फाइनली मुझे मेरी बीवी का प्यार मिला

indian biwi sex kahani ही मेरा नाम साहिल है, मई देल्ही से हूँ. ये जो स्टोरी मई बताने जेया रहा हूँ ये मेरी खुद की स्टोरी है और ये कोई टिपिकल सेक्स स्टोरी नही बल्कि सच्चे प्यार की कहानी है.

5 साल पहले मेरे मा-बाप मे मेरी शादी टाई की. उस वक़्त मेरी आगे 29 थी. मेरी होनेवाली बीवी का नाम था साथी. मुझे पहली बार देखते ही मई उसके लिए पागल हो गया था.

साथी दिखने मे अप्सरा है और फिगर तो कुछ कहना ही नही. बड़े बड़े बूब्स और पतली कमर. शादी से पहले जब हुमारी पहली बार बात हुवी. तो उसने कहा की वो अभी शादी नही करना चाहती थी. लेकिन उसके पेरेंट्स के प्रेशर मे उसको करना पद रहा है.

मैने उस चीज़ को इग्नोर किया क्यूंकी बोहोट लड़कियों का सेम प्राब्लम होता है. पर शादी के बाद सब ठीक हो जाता है. 2 महीने बाद हुमारी शादी हो गयी.

हुमारे सुहाग-रात के लिए एक स्पेशल गेस्ट हाउस का अरेंज किया गया था. जहा पर ह्यूम चोर कर और कोई नही रहेगा. ह्यूम उस गेस्ट हाउस मे चोर कर हुमारे पेरेंट्स चले गये.

मई बोहोट एग्ज़ाइटेड था क्यूंकी उससे पहले मैने कभी सेक्स नही किया था. मई फिर गया रूम मे जैसे ही दरवाज़ा खोल कर रूम मे गया. देखा साथी किसी से बात कर रही थी फोन पे. मुझे देख कर उसने फोन को रख दिया.

फिर स्मार्ट्ली मेरी तरफ आई और बोली “बैठ जाओ बेड पे, मुझे तुमसे कुछ बात करनी है”. मई तोड़ा घबरा गया क्यूंकी पहली रात मे तो लड़की शर्माके बैठी रहती है. पर ये इतना बोल्ड होके मुझे ऑर्डर दे रही है.

मई फिर बेड पर बैठ गया. वो भी मेरे बगल मे आके बैठ गयी फिर बोली “देखो साहिल हुमारी शादी तो हो गयी है. लेकिन मई दीपक से प्यार करती हूँ और उसी के साथ सब कुछ करूँगी. दीपक को मेरे पेरेंट्स लीके नही करते थे इसीलिए तुमसे शादी टाई कर दी”.

मई शॉक हो गया सुनके हल्का सा आँसू निकल आया आँखों से, फिर भी पूछा “फिर पहले क्यूँ नही बताया?”

“बताना चाहती थी लेकिन पेरेंट्स ने ज़ोर दिया था और तुम अकचे इंसान लगे. इसीलिए हुँने प्लान किया की मई तुमसे सिर्फ़ नाम के वास्ते शादी करूँगी. लेकिन रहूंगी दीपक की बनके”.

मई कुछ बोलने जेया रहा था उसने मुझे रोक के फिरसे बोलना स्टार्ट किया.

“कोई प्राब्लम नही होगा. तुम्हे जो लड़की पसंद है उसके साथ तुम सेक्स करो. हम रहेंगे हज़्बेंड-वाइफ की तरह लेकिन अपने अपने पार्ट्नर्स के साथ सेक्स करेंगे ओक. मैने तो दीपक को बुला भी लिया है वो आता ही होगा”.

ये सुनके मेरे होश उडद गये उसने अपने ब्फ को यहा बुलाया है. मतलब हुमारे सुहाग-रात पे वो अपने ब्फ के साथ एंजाय करेगी. ये सब सोच रहा था की इतने मे कॉलिंग बेल बजा.

साथी गयी दरवाज़ा खोलने फिर कुछ देर बाद एक बंदे को लेकर आई रूम मे. देखा की एक 6.5 फ्ट का ह्यूज हटता कटता बंदा आ रहा है. उसने अपना हाट बदाया हॅंड-शेक करने के लिए मैने भी बदाया.

