ट्रेन मे भाई से सुहागरात–1

मेरा नाम बलविंदर कौर है और घर वाले प्यार से मुझे बिल्लो कहते हैं.भाई का नाम जसविंदर है और हम उसा जस्सी कह कर पुकारते हैं.
मोम को देल्ही में कुछ ज़रूरी काम था और वो जम्मूतवी ट्रेन से देल्ही जा रही थी..घूमने के बहाने भाई मोम के साथ हो लिया तो मैं भी जाने की ज़िद करने लगी तो मोम मान गयी.दर असल जो मज़ा आजकल मुझे भाई की छेड़ खानी मे आ रहा था उस से मैं महरूम रह जाती.ज़रा सा मौका मिलते ही भाई कभी मेरी चुचि दबा देता तो कभी चुम्मा ले लेता था.

हम नकली लड़ाई भी लड़ते रहते थे जिसमे कभी वो मेरे उप्पर चढ़ कर फ्रॉक हटा कर मेरी गांद मे लंड गढ़ाता और चुचियाँ मसलता तो कभी मैं उसके लंड को भींच देती.जवानी मे कदम रखते ही मज़ा आ रहा था.इसी मज़े की मारी मैं भाई और मोम के साथ चल पड़ी.मज़े की सुरुआत भाई ने ट्रेन मे चढ़ते टाइम ही मुझे सहारा देने के बहाने मेरी चुचि दबा कर की.सफ़र का पूरा लुतफ उठाने के लिए मेने ब्रा पहनी ही नही थी. फिर भाई ने मेरी गांद पे भी चिकोटी काट ली.मेने गांद को सहलाते हुए भाई को एक हल्का सा मुक्का मारा.मोम हमारे आगे थी इसलिए उन्हे कुच्छ पता नही था कि पिछे उनके लाड़ले बेटा बेटी क्या गुल खिला रहे हैं.

हम एसी-2 के कॅबिन के अंदर दाखिल हो गये ….प्राइवसी के लिए भाई ने पर्दे खींच दिए.यहा से 3 बजे के करीब ट्रेन चली . मोम ने नीचे की बर्त पे पसरते हुए कहा क मुझे रेस्ट करने दो, तुम उपर की बर्त पे चले जाओ.भाई ने वहीं खड़े हो कर टवल लपेट कर जीन्स उतारी और सफ़र के लिए एलास्टिक वाला पायज़मा पहन लिया.मेने गौर किया कि जीन्स के साथ भाई ने अंडरवेर भी उतार दिया था…मुझे लगा कि आज तो मुआ चोद के ही मानेगा.ये सोच कर ही मेरी चूत गिल्ली हो गयी.मेने मोम को सुनाते हुए भाई से कहा कि वीर जी थोरी देर के लिए कॅबिन से बाहर जाओ, मेने भी कपड़े चेंज करने हैं.

मोम बीच मे बोल पड़ी “अरी अब कहाँ जाएगा ये, बेटे जस्सी उधर मूह फेर ले..बिल्लो कपड़े चेंज कर लेगी.भाई ने दूसरी तरफ मूह कर लिया.मैं सलवार उतारने लगी लेकिन गोल गाँठ लगने की वजह से मेरी सलवार का नारा नही खुला तो मैं मोम के नज़दीक गयी और नारा खोलने की रिक्वेस्ट की .मोम ने मूह से खोलने की नाकाम कोशिश की और थक हार कर लेट गयी और जस्सी से बोली कि बेटे तेरे दाँत मजबूत हैं,बिल्लो का नारा खोल दे.मैं बोल पड़ी…क्या भैया से ? मोम मेरी बात को अनसुना करके बोली कि कल तक तो तुम्हे इकट्ठा नहलाती थी अब इतना शरमाती है, और जस्सी को कहा कि बेटे नारा खोलते टाइम तुम आँखें बंद कर लेना,और बिल्लो अगर तुम्हे ज़्यादा शरम आए तो तू भी आँखे बंद कर

