बेटे ने बनाया मा की चुत का भोंसड़ा

हेलो फ्रेंड्स, मेरा नाम उत्कर्ष है. मेरी आगे 18 है. ये मेरी सॅकी कहानी है. इस कहानी में आप पढ़ेंगे की कैसे मैने अपनी संस्कारी मा जो मेरे पापा के अलावा किसी दूसरे मर्द को देखती भी नही थी. उसे कैसे मैने अपना दिमाग़ चला के, प्रॉपर प्लान के साथ एक रंडी बना दिया. ये इस स्टोरी का पहला पार्ट है. अभी इसके बहुत सारे पार्ट्स आएँगे.

मैं आपको पहले अपने पुर परिवार के बारे में बताता हू. मेरी फॅमिली में मम्मी, पापा और मैं रहते है. मेरी मम्मी का नाम सुनीता है, उमर 45 साल. लेकिन लगती 30 की है.

मेरी मा सुनीता बहुत गोरी, सेक्सी, और खूबसूरत है. सुनीता का फिगर 34-28-36 है, और हाइट 5’5″ है. अब आपको पता चल ही गया होगा की वो कितनी सुंदर है. मेरी मम्मी एक स्कूल टीचर है, और पापा एक प्राइवेट जॉब करते है.

तो अब कहानी पे आते है. ये बात 6 महीने पहले की है. आधी रात को एक दिन मेरी नींद खुली तो मैने देखा की पापा और मम्मी सेक्स कर रहे थे. पापा का 4 मिनिट में ही हो गया, लेकिन उन 4 मिनिट्स में मम्मी बहुत ताकि हुई लग रही थी. उसके बाद मम्मी-पापा सो गये.

मैने पापा का अंडरवेर नीचे करके उनका लंड देखा तो वो सिर्फ़ 4.5 इंच का था. ये देख के मैं सोच में पद गया की इतना छ्होटा लंड और इतना कम टाइम होने के बाद भी मम्मी सॅटिस्फाइ कैसे हो गयी?

तो मैने बड़े आराम से मम्मी की निघट्य को उपर करके मोबाइल की टॉर्च ओं करके देखा, तो उनकी छूट का होल बहुत छ्होटा था. फिर जब गांद को देखा तो पता चला की गांद की सील अभी तक टूटी ही नही थी.

पापा सिर्फ़ मम्मी की छूट में डालते थे. मम्मी (सुनीता) बिल्कुल एक वर्जिन सेक्सी लड़की के जैसी लग रही थी. उस दिन मैने सोच लिया की अपनी मा को एक रंडी बनौँगा और उसकी छूट और गांद को असली सेक्स दिखौँगा.

उस दिन फिर मैं सो गया. अगले दिन मैं प्लान बनाने में लग गया. आपको बता डू की मेरी मा हमेशा सारी पहनती है, और सोते समय निघट्य पहनती है. अब सबसे बड़ा सवाल था की अगर मम्मी को किसी और से छुड़वाना है, तो पहले उसे एक अनसॅटिस्फाइड वुमन बनाना पड़ेगा.

उसके लिए मैने अपनी एक कज़िन दी की हेल्प ली. मेरी कज़िन दी का नाम श्रुति है. वो शादी-शुदा है, लेकिन मैं उनको उनकी शादी से पहले छोड़ चुका हू. वो स्टोरी आपको बाद में बतौँगा. अब स्टोरी पे आते है.

तो मैने श्रुति दी को छोड़ा है, इस वजह से वो मेरे से बहुत प्यार करती है. और उनसे मैं सब तरह की बात कर सकता हू. तो मैने श्रुति दीदी को कॉल किया, और उनसे मिलने को कहा. इस्पे उन्होने कहा की वो मेरे घर आ जाएँगी कल. फिर अगले दिन दीदी आई.

उस समय घर में कोई नही था. लेकिन जब से उनकी शादी हुई थी, तब से उन्होने मेरे साथ सेक्स करना बंद कर दिया था. इसलिए हमारी नॉर्मल बात हुई पहले. फिर मैने उनको सारी बात बता दी. तो उन्होने कहा की इसमे वो क्या कर सकती थी.

इस्पे मैने कहा: दी आप और मम्मी काफ़ी फ्रॅंक हो. तो आप बातों ही बातों में उनसे सेक्स की बात करो, और असली सेक्स के मज़े, बड़े लंड, ज़्यादा टाइमिंग के बारे में बताओ. और उनको रीयलाइज़ कारवओ की उनको सेक्स की ज़रूरत है, और उनको चीट करना चाहिए. ये सब बातें डाइरेक्ट्ली नही, थोड़े फ्रॅंक वे मज़ाक-मज़ाक में बोलो. और उनको गरम कर दो बस.

उन्होने वैसे ही किया. मैने उस दिन रात को जल्दी सोने की आक्टिंग की. फिर जैसे ही मम्मी को लगा की मैं सो गया था, वो पापा के उपर चढ़ गयी. लेकिन पापा ने माना कर दिया, और कहा वो बहुत तक गये थे. फिर वो सो गये, और मम्मी भी लेट गयी. सॉफ दिख रहा था की उनका मूड ऑफ था.

मैं ये सब आधी आँखें खोल के देख रहा था. फिर मैने सोचा की किसी दूसरे से मम्मी को चड़वौ, उससे पहले मैं ही उनको छोड़ लू. तो जैसे ही मम्मी लेती, वो बिल्कुल मेरे बगल में सो रही थी. तभी मैने अपना एक हाथ उनके पेट पे रख दिया. फिर अपना एक पैर उनके पैर पे रख दिया, और पैरों को हिलने लगा उनके पैरों पे.

