व्हातसपप से बेडरूम तक-1

ही फ्रेंड्स, इस स्टोरी में अकपको मैं वो कहानी बताने जेया रहा हू, जो मेरे साथ बीत चुकी है. इस स्टोरी का हीरो भी मैं ही हूँ और विलेन भी. पर इसकी हेरोइनस अलग अलग है जो आपको वक़्त आने पर पता चल जाएगा.

सबसे पहले मैं अपने बारे मे बतौ तो, मेरा नाम रॉनी है, मैं फिलहाल कॉलेज के फर्स्ट एअर मैं हूँ, मेरे पापा की एक पवत् कंपनी मे मार्केटिंग हेड की जॉब है जिसकी वजह से उन्हे कभी कभी आउट ऑफ सिटी भी ट्रॅवेल करना पड़ता है.

मेरी मम्मी, जिसका नाम स्वाती है और वो एक पवत् हाइ-स्कूल में टीचर की जॉब करती है. मुझसे 3 साल बड़ी सिस्टर है सपना, जिसकी शादी कुछ 2½ साल पहले हुवी थी, और वो अपने हब्बी के साथ अलग से सिटी में रहती है. और मुझसे 3 साल छोटी सिस्टर कृपा, गर्ल्स हॉस्टिल मे रह कर बोरडिंग मे पढ़ती है, वो अभी 11त में है.

मेरी मम्मी के 3 बचे होने के बावजूद भी आज वो 35 आगे की लगती है. पवत् स्कूल्स मे टीचर्स को अची टीचिंग के साथ अछा लुक्स भी होना चाहिए, शायद इस वजह से. मों ने अपने आप को जबरदस्त मेनटेन किया हुआ है. तो चलिए, अब आते है स्टोरी पे.

एप्रिल की 5 तारीख थी. वो दिन मेरी ज़िंदगी का टर्निंग पॉइंट दे होनेवाला था. क्लॉक में टाइम दिखा रहा था, 11:30, और अभी आधा घंटा बाकी था, मेरा खेल शुरू होने में.

मों बातरूम में नहा रही थी, शवर की आवाज़ आ रही थी. फिर अंदर से आवाज़ आई, “बेटे रॉनी, तू अभी तक निकला के नहीं? तेरे फ्रेंड्स तेरा वेट कर रहे होंगे, मोविए के लिए. जल्दी कर, 12 भजने वेल है.”

आक्च्युयली उस दिन के दो हफ्ते पहले से आपको बताता हूँ, जिस चीज़ से ये पूरी कहानी शुरू हुई. में मों की स्कूल मे ही पढ़ा हूँ, मेरे साथ में एक लड़की पढ़ती थी, जिसका नाम था धारा.

. वो मुझे बहुत अची लगती है. वो मेरे साथ स्कूल के टाइम से लेकर अब एक ही कॉलेज मे पढ़ती थी, कॉलेज मे आने के बाद वो एक काली से बदकार फूल(फ्लवर) बन चुकी थी.

उसका बॉडी अब उभर सा गया था. मेरी कज़िन सिस्टर निकिता(निकी), उसके साथ में थी. उसकी स्कूलिंग दूसरे सिटी से हुई है, पर मेरे ममाजी की पोस्टिंग मेरे सिटी मे होने से वो भी अब मेरे कॉलेज मे ही पढ़ती है.

उनका घर सिटी के दूसरे एरिया में है. धारा के बारे में ऐसी बात सुनने मे आ रही थी, की उसका किसी दूसरे कॉलेज के लड़के के साथ अफेर है, और वो वीकेंड पे उससे सेक्स करती है, जिससे उसकी बॉडी करीना से दीपिका जैसी हो गयी है.

ये सुनकर में बहुत डिस्टर्ब हो चुका था. मैने निकी से पूछा की ‘क्या धारा का कोई लवर है?’ तो उसने उल्टा मुझे ही ज़टका दिया, “तुझे क्यू जानना है ये सब. उसके पीछे बहुत सारे ऑलरेडी लगे हुए है. तू बस, अपनी पढ़ाई पे ध्यान दे, वरना आंटी से तेरी शिकायत लगानी पड़ेगी. ”

मुझे लगा, यहा से तो काम नही बनेगा. उस दिन रात को में करीबन 11. 30 बजे व्हातसपप पे लोगो के स्टेटस चेक कर रहा था, तो मम्मी का न्यू स्टेटस जस्ट डाला हुआ था, जिसमे उसने कोई दर्दभरी शायरी डाली हुई थी.

