अपनी सगी बड़ी बहन को नंगी करके चोदा

दोस्तों मैं आपका प्यारा दोस्त साहिल हूं। और आज मैं आपके सामने अपने बड़ी बहन की चूदाई की सच्ची कहानी लेकर आया हूं। यह कहानी मनगढ़ंत नहीं है, पूरी सत्य है।

वैसे मैं ग्रेजुएट हूं, और ये सब में मेरा ध्यान नहीं रहता। पर सोचा कि आप सब को अपनी और अपनी बड़ी बहन की चूदाई की कहानी बता ही दूं, जिससे आप लोग भी जान सके कि भाई-बहन में भी चूदाई होती है।

दोस्तों मैं यूपी का रहने वाला हूं। और मैं अभी 22 साल का हूं। मेरी एक बहन है, जिसका नाम प्रिया है। वह मुझसे तीन साल बड़ी है। वह दिखने में बहुत हॉट तो नहीं है, और ना ही ज्यादा स्मार्ट। कद थोड़ा छोटा है लगभग चार फुट नौ इंच तक। मेरे घर वाले उसके लिए लड़का खोज रहे है।

दोस्तों मैं आपको अपने बारे में बता दूं कि मैं ग्रेजुएट हूं और मस्त जवान लड़का हूं। मेरा लौड़ा लगभग सात इंच का है, और मैं हेल्थ बॉडी से भी फिट हूं। मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है , क्योंकि मैं इन सब में ज्यादा नहीं पड़ता था।

पर जैसे-जैसे उम्र बीती तो मन में गंदे-गंदे विचार आने लगे। जैसे कि बुर क्या होती है। उसमें लौड़ा कैसे डालते है। कैसे सुहागरात मनाते है, और कैसे अपनी पत्नी को खुश करते है। ये सब विचार अब मेरे मन में आने लगे थे। इसीलिए अब मैं रात को पोर्न वीडियो देखने लगा था, और मुठ मारता था।

एक दिन मैंने पोर्न में देखा कि एक भाई अपनी ही सगी बहन को रात में उसे नंगा करके चोद रहा था, और उसकी बहन भी मस्त गाड हिला-हिला कर चुदवा रही थी।

दोस्तों मेरे मन में तभी से अपनी बहन के प्रति गंदे-गंदे विचार आने लगे थे। और मैं अपनी ही बहन को चोदने के सपने देखने लगा।

मेरी बहन प्रिया मुझसे तीन साल बड़ी थी, और घर में मैं सबसे छोटा था। मुझे लगा कि मेरी बहन तो मुझसे बड़ी है फिर मैं कैसे उसे चोद सकता हूं। पर मेरी कोई गर्लफ्रेंड भी नहीं थी तो मैंने सोचा कि क्यों ना घर में ही अपनी बहन की सेटिंग की जाए। प्रिया की भी कोई बॉयफ्रेंड नहीं था, शायद इसीलिए उसके चेहरे पर चमक नहीं थी।

प्रिया हमेशा उदास सी रहती थी, और उसका चेहरा तो जैसे एक-दम टेंशन में हो।

एक दिन मैंने बहन से कहा: दीदी आप इतनी परेशान क्यों हो।

तो दीदी ने कहा: नहीं साहिल, बस ऐसे ही और कुछ नहीं।

मैंने भी कहा: ठीक है दीदी आप सो जाइए।

दोस्तों मेरी दीदी बहुत गुस्सैल किस्म की थी, और इसीलिए मेरी उनसे ज्यादा जमती भी नहीं थी। मैंने उनसे अपना एक काम करने को कहा तो उन्होंने गुस्से में मुझे गाली दे दी।

मुझे बहुत बुरा लगा और मैं कुछ नहीं बोला। उस रात मैंने जान बूझ कर भाई बहन पोर्न वीडियो देखी, और मैं गरम हो गया। मैंने सोच लिया था कि अब मैं अपनी दीदी को चोदूंगा, और अपनी गाली का बदला लूंगा।

दोस्तों यह कहानी बिलकुल सच्ची है, जो मैंने अपनी बहन के साथ किया। अगली रात को मैं गुस्से में प्रिया दीदी के कमरे में घुस गया, उन्हे चोदने के मूड से। मैंने जान बूझ कर अपना लौड़ा जींस से बाहर निकाला था, और घुस गया दीदी के कमरे में।

दीदी ने जैसे ही मुझे देखा वह एक-दम शर्मा गई और अपना मुंह दूसरी ओर मोड़ लिया। मैं जा कर दीदी के बेड पर उनसे चिपक गया।

दीदी ने गुस्से में कहा: ये क्या कर रहा है तू हरामखोर?