लेना,अब मुझे रेस्ट करने दो. मेने देखा कि भाई की नज़र मेरे सलवार के नारे पे थी जिसे मैं अभी भी हाथ से पकड़े हुए थी. भाई ललचाई नज़रो से मुझे देखते हुए सामने के बर्त पे बैठ गया. मेने देखा कि मोम ने भी दूसरी तरफ मूह फेर लिया था.मैं शरमाती सी आगे बढ़ी और सलवार के नारे का सिरा भाई को पकड़ा दिया और शर्ट को चुचिओ तक उपर उठा दिया.भाई ने एक हाथ मेरे हेवी चूतड़ पे रखा और मेरी नाभि को चूम लिया.फिर भाई जीभ नाभि मे डाल कर घुमाने लगा.मेरे सारे बदन मे करेंट सा दौड़ने लगा.फिर भाई दांतो से सलवार का नारा खोलने लगा और जल्दी ही सलवार खुल कर मेरे पैरों मे जा गिरी.भाई ने तेज़ी से मेरी चढ्ढि नीचे खिसका दी और दोनो हाथ मेरे चूतदों पे लगा कर मेरी फूली हुई चूत का चुम्मा ले लिया. आज सवेरे ही मेने चूत को साबुन की तरह चिकना बनाया था.

मेने मूड कर मोम को
देखा, वो अभी भी दूसरी तरफ मूह करके लेटी हुई थी .जब भाई ने चूत पे जीभ फेरना शुरू किया तो मेने मूह पे हाथ रख के सिसकारी को रोका. मेने भाई को कंधा पकड़ कर हिलाया, उसने मेरी तरफ देखा तो मेने उपर वाली बर्त पे चलने का इशारा किया.फिर मेने भी चढ्ढि और शर्ट उतार कर नाइटी पहन ली, ब्रा तो मे पहले ही उतार कर चली थी.मोम ने हमारी तरफ देखे बगैर ही पुछा ” बेटी नारा खुल गया क्या ?”.मेने कहा कि हाँ मम्मी मेने कपड़े भी बदल लिए हैं.मोम बोली कि अच्छा बेटी, अब तुम भी रेस्ट कर लो”. मैं बोली कि मम्मी
हम उपर वाले बर्त पे लेट जाते हैं . मोम ने कहा कि ठीक है बेटा, जहाँ तुम्हारा दिल करे ,

सारे कॅबिन मे हम तीन ही तो हैं.मोम के ठीक उपर वाली बर्त पे पहले मैं उपर चढ़ि तो भाई ने दोनो हाथों से मेरे कूल्हे पकड़े और मेरे चूतदों के बीच मूह गढ़ा कर मुझे उपर चढ़ाया.फिर भाई भी उपर आगाया और साथ लेट कर मुझे बाहों मे भर लिया. मैं डरती हुई भाई के कान मे फुस्फुसाइ “भैया कहीं मम्मी ने देख लिया तो? भाई मेरे कान से मूह लगा कर धीमी आवाज़ मे बोला ” मम्मी हमारे ठीक नीचे वाली बर्त पे आँख बंद करके लेटी हुई है, उसे हम नज़र नही आएँगे.”फिर तो हम एक दूजे से लिपट गये, हमारे होंठ जुड़ गये.मेने भाई के मूह मे जीभ डाल दी तो भाई भी मेरी जीभ चूस्ते हुए नाइटी के अंदर हाथ डाल कर मेरी चुचि दबाने लगा.उमड़ता हुआ तूफान चूत की तरफ इक्कथा हो रहा था.भाई का लंड खड़ा होकर मेरी चूत पे गाढ़ने लगा.मेने भाई का पायज़मा नीचे खिसका दिया और गरम मोटे लॉड को हाथ मे ले लिया.भाई ने भी मेरी नाइटी उपर सरका दी और मेरी चूत को मुति मे भींच दिया.