“हिी मेरा नाम है दीपक.”

“ही मई साहिल.”

“थॅंक्स यार हुमारी परेशानी समझने के लिए, तुम्हे कोई प्राब्लम नही होगा डॉन’त वरी.”

फिर वाहा हम 3 कुछ देर बात करते है फिर दीपक ने साथी का हाट पाकर लिया और उसको अपने बाहों मे खीच लिया. फिर धीरे से उसके लिप्स पर एक किस किया साथी ने भी उसके बालों को सहलाना स्टार्ट किया और दोनो डीप-किस करने लगे.

ये सब मेरे सामने हो रहा था मेरे सामने एक बंदा मेरी बीवी के साथ सुहाग-रात माना रहा था. फिर दोनो ने धीरे धीरे एक दूसरे को अनड्रेस करना स्टार्ट किया.

मुझे ये सब का एक्सपीरियेन्स नही था इसीलिए मुझे लग रहा तट की मेरे सामने पॉर्न-फिल्म स्टार्ट हुवी है और मेरा लंड खरा हो गया था.

दीपक ने मेरी बीवी को पूरा नंगा कर दिया और खुद के भी अंडरवेर उतार दिया. वाह मेरी बीवी कितनी सेक्सी और हॉट लग रही थी. पर मई उसका पति वाहा बस उसको देख रहा था. फिर दीपक ने उसके बॉडी को चूमना स्टार्ट किया, साथी मोन करने लगी-

“उम्म्म दीपक तोड़ा धीरे प्लीज़ आअहह…”

दीपक उसके नेवेल को चूमे जेया रहा था और साथी पागल हो रही थी.

“आअहह ओ मी गोद दीपक तुम कितने नॉटी हो आआहह…”

फिर दीपक तोड़ा उपर जाके उसके मोटे मोटे बूब्स को दबाने लगा. एक हाते से दबा रहा था दूसरे को चूस रहा था और साथी पूरा लाल हो गयी थी आराम के मारे.

“आआआअहह…”

फिर वो दीपक के लंड को पकड़ के हॅंजब देना स्टार्ट कर दी. दीपक का लंड काफ़ी बड़ा था मुझसे और मोटा भी कुछ देर वैसे चलता रहा. फिर दीपक ने अपने लंड को उसके छूट के एंट्रेन्स पे रक्खा और साथी पागल हो गयी.

“आआआहह उम्म्म्मम…”

एक जोर्के झटके से उसने अपने लंड को अंदर घुसा दिया और साथी ने चिल्लाके उसको पकड़ लिया. फिर दीपक ने छोड़ना स्टार्ट किया धीरे धीरे से और मेरी बीवी मोन कर रही थी. और अपने नाख़ून से उसके पीठ पर निसान बना रही थी.

कुछ देर वैसे छोड़ने के बाद दीपक ने उसके दोनो पैरो को अपने शोल्डर्स पे लिया और ज़ोर से छोड़ने लगा. ये सब देख के मई रह नही पाया और अपने लंड को हाट मे लेकर मूठ मारने लगा. वाहा मेरी बीवी रंडी की तरह मोन कर रही थी.

“ह और ज़ोर से दीपक मेरी छूट को फाड़ दो ये सिर्फ़ तुम्हारा है आअहह…”

दीपक उसको इतनी ज़ोर से छोड़ रहा था की ठप ठप करके आवाज़ हो रहा था ज़ोर से. कुछ ही देर मे साथी का पानी निकल गया और वो चिल्लाई.

“आआहह…”

पर दीपक छोड़े ही जेया रहा था. यहा मूठ मारते मारते मेरा भी सॉस निकल गया. पर दीपक उसको छोड़े ही जा रहा था. ऑलमोस्ट 1 घंटा के बाद दीपक को देखा एग्ज़ाइटेड हो रहा है और अपनी स्पीड को बड़ा दिया.

