मेहंदी वाली लड़की की फिंगरिंग की कहानी

नमस्ते दोस्तों, मैं ड्के की नियमित पाठक हू. क्यूंकी मैने यहा बहुत सारी कहानियाँ और अनुभव देखे है. मैं अपना एक नया अनुभव आप लोगों के साथ सांझा करना चाहती हू. मेरी पहली कहानी पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद.

मेरा नाम निशा है, और मैं 32 साल की शादी-शुदा औरत, उप से हू. दो महीने पहले मेरे घर पे ननद की शादी पड़ी थी. मैं शादी की पहली संध्या पर अपना सेक्स अनुभव बताने जेया रही हू.

चुकी हमारे यहा शादी सुबा के समय थी, इसलिए मैं शादी की पूर्व संध्या पर ठीक से सो नही पाई. ऐसा इसलिए था, क्यूंकी मुझे मेहंदी लगाने के लिए खुद को तैयार करना था. दरअसल शादी वाले दिन और भी बहुत सारी शादियाँ थी, इसलिए मेहंदी लगाने वाली कोई मिल नही रही थी. सभी की बुकिंग पहले से ही थी.

मेरे लिए बहुत मुश्किल हो रही थी. तभी मेरी ननद ने अपनी मेहंदी वाली से कह कर बड़ी मुस्किल से मेरी बुकिंग कराई. एक लड़की शादी की पूर्व संध्या पर लगभग 8 बजे मेहंदी लगाने के लिए आई. उसका नाम शशि था. उसकी उमर लगभग 28 साल के बीच थी. वो सलवार-सूट में बहुत अची दिख रही थी.

क्यूंकी मैं कुछ ड्रेस चयन आदि में व्यस्त थी, मैं उस समय मेहंदी शुरू करने में सक्षम नही थी. इसलिए मैने उसका स्वागत किया, और उसके लिए रात के खाने की व्यवस्था की. फिर मैने उसे अपने कमरे में जाने का निर्देश दिया, और उससे इंतेज़ार करने का अनुरोध किया, की मैं 30 मिनिट्स में आ जौंगी.

फिर मैं अपने काम में व्यस्त हो गयी. जब मैने अपना रात का खाना खा लिया, तो देखा की रात के 10 बाज चुके थे, और सभी लोग सुबा जल्दी उठने के लिए सो गये थे. क्यूंकी दूसरे दिन शादी थी. असल में मैं ये भूल गयी थी की शशि मेरे कमरे में थी.

फिर जब मैं अपने कमरे में गयी, तो मैं वास्तव में आश्चर्यचकित हो गयी. मैने देखा की वो अपने मोबाइल में लेज़्बीयन पॉर्न देख रही थी, और मेरे बिस्तर पे लेट के सलवार के उपर से ही फिंगरिंग कर रही थी.

मेरी इस्तेमाल की हुई ब्रा जो मैने कपड़े ढोने के बाग में रखी थी, उसके एक हाथ में थी. उसका दाहिना हाथ उसकी सलवार के उपर था, और मेरी पनटी बिस्तर पर मेरी तस्वीर के पास पड़ी थी. मुझे बहुत गुस्सा आया, और मैने चिल्लाने के बारे में सोचा.

अचानक मुझे याद आया, की हमने उस लड़की को मेहंदी लगाने के लिए कितने मुस्किल से बुक किया था. इसलिए मैं चुप रही, और कमरे से बाहर चली गयी. मैं हॉल में गयी, और 10 मिनिट तक बैठी रही. फिर मैं अपने कमरे में गयी, और देखा की वाहा सब कुछ सामानया और व्यवस्थित था.

वो मेरे कमरे में कुर्सी पर बैठी थी, और उसने मुझसे पूछा: मेडम, क्या हम शुरू करे.

नैने जवाब दिया: बस रूको, मुझे फ्रेश हो कर आने दो.

फिर मैं आल्मिराह के पास गयी, और एक ¾ टाइट लेगैंग्स और एक ढीली त-शर्ट लेके मैं वॉशरूम चली गयी. जब मैने वॉशरूम का दरवाज़ा बंद किया, तो मैने दरवाज़े के पास एक छाया को घूमते देखा.

मैं समझ गयी थी, की वो शशि थी. वो दरवाज़े में घुसने की कोशिश कर रही थी. मैने उसके साथ खेलने का फैंसला किया. मैं टाय्लेट सीट पर बैठ गयी, और पेशाब करने लगी. ताकि वो पेशाब की आवाज़ सुन सके.

फिर मैं फ्रेश हुई, और ड्रेस बदल कर बाहर आ गयी. अब मैं बिना किसी इन्नर के टाइट ¾ लेगैंग्स और ढीली त-शर्ट में थी. मैं कुर्सी पर बैठ गयी, और वो काम शुरू करने के लिए ज़मीन पर बैठ गयी. सबसे पहले उसने मेरे पंजो और मेरे लेफ्ट पैर के खुले हिस्से तक मालिश की.

उसने कहा: मेडम आपके पैर और पंजे बहुत आचे है.

फिर उसने मेरे बाए पैर को अपनी गोद में रख लिया, और उस पर मेहंदी लगाने लगी. लगाते समय उसने मेरा पैर इधर-उधर किया तो मेरा पैर उसकी छूट पर लगने लगा, और मुझे तोड़ा गीला-गीला सा लगा.

