ज़बरदस्त सेक्स बीवी और पड़ोसन के बीच

ही फ्रेंड्स, मेरा नाम नीतेश है. मैं उप का रहने वाला हू. मेरी उमर 30 साल है, और मेरी शादी हो चुकी है. मेरी बीवी का नाम निशा है, और वो 26 साल की है. हाइट मेरी 5’9″ है, और रंग ठीक-ठीक गोरा है. लंड मेरा 6.5 इंच का है.

अब मैं अपनी बीवी के बारे में बता देता हू. जैसा की मैने बताया की उसका नाम निशा है. उसकी हाइट 5’5″ है. रंग गोरा है उसका, और फिगर 32-29-36 है. मस्त दिखती है वो, और हमारे बीच काफ़ी सेक्स होता है. अब चलते है सीधे कहानी की तरफ.

बात 2 महीने पुरानी है. मैं और मेरी बीवी ने जॉब की वजह से नया घर लिया था. 2 महीने पहले हम लोग वाहा शिफ्ट हुए थे. हमारा घर जिस गली में था, वाहा हमारे अलावा एक ही और घर था. उस घर में हज़्बेंड-वाइफ और उनके 2 बच्चे रहते थे.

वो लोग काफ़ी फेमिलियर थे. उन लोगों ने शिफ्ट करते हुए भी हमारी थोड़ी हेल्प की थी. हज़्बेंड का नाम आदित्या था, और वाइफ का प्रिया. शिफ्ट होने के बाद हमने उन दोनो को बच्चो के साथ डिन्नर पर बुलाया. वाहा हमारी जान-पहचान और बढ़ गयी.

मेरी बीवी और उसकी बीवी में काफ़ी दोस्त हो गयी थी, और सब्ज़ी वग़ैरा लेना-देना शुरू हो चुका था. सब नॉर्मल चल रहा था. लेकिन फिर एक दिन कुछ ऐसा हुआ, जो मैने कभी एक्सपेक्ट नही किया था.

एक दिन मैं ऑफीस गया तो बॉस ने मुझे फेल्ड वर्क के लिए भेज दिया. काम ख़तम होने के बाद मुझे सीधा घर आना था. लकिली मेरा काम आधे घंटे में ख़तम हो गया, तो मैं रोज़ से काफ़ी जल्दी फ्री हो गया. फिर मैने सोचा की बीवी के साथ मोविए या डिन्नर का प्लान बनता हू.

ये सोच कर मैने अपनी बीवी को फोन किया. लेकिन उसने फोन नही उठाया. मैने 3-4 बार ट्राइ किया, लेकिन आयेज से कोई रेस्पॉन्स नही आया. फिर मैं घर की तरफ निकल पड़ा. जब मैं घर पहुँचा, तो गाते लॉक नही था. मैने गाते खोला, और अंदर चला गया.

अंदर जाके मैने निशा को आवाज़ लगाई, लेकिन मुझे कोई रेस्पॉन्स नही मिला. मैने सारे कमरे देख लिए, लेकिन निशा मुझे कही नही मिली. फिर मैने उसको दोबारा कॉल की, तो उसके फोन की आवाज़ मुझे ड्रॉयिंग रूम में से आई. वाहा उसका फोन पड़ा था, लेकिन वो पता नही कहा थी.

फिर मुझे लगा की शायद वो प्रिया भाभी के पास गयी होगी, क्यूंकी वो अक्सर उनके घर जाने लगी थी. ये सोच कर मैं पड़ोस के घर की तरफ बढ़ा. मैने देखा की उनके घर का दरवाज़ा भी खुला था.

फिर मैने प्रिया भाभी को आवाज़ लगाई, लेकिन मुझे कोई रेस्पॉन्स नही मिला. फिर मैं वैसे ही अंदर चला गया. मुझे अंदर कोई नज़र नही आ रहा था. तभी मुझे एक रूम से किसी औरत के आ आ करने की आवाज़ आने लगी. ये सुन कर मेरा इंटेरेस्ट बढ़ गया. मैने सोचा आदित्या और प्रिया सेक्स कर रहे होंगे.

मैने आयेज जाना ठीक नही समझा, तो मैं उल्टे पावं वापस आने लगा. फिर जैसे ही मैं वापस आने के लिए आयेज बढ़ा, तो मुझे मेरी बीवी की आवाज़ आई. वो बोल रही थी-

निशा: आहह होंठ क्यूँ काट रही हो?