यह कहानी भी पड़े  बेटे ने लिया मा की मोटी गांद का मज़ा

मैं फुर्ती के साथ नाइटी कमर तक उठा कर भाई के उपर इस तरह हो गयी कि उसका लंड मेरे मूह के पास था और मेरी चूत उनके मूह पर. मेने मोटे लंड का सूपड़ा चाटना शुरू किया तो भाई भी जीभ निकाल कर मेरी चूत को चाटने लगा..फिर मैं लौदे को गले तक निगल कर मूह को उपर नीचे करने लगी तो भाई भी चूत के टींट से लेकर गांद के छेद तक चाटने लगा.सफ़र का बड़ा मज़ा अरहा था.मे 2 मिनिट मे ही खलास हो गयी.भाई चूत से निकला सारा कुँवारा अमृत पी गया.थोड़ी देर की सुस्ती के बाद मे फिर लंड को चूसने लगी क्योकि भाई अभी नही झाड़ा था.भाई की जीभ ने फिर कमाल दिखाना शुरू कर दिया…

जीभ की नोक चूत के टिंट को गिट्टार बजाने की तरह छेड़ रही थी.मैं दुबारा झड़ने लगी तो भाई ने भी नीचे से झटका सा मारा और लंड के पानी की
तेज बोच्चरें मेरे गले से टकरा कर नीचे उतरने लगी. लंड को दबा दबा कर मैं आखरी बूँद तक चाट गयी. थोड़ी देर के बाद मैं सुसू करने के लिया गई. आगे के कॅबिन में एक स्मार्ट लड़का था . उस ने मुझे देखा में ने भी उसे देखा और फिर में टाय्लेट चली गई, वो भी
टाय्लेट के बाहर आ कर खड़ा हो गया, मैं जैसे ही निकली उस ने मुझ से पुछा आप कहा जा रही हो तो में ने बताया कि में अपनी मोम और भाई के साथ देल्ही जा रही हूँ, मैं वही खड़ी होकर उस से बातें करने लगी , उस ने बताया कि वो अपनी सिस्टर को लेकर देल्ही जा रहा है फिर मैं उस की सीट पे बैठ गई और उस की सिस्टर से बातें करने लगी ,

में ने ध्यान दिया कि वो लड़का बार बार मेरी चुचि की तरफ देख रहा है, में ने भी उसे छूट देदी और अपना दुपट्टा थोड़ा नीचे कर दिया , फिर में ने कहा कि मैं अपनी मोम और भाई से कह कर
आती हूँ कि में यहा बैठी हूँ नही तो मोम परेशान होगी, और मैं अपनी मोम के पास चली गई और जा कर कहा कि मेरी एक फ्रेंड मिल गई है मैं उसी के पास बैठने जा रही हूँ, मोम ने कहा ठीक है तुम भैया के साथ चली जाओ, ट्रेन करीब करीब खाली ही थी कुछ ज़्यादा लोग नही थे , मेरा भाई भी मेरे साथ आगेया, मेरा भाई और मैं दोनो ही मिलन के लिए मरे जा रहे थे..

ख़ासकर मेरा दिल तो बस भाई से चुदाई के लिए तड़फ़ रहा था .पर हम आपस मे शरमाते थे.यह अलग बात है के वो भाई का प्यार दिखाने के लिए मुझे बाहों मे भर लेता,मेरे गाल का चूमा ले लेता और कई बार मेरे चूतादो पर चिकोटी भी काट लेता पर चुदाई के अरमान हम दोनो के दिल मे ही थे.आज हम बहुत आगे बढ़ चुके थे.मुझे इस बात का पूरा अहसास था कि भाई आज मेरी ज़रूर लेगा . ये तो हम जानते थे के एक बार बस शुरुआत हो गई तो फिर हम सारी कसर निकाल देंगे.एक दूसरे से पहल करने की उम्मीद लगाए बैठे थे.

