स्लीपर बस में सेक्सी मामी को चोदा

हाई दोस्तों आज से कुछ समय पहले की बात हे ये जिसे मैंने अपनी सेक्स कहानी के स्वरूप में आप लोगों के लिए सबमिट किया हे. ये बात उस समय की हे जब जून महीने की जोरदार बारिश हो रही थी और मुझे अपनी ऑफिस के काम से बंगलौर जाना था. दोस्तों आगे कहानी में डीप उतरने से पहले मैं आप को अपनी सेक्सी मामी के बारें में बता दूँ.

मेरी मामी सांवले रंग की हे और उसका फिगर एकदम सुडोल हे. गाँव की होने की वजह से उसकी बॉडी टाईट हे महनत की वजह से. उसके बूब्स 38 इंच के और गांड 40 की हे. कोई उसे देख ले तो मुठ मारे बगैर नहीं रह सकता हे..

बात उस दिन की हे जब मुझे ऑफिस के काम से बंगलौर जाना था. तो एस यूजवल मैं टिकट चेक कर रहा था. तभी मेरी मामी का फोन आ गया. वो कहने लगी की वो भी मेरे साथ बंगलौर चलना चाहती हे किसी दोस्त से मिलने के लिए. मैंने तुरंत हां बोल दिया मामी को और मामी को टिकट भी करवा ली उसी स्लीपर बस के अन्दर.

जब हम दोनों बस में चढ़े तब तक तो मेरे मन में मामी के लिए कोई भी गलत ख्याल नहीं था. फिर ऐसे ही इधर उहर की बातें हम करने लगे और करीब रात के 12 बजे पता चला की साला हमने तो बातो बातो में काफी घंटे निकाल दिए थे. अब सोने का समय हुआ. मैं और मामी एक ही दिशा में सो गया. क्यूंकि बारिश का मौसम था इसलिए चलती हुई बस में ठंडी का भी अहसास हो रहा था हम दोनों को.

थोड़ी देर के बाद मुझे ऐसा लगा की मेरे लंड के ऊपर कुछ हल्का हल्का सा टच हो रहा था. मैंने देखा तो हिलती हुई बस की वजह से मामी की गांड मेरे लंड से टकराती थी और दूर होती थी. मैं मामी को गांड को देख के एकदम से विचलित हो उठा और मेरे लंड में ताजगी और ऊर्जा का निर्माण होने लगा! मेरा 6 इंच का लंड मेरी पेंट के अन्दर तम्बू बनाता हुआ खड़ा हो गया. मुझे डर तो लग रहा था की कही मामी जग ना जाए. पर थोड़ी हिम्मत कर के मैंने उसकी कमर में हाथ डाल दिया और उसकी गांड में अपना कडक लंड चिभा दिया साडी के ऊपर से ही.

यह कहानी भी पड़े  Savita Chachi Aur Pados Ki Chudasi Auntiyan- Part 2

जब मैंने देखा की मामी एकदम गहरी नींद में सो रही हे तो मैंने थोड़ी हिम्मत और की. और उसकी साडी को धीरे धीरे से ऊपर की तरफ सरकाया. वो गाँव में रहने की वजह से ब्रा पेंटी नहीं पहनती थी. मुझे मामी की झांट के जैसा फिल हो रहा था. फिर थोड़ी देर लंड चुभा रखा और उसके ब्लाउज के बटन भी खोल दिए मैंने. स्लीपर के डोर को मैंने बंद कर दिया, अचानक ही वहां मेरी नजर पड़ी थी. मामी के बूब्स के ऊपर नजर पड़ते ही मेरे लंड में और भी जान आ गई. मैंने मामी के निपल्स को अपने मुहं में ले लिए और उन्हें चूसने लगा.

चूसने की वजह से मामी की नींद खुल गोई और वो हडबडा कर उठी और मुझे अपने से दूर धकेलने लगी. फिर वो पूछने लगी की मैं ऐसा क्यूँ कर रहा हूँ उसके साथ!

मैंने उस से बोला, मामी आप कितनी सुंदर और सेक्सी लगती हो! और मैं आप को बहुत प्यार करता हूँ.

मामी ने इसका कोई जवाब नहीं दिया और मैंने मामी को अपने पास खिंच के उसके होंठो पर होंठो को लगा के लिप किस चालू कर दी. मामी ने पहले पहले थोडा नाटक किया लेकिन फिर वो भी मेरा साथ देने लगी थी.

फिर मैंने अपने सारे कपडे उतार दिए और मामी को अपना लंड चूसने के लिए बोला. हम दोनों 69 पोजीसन में आ गए. मामी मेरा लंड लोलीपोप के जैसे चूस रही थी और मैं उसकी चूत को चाट रहा था. चूत चाटने की वजह से वो पागल सी हो रही थी और थोड़ी देर में उसका पानी निकल गया. मामी के खारे पानी को मैंने पूरा चूस के और चाट के पी लिया.

यह कहानी भी पड़े  सुदामा मौसी का चुदाई ज्ञान

फिर देर न करते हुए मैंने तुरंत उसकी टाँगे फैला दी और अपना लंड उसकी चूत में घुसेड़ना चालू कर दिया. लंड का टोपा अन्दर जाते ही मैंने एक झटका लगाया और पूरा लंड मामी की चूत में घुसेड दिया. मोटा और लम्बा लंड चूत में घुसने की वजह से मामी की चीख निकल गई जिसे मैंने अपने होंठो से किस कर के दबा दिया.

करीब 15 मिनिट बाद मामी फिर से झड़ गई और साथ ही में मैं भी उसकी चूत के अन्दर ही झड़ गया. सच बोलता हूँ जबरदस्त मजा आया अपने वीर्य की पिचकारियाँ मामी की चूत में छोड़ने में. फिर मामी ने और मैंने कपडे ठीक किये और थोड़ी देर में सो गए. तभी बस एक ढाबे के ऊपर रुकी और हम खाने के लिए निचे उतरे. हमने फ्रेश होकर खाना खा लिया.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!