मोम और उनकी बेस्ट फ्रेंड के साथ फोरसम

ही दोस्तो, तो आज आपको बताने जा रहा हू मेरे दिल के सबसे करीब और सबसे हसीन पलों वाली चुदाई की कहानी.

मैं राहुल – 22 यियर्ज़ वित स्लिम टोंड जिम बॉडी और 5.7 हाइट और क्लीन शेव रखना पसंद करता हू बड़े बलों के साथ.

इस कहानी में मेरी मों जिसका नाम मधुरी – 48 यियर्ज़ की है और गोरा रंग बोहोट संस्कारी बिल्कुल खुले अंदाज़ से ज़िंदगी जीने वाली है. उनका फिगर अगर बतौ तो बिल्कुल पर्फेक्ट मिलफ है. नाम भर का मोटापा है कमर पे और बाकी अगर आप देखोगे तो सोचोगे की इतनी खूबसूरत मा सब को मिले. लेकिन मेरी मों के लिए मेरे मान में कोई सेक्स का ख़याल नही रहता.

वो ख़याल बस मेरी मों की बेस्ट फ्रेंड शिल्पा – जो 51 यियर्ज़ की है और मेरे बेस्ट फ्रेंड आर्यन की मों भी है. हमारा घर बस कुछ ही दूरी पर है जहा हमारा आना जाना लगा रहता है. शिल्पा आंटी बेहाध खूबसूरत है और मानी कोई हुस्न की पारी जैसा फिगर. एकद्ूम स्लिम त्रीमेड और हाइट 6.1 होगी. लेकिन बोहोट मेनटेन रखती है खुद को.

मेरा काफ़ी बार उनके घर आना जाना रहता था और आंटी मुझसे थोड़ी ज़्यादा ही दोस्ती रखती थी. मानो जैसे कोई दोस्त ही है. हम अक्सर डबल मीनिंग जोक्स और बातें किया करते है फोन पर.

कुछ वक़्त ऐसा सिलसिला चलता रहा और एक दिन मैं जब उनके घर था और आर्यन बाहर समान लेने गया था, तो शिल्पा आंटी किचन में कुछ कम कर रही थी और मैं वाहा बैठ कर बस उन्हे प्यार भारी नज़रों से देखे जा रहा था.

उनके हाथ गीले थे और बाल खुले. हवा की वजह से बाल चेहरे पर आ रहे थे और वो गीले हाथो से हल्के हल्के बलों को पीछे सरका रही थी. मैने थोड़ी हिम्मत दिखाई और पीछे से उनके बालों को सेट किया और रब्बर लगा दिया. जिसपर उनका कुछ रिक्षन नही था मगर मुस्कुरा रही थी

शिल्पा – तो राहुल तुम्हे मेरे खुले बाल पसंद नही क्या?

राहुल – ऐसा कभी हो ही नही सकता की मुझे आपकी कोई एक भी बात या कोई भी चीज़ पसंद ना हो. लेकिन आपके बाल आपको परेशन कर रहे थे और ये मुझसे देखा नही गया.

शिल्पा – अपनी उमर से कुछ ज़्यादा ही बड़ी बातें नई करते तुम?

राहुल – उमर में क्या रखा है शिल्पा आंटी. मज़ा तो एक्सपीरियेन्स में है. (उनके बालो को हल्के से हटा कर उनके गले पे किस किया)

शिल्पा – ओये राहुल, मौका देख कर चान्स मत मार. सब समाज रही हू बेटा.

राहुल – आप मौका ही तो नही दे रही आंटी.

शिल्पा – तुझे मौका तो दे डू. लेकिन तू ठहरा वर्जिन, उपर से आर्यन का बेस्ट फ्रेंड और तो और मेरी बेस्ट फ्रेंड का बेटा. किसी को भालाक भी लग गयी ना तो तुम समाज नई सकता कितना बड़ा हंगामा हो जाएगा.

राहुल – प्लीज़ आंटी बस एक बार. मैं चाहता हू मेरा फर्स्ट टाइम दुनिया की सबसे हसीन लड़की के साथ हो जो मुझे समाज ती हो.

