मेरी मा की चुदाई के राज़

मेरे प्यारे पाठकों का स्वागत है, मेरी कहानी के चौथे भाग में कहानी के पहले 3 भागों को पढ़ना सुनिश्चित करें क्योंकि इसे वहीं से जारी रखा गया है। धन्यवाद, अब शुरू करते हैं…

फिर हमने अपने लिए एक बड़ी टैक्सी बुक की और अपने घर जाने की योजना बनाई क्योंकि अंकल घायल हो गए थे और मौसी की भी तबीयत ठीक नहीं थी। हम सब इस पर सहमत हो गए और टैक्सी के आने का इंतजार कर रहे थे तभी बस स्टॉप के पास भारी बारिश होने लगी और दुर्भाग्य से यह एक बंजर भूमि थी जिसके कारण हम खुद को ढंकने के लिए शेड नहीं लगा सकते थे।

तो हम सब आपके हाथ सिर के ऊपर रखे थे बारिश से बचने के लिए। तबी में देखा की मेरी छोटी बहन ने जब अपने हाथ ऊपर किए तो मुझे उसकी नबी दिक गई थी, मुझे शक हुआ, क्यों मेरी बहन हमशा ड्रेस के आला एक पाली टी-शर्ट पहनी है और कल रथ होटल में भी अभी भी कैसे नहीं थी?

बारिश और तेज हो गई और बहुत ठंड था मौसम तब भी मेरी बहन ने जोर से छींक किया और आला बेंड हुई, थबी मुझे उसके स्तन दिखे, स्पष्ट रूप से नहीं देखे पर जितने दिखें हमें से पता चल रहा था की उसने है और उतर दी जब वो सीधी कढ़ी हुई तो मुझे मानो जोर का शॉक लगा…

उसके निप्पलबाहुत कड़क हो गए थे और भीगे खापडो की वजह से मुझे उसका रंग भी दिख रहा था.. हल्के भूरे रंग के निपल्स थे, जो की भारत में बहुत दुर्लभ होते हैं…

मेरा लन्ड तुरत खड़ा हो गया और गलत से सामने खादी आंटी के गांड पे जोर से फकता मारा..

तबी आंटी बोली :: है रब्बा !! उफ्फ्फ….

मुजे जैसे हाय एहसास हुआ की लन्ड चाची को लगा: सॉरी आंटी वो गल्ती से, सॉरी

आंटी : कमीने रात बार मुजेरंडी की तरह तोडा है अब और क्या बाकी है? अब क्या हॉस्पिटल में ही डिलीवरी करेगा क्या मेरी ?

आंटी : चूत मेरी लाल हुई पड़ी है, 1 दिन का आराम दे चुतिये !! और गंड के नंगे में सोच ही मात उसके वजा से चल भी नहीं पा रही हूं… बोला था आराम से करने को पर तू सुना ही नहीं.. अगली बार तुझे देख लुंगी इतना जोर से किया तो..

माई : अब में आंटी को कैसे बोलता की इस बार उनकी हवा नहीं थी पर मेरी बहन की वजह से लन्ड सलामी दे रहा था..

मैं सोच ही रहा था की तब तक टैक्सी आ गई और हमने लगेज डाल कर बैठने लगे की पापा बोले लगेज ज्यादा है, इसलिय 3 लोगो को ऑटो में आना होगा। तो तय करें हुआ की में आंटी और मम्मी ऑटो में आएंगे क्योंकि उन बाजार से सब्जी भी खरीद रही थी।

तब जब मेरी बहन में बैठा रही द उनके पॉकेट में से 2 खापडे जैसा कुछ गिरा .. पर उसका ध्यान नहीं था और वो टैक्सी में बैठा कर निकल गई।

में वो कपडे उन्थाई और देखा

वो उसका रुमाल था, पर जरा मोटा लग रहा था तबी मम्मी ने मुझे बोला और कहा ऑटो मिल गया है जल्दी आ…

मैंने वो रूमाल अपनी पॉकेट में रखा और ऑटो में बैठा गया। तो आंटी, मम्मी सेंटर और में साइड में बैठे..