श्रुति दी ने मम्मी को बहुत ज़्यादा ही गरम कर दिया था. मम्मी उस समय जाग रही थी, लेकिन सोने की आक्टिंग कर रही थी. ये देख के मेरी हिम्मत बढ़ गयी. मैं उनके पेट पे अपने हाथ को हिलने लगा.

अपने शरीर को उनसे बिल्कुल चिपका दिया था. मेरा लंड लोवर में से ही उनकी गांद पे टच हो रहा था निघट्य के उपर. फिर मैने उनकी निघट्य को हल्का सा उपर किया, और उनके घुटनो से तोड़ा उपर अपना हाथ फेरने लगा.

मम्मी फिर भी शांत थी, तो मुझे लगा की शायद वो सो रही होंगी. तो मैने अपना एक हाथ उनके बूब पे रखा, और उनको अपनी तरफ मोड़ा और उनके फेस पे किस करने लगा. अचानक से वो उठी, और मेरे को एक थप्पड़ मारा. मैं दर्र गया.

फिर अचानक से मम्मी ने मुझे किस किया लिप्स पे. मुझे ग्रीन सिग्नल मिल चुका था, तो मैने भी उनको बहुत वाइल्ड तरीके से किस किया पुर फेस पे. मैने औंकी निघट्य उतार दी, और उनकी पूरी बॉडी को लीक किया. फिर मैने उनकी ब्रा और पनटी भी उतार दी, और उनके दूध चूज़ और दबाए पुर 15 मिनिट्स.

फिर उनकी छूट छाती 5 मिनिट्स, और उनकी छूट का पानी निकल गया. लेकिन मैने भी सोच लिया था की ऐसे नही छ्चोधुंगा. मैने तुरंत अपना 6 इंच का लंड निकाला. मेरे लंड को देख के वो शॉक हो गयी. वो कुछ कहे उससे पहले ही मैने उनके मूह में अपना लंड डाल दिया, और उनके मूह को 25 मिनिट्स बेरेहमी से छोड़ा.

फिर मैने उनके मूह में ही अपना पानी निकाल दिया. वो फिर खाँसने लगी, उनको उल्टी भी हो गयी, और साँस भी नही आ रही थी. क्यूंकी पापा उनको कभी भी अपना लंड नही चुस्वते थे. तो उनके लिए ये एक्सपीरियेन्स बिल्कुल नया था.

वो कुछ कहे उससे पहले ही मैने उनको किस करना चालू किया, और उनकी गांद और बूब्स दबाने लगा. उसके बाद मैने उनको लिटाया और उनकी गांद पे लंड सेट किया. पर उन्होने गांद मरवाने से माना कर दिया. तो मैने उनकी छूट में लंड सेट किया, और एक झटका मारा.

लंड का टोपा अंदर चला गया, और उनकी चीख निकल गयी. मैने मम्मी (सुनीता) के मूह पे हाथ रखा, और पूरा लंड अंदर डाल दिया. फिर पुर 40 मिनिट उसकी छूट छोड़ी. वो बीच में माना कर रही थी, लेकिन मैं नही माना.

उनकी आँख से आँसू निकल रहे थे, लेकिन मैं नही रुका. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. फिर मेरा होने वाला था तो मैने सुनीता के पेट पे अपना पानी निकाल दिया और मैं उसे एक किस करके सो गया.

सुबा मैं उठा तो पता चला की पापा के ऑफीस से कॉल आया था, और उनको 2 हफ्ते के लिए दूसरी सिटी जाना था. तो वो सुबा जल्दी चले गये. मैने देखा की मम्मी निघट्य पहन के सो रही थी. पापा ने ही मुझे उठाया था, और सब बता के गये थे.

पापा के जाने के बाद मैने मम्मी को उठाया. वो रात की चुदाई के ढंग से चल नही पा रही थी, और उनकी छूट में सूजन भी आ गयी थी. लेकिन उनको मज़ा बहुत आया था. थोड़ी देर हमारी बात हुई, और मा ने मुझे ई लोवे योउ बोला और कहा-

मम्मी: थॅंक्स उत्कर्ष मुझे रियल सेक्स की ब्यूटी दिखाने के लिए.

क्यूंकी पापा कभी भी उनके साथ रोमॅन्स नही करते थे. ना ही उनके बूब्स चूस्टे थे, ना ही शरीर को चाट-ते थे. मैने ये सब किया तो मा बहुत खुश थी, और बार-बार ई लोवे योउ बोलने लगी.

मैने भी बोला: ई लोवे योउ टू मम्मी.

तो वो बोलने लगी: आज से मम्मी सिर्फ़ दूसरो के सामने बोलो. अकेले में मुझे सुनीता बूलौऊ.

तो मैने कहा: ओक सुनीता डार्लिंग.

उसके बाद मम्मी स्कूल चली गयी पढ़ने. मैं घर में था, तो मैने सोचा की सुनीता का स्वाद मैने तो चख लिया था. अब मा को एक रंडी कैसे बनौ, जो सब से चुड़े? मैने सोचा की मा ने बहुत दर्दनाक चुदाई नही देखी. तो उनको किसी ऐसे इंसान से चड़वौ, जो उनको बहुत बुरी तरह से छोड़े.

लेकिन सवाल ये था, की ऐसा इंसान कहा मिलेगा और क्या मम्मी मानेगी किसी और से चूड़ने के लिए. इन सब सवालो के जवाब अगले पार्ट में मिलेंगे, जो बहुत जल्दी आएगा.

आप सब को कहानी का ये वाला पार्ट कैसा लगा, कॉमेंट में ज़रूर बताए. तो बहुत जल्दी मिलते है.

यह कहानी भी पड़े  मीनाक्षी की गांद और चूत चोदी तारक ने


error: Content is protected !!