ट्यूशन टीचर की जम की चुदाई – अन्तर्वासना सेक्स

ट्यूशन टीचर की जम की चुदाई – अन्तर्वासना सेक्स

Tution Teacher Ki Jam ki Chudai – Antarvasna sex

Antarvasna sex - Tution Teacher Ki Jam ki Chudai

दोस्तो.. मैं वरुण राय जयपुर में पढ़ने आया हूँ और किराए से कमरा लेकर रहता हूँ। पढ़ाई के मैं साथ पार्ट टाइम जॉब करता हूँ।
हिंदी सेक्स कहानी की साइट अन्तर्वासना का मैं बहुत बड़ा फैन हूँ, मैंने इस साइट पर बहुत सी सेक्स कहानियां पढ़ी हैं।

यहाँ कुछ फ्रेश और सच लिखने के इरादे से आज मैं पहली बार अपना एक रियल एक्सपीरियेन्स आप लोगों के साथ शेयर करने जा रहा हूँ।

यह जून 2014 का वाकिया है, मेरी कम्पटीशन की क्लासेस चल रही थीं, कुछ 5-6 दोस्त भी बन गए थे, क्लास में 2 लड़कियां भी थीं।

क्लास का माहौल बहुत अच्छा था.. हम लोग रोज समय से जाते, पढ़ते.. हंसी मज़ाक चाय-कॉफ़ी चलती रहती थी। मैं सभी दोस्तों में उम्र में सबसे छोटा था, इसलिए हर किसी से बहुत मज़ाक करता था। क्लास में साथ पढ़ने वाली उन दोनों लड़कियों के लिए मेरे दिल में बहुत इज्जत थी। वे दोनों बहुत इंटेलिजेंट और अच्छे स्वभाव की भी थीं।

उनमें से रीना (नाम बदला हुआ) की उम्र 21 साल थी और दूसरी अंजलि जो कुछ सीनियर थी.. वो 25 साल की थीं। अंजलि के कपड़े पहनने का अंदाज़ बहुत लाजवाब था.. वो ज़्यादातर सूट या साड़ी पहनती थीं, कभी-कभार जीन्स टॉप भी पहन लेती थीं, पर मुझे वो सूट में बहुत ही सुंदर लगती थी। वो शादीशुदा थीं, लेकिन उनके पति कहीं साउथ में जॉब करते हैं। पतिदेव वहाँ अकेले रहते हैं, उनके कोई बच्चा नहीं था। मैं उन्हें सम्मान से मैडम ही बुलाता था।

मेरे सब फ्रेंड्स मुझे एक छोटे बच्चे की तरह ही ट्रीट करते थे.. और मेरी किसी बात का बुरा नहीं मानते थे, मैं भी हंसते हँसता रहता था।

यह कहानी भी पड़े  देवर ने मेरी चूत का घंटा बजाया

एक दिन काफ़ी तेज़ बारिश होने लगी, हम लोग क्लास में मस्ती कर रहे थे। लेकिन अंजलि मैडम बहुत परेशान थीं, वे बोल रही थीं- बहुत बारिश हो रही है, सड़कों पर पानी भी भर गया है, ऐसे मैं मैं अपनी एक्टिवा लेकर कैसे जाऊंगी!
मैंने कहा- आप चिंता ना करें मैडम.. मैं आपको अपनी कार से ड्रॉप कर दूँगा।
वो बोलीं- नहीं तू परेशान मत होना.. देखते हैं, बारिश थोड़ी कम होगी.. तो चली जाऊंगी।

हमारी क्लास 5 बजे खत्म हुई और उसके बाद भी बारिश चालू थी। लगभग दो घंटे के बाद भी बारिश रुकने का नाम नहीं ले रही थी, अब तो 7 बज गए थे।

मैंने फिर मैडम से आग्रह किया- दस मिनट लगेंगे.. मैं आपको जल्दी से छोड़ आता हूँ.. फालतू मैं आप परेशान हो रही हैं।
वो बोलीं- ठीक है.. चल!

उनकी एक्टिवा कोचिंग की पार्किंग में ही खड़ी रही और हम दोनों कार से उनके घर की ओर चल दिए। उनको घर छोड़ने के बाद मैंने कहा- ओके मैडम.. मैं चलता हूँ।
मैडम बोलीं- अब यहाँ आया है.. तो घर में अन्दर चल, मैं तुझे अपने मम्मी-पापा से मिलवाती हूँ।
मैंने कहा- नहीं.. कभी और मिल लूँगा।

मुझे अंजाने लोगों से मिलने में कुछ अजीब सा लगता है। लेकिन वो नहीं मानीं, तो मुझे अन्दर जाना पड़ा।

अन्दर जाकर देखा तो उनके घर पर मम्मी-पापा नहीं थे। उन्होंने कॉल किया.. तो उनके पापा ने बताया- हम दोनों तुम्हारे मामा ससुर के यहाँ आए हुए हैं.. (जो जयपुर में ही हैं) लेकिन बारिश हो रही है, तो वो बोल रहे हैं कि कल चले जाना.. सो बेटा हम दोनों आज नहीं आ पाएँगे.. कल आते हैं।

यह कह कर उन्होंने फोन रख दिया। फोन पर जो बात हुई वो मैडम ने फोन रखने के बाद मुझे बताया।
मैंने कहा- तो फिर मैं चलता हूँ।

यह कहानी भी पड़े  नौकरी में चोदने को मिली छोकरी

अब वो पहला पल था, जब मैंने मैडम को गंदी नज़र से देखा। उन्होंने ब्लू साड़ी पहन रखी थी.. जो हल्की-हल्की सी भीगी हुई थी।

वो मेरी ओर पीठ करके जब अपने पेरेंट्स से फोन पर बात कर रही थीं.. तब मुझे कुछ अजीब सा लग रहा था। मैं मन ही मन में ख्याल आने लगे कि इतनी हसीन लड़की के बारे में मैंने पहले कभी क्यों नहीं सोचा!

उनका फिगर तो मैंने मापा नहीं, लेकिन अंजलि मैडम फ़िल्मी अदाकारा काजल अग्रवाल से किसी भी मामले में कम नहीं लग रही थीं। उनके गालों पर बालों की एक लट.. होंठों पर बारिश का हल्का सा पानी.. और भीगी सी साड़ी में उनके उभरे हुए नितम्ब.. मुझे बहुत ही कामुक शरीर का सा अहसास हो रहा था। उनमें एक मर्द को अपने काबू में करने का पूरा सामान दिखाई दे रहा था।

मैडम ने कहा- अब आ ही गया है.. तो रुक थोड़ी देर.. चाय-वाय पी ले, फिर चले जाना। मुझे तो ठंड भी लग रही है, मैं चाय बनाती हूँ।

मैडम चाय बनाने गईं.. मैं पागल हो रहा था और अपने आपको समझा रहा था कि तू मैडम की बहुत रिस्पेक्ट करता है, उनके बारे में ऐसा सोच भी कैसे सकता है!

लेकिन मेरे पैंट के निचले हिस्से के आगे मेरे सिर का ऊपरी हिस्सा टिक नहीं पाया और मैं मैडम के पास जाकर खड़ा हो गया।
मैडम- अरे रॉय.. तू बैठ ना, मैं बस आई बना कर!
मैंने कहा- नहीं मैडम मैं यहीं ठीक हूँ।

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!