मा बेटे के बीच हो रहे सेक्स खेल की कहानी

ही मेरा नाम अमन है, आंड ये मेरी पहली स्टोरी है, जो एक साल पहले हुई थी. मेरी उमर 20 साल है, आंड मेरी मों की उमर 42 है. पर वो लगती 35 साल की है. उनका फिगर 36-30-38 है. वो काफ़ी मस्त दिखती है. फिगर ऐसा की कोई भी फिसल जाए उनपे. ये दूसरा पार्ट है मेरी स्टोरी का. तो स्टोरी शुरू करते है अब.

दे 4:-

फिर मैं वही लगभग 10 बजे के आस-पास उठा. उसके बाद आधे घंटे तक नहा धो के बाहर आ गया. फिर किचन में गया तो मों ब्रेकफास्ट बना रही थी.

मैने पूछा: नहा लिए?

तो वो बोली: नही. और रोज़-रोज़ मैं अपने कपड़े नही भूलती.

और वो हासणे लगी. मैं भी चुप हो गया. फिर उन्होने मुझे हग किया, और अपने बूब्स मेरी चेस्ट से दबाए, और मुझे धीरे-धीरे मेरे कान में बोली-

मम्मी: उससे ज़्यादा की सोच, जल्दी ही मिलेगा.

और फिर मुझे देविल स्माइल दी. उसके बाद हम ब्रेकफास्ट करने बैठ गये. दोनो एक-दूसरे को देखे जेया रहे थे. दोनो की आँखों में लस्ट अब दिखनी शुरू हो गयी थी. और मैं भी अब खुलने लगा था काफ़ी उनसे. फिर हमने ब्रेकफास्ट ख़तम किया, आंड उन्होने किचन का काम ख़तम किया.

उसके बाद वो अपने रूम में जाने लगी, और मुझे बोली: आज नही भूलूंगी कपड़े चिंता ना कर.

और हस्स के चली गयी. मैं भी फिर सोफे पे बैठ के अपने फोन में लग गया. काफ़ी देर हो गयी, एक घंटे से ज़्यादा ही, और मों आई नही. तो मैने सोचा इतनी देर तो नही लगती उनको नहा के बाहर आने में. शायद मैं अब उनको ज़्यादा देर बिना देखे नही रह रहा था. या उमीद कर रहा था की वो मुझे और ज़्यादा टीज़ करे अपनी हरकटो से.

फिर 1.5 अवर्स होने के बाद मैं उनके रूम की तरफ जाने लगा. मैने देखा वो अपने रूम में मिरर के आयेज खड़ी थी, और उन्होने सारी पहनी थी. उनका ब्लाउस काफ़ी डीप कट था, और उसमे उसे बाँधने के लिए डोरी थी. और मों इस सारी में एक-दूं माल लग रही थी. अगर मेरी बीवी होती तो अभी पकड़ लेता उसको.

मेरी सोच पूरी तरह से बदल रही थी उनको देख के. मैं देख रहा था गाते पे खड़ा होके, की वो अपनी ब्लाउस की डोरी बाँधने की कोशिश कर रही थी. पर उनसे बाँध नही रही थी. और ये सब मैं खड़ा होके देख रहा था बाहर गाते पे. मैं एग्ज़ाइटेड हो रहा था, की यार एक-दूं मस्त माल है, ऐसा सोच रहा था उनके बारे में. मैं अपने ख़यालों में था. तभी उनकी आवाज़ आई-

मम्मी: गाते पे खड़े-खड़े देखता रहेगा, या मेरी हेल्प भी करेगा?

मुझे लगा इन्हे कैसे पता की मैं गाते पे खड़ा था. पर मैं भूल गया था उनके सामने मिरर था, और मिरर से उन्होने मुझे देख लिया था.

फिर वो बोली: देख क्या रहा है? आके मेरी डोरी बाँध अब.

तो मैं अंदर गया, और उनके पीछे खड़ा हो गया. मैं देखने लगा उनको, तो वो बोली-

मम्मी: ऐसे क्या देख रहा है?

मैं बोला: तुम बोल रही थी ना की गफ़ नही है तेरी. सोच रहा हू तुम्हे बना ही लू अब गफ़.

और फिर मैने उनको पीछे से अपनी तरफ खींच के पीछे से हग कर लिया.

फिर मैं बोला: बनोगी मेरी गफ़?

तो वो शर्मा गयी. थोड़ी देर के बाद मैने फिर उनको छ्चोढ़ दिया, आंड उनके शोल्डर को पकड़ लिया धीरे से. और फिर धीरे-धीरे उनकी बॅक पे उंगली से नीचे गया, और उनकी कमर से खेलने लगा. इससे उनकी साँसे लंबी-लंबी होने लगी.