शिल्पा – लड़की का तो पता नही, औरत हो चुकी हू मैं तो अब. हन जवान खून पसंद तो है मुझे, लेकिन तुम वर्जिन लोगो में हम औरतों को सॅटिस्फाइ करने की केपॅसिटी नही होगी.

राहुल – आप जैसा बोलॉगे वैसे करेंगे प्लीज़ शिल्पा आंटी एक बार?

(इतने में आर्यन डोर खोलकर अंदर आता है और समान टेबल पर रख के फ्रेश होने चला जाता है).

शिल्पा – और एक बात, देख तू मुझे हॅंडल कर लेगा, हम दोनो हो सकता है एक दूसरे की प्यास बुझा दे लेकिन इसमें मेरा बेटा तो वर्जिन ही रह जाएगा ना.

राहुल – मैं कुछ संजा नही.

शिल्पा – देख मैं चाहती हू की जैसे तू इस उमर में सेक्स का मज़ा लेने के लिए तरस रहा है वैसे मेरा बेटे में भी तलब होगी. जो उसके साथ नाइंसाफी हो जाएगी.

राहुल – तो आप कहना क्या चाहती है? आप उसके साथ सेक्स…?

शिल्पा – ची राहुल. ऐसी भी सोच नही है मेरी की अपने ही बेटे के साथ सेक्स करू. हा लेकिन जैसे तुम मुझपर फिदा है, वैसे शायद आर्यन भी तेरी मों की काफ़ी बातें करता है. उसकी तारीफें ख़तम ही नही होती

राहुल – उसने मुझे कभी ऐसा नही कहा.

शिल्पा – तो क्या तूने उसे बताया है की तू उसकी मों पर कैसे लाइन मरता है, फ्लर्ट करता है. डबल मीनिंग बातें करता है?. आब्वियस्ली नही बताया होगा.

राहुल – तो आप ये चाहती है की आपके साथ सेक्स के बदले वो मेरी मों के साथ सेक्स करे?

शिल्पा – स्मार्ट हन. लेकिन जितना मैं जानती हू तेरी मों और आर्यन सीधे सीधे मानेंगे नही इस बात को. कुछ आइडिया सोचना पड़ेगा की हम चारो अपने ज़िंदगी से सबसे खूबसूरत पल जिएं.

राहुल – अपने कुछ सोचा है इस बारें में?

शिल्पा – सोचा तो है. तो प्लान कुछ ऐसा है की…

(और हम चारो फिर कुछ दिन बाद मिनी वाकेशन के लिए लोनवाला चले गये. वहाँ हुँने 1 डबल बेड वाला रूम बुक किया और थोड़े फ्रेश होने के बाद साइट सीयिंग करके डिन्नर के बाद जब हम रत में कमरे में पोचे तब शुरू हुआ हमारा असली प्लान. प्लान सिर्फ़ मुझे और शिल्पा आंटी को पता था.)

तो हम फिर कार्ड्स का ग़मे खेलने लग गये जो हुँने कुछ राउंड्स खेले. इतने खेल चुके थे की बोर होने लगा था.

मधुरी – यार अब बोहोट हुआ. इतनी बार खेल चुके है की मान नही कर रहा.

आर्यन – हाँ आंटी मूज़े भी सेम ऐसा ही लग रहा है.

राहुल – तो शिल्पा आंटी आपको मज़ा आ रहा है क्या?

शिल्पा – मज़ा तो नही आ रहा लेकिन अगर तुम लोग चाहो तो इस खेल में तोड़ा मज़ा ला सकते है.

मधुरी – वो कैसे?

(शिल्पा आंटी में मेरी मों को थोड़ी दूर बुलाया और दोनो आपस में बातें करने लगे. मुझे तो सारा आइडिया पता ही था लेकिन आर्यन के और मेरी मों के सामने इनोसेंट होने की आक्टिंग करनी पड़ी. वाहा दोनो बातें कर रहे थे.)

शिल्पा – देख हम एक रौंद कार्ड्स का बाटेंगे. जिसका कार्ड भारी होगा वो दूसरे इंसान का जिसका कार्ड लोवर नंबर का होगा उसका एक कपड़ा उतरेगा.

मधुरी – यार पागल है तू? बचे है हमारे.. और वो हमारे कपड़े उतरेंगे तो क्या सोचेंगे हमारे बारें में..

