कॉलेज की लड़की पर एमोशनल अत्याचार

तो कैसे हो गाइस! मेरा नामे अनिकेत है. मैं कोलकाता से हू. मैं 20 साल का हू, और मेरी हाइट 5’7″ है. दिखने में आवारगे हू, कलर गोरा है. मेरे लंड का साइज़ 7 इंच से तोड़ा बड़ा है, और मेरा लंड अछा ख़ासा मोटा है.

आज मैं अपने लाइफ की एक सॅकी घटना बताने जेया रहा हू. कैसे मैने अपनी कॉलेज की एक लड़की की सील तोड़ी और धक्कम पेल छोड़ा. ये कहानी 3 महीने पहले की है. मैं पंजाब में पढ़ाई करता हू, छुट्टी में घर आया था. फिर एक बार मैं अपने कॉलेज गया टीचर्स और जूनियर्स से मिलने गया. मुझे कॉलेज में सभी पसंद करते थे. कॉलेज में जाने पर मेरी टक्कर एक लड़की से हुई.

उसका नाम दिया था. वो 2न्ड में पढ़ती थी, और उसकी आगे 19 थी. उसकी हाइट में मुझसे छ्होटी थी. उसकी हाइट 4’9″ थी. वो मेरे कंधे तक आती थी. वो दिखने में बहुत प्यारी थी. थोड़ी पतली थी वो, और बूब्स और गांद इतने बड़े नही थे. पर उसके छ्होटे चूचे फिर भी चूसने का मॅन करता था.

हम एक-दूसरे को जानते थे, क्यूंकी उसकी क्लास में मेरी कज़िन पढ़ती थी. हम Wहत्साप्प पे भी बात करते थे नॉर्मली. मैने उसे बहुत दीनो बाद देखा था. मुझे वो बहुत प्यारी लगी. मॅन कर रहा था गफ़ बना लू उसे. मैं फिर उससे बात करने लगा कॉलेज, एग्ज़ॅम, घर का हाल वग़ैरा-वग़ैरा.

मुझे बाद में पता चला उसका ब्फ भी था. लेकिन ये सुन कर मेरे को बुरा लगा. पर ये मेरे लिए कोई नयी बात नही थी. कॉलेज में टीचर्स से मिलने के बाद, मैं घर आ रहा था. उसकी भी छुट्टी हो गयी, तो मैने उससे बोला की मैं उसको बिके पे छ्चोढ़ दूँगा.

उसने माना किया पर मेरे 2-3 बार बोलने से वो मान गयी. और वो मेरी बिके पर बैठ गयी. फिर मैं घर के तरफ निकल पड़ा. उसके ब्फ होने से मेरा पत्ता तो काट गया. पर कुछ दिन बाद से उसने साद स्टेटस लगाने शुरू किए, निब्बीयों की तरह. मैने पूछा की क्या हुआ, तो उसने कहा की उसका ब्रेकप हो गया था. बुत मैं इससे खुश था.

मैने कॉल करके उससे बात की तो उसने कहा की, उस लड़के को बाहर पढ़ने जाना था, इसलिए वो ब्रेकप कर रहा था. वो रोए जेया रही थी. मेरे दिमाग़ में एक आइडिया आया की उसके दुखी होने का फ़ायदा उठाया जाए.

बीच में एक दिन मैं उसे घर छ्चोढ़ रहा था. तभी एक आइडिया आया. मैने अपने एक दोस्त को सब इंतेज़ां करने को बोला. हम उसके घर के आयेज रुक गये.

दिया ने पूछा: यहा क्यूँ रुक गये?

मैने बोला: बस एक फाइल लेनी है, फिर चलते है.

हम उसके घर पे आ गये, क्यूंकी मेरे पास भी चाबी थी. मैने उसे 2 घंटे के लिए बाहर जाने को बोला था. हम अंदर आ गये फिर.

मैने उस दोस्त को कॉल करके थॅंक्स बोला.

मेरे दोस्त ( बिजोय ) ने कहा: कोई ना, मौज कर.

दिया ने पूछा: क्या हुआ, फाइल लेलो और चलो.

मैने कहा: फाइल कहा है, मुझे नही पता. उसके आने का वेट करना पड़ेगा.

मैने उसे बैठने को बोला. वैसे भी उसके कॉलेज की छुट्टी 1 घंटे पहले हो गयी. फिर मैने गाना चला दिया, और फिर दिया से बातें करने लगा. स्पेशली उसके एक्स के बारे में. थोड़ी देर बात करने के बाद वो एमोशनल हो गयी. इसलिए मैने उसे हग कर लिया.