फिर थोड़ी देर खेलने के बाद मैने डोरी हाथो से ब्लाउस के दोनो साइड की, आंड उसको तोड़ा पीछे की तरफ खींचा. मैं अब सब कुछ भूल के उनकी बॅक से खेलने लगा था. वो भी यही चाह रही थी इतने दीनो से. फिर इसके बाद मैने डोरी बाँध दी, आंड पीछे से उनके कानो में बोला-

मैं: मेरी गफ़ बड़ी मस्त चीज़ है, मुझे तो आज पता चला.

फिर वो मेरी साइड मूडी, आंड मुझे देविल स्माइल दी. उसके बाद मुझे धक्का दे दिया. मेरा बॅलेन्स बिगड़ गया, तो मैं बेड पे उपर गिर गया कमर के बाल. और वो हस्स के भागती हुई रूम में भागने लगी आंड बोली-

मम्मी: इतनी आसानी से कुछ नही मिलेगा.

मैं समझ गया था की अब कुछ दीनो में क्या होगा हम दोनो के बीच में. फिर मैं भी बाहर आ गया. हमने लंच किया, उसके बाद अराउंड 4 बजे वो बोली-

मम्मी: चल मोविए देखते है.

मैं बोला: ठीक है.

तो उन्होने एक हॉलीवुड रोमॅंटिक मोविए लगा ली. मुझे पता था इसमे काफ़ी ज़्यादा किस्सस आंड एक लंबा बेड सीन था, क्यूंकी मैने ये मोविए देख रखी थी. और शायद हम दोनो भी काफ़ी खुल चुके थे अब एक-दूसरे के साथ पूरी तरह तो वो ऐसी मोविए चला रही थी.

फिर हम दोनो सोफे पे बैठे थे एक-दूसरे से चिपक के, आंड किस्सस सीन आए. मों सारी में ही थी, आंड साइड से मुझे अपने बूब्स टच कर रही थी. शायद ये सब अब नॉर्मल हो गया था हमारे बीच. अब मैने उनकी थाइ पे हाथ रखा हुआ था.

फिर वो बेड सीन आया तो वो उसको देख रही थी. वो लंबी-लंबी साँस लेनी लगी. शायद वो एग्ज़ाइटेड हो रही थी. मैं उनको देख रहा था. फिर मैने उनकी थाइ पे उपर से नीचे हाथ घूमना स्टार्ट कर दिया, और वो ज़्यादा एग्ज़ाइटेड हो गयी बेड सीन देख के. अब हम दोनो एक-दूसरे को अब लस्टी वे में देखने लगे थे.

अब बेड सीन ख़तम हो चुका था. हम दोनो एक-दूसरे को देखने लगे आंड मैने उनके हाथो की उंगलियों में अपने हाथो की उंगलियाँ डाल दी. शायद इस पॉइंट पे दोनो एग्ज़ाइटेड हो चुके थे. मैने देखा वो मेरे उपर आके बैठ गयी थी. मैं समझ गया था उसको अब गरम करना के टाइम आ गया था.

फिर मैने पीछे से उनकी कमर पकड़ ली, आंड दोनो हरकते करने लगे. अब वो मेरी गोद में थी, आंड उसपे आयेज-पीछे होने लगी, और मुझे टीज़ करने लगी. इस वजह से मेरा लंड खड़ा होने लगा था. शायद वो इसको समझ गयी थी.

फिर मैने भी पीछे हाथ से उसकी आस दबा दी, आंड उसकी डोरी फिर खोल दी, और उसको उसकी बॅक पे टीज़ करने लगा. वो गरम तो हो चुकी थी, पर मैं जल्दी में नही था. फिर ऐसे ही चीज़े चलती रही. मैने उसकी डोरी बाँध दी, आंड वो उठ के भाग गयी.

फिर मैं बोला उनको: मुझे लगता है अब तुम मुझे खुद ही सब कुछ डोगी.

और हम दोनो हासणे लगे. फिर हमने छाई पी आंड देन मों ने सारी बदल के वही लोवर त-शर्ट पहन लिया था. उसके बाद डिन्नर दिया. उससे पहले वही टीज़िंग हगिंग वग़ैरा की हरकते अब दोनो साइड से स्टार्ट हो चुकी थी. फिर डिन्नर करते हुए आज मों ने टच किया मुझे अपने पैरों से.