शिल्पा – यार बस 2 3 राउंड्स खेलते है ना फिर जैसे हूमें लगेगा की ज़्यादा हो रहा है तो हम रुक जाएँगे. और देख ना आज मेरा मूड कर रहा है सेक्स का. तुझे तो मेरी सेक्स लाइफ का पता ही है.

मधुरी – हाँ जानती तो हू लेकिन हमारे बचे है उनके साथ कैसे मतलब?

शिल्पा – यार करने ना मिले, लेकिन हमारी कॉलेज की फॅंटसीस रही है यंग डिक्स की भूल गयी तू?
माना की हम औरत बन चुके है जवान लड़के मिलेंगे नही लेकिन देख तो सकते ही है

मधुरी – आइडिया बुरा नही है. लेकिन तोड़ा बोहोट टीज़ करने में मज़ा तो आएगा बचो को.

शिल्पा – ये हुई ना बात, चले?

इतने में दोनो आकर बेड पर बैठे और दोनो के चेहरे पर अलग ही तरह की मुस्कान थी. शिल्पा आंटी में मुझे अख मारी और मैं समाज चुका था की मों मान गयी है. सिर्फ़ आर्यन इन बातों से अंजन था.

तो प्लान के मुताबिक, फर्स्ट रौंद में शिल्पा आंटी को मौका मिला मेरे कपड़े उतरने का. उन्होने बिना कुछ कहे सीधे मेरे पास आई और हल्का सा टीज़ करते हुए मेरी जॅकेट उतार दी

तो मैं आपको बता डू की मैं और शिल्पा आंटी पूरी तैयारी के साथ आए थे और हो सके उतने ज़्यादा कपड़ो के लेयर्स पहने थे. मैं आपको बता डू हम सबने पहना क्या था.

राहुल – ब्लॅक जॅकेट, रेड चेक शर्ट और अंदर वाइट टशहिर्त वित बानयन. नीचे अंडरवेर, बॉक्सर्स आंड ब्लू जीन्स

आर्यन – जीन्स आंड टशहिर्त वित ओन्ली ग्रे कट टाइप अंडरवेर

मधुरी – ब्लॅक जीन्स, ब्लू टॉप (अंदर का फिर नीचे बतौँगा)

शिल्पा – स्लीव्ले ग्रे ब्लाउस वित ब्लॅक सारी, नीचे मॅक्सी, और उपर स्लिप. आब्वियस्ली अंदर इननेर्स.

तो फर्स्ट रौंद के बाद हूमें आइडिया मिल चुका था ग़मे का और हम सभी एग्ज़ाइटेड थे जहा शिल्पा आंटी ने मेरी जॅकेट उतार दी थी.

नेक्स्ट रौंद में मेरी मों को मौका मिला और उन्होने आर्यन की टशहिर्त उतार दी. आर्यन बता डू तो तोड़ा सा मोटा था और हेरी बॉडी थी. तो आस यूषुयल उसकी हेरी अप्पर बॉडी हमारे सामने थी और वो तोड़ा शर्मिला है तो खुद को छुपाने लगा . जहा शिल्पा आंटी उसे कंफर्टबल फील करा रही थी.

शिल्पा – आर्यन इट’स ओके. हम ही तो है यहा. शरम की कोई बात ही नही है.

मधुरी – हा बेटा चिल कर. एंजाय तीस मोमेंट.

नेक्स्ट रौंद में मुझे मौका मिला शिल्पा आंटी के कपड़े उतरने का तो उसी मोमेंट में मों ने शॉकिंग्ली शिल्पा आंटी की तरफ देखा और कहा अब?

शिल्पा – इट’स ओके सिर्फ़ हम उनके कपड़े उतरेंगे तो ये तो नाइंसाफी होगी ना. गो अहेड राहुल

राहुल – तो आंटी कोई रूल तो नही है ना की फर्स्ट क्या उतरना होगा या कुछ?

शिल्पा – रौंद तू जीता है बेटा. मर्ज़ी भी तेरी होगी.