मैने उसका लास्ट सीन देखा तो वो ऑनलाइन दिखा रहा था. पापा उस दिन आउट ऑफ सिटी थे. मुझे आइडिया आया की क्यूँ ना मों से ही पूछा जाय धारा के बारे में.

पर फिर सोचा की अगर डाइरेक्ट पूछुगा तो सुबह निकी की तरहा वो भी दाँत लगाएगी. मैने मेरा एक पुराना नंबर जो में उसे नही करता था, उससे एक दूसरा व्हातसपप अकाउंट बनके मों को मेसेज किया.

मे: हेलो माँ. . . में अनिल, आपके हिग्सचूल का स्टूडेंट.

मों: ही.

मे: वो आपको अभी ऑनलाइन देखा तो मेसेज किया, कोई दिक्कत तो नही अभी?

मों: अरे, कोई नही. मैने तुम्हे पहचाना नही.

मे: अरे माँ, आप साइन्स स्ट्रीम मे पढ़ते हो, और मे कॉमर्स मे था, इसलिए कोई कॉंटॅक्ट नही था. पर में आपको जानता हूँ. आचे से.

मों: ह्म…

मे: अगर आप बिज़ी हो तो में कल बात करता हूँ.

मों: अरे नही, अब इस उमरा मे कहा बिज़ी होंगे.

मे: क्यूँ, आपके हज़्बेंड नही है?

मों: वो आउट ऑफ सिटी है, वर्क के लिए.

मे: ओह ई सी, जिनको मिलता है उनकी कदर ही नई होती.

मों: मतलब?

मे: अगर आप जैसी वाइफ हो तो उसे में कभी छ्चोड़ के ना जौ, एस्पेशली नाइट को.

मों: अब ये तोड़ा ज़्यादा हो रहा है. तुम बताओ की मुझे मेसेज क्यूँ किया, कुछ काम था?

मे: एस, माँ. आपकी स्टूडेंट धारा के बारे में कुछ पूछना था.

मों: क्या?

मे: में उसकी कॉलेज में हूँ, और उसे बहुत लीके करता हू…

मों: तो?

मे: जब वो चूल से निकली, तो वो एकद्ूम दुबली पतली थी, और अभी कॉलेज में एकद्ूम चेंज हो गयी है, जैसे कची केरी से एक पके हुए माँगो के जैसी…

मों: तुमको क्या करना उससे?

मे: माँ, सुनने मे आया है की, उसका किसी के साथ अफेर चल रा है, और वो उसके साथ सेक्स करती है, जिससे उसमे ये चेंजस आए है. क्या ये सच है?

मों: मुझे नही पता. और तुम्हे इससे क्या, वो उसकी पर्सनल लाइफ है.

मे: ई लोवे हेर माँ.

मों: बेटा, इस आगे में लोवे शुव कुछ नही होता, सबको बस एक ही चीज़ चाहिए.

मे: क्या माँ?

मों: सेक्स. सबको वही चाहिए लास्ट में. मान लो की धारा तुम्हारी गफ़ बनती है, तो क्या तुम उसे होटेल नही लेजाओगे क्या…?

मे: वो तो बाद की बात है, माँ.

मों: एस ओर नो?

मे: एस, माँ.

मों: वोही तो. तुम सभी को उससे ही मतलब है, सामने लड़की हो या कोई आंटी हो, तुमको सबसे बस वही चाहिए.

मे: आंटी और लड़कीो को भी तो मज़ा मिलता है ना माँ.

मों: हा, पर वो वफ़ादार होती है. तुम लड़को के जैसे हर जगह चान्स नही मार्टी.

मे: ऐसा नही है माँ, ई लोवे धारा.

मों: ओके, अभी में तेरे को प्रूव करके दिखती हूँ. सपोज़, की में तुम्हारी हेल्प करती हूँ धारा की दिलवाने में. और रिटर्न मे में चाहती हूँ की तुम मुझे भी सॅटिस्फाइ करो. तो तुम क्या करोगे ?

मे: आप दोनो को छोड़ूँगा.

मों: क्या?

मे: सॉरी माँ. वो ग़लती से निकल गया.

मों: इट’स ओक. मुझे पता है तुम बाय्स के वर्ड्स, मेरे हब्बी भी इन्हे उसे करते है. देखा, तुम्हे बस सेक्स ही चाहिए, फिर वो कोई भी औरत हो.