फिर एक ज़ोर के ठप के साथ उसने मेरी बीवी के अंदर अपना सारा माल निकल दिया. फिर दोनो लेते रहे वाहा पर थोड़ी देर फिर कुछ देर बाद दीपक रीचार्ज हो गया और फिर से छोड़ना स्टार्ट कर दिया. ऐसे करके उस रात उसने 4/5 बार छोड़ा मेरी बीवी को.

उस दिन के बाद वो एक रुटीन सा बन गया. मई अकेला अपने फ्लॅट मे रहता था. शादी के बाद साथी आ गयी. मेरे पेरेंट्स दूसरे सिटी मे रहते थे इसीलिए उनको भनक भी नही पड़ा.

हुमारे फ्लॅट मे रेग्युलर दीपक आने-जाने लगा और दोनो सेक्स करते थे. ये एक नॉर्मल रुटीन बन गया. कभी मई ऑफीस से घर आकर देखता था की दोनो सेक्स कर रहे है.

पर ये सब के बावजुट साथी ने मेरे साथ कभी बॅड्ली बिहेव नही किया. सेक्स को चोरकर पत्नी का सारा धर्म निभाती थी. खाना बना ती थी मेरा पूरा ख़याल रखती थी. मेरे मा-बाप जब आते थे तब उनकी सेवा करती थी. उस वक़्त दीपक को माना कर देती थी आने के लिए.

हम अच्छे दोस्त बनकर रहने लगे. मई दिल-ही दिल मे उससे बोहोट प्यार करता था और जानता था की लड़की बुरी नही है. बस वो भी दीपक से बोहोट प्यार करती है.

कुछ महीने के बाद अचानक एक दिन घर आया और देखा साथी रो रही है मैने पूछा की क्या हुवा?

“वो चेआतेर निकला साहिल, दीपक एक नंबर का चेआतेर निकला. मुझे पता चला की उसने एक गफ़ बना लिया था मुझे चोर कर और अब उससे शादी करने जेया रहा है.”

मई तोड़ा हैरान हुवा पर अंदर ही अंदर मुझे डाउट था. की एक दिन ऐसा होने वाला है पर खामोश रहा वो बोलती रही…

“उसके लिए मैने तुम्हारे साथ कितना बुरा किया. शादी तुमसे की और सुहाग-रात उसके साथ मनाया च्ीईिइ… वॉट हॅव ई डन!” बोलके रोने लगी.

मैने उसको अपने बाहों से लगाया एक दोस्त की तरह. और वो मुझे पाकर कर रोने लगी. फिर कुछ देर बाद मेरे बाहों मे सो गयी. अगले दिन से वो तोड़ा दुखी रहने लगी. पर मई उसी खुस करने के लिए बोहोट कुछ करने लगा मूवीस, फुड्स… फिर एकदिन वो रोते रोते बोली-

“साहिल ई आम प्रेग्नेंट.”

मुझे तोड़ा ब्डा तो लगा क्यूंकी मई जानता था की वो दीपक का बाकचा है. लेकिन वो अब एक ही तरीका था उसी खुस करने का तो मैने कहा-

“वाउ इट’स ग्रेट न्यूज़.”

“क्या तुम्हे पता है ना ये तुम्हारा बच्चा नही है?”

“मुझे फ़र्क नही पड़ता ये तुम्हारा तो बच्चा है ना बस वही काफ़ी है.”

साथी रोने लगी और मुझे कस के पकड़ लिया और कहा-

“तुम कितने अच्छे हो साहिल, मैने तुम्हे पहचाना नही ई आम सो सॉरी.”

उसके बाद मंत्स बीतने लगे, मैने उसका ख़याल रक्खा उसने मुझसे एक बार पूछा-

“क्यूँ कर रहे हो मेरे लिए ये सब? मई तो इसके लायक ही नही हू जो मैने किया तुम्हारे साथ. तुम किसी और अच्छी लड़की से शादी कर लो और मुझे चोर दो.”

उस दिन मैने पहली बार अपनी बीवी से कहा-

“बिकॉज़ ई लोवे योउ.”

वो इतना रोने लगी मुझसे गाले लग कर.

फिर और कुछ महीने बीट गये साथी ने एक प्यारी बच्ची को जानम दिया. उसको देखते ही मुझमे बाप वाली फीलिंग्स आ गयी.