तो मैने इनोसेंट्ली आंटी का पल्लू हटाया और उन्हे खड़ा होने को कहा. उसके बाद मैने उन्हे घुमाया और उनकी सारी उतरने लगा. आंटी भी बड़े प्यार से उतरवा रही थी जैसे उन्हे इसी का इंतेज़ार था.

फिर नेक्स्ट रौंद में आर्यन को मौका मिला मेरी मों के कपड़े उतरने का तो वो तोड़ा घबराया की पहले क्या उतारू और मों ने अंदर कुछ पहना होगा या नही.

शिल्पा – डॉन’त वरी आर्यन मधुरी कुछ नही बोलेगी.

मधुरी – वैसे भी मैं क्यू कुछ बोलूँगी? ये आज मुझसे इतना दर क्यू रहा है?

शिल्पा – आक्च्युयली दर नही रहा. नर्वस है. घर पर हमेशा बस तेरी तारीफ तेरी बातें. और आज जब आधा अधूरा मौका मिला है तो घबरा रहा है.

मधुरी – अगर ये बात है तो बचो का हौसला बढ़ाना चाहिए.

इस पर मों उठी और आर्यन के सीधे गोद में आकर बैठ गयी. और अपने हाथ उसके कंधे पर रख कर बोली

मधुरी – क्या उतरेगा? टशहिर्त या जीन्स?

आर्यन – (नर्वुसनेस में) टशहिर्त

इस पर मों ने आर्यन के दोनो हाथ पकड़े और खुद की कमर पर रख के खुद अपने हाथ उठा दिए. कैसे कह रही हो की मेरे कपड़े उतार. वहाँ आर्यन ने भी अब हिम्मत बढ़ते हुए मेरे सामने मेरी मों का टॉप उतार दिया जिसके अंदर उन्होने वाइट ब्रा पहनी हुई थी और हाथ उठाने के कारण ब्रा थोड़ी स्ट्रेच हो गयी थी जिसे मों ने फिर ठीक करते हुए अपनी जगह पर चली गयी.

मधुरी – इतनी सी तो बात थी आर्यन बेटा. और तू दर रहा है

शिल्पा – अब तो खुश हो जा बेटा. तेरा सपना ही पूरा कर रही हू.

इस पर हम सबने एक दूसरे की तरफ देख कर स्माइल किया और अगले रौंद की तरफ बढ़े.

नेक्स्ट कुछ रौंद शॉर्ट में बता डू तो नीचे दिए गये इन्फर्मेशन से आप सोच सकते है-

आर्यन – राहुल’स शर्ट

आर्यन – शिल्पा’स स्लिप

मधुरी – राहुल’स टशहिर्त

राहुल – शिल्पा’स ब्लाउस

शिल्पा – मधुरी’स जीन्स.

मधुरी – आर्यन’स जीन्स

शिल्पा – राहुल’स बानयन

मधुरी – राहुल’स जीन्स

तो अब मेरी मों सिर्फ़ अपने वाइट ब्रा और ब्लू पॅंटीस में बैठी थी. क्यू की उन्हे कोई आइडिया नही था तो अंदर कुछ मॅचिंग नॉर्मली नही पहेंटा जब तक कोई कुछ खास अकेशन ना हो. आप सब समाज सकते होंगे इस बात को.

आर्यन सिर्फ़ अंडरवेर में था. (तोड़ा अनकंफर्टबल क्यू की उसके बॉडी का आखरी कपड़ा था)

मेरे बॉक्सर्स, अंडरवेर बाकी थे और दूसरी तरफ शिल्पा आंटी कॅलविन क्लाइन वाली वाइट ब्रा और पनटी में योगा टाइप के बॉडी में बोहोट खूबसूरत लग रही थी और कमर पे कला धागा अफ. जैसे कोई आड़ चल रहा हो यहा छड़ियों का. हर कोई चड्डी और ब्रा पनटी में था इस वक़्त

मधुरी – यार तुम दोनो क्या पहले से डिसाइड कर के आए थे क्या? इतने सारे लेयर्स पहने है तुम लोगो ने. इतने कपड़े उतरे मगर ख़तम ही नही हो रहे.
यहा मैं और आर्यन बेचारे हर रौंद में घबरा रहे है की अब मेरा नंबर ना लगे.

