बीवी को किसी अंजान आदमी ने चोदा-1

हेलो फ्रेंड्स मैं प्रसांत एक बार फिर एक न्यू स्टोरी लेकर आया हू. आशा करता हू मेरा पुराना कहानी पढ़ कर आप सभी ने एंजाय किए होंगे.

मेरी एक फॅंटेसी थी थ्रीसम करना वो भी अपनी वाइफ और किसी स्ट्रेंजर के साथ. जान पहचान के लोग से यह करना मुमकिन नही क्यूकी बदनामी का दर रहता है.

मैं जब भी अपने वाइफ के साथ सेक्स करता था. तो उसको हमेशा बोलता था काश मैं और कोई और लड़का मिल कर तुमको साथ में छोड़ते तो कितना मज़ा आएगा. मैं नीचे से तुम्हारे चूत में लंड दल देता. और पीछे से कोई और तुम्हारे गंद में लंड दल देता. तो कितना मज़ा आता ना चुदाई में.

तो बीवी बोलती ऐसा कैसे हो सकता है. ऐसा कोई करता है क्या? तब मैने उसको थ्रीसम का वीडियो दिखाया और वो देखते ही गरम हो गयी. बोली बहुत दर्द करेगा एक साथ दो लंड से छुड़वाने में.

मैं बोला दर्द के साथ बहुत मज़ा आता है “डबल पेनेट्रेशन” में. वो सर्मा गयी और मुझसे छुड़वा कर सो गयी.

मैं अगले कुछ महीने से डेली चुदाई के टाइम उसको थ्रीसम के लिए मानता था. पर वो हमेशा माना कर देती थी की किस के साथ करेंगे. कोई नही मिलेगा ऐसा लड़का जो हमारे साथ थ्रीसम कर सके.

फिर मैं बोला तुम्हारा कोई शादी से पहले बाय्फ्रेंड हो, या कोई चचेरा या ममेरा भाई हो, उसको पता लो. उसके साथ थ्रीसम करते है. पर मेरी वाइफ ने माना करते हुए कहा ऐसा कोई भी लड़का नही.

वाइफ ने मुझे कहा अगर आपके पहचान के कोई लड़का है तो बताइए. पर मैने भी माना कर दिया की मेरा भी पहचान का कोई नही. फिर मैं बहुत दुखी हो गया. थ्रीसम का फॅंटेसी सपना ही रह गया.

फिर कुछ महीने के बाद हम गोरखपुर गये हुए थे एक रिलेटिव के यहा शादी अटेंड करने. मैने वाइफ को बोला किसी को पता लो वाहा शादी में ही पर कोई ऐसा लड़का उसको पसंद ही नही आया.

नेक्स्ट दे हम बस स्टेशन पहुचे और वाहा से आ.सी बस पर चढ़ गये लुक्कणोव के लिए. वैसे हम अल्लहाबाद के रहने वेल है.

मेरे मॅन में एक प्लान आया जो वाइफ को नही बताया था. मैं बस के थ्री सीटर वेल साइड के विंडो सीट पर बेत गया और वाइफ मेरे बगल में बेत गयी. वाइफ के बगल वाली सीट खाली थी.

30 मिनिट्स बाद बस चलने लगी. बस थोड़ी आयेज गयी होगी की अचानक बस रुक गयी. एक आदमी जिसकी आगे 38-45 की थी वो बस में चड़ा इधेर-उधेर देखा और फिर मेरे वाइफ के बगल में आ के बेत गया.

वैसे बस में थोड़ी बहुत जगह थी फिर भी वो आदमी मेरी वाइफ के बगल वाली ही सीट सेलेक्ट किया.

जब बस सिटी से बाहर निकला तो बस की लाइट ऑफ हो गयी. मैने धीरे से वाइफ को कहा की इश् आदमी को पता लो. पर वाइफ ने माना कर दिया की ऐसा कैसे किसी अजनबी को पता लू. इतना आशण है क्या पटना.

फिर मैं कहा अपना चुचि उसके बॉडी से टच करवाते रहो अगर वो भी टच किया तो समझ लेना की पाट गया है. और उसके साथ पूरी रात बस में एंजाय करना और उसका नंबर माँग लेना. पर वाइफ ने यह सब करने से माना कर दिया. मैं फिर बहुत उदास हो गया. और सो गया.

करीब 2 घंटे बाद बस एक ढाबा पर रुका तो वाइफ ने मुझे जगा दिया. बोली मुझे फ्रेश होना है. मैं वाइफ को टाय्लेट के पास ले गया और फिर फ्रेश हो कर फिर छाए नास्टा कर के बस में वापस आ गये.

मैने वाइफ से कहा की कुछ हुआ की नही तो वाइफ ने माना कर दिया. बोली वो आदमी तो सरीफ़ है. मुझसे दूर ही बेता है कैसे टच करू उसको. थोड़ी देर बाद मैं सब भूल कर सो गया.