थोरी देर बाद उसने एक पैर मेरी एक थाइ पे रख दिया, आंड उससे मेरे लंड को बाहर से पैर से टच किया. मैं समझ गया की ये मछली अब ज़्यादा दिन नही फड़फदा पाएगी. फिर मैने उसके इस पैर को पकड़ लिया और लोवर को उपर की तरफ करने लगा. वो हरकत कर रही थी, तो मैने भी करनी स्टार्ट कर दी थी.

फिर मैने खुद उसके पैर को अपने लंड पे टच करवाया बाहर से, और फिर थोड़ी देर बाद उसने पैर हटा लिया. मैं फिर अपने रूम में आ गया, और ये सब आज जो हुआ सोचने लगा था. मैं सोच चुका था, की अब इसकी लेनी ही है. शायद वो भी यही सोच रही होंगी. फिर मैं मूठ मार कर सो गया.

दे 5:-

मैं फिर उठा वही 10 बजे. आधे घंटे में नहा धो के मैं बाहर गया तो देखा ब्रेकफास्ट बन चुका था. मैने जाके मों को पीछे से हग कर लिया, और फिर वही दोनो साइड से टीज़िंग की हरकते होने लगी. फिर हमने ब्रेकफास्ट किया, आंड मैं बोला-

मैं: आज क्या मिलेगा मुझे मेरी घर की गफ़ से?

तो मों बोली: क्या चाहिए तुझे?

मैं बोला: वो तो मैं ले लूँगा जो मुझे अब तुमसे लेना होगा. कब तक बच लॉगी मेरे हाथो से?

और मैने उनको खींचते हुए अपनी तरफ मोड़ा. अब वो समझ गयी थी की वो नही बचने वाली थी ज़्यादा दिन. फिर वो नहाने गयी आंड वो लोवर आंड त-शर्ट पहन के आ गये. वही टीज़िंग चली रही थी. लंच बन रहा था. मैं किचन में गया, आंड उनको देख रहा था, और सोच रहा था की ग़ज़ब का मज़ा देगी ये जब भी बेड पे मिलेगी.

मैं बस अब उन्हे ठोकने की सोच रहा था. मेरी आग तो इतनी हड्द तक बढ़ गयी थी. फिर मैं गया उनके पास किचन में, और उनको खींच के अपनी तरफ कर लिया.

तो वो बोली: क्या चाहिए तुझे अब (शर्मा के)?

मैं बोला: जो मुझे चाहिए तुम डोगी?

वो शर्मा गयी आंड अपना मूह नीचे कर लिया.

वो बोली: हा.

मैं बोला: तुम पहले दिन से यही चाह रही हो मैं जानता हू.

वो बोली: आज वो करते है जो पिछले 4 दिन में नही हुआ.

फिर मैने भी सबर नही किया, और उनको टाइट से होल्ड करके उनके होंठो पे होंठ रख दिए. अब हमारी किस्सिंग स्टार्ट हो गयी. मैं उनके होंठो को चूसने लगा. कभी नीचे वेल होंठ को, कभी उपर वेल होंठ को. वो फुल सपोर्ट देने लगी मुझे.

5-10 मिनिट्स तक उनके होंठ चूज़ उनके. मैने फिर उनको पीछे मोड़ दिया और स्लॅब से टच करके उनकी आस को दबाने लगा. वो अब गरम होने लगी. चाहता तो अभी बेड पे ले-जेया सकता था. पर मुझे इतनी जल्दी नही थी. जानता था ये माल मेरा ही था अब जिसे जल्दी ही आराम से निचोढ़ दूँगा मैं.

फिर आस दबाते-दबाते नेक पे किस करने लगा. बालों को आयेज की तरफ करके पहली बार मैने त-शर्ट के अंदर हाथ डाला. मैने पीछे ब्रा के नीचे अपनी दो उंगलियाँ डाल दी. उसकी साँसे लंबी हो चुकी थी. वो समझ गयी थी की मैं नही रुकने वाला था अब.

फिर मैने अंदर से ही ब्रा की स्ट्रॅप को पीछे की तरफ खींच के छ्चोढ़ दिया. मैं अलग ही लेवेल पे था. अब लग ही नही रहा था ये मैं अपनी मों के साथ कर रहा था. फिर मैने बूब्स दबाना स्टार्ट किया पहली बार. काफ़ी आचे से दबाने के बाद मैं रुक गया. कुछ सेकेंड्स के लिए तो उन्हे लगा मैं बस अभी इतना ही करूँगा.