शिल्पा – ऐसा कुछ नही है मधुरी.

राहुल – हा मों मैने तो बस यूँ ही पहने है. फॅशन योउ नो.

शिल्पा – कॉम्ेओं लेट’स गो फॉर नेक्स्ट रौंद.

मधुरी – मुझे लगता है हूमें रुक जाना चाहिए अब.

शिल्पा – यार इतनी दूर आए है लेट्स कंप्लीट ना. देखते है एंड में कों जीत ता है.

नेक्स्ट रौंद में कोइंसिडंट्ली दोनो राउंड्स मैं हर चुका था. पहले शिल्पा आंटी को मौका मिला तो उन्होने मेरे बॉक्सर्स उतरे. और अगली बार मों को मौका था और दूसरा कोई ऑप्षन नही लेकिन मेरी अंडरवेर उतार ने का.

उन्होने थोड़ी शरम से और थोड़ी हिम्मत से मेरी अंडरवेर उतार दी जिसके बाद मेरी नज़र सिर्फ़ शिल्पा आंटी पर थी. जो रुक नही सकती थी मेरा लंड देखने के लिए. मेरा 6.7 इंच का लंड लटकने लगा और शिल्पा आंटी ने मुझे देख कर अख मारी और बिल्कुल चुपके से जीभ निकालकर स्लाइड किया जैसे मेरे लंड के लिए बेकरार हो रही हो .

शिल्पा – यार मधुरी तेरा बेटा तो जवान हो रहा है नई?

मधुरी – तो जब हम दोनो औरतें इन बचो के सामने ऐसी हालत में होंगी तो बचो का खड़ा तो होगा ही ना

शिल्पा – लेकिन नॉर्मली देख लंड खड़ा होने के बाद उपर उठ ता है. राहुल का नीचे लटक रहा है. राहुल बेटा कुछ प्राब्लम वाली बात तो नही है ना? (चिढ़ते हुए)

राहुल – वो आंटी इसका शेप ही ऐसा है. मोस्ट्ली वेस्ट इंडीस लोगो का आप देखोगे तो तो ऐसे नीचे की तरफ ही लटकता है

मधुरी – तुझे बड़ा पता है हन वेस्ट इंडीस वालो के बारें में. जा जाकर बैठ अपनी जगह पे. (मुस्कुरा कर बोली)

शिल्पा – उनके शेप का तो पता नही लेकिन उनके जैसा कला ज़रूर है. हाहाहाहाहा.

नेक्स्ट रौंद में शिल्पा आंटी को मौका मिला आर्यन का अंडरवेर उतरने का. ये बड़े ताजुक की बात है की बिटो की चड्डिया उतरने का मौका उनकी मा को ही मिला है.

शिल्पा आंटी ने आर्यन की अंडरवेर उतरने से पहले उसे बड़ी गौर से देखा जिससे साद पता चल रहा था की उसका भी बातें और ऐसे महॉल में खड़ा हो चुका था.

जैसे ही शिल्पा आंटी ने अंडरवेर नीचे की उसका लंड सीधा उपर की तरफ झूला. उसका लंड भी लगभग 6.5 इंचा का होगा लेकिन बलों से भरा हुआ.

क्यू की मुझे और शिल्पा आंटी को प्लान का पता था हम दोनो फुल शेव कर के तैयार थे. आर्यन इस बात से अंजन था और उनके झटों भरे लंड को शिल्पा आंटी और मों देखते ही रह गये.

शिल्पा – बेटा कभी शेव नही करता क्या नीचे?

आर्यन – अगर मम्मी पहले बताते ऐसा ग़मे है तो मैं तैयारी के साथ आता.

मधुरी – वैसे भी कोई खराब नही लग रहा. झटों भरा लंड ही तो उनकी पहचान बताता है. वैसे ई लीके युवर लंड आर्यन बेटा.

यहा मैं और आर्यन पूरे नंगे हो चुके थे और बड़ी अब दोनो औरतों की थी.

तो दोस्तो आपको यहा तक की कहानी कैसी लगी मुझे नीचे दिए मैल द्वारा बताए और अपना प्यार बाते.

यह कहानी भी पड़े  चुपके चुपके चूत चोदने का मजा

error: Content is protected !!