कुछ देर बाद बस के जर्किंग के कारण मेरा नींद टूट गया. मैं अपना सर आयेज वेल सीट पर हाथ रख कर लेता हुआ था. जब मैने नीचे से देखा तो उस आदमी का हाथ मेरे वाइफ के चुचि पर था. यह देख कर मेरा लंड एक दूं 90° डिग्री पर टाइट हो गया.

वो आदमी मेरी वाइफ के ब्ल्ौसे के उुआर से ही उसकी चुचि को धीरे-धीरे टच कर रहा था. और वाइफ कुछ नही बोल रही थी. वो भी सयद सोने का नाटक कर के मज़ा ले रही थी.

थोड़ी देर बाद उस आदमी ने मेरी वाइफ के दूसरी चुचि को टच करने लगा. यह देख कर मेरे लंड से पानी आने लगा. ऐसा लगा जैसे लंड पेंट को फाड़ देगा.

फिर उस आदमी ने मेरी वाइफ का आगे के ब्लाउस का हुक खोल कर उसका चुचि बाहर निकल दिया. और अपना मूह चुचि से सता कर उसको चूसने लगा. यह सब देख कर मुझे बहुत मज़ा आ रहा था की अचानक बस रुक गयी. शायद किसी ने बस को रुकवाया था पेशाब करने के लिए.

वो आदमी भी नीचे उतार गया और मैने अपने वाइफ से पूछा कुछ हुआ क्या. वाइफ ने माना कर दिया फिर से. बोली की वो आदमी कुछ करता ही नही, सरीफ़ आदमी है. फिर मैं कुछ नही बोला और नीचे पेशाब करने चला गया.

जब मैं वापस बस में आया तो देखा वो आदमी विंडो सीट पर बेता है जहा मैं बेता था. उस आदमी ने मेरी वाइफ से पर्मिशन ले लिया था विंडो सीट के लिए. इस लिए मैने भी कुछ नही बोला और वाइफ के बगल में बेत गया.

मैं भी यही सोच रहा था सयद विंडो सीट पर बेत कर वो ज़्यादा एंजाय करेगा. इश् लिए मैने कुछ नही कहा और चुप छाप उसकी वाली सीट पर बेत गया. बस चालदी थी और बस की लाइट ऑफ हो गयी थी.

10 मिनिट्स वाइफ से मैं बात किया की कल कौन से होटेल में रुकेंगे. वाइफ बोली वो आपकी मर्ज़ी. मैं यह बात उस आदमी को सुना रहा था की हम लुक्कणोव के नही है और किसी होटेल में रुकने वेल है.

ताकि वो भी सेम होटेल में रुक जाए या फिर हमारे पीछे पीछे उस होटेल तक आए और वो भी सेम होटेल में स्टे करे.

फिर थोड़ी देर बाद वाइफ से बात करते करते मैं सोने का नाटक करने लगा. आयेज वेल सीट पर हाथ रख ईयर अपने सर को झुका लिया. क्यूकी हाथ के नीचे से मुझे सब दिख रहा था.

30 मिनिट्स बाद अंधेरे में उस आदमी ने फिर से मेरी वाइफ के चुचि को धीरे-धीरे टच करने लगा और थोड़ी देर बाद ब्लाउस का हुक खोल कर उसकी चुचि को बाहर निकल दिया.

मेरी वाइफ ने ब्रा नही पहनी थी. मेरी वाइफ के दोनो चुचि को उस आदमी ने ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा और फिर एक चुचि को वो अपने होंठो से चूसने लगा.

थोड़ी देर बाद उस आदमी ने सारी के उपर से मेरी वाइफ के छूट को मसालने लगा और फिर सारी उपर कर के वाइफ के छूट में उंगली करने लगा. मेरी वाइफ मचलने लगी, तड़पने लगी.

फिर उस आदमी ने अपना ज़िप खोल कर अपना लंड बाहर निकल कर मेरे वाइफ के हाथ में दे दिया. उसका लंड देख कर मैं दर गया. इतना कला, इतना लंबा और इतना मोटा था देख कर मज़ा आ गया. मैं तो सोचने लगा जब इतना बड़ा लंड वाइफ की छूट में जाएगा तो क्या होगा.

मेरी वाइफ ने उस का लंड को पकड़ कर आयेज पीछे करने लगी और थोड़ी देर बाद उस आदमी का पानी निकल गया. फिर वाइफ का हाथ उस आदमी ने अपने रुमाल से सफ़ह किया और फिर वाइफ का ब्लाउस बंद कर के ब्लाउस के उपर से ही दबाने लगा और मेरी वाइफ को किस करने लगा.

मैं तो बहुत खुश था और लग रहा था की अब थ्रीसम ज़रूर होगा.

सुबह करीब 5 बजे कोई बोल रहा था जिसको चार बाघ उतरना है उतार जाए. फिर मैं वाइफ को बोला यही उतार जाते है और कोई होटेल बुक कर लेते है. हम चार बाघ उतार गये. मैने देखा वो आदमी भी उतार गया हमारे साथ.

फिर मैं वाइफ को लेकर रेलवे स्टेशन गया. और वो आदमी भी हमारे पीछे रेलवे स्टेशन आ गया. स्टेशन के बाहर खाली जगह देख कर हम वाहा बेत गये. वो आदमी भी कुछ दूरी पर बेत गया. मैने ऐसा आक्टिंग किया जैसे मुझे कुछ मालूम नही.