पर वो कुछ सोचती उससे पहले मैने उनकी त-शर्ट उतार दी, और उन्हे सीधा कर दिया. वो शर्मा के अपने हाथो से अपने बूब्स च्छुपाने लगी. मेरी मों मेरे सामने अब ब्रा में थी. क्या लग रही थी वो. दिल कर रहा था अभी पकड़ के छोड़ डू उसको.

पर फिर मैने बोला: अब क्यूँ श्रमा रही हू मुझसे?

फिर उन्होने मेरे हाथ हटा दिए बूब्स से. मैने देखा एक-दूं मस्त बॉडी थी टाइट. फिर मैने आचे से बूब्स दबाए उपर से उनके, और किस की दोबारा. मैने नेक पे एक छ्होटी सी लोवे बीते डेडी. वो थोड़ी चिल्ला सी गयी. पर फिर वो भाग गयी. थोड़ी देर बाद मैने पूछा-

मैं: लोवे बीते पसंद आई?

तो वो बोली: हा.

फिर शाम के टाइम हम बैठे हुए थे. हम दोनो के बीच कोई शरम तो थी नही, तो दोनो सोफे पे बैठे थे, और छाई पी रहे थे. बस में उनकी छाई ख़तम होने की वेट कर रहा था. शायद वो भी ये जानती थी, तो जान-बूझ कर टीज़ कर रही थी मुझे.

फिर जैसे ही उन्होने कप नीचे रखा, मैने उनको खींच के अपने उपर बिता लिया, और किस स्टार्ट कर दी. फिर आचे से उनके दोनो होंठ चूसने के बाद उनकी आस दबाई. वो भी फुल आयेज-पीछे होके मेरे लंड को टीज़ कर रही थी. लंड भी अब खड़ा हो रहा था.

देन मैने त-शर्ट उतार दी, और वही बॅक से खेलना ब्रा से खेलना स्टार्ट किया. अब मैं बूब्स दबा रहा था. मैने बूब्स पे ब्रा के उपर से अपना मूह लगाया, और मज़े ले रहा था. उसकी तेज़ साँसे मुझे फील हो रही थी. फिर उनको उल्टा मोड़ के बिता दिया अपने उपर, और उसकी बॅक पे किस देने लगा, और जीभ लगा के खेलने लगा. शायद वो सिसकियाँ लेना स्टार्ट कर चुकी थी.

कभी बूब्स दबाना,

कभी ब्रा से खेलना, कभी होंठो को आचे से चूसना, उसके जिस्म को चूसना चल रहा था. फिर मैने उसको साइड में बेड पे लिटा दिया, और उसके उपर आके उसको किस करने लगा. अब मों को लगा की वो यही चूड़ने वाली थी. पर मैं सिर्फ़ अभी उनके जिस्म से अची तरह खेलना चाह रहा था.

फिर मैं उनकी नेक वग़ैरा को चूसने लगा. मेरा पूरा लंड खड़ा हो चुका था, और उसको उसकी थाइ पे चुभ रहा था. फिर मैने पीछे से आयेज की तरफ लाना स्टार्ट किया हाथो को अपने. मैने एक पूरा हाथ ब्रा में डाल दिया था, और अंदर उसके बूब्स दबाने लगा और चूसने लगा.

उनको लग रहा था अब मैं उनकी ब्रा खोलने वाला था, पर मैं खोलने के मूड में नही था. फिर अची तरह से सब करने के बाद मैने उसको उठाया, और उसकी ब्रा का पीछे से हुक खोला. और तभी वापस बंद कर दिया. फिर मैं चला गया वाहा से.

उसके बाद मों ने त-शर्ट पहनी अपनी और चली गयी. मैं अपने रूम में चला गया. उनको लग रहा था आज रात को मैं उनकी पक्का लूँगा अब. फिर रात को डिन्नर किया और वो फिर टचिंग करना पैरों को. उन्होने उपर से खुद अपनी त-शर्ट उतार दी. उनको लगा की मैं वही से रूम में ले जौंगा.

मैने एक किस करी आचे से, और फिर उनके हाथ से अपने लंड को टच करवाया बाहर से. फिर मैं अपने रूम में आ गया. वो समझ गयी थी. वैसे मैं चाहता तो आज रात ले सकता था आचे से. पर मैं उनको जलना चाहता था आज की रात को. वो अपने रूम में ज़रूर तदपि होंगी. देन मैं सो गया अपने रूम में. आयेज की स्टोरी नेक्स्ट पार्ट में.

यह कहानी भी पड़े  स्टोरी जिसमे मा की चूत की गर्मी बेटे ने बुझाई


error: Content is protected !!