कजिन को लंड चूसते हुए पकड़ा

मैं अभी 25 साला का हूँ और ये बात उन दिनों की हैं जब मैं अपनी फार्मसी की पढाई ख़त्म कर चूका था. मेरे मोम डेड वैसे यूरोप में रहते हैं और उन्होंने मुझे यहाँ एनआरआई सिट पर एडमिट करवाया था. मैं रिजल्ट के पहले यूरोप वापस जानेवाला नहीं था. आंटी के घर में आंटी और अंकल के सिवा उनकी एक बेटी थी. उसका नाम पूजा हैं. मैं पुरे वेकेशन के लिए यही पर रहनेवाला था.

आंटी की बेटी पूजा मेरे से दो साल छोटी थी. तब वो 12 साइंस की पढ़ाई कम्प्लीट कर के रिजल्ट की वेट कर रही थी. उसका फिगर 32 28 24 जितना था. एक दिन मैं, अंकल, आंटी और पूजा सब लोग टीवी देख रहे थे. तभी अंकल का एक कॉल आया और तभी पता चला की बड़े दादा जी की हार्ट अटेक में मौत हो चुकी थी. तभी अंकल और आंटी जल्दी से गाँव जाने के लिए निकल पड़े. और करीब 4 बजे शाम की उनकी बस थी. वो लोग निकले और मैं ही अंकल की कार में उन दोनों को बस स्टेंड छोड़ने के लिए गया था.

अंकल और आंटी को बस में बिठा के मैं वापस घर निकल गया. घर पहुंचा तो डोर थोडा खुला हुआ था और पूजा किसी के साथ फोन पर बात कर रही थी. मैंने छिप कर सुना की वो किसी लड़के से बाते कर रही थी. फिर थोडा थोडा सुनाई भी पड़ा लेकिन बात उतनी क्लियर नहीं आ रही थी समझ में मुझे. वो लोग सेक्स करने के बारे में कुछ बातें कर रहे थे जिसे सुन के मेरा लंड भी खड़ा हो गया.

मैं वापस बाहर चला गया और जैसे दरवाजा बंद हो वैसे उसके ऊपर नोक करने लगा. पूजा ने कॉल रख दिया और वो दरवाजा खोलने के लिए आई. फिर मेरे मन में तो उनकी बातें ही चल रही थी. मैं अब तक कभी पूजा को गलत नजर से नहीं देखा था. पर उसने आज जो नाईट ड्रेस पहन रखी थी उसके अन्दर उसके निपल्स का आकार बन रहा था और उसे देख के मेरे मन में खोट सी आ गई. और मैं पूजा को चोदना चाहता था.

यह कहानी भी पड़े  रसीली सालियां की चुदाई कहानिया

फिर मैंने प्लान करना चालु किया की कैसे उसे जाल में फंसा के चोदा जाए. एक दिन मैं अपने फ्रेंड के घर से वापस आया तो देखा की पूजा किसी लड़के के साथ घर में थी और घर का मेन डोर बंद था. मैंने पीछे की साइड से जा के देखा तो पूजा उस लड़के के साथ कमरे में पूरी नंगी थी और वो लड़के के लंड को पूजा ने अपने मुहं में लिया हुआ था.

वो लड़का पूजा की एज का ही था. मैंने चुपके से अपना मोबाइल निकाला और फिर दोनों के ब्लोव्जोब की रिकोर्डिंग कर ली. उसके अन्दर पूजा साफ़ साफ़ लंड चूसते हुए देखी जा सकती थी. फिर मैंने मोबाइल को जेब में रख दिया और दरवाजे के ऊपर जोर से लात मारी. वो लड़का और पूजा दोनों एकदम से घबरा गए. वो दोनों ने फट से कपडे पहने. पूजा ने दरवाजा खोला और मुझे देख के बोली, भाई आप!

मैंने कहा, हां मैं तेरे गुलछर्रे देख चूका हूँ इसलिए कोई नाटक मत करना.

वो लड़का वही पर खड़ा हुआ था. मैंने घर में घुस के उसके गिरेबान को पकड़ के चार कस कस के तमाचे लगाए उसे. वो रोने लगा. मैंने कहा, साले हरामी बड़े घर की लड़की को पैसे के लिए फंसाता हैं मादरचोद, रुक अभी मेरे अंकल को कॉल कर के तेरी गांड में डंडा घुसेडवा देता हूँ.

अब पूजा भी रो रही थी. वो बोली, प्लीज भाई जाने दो ना.

मैंने कहा, साली रंडी तू चुप कर अन्दर कमरे में लंड चूस रही थी उसका सबूत हैं मेरे पास.

यह कहानी भी पड़े  Chachi ke badan ka Maza

फिर वो लड़के को मैंने और मारा. फिर उसे बगल के कमरे में ले गया. कमरे के दरवाजे को बंद कर के मैंने उसे फिर से हूल दी. वो कांप रहा था पुलिस, केस वगेरह सब मेरे मुहं से सुन के.

मैंने उसे एंड में कहा की देख इस सब झमेले और आफत से बचना चाहता हैं तो पूजा से कभी भी बात मत करना. वो इतना घबराया हुआ था की मुझे बोला, भाई मैं पूजा को आज के बाद देखूंगा भी नहीं.

मैंने कहा साले पूजा के इधर उधर भी दिखा तो अंकल गांड में गोली मारेंगे और मुहं में लंड दे देंगे तेरे.

वो लड़का वहाँ से भागा और मैं जानता था की वो अब नहीं आएगा, कम से कम कुछ समय के लिए.

मैं वापस पूजा वाले कमरे में गया तो वो खड़ी हुई थी. मुझे देख के वो बोली, भाई आई एम सोरी, प्लीज़ पापा को मत बताना.

मैंने कहा, साली घर में हम नहीं हैं जो पराये लडको के लंड चुस्ती हैं रंडी.

वो मेरी बात समझी नहीं. मैंने उसे अपने मोबाइल में उसका ब्लोव्जोब क्लिप दिखाया और उसको कहा, इसका लंड मेरे से ना बड़ा हैं ना मोटा, तूने मुझे एक बार कहा होता तो मैं तेरी बुर को खुश कर देता.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!