मे:नही, माँ. वो तो धारा के लिए आपने कंडीशन रखी, इस लिए मैने बोला. वरना तो आप मेरे मों जैसी हो… ई मीन उन की आगे की हो.

मों: ओह अछा जी. अब चलो मान लो की तुम धारा के पीछे लगे हुए हो, तुम्हे पता है की वो तुम्हारे साथ घूमेंगी, तुम्हे खर्चा कराएगी, पर तुमसे सेक्स नही करेगी. और दूसरी तरफ, में रेडी हूँ, तुमसे छुड़वाने के लिए, ना कोई खर्चा, ना कोई टीमेपस्स, तुम जब मर्ज़ी चाहो तब मेरे पास आओ और सीधा मुझे सॅटिस्फाइ क्रो. तो इन्न दो हालाटो में तुम कौनसा पसंद करोगे ??

मे: (मों के मूह से छुड़वाना शब्द सुन कर और इस सेक्सी छत से मेरा लंड हार्ड हो चुका था, में भी शॉक्ड था की मों, एक अजनबी लड़के से इस तरहा ओपन्ली बात कर रही है. कुछ देर तो मैं धारा को भूलकर मों को न्यूड इमॅजिन करने लगा. मुझे पता चल गया की मों अभी गरम है, इसलिए मैने उसे और उकसाया तोड़ा. ) : ये तो डिफिकल्ट है मेडम. एक तरफ लोवे है और दूसरी तरफ सेक्स. मेरी जगह पे आप होती तो क्या करती.

मों: ऑफ कोर्स, सेक्स ही चूज़ करती. जिस रास्ते पे मंज़िल का कोई ठिकाना नही, उसपे टाइम क्यू वेस्ट करना.

मे: बात तो आपकी सही है माँ. धारा को तो में रोज़ देखता हूँ पर आपको रीसेंट्ली देखा नही है, इसलिए डिसाइड नही कर पा रहा. अगर आपकी कोई फोटो भेज देते तो, आसान रहता चूज़ करने में.

मों: अछा जी, तो ये बात है. रूको में तुम्हे तोड़ा लिव दिखती हूँ. (और मों ने कुछ देर बाद अपना सेल्फिे वीडियो भेजा, जिसमे वो कॅमरा अपने चेहरे से नीचे तक लेके जाती है.

मों ने मस्त ब्लॅक कलर की माक्ष्य और लाइट पिंक लिपस्टिक डाली हुई थी. वो अपने चेहरे पे गजब से सेक्सी एक्सप्रेशन दे रही थी. अपने होंठो को दबाकर, किस का इशारा करते हुए वो जैसे इन्वाइट कर रही थी, “की, आओ और मुझे छोड़ो”.

उसके आधे से ज़्यादा बूब्स दिखाई दे रहे थे. वो अपने बूब्स को दूसरे हाथ से सहला रही थी. फिर कॅमरा नीचे ले गयी तो उसकी मांसल जांगे एक दूं दूध जैसी थी.

वो धीरे धीरे अपनी मॅक्सी को उपर खिच रही थी, उसकी छूट दिखने वाली थी की वीडियो ख़तम हो जाता है. जैसे मैने वीडियो देख लिया, वाहा से मों ने उसे डेलीट कर दिया. मॅन किया की सवे कर लिया होता तो अछा होता.

मुझे लगा की मों ने ये वीडियो आज मुझ से बात शुरू करने के पहले बनाया होगा, और किसी को भेजा होगा. और वोही वीडियो मुझे लास्ट में सीन कट करके भेजा, क्यूंकी वो अपनी मॅक्सी आधी उठाई रहती है, और वीडियो बीच मे से ही एंढो जाता है.

मैने सोचा की ये पापा के लिए था, या फिर मों का कोई और लवर है, जिससे वो पापा की आब्सेन्स में ऐसे वीडियो सेक्स छत करती है. मैने मों का फोन कल सुबह चेक करने का डिसाइड किया. )

मे: वाउ, माँ. इस उमरा मे भी आप एकद्ूम सेक्सी लग रही है. तुम्हारे हब्बी की तो हररोज़ दीवाली होती होगी. . . नही ??

मों: घर की मुर्गी डाल बराबर. . . तुम ये सब छोड़ो, तुम ये बताओ की अब डिसाइड हुआ के नही ?