मुंबई ने ऑटो वाले को मार्केट की तरह से लेने को बोला, जैसे ऑटो मार्केट पहले वाला था, रोड खराब हो गई थी, एज़ बारिश की वजह से रोड पर पॉट होल हो गे थे। जिसके करन हम सब बहुत थे…

3 बार मेरी आंटी का लेफ्ट बूब मेरी मम्मी के हाथ पे लगा, और जैसे ही अगला खड़ा आया मम्मी ने धीरे से चाची के उल्लू को पक्का और हल्की आवाज में कहा, संबलो में भाभी..

मम्मी : धीरे से.. अपने कल रात ब्रा नहीं पहचान क्या? बहुत जुल रहे हैं आपके स्तन क्यों?

आंटी : पेहनी थी भाभी पर बस में खुजली हो रही थी, इसलिये निकल दी थी..

मैं मान में : गंता खुजली !! साली रंदी की चुत में खुजली मची थी..

मम्मी: अभी भी है क्या? क्रीम डू क्या आपको?

आंटी : नहीं नहीं, अभी ठीक है.. खेलते हुए हैं..

मुझे मम्मी की मासूम सालो पे दया आ रही थी..: जैसी मम्मी आंटी को क्रीम देती, और आंटी बीच ऑटो में ऑटोवाले के सामने अपना सलवार उठा कर अपने स्तन पे क्रीम लगाती..
तबी मम्मी को अच्छी सब्जी वाला दिखा और मम्मी ने ऑटो वाले को रोका बोला..

जब मम्मी सब्जी करीद रही थी तब वहा पर एक नंगा भिखारी था जिसे कुछ कपड़े नहीं पहनने थे वो मम्मी के हाथ लगा के पैसे मांग रहा था। नोट आला गिरी ओह जब वो आला जुकी तो उनका सलवार तोड़ा ऊपर हो गया, जिस से भिखारी को उनकी नंगा कमर और उनका गधा क्रैक दिख समलैंगिक, देखते ही भिकारी का लन्ड खड़ा हो गया और उसे मां के पेठ पर से हाथ घुमाया। को महसूस हुआ और उन्होनें भी को जोर से थप्पड़ किया..

मम्मी : बसाराम अकेली और को देखने गलता हाथ लगता है ?

तबी में और आंटी वहा पाहुचे…

मम्मी : रुक तुझे अभी सब सिखती हु

ये कहकर मम्मी भिखारी को पकाने के लिए उसका हाथ पकाड़ा, भिखारी मम्मी की पकाड़ से चुत गया और भाग ने लगा..

मम्मी ने सब्जी हमें दी और भिकारी की पेचे भाग ने लगी, हम भी उनके पीछे भागे लगे..

भिखारी आप चल में भाग गया और अचानक मम्मी के पिच आ गया..

मैं भिखारी : सुन.. में नहीं जनता की तू कोन है, मेरी बात मान, शांति से सब कुछ तय जाएगा वर्ना तू जनता नहीं है में तुझे, और अगर में साब के सामने हूं तो चूत मरने वाला में अकेला नहीं रहूँगा।

मम्मी (दारी सी): कोन हो तुम और क्या करना चाहते हो भाई साब?

भिकारी : तू पहले चल मेरे साथी

वो मम्मी को एक पब्लिक टॉयलेट में ले गया और कमोड के रूम लॉक कर दिया

और बोला :

भिकारी : देक साली, शांति से मेरी बात मान, मुजे बस एक अच्छा मुख-मैथुन और हैण्डजॉब दे मैं तुझे छोड़ दूंगा

मम्मी : लेकिन में शादी सूद…

मम्मी के मुह से शादी शुदा बोले से पहले उनके मुह में भिकारी का लन्ड था..

भिखारी जोर जोर से मम्मी का मुह छोड रहा था, मम्मी बेचारी अपना मुह खुला रखने के लिए कुछ कर नहीं सकती थी।

तबी मम्मी को उल्टा जैसा लगा और उसे भिकारी को इशारा किया, पर बेरहम भिकारी ने और जोर से अपनी गति बड़ी, मम्मी बहुत बुरी हाल में थी।

कभी भिखारी मां के स्तन को जोर से धबता तो कभी अपनी टैंगो से मां की चुत को रगड़ता है..

