुझसे अब रहा नही गया देख के, तो फिंगरिंग करने के लिए आई थी.

फिर मैं तोड़ा सोच के बोला: ऐसा क्यूँ मा? मैं बिल्कुल नंगा रहूँगा आपके सामने, लेकिन आप ब्लंकेट में. ऐसा नही चलेगा.

फिर वो बोलने लगी: तू पागल है क्या? मैं तेरे सामने ये सब कैसे करू?

मैं ज़िद करने लगा, और मैने खींच के ब्लंकेट निकाल दी. तो वो सोफे पे पड़े कुशन से अपनी छूट, और हाथ से अपने बूब्स च्छुपाने लगी.

वो बोलने लगी: मुझे शरम आ रही है.

मैं बोला: मैं तो आपको नंगी पहले ही देख चुका हू. तो मेरे सामने कैसी शरम.

और मैने उनके हाथ हटा दिए. इससे उनके गोरे और गोल बूब्स सामने आ गये. उनके निपल्स हार्ड होने लगे थे. वो शर्मा के अपना चेहरा च्छूपा दी हाथ से. और मैने तकिया भी निकाल दिया तो उनकी छूट और झांट के बाल जो कुछ दिन पहले शेव किए थे, मेरे सामने थे. क्या मस्त लग रही थी, और छूट थोड़ी गीली भी हो गयी थी.

मैं बोला: वाउ मा, आपके बूब्स और छूट क्या मस्त है.

मा: चुप कर बदमाश, जाके पॉर्न देख.

मैं बोला: जब साथ में अप्सरा हो, तो वाहा कौन देखेगा?

वो तारीफ सुनके तोड़ा खुश हुई और शरमाने लगी. फिर हुआ शुरू मैं. उनके बूब्स और चूत देख के हिलने लगा. मा टीवी देख रही थी, और छूट में उंगली करते हुए आ आ आ आ करने लगी.

मैने पूछा: आपने पिछली बार कब किया था?

तब वो बोली: 2 साल हो गये होंगे, मैं तो उंगली करके ही काम चला रही हू.

मैं: एक बात पूचु मा?

मा: हा पूच शैतान, और क्या पूछना रह गया?

मैं: पापा का कितना बड़ा है?

मा देखने लगी और बोली: बड़ा तो है 6″ का, लेकिन तेरा तोड़ा ज़्यादा बड़ा दिख रहा.

मैने थॅंक्स बोला. फिर मा पूछी-

मा: कितना बड़ा है तेरा?

मैने उठ के जाके उनके हाथ पकड़ा, और मेरा लंड थमा दिया, और बोला-

मैं: खुद ही नाप लो.

वो शरमाते हुए दोनो हाथ से पकड़ी, फिर भी भी पूरा नही पकड़ पाई. वो बड़ी आँखें करके देखने लगी, और फिर बोली-

मा: मुझसे और अब नही हो रहा.

फिर क्या-क्या हुआ नेक्स्ट पार्ट में बतौँगा. बाइ गाइस, अगला पार्ट और भी इंटेरशटिंग है. कॉंटॅक्ट- सोमयसागरमाहापात्रा@गमाल.कॉम

यह कहानी भी पड़े  मेरा पहला प्यार मेरी मौसी


error: Content is protected !!