ऑनलाइन होटेल चेक किया तो सभी होटेल का चेक-इन टाइम 12 बजे का शो कर रहा था. इश् लिए वाइफ को बोला तुम यही बेती रहो मैं होटेल देख कर आता हू. थोड़ी दूर जाने के बाद मैं च्छूप गया और देखने लगा.

वो आदमी मेरे वाइफ के पास आकर बात करने लगा. मैं बहुत खुश हो गया. अब मुझे पूरा यकीन था मेरा थ्रीसम का फॅंटेसी पूरा होगा. मैं 4-5 3 स्तर होटेल चेक किया तो एक होटेल मिल ही गया और रूम बुक कर लिया. बस अर्ली चेक-इन के लिए 500 एक्सट्रा देना पड़ा.

मैं वाइफ के पास आया तो देखा वो आदमी अभी भी वही बेता था वाइफ से थोड़ी दूर. मैने वाइफ से कहा होटेल मिल गया है 7 बजे आने के लिए बोला है. फिर मैं वाइफ से बोला काश वो बस वाला आदमी को पता लेती तो हम थ्रीसम का मज़ा ले पाते.

वाइफ ने कहा नही पता तो मैं क्या कर सकती. फिर हम होटेल चले गये. और वो आदमी भी हमारे पीछे पीछे आने लगा.

होटेल पहुच कर मैं वाइफ के साथ रूम में चला गया. पर उस आदमी को रूम मिला की नही पता नही चला. रूम में एंट्री करते ही मैने वाइफ को किस करने लगा. क़ूर जब वाइफ की छूट पर उंगली लगाया तो देखा उसका छूट बहुत गीली थी.

उसकी पनटी बिंगा हुआ था छूट के पानी से. फिर मैने अपना लंड उसके छूट में दल कर कहा, उस आदमी का लंड तो बहुत बड़ा होगा. अगर तुम पता लेती तो आराम से उसके साथ छुड़वा लेती.

फिर वाइफ ने कहा मुझे थ्रीसम पसंद नही और बहुत दर्द भी करेगा आप दोनो जब साथ में छोड़ेंगे. मैने कहा अरे पागल अकेले ही छुड़वा लेती.

वाइफ स्माइल करने लगी और बोली मैं उसको पता ली थी और बस में मजा भी की थी.

फिर मैं बोलै अरे कब कैसे पता ली मुझे क्यों नहीं बताई?

तब वह बोली की मुझे थ्रीसम से दर लग रहा था इसलिए आपको कुछ नहीं बताई.

मैं बोला कितना पागल हो एक बार बता देती. अब किसके साथ चुदाई करोगे. वो बोली वो रेलवे स्टेशन तक हमेरे पीछे आया और अपना मोबाइल नंबर भी मुझे दिया है और यह भी बोला की मैं तुम्हारे पीछे पीछे सेम होटेल तक अवँगा और रूम ले लूँगा.

मैं बस से लेकर स्टेशन से लेकर और होटेल तक जब वो हमारे पीछे आ रहा था यह सब बात अपने वाइफ को कुछ नही बताया. बस ऐसे ही अंजान बना रहा.

वाइफ को छोड़ते हुए फिर मैने वाइफ से कहा की फोन कर के पूछो वो कहा है फिर फोन कट कर देना तो वाइफ ने ऐसा ही किया.

फिर वाइफ ने उस आदमी को कॉल लगाई और पूछा आप कहा है तो वो बोला डार्लिंग जिस होटेल में तुम रुकी हो उशी होटेल में हू फिर वाइफ ने कॉल कट कर दिया.

मैं बहुत खुश हुआ और वाइफ को छोड़ते हुए बोला अब तुम उसके लंड से आराम से छुड़वा सकती हो मेरे सामने. पर वाइफ ने माना कर दिया. वाइफ बोली आपके सामने मुझे शरम आएगी. मुझे अकेले में प्यार करना है. मैं बोला ठीक है अकेले में छुड़वा लेना पर मेरा भी एक सार्ट है तुमको एक बार थ्रीसम करना होगा.

वाइफ बोली अगर वो नही माना तब क्या करूँगी? मैं बोला तब तुम एक बार छुड़वा लेना फिर हम होटेल धीरे से चेंज कर लेंगे. वो बोली ठीक है.

मैने वाइफ से कहा मैं बाहर जा रहा हू शेविंग और हेर कटिंग के लिए तुम उसको कॉल कर के बुला लो और छुड़वा लो. वो बोली ठीक है.

फिर मैं होटेल से बाहर चला गया और शेविंग और हेर कटिंग के बाद वापस होटेल आ गया करीब एक घंटे बाद.

आयेज की कहानी अगले पार्ट मे.

अगर कहानी पसंद आई या कोई सुझाव है तो हुमको [email protected] पर फीडबॅक (हणगौत्स) कर सकते है.

यह कहानी भी पड़े  साली ने संभाला

error: Content is protected !!