अब तो मां को भी भिकारी का लन्ड अपने पति के लन्ड से ज्यादा मजार लग रहा था मां अभी बड़े से भिखारी के लन्ड को कभी ऊपर से तो कभी अपने जीभ से रगड़ कर…

भिकारी: मैडम जी रुको रुको, आप मुझे इतना आनंद दे रही हो की खड़े रहना मुश्किल हो रहा है मुझे थोड़ा बैठने दो…

वो कमोड पे बैठा और अपना लन्ड से मां की गांड को जोर से मार्ने लगा.

माँ बोली : एक मिनट रुक भादवे अपनी बात काली ब्लोजोब की बात हुई थी.

भिकारी : तो तू भी तो गरम है आला से ? तेरी चुत फूल गई है मेरे लन्ड के बारे में सोच कर…

मम्मी: शर्माती हुई, अपना पायजामा आला खिचती है.

भिकारी : पुरा नल दो भाभी जी.

मम्मी: (अपने कोण तक ही आला पजामा राका) जितना मिल रहा है उतने में खुश रहे.

भिकारी मम्मी की गांड पे 4 – 6 थप्पड़ मारे और अपना लन्ड उनकी गांड में घुसने लगा.

मम्मी : अररम से कल ही थोड़ी है गांड.. चूत ही छोडो प्लीज..

भिखारी : तुझ से पुचा क्या मैंने ? ये बोले ही गांड में ही पुरा गुसा दिया..

मम्मी ने जोर से आह भरी और अपना सलवार ऊपर किया और ब्रा को भी ऊपर सरकार। तो उनके स्तन भिखारी के मुह पे लगे और वो सांस नहीं ले पा रहा था

भिखारी : इतने बड़े…!! बप्रे बहुत लोगो ने तेरी ली है जोरो से लगता है।

मम्मी : कमुकता से हमें भिखारी को देखते हुए बोली ): तू मुझे ऐसा मजा दे की मुजे किसी और की जरूरत ही ना हो

ये बोलकर मम्मी ने भिकारी ने मुह में अपने निपल्स दे दिए और ज़ोर से चीकी

मम्मी : ऊफ्फ्फ उउफ्फ्फ,,, हैइइइ….बहुउत्त्त….माअज्ज्जा….उफ्फ्फ्फ

भिक्षुक ये बोले ही भिकारी ने मां को भगवान में उठा कर जोर से लगने लगा

मम्मी: और तेज कुट्टे और तेज, जोर से मार अपनी भाभी की चुत को और तेज, दीखा दे मुझे की तेरे लन्ड में जो मजा है और किसी लन्ड में नहीं…। जोर से फोड दाल आज्जू

मम्मी के बढ़े मोटे स्तन और उनका मोटा पेट एक दसरे से चुदाई के वक्त जोर से तकरा रहे द प्योर टॉयलेट में फट… फट… फट की आवाज गुंजे रही थी

फ़िर भिकारी ने:

जी मैडम जी बोले हुई अपनी स्पीड बधाई फिर, मम्मी के नबी पर अपनी जीभ है चैटे लगा..

मम्मी : उफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ….!!!! क्या मजा आ रहा है

तबी भिकारी ने बोला मैडम जी होने वाला है जल्दी से हंडजोब करते हैं. मम्मी फिर जोर जोर से यूज हैण्डजॉब डेनी लगी, भिखारी ने जोर से गाल और अपने स्पर्म चोदने लगा..

मम्मी : शिया…इश्स्श्ह मेरे मुंन्ह पे मत मारो श्हिइ,,,इश्स्श्ह

भिकारी मां को अपने स्प्रेम ने निहला रहा था..

भिखारी का जब टैंक खाली हो गया था वो उठके टॉयलेट में से निकल गया.. और जाते वक्त बोला में ये तेरी ब्रा एक याद के तोर पे ले जा रहा हूं रंडी..

