Badan Aur Chut Ka Dard Masaz Se Mitaya

मेरा नाम कमल सेन है.. अपनी पढ़ाई के लिए मैं पार्टटाइम जॉब हेतु महिलाओं के जिस्म की बॉडी मसाज का काम करता हूँ। अपने काम से मैंने कई मेमों.. गर्ल्स को खुश किया है.. उनके बदन का दर्द हो या चूत का.. दोनों को मैं पूरी मेहनत से दूर करता हूँ।

इसी काम के दौरान एक बार एक हाई प्रोफाइल लेडी का ईमेल आया। मैं उसके द्वारा बताए गए टाइम और स्थान जो कि एक फ्लैट था.. वहाँ पर पहुँच गया, वो वहाँ मेरा इंतजार कर रही थी, वह काफी सेक्सी लग रही थी, उसे देखकर मेरा दिल मचलने लगा।

वह नमकीन काजू और ड्रिंक लेकर आई, कुछ देर बातें करने के बाद वह कपड़े बदलने चली गई।
उसने पारदर्शी नाइटी पहनी थी.. जिसमें उसकी ब्रा और पैन्टी साफ़ दिख रही थी। उसके मम्मे बहुत बड़े-बड़े थे.. पैन्टी में उसकी चूत पावरोटी जैसी फूली-फूली लग रही थी। उसके नितंब भी काफी बड़े-बड़े थे।

शायद उसने मेरे आने से पहले ही ड्रिंक ले रखी थी.. सो उसने नशे में झूमते हुए कहा- अब अपना काम जल्दी से शुरू करो..
ये कहते हुए वो अपनी नाईटी खोलकर बड़ी सी सेंटर टेबिल पर ही औंधी लेट गई।

मैंने अपनी पैन्ट उतार दी और अपने हाथों में तेल लेकर उसकी कमर से मसाज शुरू कर दी। मैंने टी-शर्ट और निक्कर पहन रखा था।

उसमें से मेरा 8 इंची लण्ड अब फूलने लगा था। मैंने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और उसकी नाज़ुक पतली कमर पर मालिश करने लगा। फिर मैंने अपना हाथ उसकी पैन्टी में पीछे से डालकर उसके नितंबों को मसलने लगा।

यह कहानी भी पड़े  चचेरी बहन के साथ सेक्स

उसने कहा- पैन्टी उतार कर अच्छे से मालिश करो न..
मैंने उसकी पैन्टी उतार दी और उसके बड़े-बड़े नितंबों को प्यार से मसलने लगा।

मेरा लण्ड 90 डिग्री कोण में खड़ा हो गया था।
वह मेरे उठे लण्ड को बार-बार नशीली निगाह से देख रही थी।

मेरे हाथ धीरे-धीरे उसकी चूत के आस-पास घूमने लगे, वह काफी उत्तेजित हो गई थी और ‘सी.. सी.. हाय.. मजा आ रहा है और करो..’ करने लगी थी।
उसने कहा- पीछे बहुत हो गया.. अब आगे भी मालिश कर दो..

वो अब सीधे होकर लेट गई। उसके बड़े-बड़े मम्मे और पावरोटी जैसी चूत मेरे सामने खुली पड़ी थी।

मैं ज्यादा सा तेल लेकर उसके मम्मों को मसलने लगा.. मुझे जीवन में पहली बार इतना मज़ा आ रहा था।
वह बहुत गर्म हो गई थी और उसने एक हाथ मेरे लण्ड पर रख दिया और निक्कर के ऊपर से ही मेरे लौड़े को दबाने लगी।

वह बोली- कमाल.. तुम्हारा लण्ड तो बहुत बड़ा है..।
मैंने कहा- जी.. और यह आपकी सेवा के लिए भी रेडी है।
वह बोली- ठीक है.. अब मेरी चूत की अच्छी मालिश करो।

मैंने तेल लिया और उसकी मस्त गुलाबी चूत पर लगाकर मस्ती से मालिश करने लगा। उसने अपनी चूत के बालों को साफ़ करके चिकनी बना रखा था।
मैं उसके चूत के दाने को धीरे-धीरे उंगली से मींजने लगा.. वह उत्तेजना से ‘सी..सी.. सी..सी..’ करने लगी।

मुझे मज़ा आने लगा और तभी उसने मेरे निक्कर को नीचे करके मेरा लण्ड हाथों में लेकर अपने मुँह में ले लिया।
अब वो मेरे लाल सुपारे को बड़े प्यार से चूसने लगी थी।

यह कहानी भी पड़े  Janamdin Per Mausi Ne Karwai Zannat Ki Sair-2

मैं एक हाथ से उसके मम्मों को दबा रहा था और एक से चूत मसल रहा था। वो ज़ोर-ज़ोर से मेरा लण्ड चूस रही थी।
मैंने बीच वाली उंगली चूत में घुसा दी और अन्दर-बाहर करने लगा।

Pages: 1 2

error: Content is protected !!