दिया का शरीर बहुत सॉफ्ट था, और उसको ऐसे पकड़ने में मुझे अछा लग रहा था. पर वो और रोने लगी. मैं अपने हाथो से उसके आँसू पोंछ रहा था. मैने अपना चेहरा उसके मूह के पास ला कर बोला-

मैं: रोते हुए अची नही लगती. हस्स ले.

फिर मैने उसके चेहरे को अपने हाथो से पकड़ा, और फूक मारते हुए सताने लगा. फिर मैं उसे गुदगुदी करने लगा. वो हासणे लगी. हमे होश नही था, और हम और करीब आ गये. और फिर मैने उसे किस कर लिया.

मैने उसके गालों को पकड़ कर किस करना चालू रखा. वो छ्छूटने की कोशिश कर रही थी, पर फिर वो भी साथ देने लगी. मैं किस करते हुए एक हाथ से उसके चूचे दबाने लगा. उसने छ्छूटने की कोशिश की, पर फिर उसने अपनी कोशिश छ्चोढ़ दी.

हमने 10 मिनिट्स के करीब किस किया. वो मुझे माना करने लगी, पर मैं नही माना. कुछ देर करने के बाद वो भी गरम हो गयी. फिर वो भी मेरा साथ दे रही थी.

मैने उसे किस करते-करते गोद में उठा लिया, और बेडरूम तक लेके गया. फिर उसे बेड पे उतार दिया. मैं उसके उपर टूट पड़ा, और उसे यहा-वाहा किस करने लगा. उसे भी ये अछा लगा. वो भी मुझे किस करने लगी.

फिर मैं उसके छ्होटे बूब्स को उसकी शर्ट के उपर से दबाने लगा ज़ोरो से. वो बिन पानी की मछली के तरह तिलमिला रही थी. ये उसके लिए पहली बार था.

मैने उससे पूछा: क्या तुम्हारे लिए पहली बार है?

दिया ने कहा: हा, मैं अभी भी वर्जिन हू. मेरे एक्स के साथ मैने सिर्फ़ किस किया है.

मेरी तो मानो लॉटरी लग गयी. मैने उसकी शर्ट उतार दी, और स्कर्ट भी उतार दी. अब वो सिर्फ़ सफेद ब्रा और पनटी में थी. क्या सेक्सी लग रही थी वो. मेरा लंड उसको ऐसे देख कर लोहे जैसा सख़्त हो गया.

उसे बहुत शरम आ रही थी, और उसने अपने हाथो से अपनी चूचियाँ धक ली थी. पर मैं उसके हाथो को हटा के, अपने हाथो से उसकी चूचियाँ दबाने लगा, और उसे किस करने लगा.

फिर मैने अपने कपड़े भी उतार दिए, और अंडरवेर में आ गया. मेरे अंडरवेर में मेरा बड़ा लंड देख कर वो थोड़ी दर्र गयी. फिर मैने उसकी ब्रा का हुक पीछे से खोला, और ब्रा उतार फेंकी.

सामने का नज़ारा देखने लायक था. छ्होटे निपल्स, छ्होटी-छ्होटी चूचियाँ. मैं ये सब देख के पागल हो रहा था. मैं उसपे टूट पड़ा, और उसके बूब्स चूस रहा था. एक चूची मैं चूस रहा था, और एक ज़ोरो से दबा रहा था. इन सब से उसकी हालत खराब हो रही थी. पर मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था.

थोड़ी देर ऐसा चलता रहा. फिर उसे भी मज़ा आने लगा, और वो सिसकारियाँ ले रही थी. फिर मैं उसके बूब्स में किस करते-करते नीचे आ रहा था. मैं उसकी नाभि को चाट और चूम रहा था.

फिर मैं उसके पनटी तक आया, और उसकी पनटी उतार दी. सामने का नज़ारा बहुत खूबसूरत था. उसकी छूट के उपर हल्के बाल थे. छूट एक-दूं सील पॅक थी.

उसकी चूत को देख कर ही कहा जेया सकता था, की वो एक वर्जिन थी. पर ज़्यादा देर तक रहेगी नही. क्यूंकी मेरा ये लंड उसकी छूट की सील तोड़ने को मचल रहा था.

यह कहानी भी पड़े  हुस्न का जलवा दिखा कर बेहन चुदी भाई से


error: Content is protected !!