मम्मी अपने कपड़े पहनने लगी

तबी मम्मी को मेरी और मौसी की भाग ने आवाज आई तो मम्मी ने जल्दी अपने कपड़े उसी और अपना मुह दुपट्टा से पुछ लिया और बहार आई..

हम (में और आंटी) : क्या हुआ? में बोला था जाने दो उम फालतू में ही उसके पीछे भागने लगी

मम्मी: (कुछ नहीं बोले हुए आला देख रही थी)

हम : भाग गया ना वो ?

मम्मी: हां, मैं यहां फ्रेश होने आई थी..

हमें देखा की मम्मी के निपल्स खड़क हो गए और कपड़ों के ऊपर दिख रहे थे।

मम्मी : चलो घर चलते हैं.. ये बोले ही मम्मी चलती हैं..

में और आंटी भी चलेंगे तबी आंटी ने देखा की ये तो जेंट्स वॉशरूम है, और मुझे से कहा मम्मी जेंट्स वॉशरूम क्यों आई फ्रेश होने?

तबी हमने मम्मी का हाथ देखा मम्मी की उनग्लियो के कुछ कुछ साफ स्टिकी लिक्विड था?

आंटी ने करीब से देखा और मुझे लन्ड का इशारा किया और वो हम भिखारी का शुक्राणु था उनके हाथो पे

हम सब समाज गए… में बालों में था मम्मी कल ही बस में चुड़ी थी और आज भी…

ऑटो में हम कुछ नहीं बोले और में मम्मी को ऑटो वाले के मिरर से देख रहा था. मम्मी के बूब्स बहुत दोल रहे थे.. ऑटो वाले ने भी मम्मी के निपल्स डेकर अपना लन्ड सिद्ध किया. ऑटो घर पुछते ही हमने इस्तेमाल किए पैसे दिए, लेकिन वो बोला मैडम जी ये बहुत काम है।

मम्मी : भाई साहब बस स्टैंड पे ये दर तय हुआ था ना ?

ऑटो वाला: हा मैडम प्रति मार्केट में करीब करीब 1 घंटा लग गया, उसका इंतजार का पैसा देदो..

मम्मी : मेरे पास और पैसे नहीं है..

ऑटो वाला : मैडम जी तो तो पेमेंट किसी और तरह से किजिये ना… ये बोले हु उसे अपनी जिप खोली..

मैं और चाची समाज गए और चाची बोली रुको भाभी मेरे पास कुछ अतिरिक्त पैसे बच गए थे कल के डिनर के में दे देती हूं।

ऑटोवाले की सारी उम्दो पे पानी फेर दिया था आंटी ने… फ़िर हम उतरे और लिफ्ट में चढ़ते वक्त मुझे याद आया की मुझे वो रूमाल देखना है.. जो मेरी बहन के पॉकेट में था..

में कहा की आप दो जाओ में जार मेरे दोस्तो से दूधर आता हूं. में सीढ़ियों को पैसेज में गया और वो रूमाल निकला तो मुझे दसरा जोर का झटका लगा:

रुमाल के अंदर मेरी बहन की पैंटी थी !!!!

पैंटी कोलने पर चुत की तरफ देखा तो वहा स्पर्म था।

मुझे समाज ने में डर नहीं लगी की वो स्प्रेम और किसी का नहीं मेरे अंकल का है…

मैंने सोचा जब में उसकी बीवी की चूत और गांड चोद रहा था, तब ये मेरी बहन की चूत बर रहा था..

मुझे तब बहुत घुस्सा आया: पर फिर ये सोच के मजा भी आने लगा।

तबी मुझे एक विचार आया..

यह भाग 4 प्रिय सींग वाले पाठकों का अंत था। देखते रहिये मैं बहुत जल्द भाग 5 प्रकाशित करने का प्रयास करूँगा। अगर कोई प्रतिक्रिया है तो कृपया यहां एक मेल ड्रॉप करें।

यह कहानी भी पड़े  ट्रक ड्राईवर और क्लीनर ने माँ को चोदा

error: Content is protected !!