मे: एस, माँ. शुवर आपकी ही में लेना चाहूँगा. आप धारा से कम थोड़ी ना हो फिगर के मामले में.

मों: लो, हो गया ना मेरा पॉइंट प्रूव. तुम्हे एक सेक्सी सी क्लिप क्या दिखाड़ी, तुम अपना बरसो का प्यार छोड़कर मेरे साथ आ गये. यही तो मैं बताना चाहती हूँ की तुम बाय्स/मर्दो को तो बस सेक्स करने से मतलब है. फिर वो चाहे तुम्हारे आगे की कॉलेज की गर्ल हो या फिर तुम्हारे मम्मी की आगे की मेडम.

तुम्हे तो बस छोड़ने से मतलब है. जब गफ़ देती है, तो उसकी बेस्ट फ्रेंड की लेनी होती है, और अगर बीवी आचे से देती हो फिर भी, बीवी की बेहन, पड़ोसी की बीवी, ऑफीस की सेक्रेटरी सबकी छाईए तुम लोगो को.

मे: लगता है, अपने हब्बी की फ्रस्ट्रेशन मुझ पे निकल रही हो. अगर में वाहा पे होता तो, अभी आपको छोड़कर सारी फ्रस्ट्रेशन निकल देता. सुना है की, गुस्से मे औरत और ज़्यादा वाइल्ड होकर सेक्स करती है.

मों: मुझे तुझसे कुछ नही चाहिए. मे तो जस्ट तुझे पूरा सीन संजा रही थी. ई’म हॅपी इन मी फॅमिली.

मे: माँ, आप अपनी फॅमिली में ज़रूर हॅपी होंगे, आस आ मदर, आस आ टीचर, बुत आस आ वाइफ, एक औरत के तौर पे आप आज भी अनसॅटिस्फाइड हो, उतना तो पता चल गया मुझे आपकी बातों से.

मों: सो वॉट…?

मे: आप बस मुझे एक चान्स दीजिए, में आपको पूरी रात सोने नही दूँगा, मेरे पास एसी ट्रिक्स है, जिससे आपको जन्नत की सेर कार्ओौनगा. और जब आपको लगे की, आपकी सेवा अची हो रही है, तब आप मुझे धारा की भी दिलवा देना.

मों: ह्म… लेकिन क्या तुझे कोई दिक्कत या शर्म नही आएगी, अपनी मों जैसी, उनकी आगे की औरत को छोड़ने में…?

मे: आप मों जैसी हो, मों तो नही हो ना. और मॅरीड लॅडीस को छोड़ने के अपने फ़ायडे है ?

मों: जैसे की…?

मे: गफ़ की तरहा कोई खर्चा नही, घूमने में टाइम वेस्ट नही, होटेल मे रूम बुक करने की कोई टेन्षन नही, जब कभी घर पे कोई और ना हो तब छोड़ आओ स्वेता माँ को, पड़ोस में कोई पूछे तो बोल देना की बेटे का फ्रेंड है, इंग्लीश सीखने आता है.

मों: बहुत बढ़िया…

मे: और मैं 2 बेनिफिट्स तो बाकी है.

मों: वो क्या?

मे: मॅरीड लेडी एक्सपीरियेन्स्ड होती है, इसलिए पूरा खेल वो खुद ही हॅंडल कर लेती है. छूट मरने के अलावा जो भी एक्सट्रा चीज़ है, उनके लिए ज़्यादातर माना नही करती. गफ़ तो छूट भी मुश्किल से देती है.

मों: ह्म… और दूसरा?

मे:कॉंडम नही लगाना पड़ता. वो खुद मॅनेज कर लेती है. और अगर किसी को बचा रह जाता है, और उसे वो चाहिए तो बिल उसके हब्बी के नाम पे फटता है.

मों: बहुत, नालेज है. . . तुम्हे इन सबकी.

मे: एस, माँ. इंटरनेट. पॉर्न साइट आंड देसीकाहानी स्टोरीस से. थियरी तो है, बस प्रॅक्टीस करना है. और अपनी टीचर से अछा प्रॅक्टिकल कौन करवाएगा?

मों: बात तो सोचनेवाली है.

मे: हा, माँ. एक और चीज़. अगर काश आप मेरी मों होती, और मुझे पता चलता की मेरी मों अनसॅटिस्फाइड है, और वो बाहर किसी से चूड़ने को रेडी है, तो उससे पहले में कुछ जुगाड़ करके आप को यानी मेरी मों को भी छोड़ देता.