ये आवाज़ सुन कर मेरे पैर वही जम्म गये. मैं वापस मुड़ा, और उस रूम की तरफ जाने लगा. फिर मैने हल्के से रूम में नज़र डाली. जैसे ही मैने रूम में देखा, तो मेरी आँखें फाटती की फाटती रह गयी. मैने देखा निशा और प्रिया आपस में किस्सिंग कर रहे थे.

निशा सिर्फ़ ब्रा और जीन्स में थी, और प्रिया उपर से पूरी नंगी थी, और उसने सिर्फ़ एक स्कर्ट पहनी हुई थी. वो दोनो पागलों की तरह किस कर रहे थे. निशा साथ में प्रिया के निपल्स मसल रही थी, और प्रिया निशा के बूब्स ब्रा के उपर से दबा रही थी.

मुझे समझ नही आ रहा था, की मैं क्या करू. मुझे नही पता था की मुझे उनको रोकना चाहिए था, या नही. लेकिन जो भी था, उनको देख कर मेरा लंड खड़ा हो चुका था.

फिर निशा ने प्रिया के निपल्स को चूसना शुरू कर दिया. प्रिया निशा के सर को अपने बूब्स में दबाने लगी, और उसने पीछे से निशा की ब्रा का हुक खोल दिया. अब निशा के बूब्स भी ब्रा से आज़ाद हो गये.

प्रिया ने निशा के निपल्स को मसलना शुरू कर दिया. कुछ देर निशा ने प्रिया के बूब्स चूज़, और उसके बाद प्रिया निशा के बूब्स चूसने लगी. बूब्स चुस्वा कर निशा बहुत हॉर्नी हो गयी. उसने प्रिया को बेड पर लिटाया, और उसकी स्कर्ट और पनटी उतार दी.

प्रिया की छूट एक-दूं क्लीन थी. निशा ने अपना मूह प्रिया की छूट में डाला, और उसको चाटना-चूसना शुरू कर दिया. प्रिया आहह आ करने लगी, और निशा के सर को अपनी चूत में दबाने लग गयी. निशा कुटिया की तरह उसकी छूट चाट रही थी. वो उसकी छूट में अपनी जीभ अंदर-बाहर कर रही थी.

कुछ देर निशा ऐसे ही करती रही. फिर अचानक से प्रिया ने आहह आ करना शुरू कर दिया. ऐसा लग रहा था जैसे वो झड़ने वाली हो. फिर ऐसा ही हुआ, और प्रिया की छूट से माल की पिचकारी निकल कर सीधे निशा के मूह में गयी. निशा ने एक बूँद भी वेस्ट नही की, और उसका सारा माल पी गयी.

अब बारी प्रिया की थी. उसने निशा को नंगा किया, और उसकी छूट चाटने-चूसने लगी. वो अपनी जीभ से उसकी छूट छोड़ने लग गयी, और निशा उसके सर को अपनी छूट में दबाने लगी. 20 मिनिट प्रिया निशा की छूट छोड़ती रही, और उसके निपल्स मसालती रही. फिर निशा ने भी अपना पानी छ्चोढ़ दिया, और प्रिया उसको पी गयी.

अब दोनो हाँफ रही थी, और नंगी ही बेड पर लेट गयी. साँस लेते हुए दोनो के बूब्स उपर-नीचे होते हुए मस्त लग रहे थे. मेरा तो लंड फटने वाला हो गया था. मैं जल्दी से वाहा से निकल आया, और अपने घर के बातरूम में जाके मूठ मारी. 5 मिनिट बाद निशा वापस आई, तो मुझे देख कर हैरान हो गयी. उसने मुझसे पूछा-

निशा: आप कब आए?

मैं: बस अभी-अभी आया.

निशा: चलिए मैं पानी लेके आती हू.

वो इस बात से अंजान थी, की मैं उसका कार्यक्रम देख चुका था. लेकिन मैं सब जान चुका था.

तो दोस्तों कैसी लगी आपको मेरी कहानी, कॉमेंट करके ज़रूर बताए.

यह कहानी भी पड़े  रूमेट का लंड चूसने की सेक्सी कहानी


error: Content is protected !!