मैंने दीदी से कहा: आज मैं पोर्न वीडियो देख कर आया हूं और बहुत गर्म हूं। इसलिए मैं आपको चोदने आया हूं।

दीदी एक-दम गुस्से में बोली: बदतमीज, तुझे पता भी है मैं तेरी बड़ी बहन हूं?

मैंने कहा: पता है दीदी, पर प्लीज आज ना रोको, मैं बहुत गरम हूं। मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है, इसीलिए मैं आपके पास आया हूं।

फिर मैंने दीदी को बहुत समझाया और मना लिया।

उन्होंने पूछा: तुम मुझे क्यों चोदना चाहते हो?

मैंने कहा: जिस दिन से आपने मुझे गाली दी थी ना, उसी दिन से मैंने मूड बना लिया था।

उसके बाद मैंने कहा: दीदी आज मैं आपके चेहरे की चमक ला दूंगा। बस आप मेरा अपनी बुर की चूदाई में साथ दीजिएगा।

धीरे-धीरे दीदी भी शायद गरम हो रही थी, और कहा: ठीक है।

फिर मैंने दीदी को किस किया और बूब्स भी दबाए। दीदी के बूब्स छोटे और कड़े थे, क्योंकि कभी उनके साथ कुछ हुआ ही नहीं था।

उसके बाद मैंने दीदी के कपड़े उतारे, और बाद में चड्डी भी उतार दी।

हाय-हाय दोस्तों, अब मेरी बहन मेरे सामने पूरी नंगी थी। मैं उसकी बुर को देख रहा था और वह मेरे लौड़े को। दीदी की बुर में बहुत ज्यादा बाल थे और फैले हुए थे, जैसे कोई छत्ता।

फिर मैंने अपना लौड़ा उनकी बुर पे रख‌ कर सीधे डाल दिया। उनकी बुर में पहली बार किसी लड़के का लौड़ा घुसा था और वो भी अपने ही सगे भाई का।

पहली बार मेरी दीदी को बहुत दर्द हो रहा था, उनकी बुर से खून भी निकल रहा था। पर मैंने पोर्न में देखा था कि पहली बार दर्द होता है।

उसके बाद मैंने लगातार अपनी बहन को लगभग तीस मिनट तक खूब चोदा। उनकी बुर में अपना लौड़ा पेल दिया जब मेरा लौड़ा घुसा तो उनकी बुर से फच्च-फच्च की आवाज आने लगी।

बाद में मैंने अपना लौड़ा भी दीदी के मुंह में डाल दिया, और मुंह में चोदने लगा। उसके बाद मैंने अपना सारा माल अपनी बहन की बुर में गिरा दिया और उससे चिपक कर सो गया।

सुबह मैं अपने कमरे में आ गया और जब मैंने सुबह देखा तो दीदी मुझे देख कर मुस्कुरा रही थी और उनके चेहरे की चमक बढ़ गई थी।

अब वह उदास नहीं थी और मुस्कुरा रही थी। घर वाले भी यही सोच रहे थे। पर उन्हें कहा पता था कि उसके भाई ने ही उसे खुश किया है।

दोस्तों वह मेरे गिराए गए बीज से प्रेगनेंट हो गई थी।‌‌ उसका पेट बाहर निकल रहा था। एक दिन मैंने पूछा: दीदी आपका ये पेट इतना बाहर क्यू है?

उन्होंने हंस कर कहा: साहिल जो तुमने माल गिराया था मेरी चूत में, उसी का परिणाम है। अब जा जल्दी से दवाई ला दे, नहीं तो मैं इस बच्चे की मां बन जाऊंगी और तू इसका बाप, समझा।

मैंने कहा ठीक है दीदी। फिर मैंने दीदी को दवाई दी, और अब वह नॉर्मल है। अब उसकी शादी हो गई हैं, पर मैं l और मेरी बहन एक-दूसरे को बहुत मिस करते है।

जब वह अपने मायके आती हैं तो मैं उसे जरूर चोदता हूं, और वह भी मजे से बुर फड़वाती है अपने छोटे भाई से।

दोस्तों यह कहानी बिलकुल सत्य है, कि मैंने अपनी ही बहन को चोद डाला। मैंने केवल अपनी बहन को ही नहीं, बल्कि मां और भाभी को भी चोदा है। जो मैं आपको अपने आने वाले अगले पार्ट में बताऊंगा।

अगर आपको मेरी यह सच्ची कहानी अच्छी लगी है तो प्लीज मुझे कमेंट और मेल करके जरूर बताएं।

मेरी मेल आईडी-

यह कहानी भी पड़े  बुआ के साथ लड़के की रंगीली रात


error: Content is protected !!