कुछ दिन हॉस्पिटल मे रहने के बाद साथी घर आई. हुमारे पेरेंट्स को यही पता था की बच्ची हुमारी है. अगले दिन मई बच्ची के साथ खेल रहा था के साथी आई गुस्से मे और बोली-

“दीपक आ रहा है, फोन किया था माफी माँग रहा था. बोला की उसके गफ़ ने उसी चोर दिया अब उसी ग़लती का एहसास हो रहा है.”

ये सुनके मई शॉक हुवा और लगा अब क्या मेरी बीवी और बच्ची दोनो चीन जाएँगे. कुछ देर बाद दीपक आया, अंदर आते ही उसने बच्ची की तरफ बादने ही लगा की साथी ने रोक लिया और कस के एक ठप्पर लगाया, और बोली-

“जस्ट गेट आउट योउ बस्टर्ड, ई आम आ मॅरीड वुमन तट’स मी हज़्बेंड आंड तट’स और किड. दुबारा मेरी तरफ आँख उठाके देखा या मेरे पति को नुकसान पहुँचने की कॉसिश की तो जुटे से मारूँगी, जस्ट गेट आउट!!”

दीपक रोने लगा फिर रोते रोते वाहा से चला गया, साथी मेरे पास आई और कही-

“ई आम सॉरी साहिल 1/2 साल के उपर हो गये हुमारी शादी को और उस दीपक के लिए मैने तुम्हारे साथ कितना ब्डा किया. हुमारी शादी पे उसके साथ सेक्स किया ई आम सो सॉरी… ई लोवे योउ साहिल प्लीज़ मुझे एक मौका दो, मई दुनिया की सबसे अच्छी पत्नी बनके दिखौँगी, ई लोवे योउ!”

ये सुनके मेरे आँखों से आनसून निकल गये और मैने ज़ोर्से उसी हग कर लिया. हम कस के एक दूसरे को पकड़े हुवे थे फिर उसने धीरे धीरे मुझे अनड्रेस कर दिया और खुद भी नंगी हो गयी.

मा कसम बच्चा होने के बाद तो वो और भी ज़्यादा सेक्सी हो गयी थी. फिर उसने नीचे जाकर मेरे लंड को मूह मे लिया और चूसने लगी. जिंदगी मे पहली बार अब मुझे इसका एक्सपीरियेन्स हो रहा था.

फिर थोड़ी देर चूसने के बाद वो मेरे उपर आ गयी और कॉवगिरल पोज़िशन मे ठप मारने लगी. कुछ देर बाद मैने उसको उल्टा कर दिया और ज़ोर ज़ोर से छोड़ने लगा.

मेरी बीवी अब सच मे मेरी बीवी बन गयी थी. वो प्यार से मेरे बालों को सहला रही थी और मई उसे छोड़ रहा था. फिर एक टाइम के बाद मैने अपना माल उसके अंदर दल दिया.

शादी के 1/2 साल बाद मैने अपनी वर्जिनिटी लूस की. उस दिन के बाद हम बोहोट गहरे प्यार मे पद गये. कुछ महीनो बाद वो फिर से प्रेग्नेंट हो गयी, इस बार मेरे बच्चे के साथ.

और 9 महीने बाद एक प्यारे बेटे को जानम दिया. अगले साल एक और बेटा हुवा हुमारा.

5 साल गुज़र गये है मई अब अपनी बीवी और टीन बच्चो के साथ ख़ुसी से रहता हू. और अब मुझे जो प्यार अपनी बीवी से मिलता है शायद ही किसी को मिलता होगा.

ये थी मेरी सच्ची स्टोरी की कैसे मुझे अपनी पत्नी का प्यार ..

यह कहानी भी पड़े  नशे के कारण आंटी चुद गई

आगे की कहानी अगले पार्ट मे जल्दी ही आएगी. ओर भी जवान भाभी लड़किया ओर आंटी को हॉट बाते करना ही तो आप मैल करे [email protected] आप की सारी डीटेल्स एक दम सीक्रेट रहेंगी उससे आप लोग बेफ़िक्र रहे.


error: Content is protected !!