मुझे अब उसका इरादा समझ में आ गया, और फिर मैने अपने पैरों से उसकी छूट को चूना शुरू कर दिया. बार-बार वो मेरे चेहरे और मेरे आंतरिक हिस्सो को देख रही थी. अचानक मुझे एहसास हुआ, की मेरी छूट का कुछ हिस्सा लेगैंग्स में से दिखाई दे रहा था, जिसे मैं आल्मिराह में लगे शीशे में सॉफ-सॉफ देख सकती थी.

अब वो तोड़ा आयेज आई, और मेरे पैर में डिज़ाइन शुरू कर दिया. अब मेरा पैर बिल्कुल उसकी छूट में था, और मुझे लगा की उसने अपनी सलवार के अंदर कोई इन्नर नही पहना था. फिर वो खड़ी हो गयी, और उसकी सलवार में छूट के पास कुछ गीला सा दिखाई दे रहा था. लेकिन उसने च्छुपाने या कुछ भी करने की ज़हमत नही की.

उसने मुझसे कहा: मेडम, हम हाथ से शुरू करेंगे. आप कृपया बिस्तर पर बैठ जाओ, और अपने पैर कुर्सी पर रखे, ताकि वो पंखे के नीचे रहे, और जल्दी सूख जाए.

मैं सहमत हो गयी, और मैं बिस्तर पर बैठ गयी, और अपना पैर कुर्सी पर रख दिया. वो मेरे हाथ में मेहंदी लगाने लगी, और मेरे बारे में पूछने लगी, मैं क्या काम करती हू वग़ैरा सब. मैने भी उसके बारे में पूछा. उसके पास दुल्हन के लिए काम करने का काफ़ी अनुभव था.

अचानक उसने कहा: मेडम, आपका पति एक भाग्या-शालि आदमी होगा.

मैने आश्चर्या से देखा और पूछा: आप ऐसा क्यूँ कह रही है?

बिना किसे हिचकिचाहट के उसने कहा: आपका शरीर बहुत अछा, मुलायम, और सेक्सी है मेडम. इसलिए जिसे भी ये मिल रहा है, वो बहुत भाग्या-शालि है.

मैं अपने शरीर के बारे में उसकी बातें सुन कर हैरान हो गयी, और थोड़ी शरारती भी हो गयी.

मैने कहा: आपने अपने करियर में बहुत सारी दुल्हने देखी होंगी. मैं कैसे दूसरो से अलग हू? और आप कैसे कह रही है की मैं सेक्सी और सॉफ्ट हू?

उसने बताया: मैने तुम्हारी ब्रा और पनटी को देखा. उनमे से बहुत अची खुश्बू आ रही थी. और जब आपने मुझे अपनी फोटो और अपने इस्तेमाल किए हुए इन्नर के साथ देखा, तो आपने मुझे नही दांता.

शशि: इसका मतलब ये है की आप भी उसका आनंद लेते हो. और आपने मुझे अपने पेशाब की आवाज़ सुनाई, और अपने पैरों से मेरी छूट के साथ खेला. इससे पता चलता है की आप बहुत शरारती हो. फिर जब मैने आपके पैरों और हाथो को च्छुआ, तो मुझे पता चला की आप बहुत नरम हो.

उसने ये सब कहा और मेरे बाए हाथ में मेहंदी लगाने का काम पूरा किया. ये सब सुन कर मैं वास्तव में उत्तेजित हो गयी.

फिर उसने मुझसे पूछा: मेडम, क्या हम दूसरे हाथ के लिए जाए? या आपकी कोई स्पेशल विश है? क्यूंकी आम तौर पर दाया हाथ ही सबसे आख़िर में पूरा होता है.

नैने पूछा: स्पेशल विश का क्या मतलब है? मुझे कोई स्पेशल विश नही चाहिएल.

लेकिन उसने मुझसे कहा: कुछ दुल्हने अपने पति को सर्प्राइज़ देबा चाहती है, इसलिए वो कुछ स्पेशल पूछती है. उसी तरह आपकी भी कोई रिक्वाइर्मेंट हो मेडम?

मैने फिरसे पूछा उससे: स्पेशल विश का क्या मतलब है?

उसने अपना फ़ोंस निकाला, और कुछ पिक्स खोल कर मुझे दिखाई. मैं उन पिक्स को देख कर हैरान हो गयी. कुछ पिक्स अर्ध नागन थी, और स्टअंन पर लिखा था “मुझे चूसो”. कुछ पिक्स में लिखा था “केवल तुम्हारे लिए”.

एक पिक में पेट के पास लिखा था “कामुकता के लिए नीचे देखो”. अगली पिक में “हनी पोत का रास्ता”, एक पिक में छूट के ठीक उपर “यहा काम करे”, दूसरी में “यहा छातो” लिखा था. एक में नीचे की तरफ निशान दिखाते हुए हनी पोत का उल्लेख किया था.

मैं उसके मोबाइल में वो पिक्स देख कर हैरान हो गयी, और उत्तेजित भी हो गयी. और मैने कभी सोचा भी नही था की ऐसा हो सकता था. फिर मैने उनसे पूछा-

मैं: सच में लोग ऐसा करते है? या आप बस कुछ पिक्स में फोटॉशप से बनाने का काम करती है?

उसने जवाब दिया: नही मेडम, ये सभी रियल पिक्स है, और ये सब मेरे द्वारा ही बनाई गयी है. अगर आप सर्प्राइज़ देना चाहती है तो करा सकती है. वरना इसे छ्चोढ़ भी सकते है. लेकिन आज कल लगभग सभी यही कर रहे है.

यह कहानी भी पड़े  होली पर गरम हुई दया और बबिता की चुदाई की


error: Content is protected !!