मों: बदतमीज़, अपनी मों के बारे में ऐसी सोच है तेरी?

मे: मैने कहा, तुम्हारे जैसे सेक्सी और अनसॅटिस्फाइड मों है तो. वैसे देखा जाए तो, मों भी एक औरत ही है ना. सपोज़, की मैं आपको छोड़ रहा हूँ और आपके बेटे ने ये देख लिया, तो उसके दिल पे क्या बीतेगी ? वो यही सोचेगा, की मों को अपनी फीलिंग्स को कंट्रोल करना चाहिए था, और अगर नही हो पा रही, और पापा भी सॅटिस्फाइड नही कर पा रहे, तो मुझसे हेल्प मंगली होती, कम से कम घर की बात घर्मे तो रहती.

मों: ह्म…

मे: और वो सोचता की, “क्या पता, बाहर का लड़का, मम्मी के साथ चुदाई की वीडियो बना कर उन्हे पैसे के लिए ब्लॅकमेल करे, मों को अपने दूसरे फ्रेंड्स से भी छुड़वाने को मजबूर करे, या फिर मों का ये वीडियो मों की बेटी को भेजकर उसको ब्लॅकमेल करके उसकी कमसिन छूट के भी मज़े ले.”

मों: अरे, ये तो मैने कभी नही सोचा, की ऐसा भी हो सकता है… क्या तुम भी ये सब मुझे छोड़ने के बाद करते मेरे साथ??

मे: माँ, अगर मुझे ऐसा करना ही होता तो अभी आपको छोड़ने से पहले ये सब बताता क्या? मुझे तो यभी पता नही की आपकी कोई बेटी है या नही. . . मुझे कोई मतलब नही है आपकी बेटी से या आपके पैसो से. मुझे तो सिर्फ़ धारा की छूट से मतलब था, और अब आपकी छूट से है. तो, माँ कब अओ आपके घर मेरी स्वेता मम्मी को छोड़ने के लिए?

मों: मुझे सोचना पड़ेगा… कल तुझे में बताती हूँ.

मे: ठीक है माँ. पर जल्दी बताईएएगा. पहले लंड धारा की छूट के लिए बेकरार था, अब आपकी छूट के लिए. कब से खड़ा हुआ है तुम्हारी सेवा करने के लिए.

मों: सबर रख… सबसर वेल लॉड ही छूट को पाते है और बाकी तो बस हिलाते रह जाते है. तू भी अब हिलाके सोजा, कल शाम को बताती हूँ मैं सोच के.

मे: ठीक है, माँ. पर वो आपका वीडियो दुबारा भेजो, मुझे मेरे लंड का पानी निकलना है. पहले धारा के नाम पे, और आज से जब तक ये आपकी छूट मे नही जाएगा, तब तक हर रोज़ पानी स्वेट के नाम से ही निकलेगा.

मों: ज़्यादा ओवर कॉन्फिडेन्स में मत रह. कल तक वेट कर ले. और हा, वीडियो नही. एक फोटो भेजती हूँ अपनी, फिलहाल उसी से काम चला ले.

मे: ठीक है, पर एक दूं सेक्शी वाली भेजना.

मों: ओक, ढूँढती हूँ, बाइ.

मे: बाइ, गुड नाइट.

रात के पोने 1 बझ रहे थे. मों ने एक सेक्सी सी फोटो भेजी, जिनमे वाइट स्लीव्ले टशहिर्त पहनी थी, जो शवर मे गीली थी, और उसके ब्रा और बूब्स का पूरा शेप दिखाई दे रहा था, और साथ में वो पाउट भी बना रही थी.

उस रात मैने पहली बार अपनी मों के नाम की मूठ मारी. कसम से, आज से पहले इतना पानी कभी नही निकला. और में सोने चला गया. और उस व्हातसपप की छत को स्क्रीन शॉट्स लेकर दोनो को हाइड कर दिया.

तो फ्रेंड्स, कैसा लगा फर्स्ट पार्ट. कॉमेंट करके ज़रूर बताईएएगा. मेरे अगले पार्ट मे आप जाँएंगे की क्या मों मेरा ऑफर आक्सेप्ट करती है या नही? क्या मुझे धारा की छूट मिल पाती है की नही? वेट टिल थे नेक्स्ट एपिसोड.

यह कहानी भी पड़े  चाची के साथ दीदी भी चुद गयी-1

error: Content is protected !!