हम वाहा पे बैठ कर बातें करने लगे तो मेरे भाई ने मेरे कान मे कहा कि दीदी वो लड़का तुम्हारी चुचि को देख रहा है तो में ने कहा हां मुझे मालूम है इसी लिए तो दिखा रही हूँ ,तुम भी उसकी बेहन को अपना निकाल कर दिखा दो. हम बातें करते रहे फिर उस लड़के की सिस्टर को सुसू लगी और वो सुसू करने चली गई, मुझे मोका मिल गया, और में ने उस लड़के से बात करना शुरू कर दिया उस ने एक किताब ली हुई थी, हम ने अभी बातें शुरू ही की थी कि उस की सिस्टर वापिस आगाई, और वो उठ कर जाने लगा तो में ने पुछा आप कहा जा रहे हो तो उस ने कहा में बाथरूम जा रहा हूँ तो में ने कहा कि ज़रा ये बुक देते जाए तो उस ने कहा नही में ये बुक नही दे सकता,

में समझ गई कि ये कॉन सी बुक है, फिर भी मैने उस के हाथ से बुक लेने की कोशिश की और कहा प्ल्ज़ बुक दीजिए ना जब आप आओगे तो मैं बुक दे दूँगी और झटके से बुक मेरे हाथ में आगाई , मालूम नही उस ने क्या सोचा और चुप चाप वाहा से चला गया जब में
ने बुक खोला तो उस के अंदर एक बुक थी, जब में ने उस बुक को खोला तो मेरे शक सही निकला वो एक सेक्सी स्टोरी की बुक थी. मैं और मेरा भाई दोनो ही उस बुक को पढ़ने लगे हम ने थोड़ी देर में ही सारी स्टोरी पढ़ ली,स्टोरी भाई बेहन की चुदाई की थी.मेने उस लड़की से पुछा के तुम्हे पता है के तुम्हारा भाई कैसी किताब पढ़ता है तो उसने कहा इसमे हैरानी की क्या बात है,हम तो अक्सर दोनो इकट्ठे पढ़ते हैं . आजकल तो भाई बेहन का लव अफेर आम बात है.क्या तुम अपने भाई से प्यार नही करती?”

यह कहानी भी पड़े  कमसिन बेटी की महकती जवानी-3

मेने कहा के प्यार तो हम भी आपस मे करते हैं पर ये किताब वाला प्यार नही. इस पर वो बोली के” इसका मतलब है के असली स्वाद तो तुमने अभी चखा ही नही
है, गरम पानी से घर नही जला करते, आग मे डूब कर देखो”और फिर बुक को हाथ में लेकर बैठ गई थोड़ी देर में वो लड़का वापिस आया, तो में ने उसे बुक देते हुए कहा इस बुक की कहानी बहुत अच्छी है , इसी बीच उस की सिस्टर उपर के बर्थ पे सोने चली गई, जब में ने उस से उस बुक की तारीफ की तो वो समझ गया कि लाइन क्लियर है, तो उस ने मुझ से धीरे से कहा कि अगर आप अपने भाई
को जाने को कहो तो में एक और बुक देता हूँ उस में इस से भी अच्छी कहानी है तो में ने उस से कहा कि कोई बात नही है मेरा भाई और में एक दम दोस्त की तरहा है आप हमे बुक दो हम साथ में पढ़ेंगे,

तो उस ने इशारे से पुछा की बुक पढ़ने दूँगा तो कोई फ़ायदा होगा क्या?
तो में ने भी कह दिया रात होने दो कुछ ना कुछ तो फ़ायदा दिलाउन्गि, इस पर उस ने कहा कि तुम अपने भाई से खुली हो तो उसे भी कुछ फ़ायदा होगा, तो में ने अपने भाई से कहा क्यू तुम्हे इस से कुछ फ़ायदा होगा और आँख मार दी तो मेरा भाई ने मेरी चुचि अपने हाथ से दबाते हुए कहा हां होगा, इस पर वो खुश हो गया और अपने बॅग से एक बुक निकाल कर दिया वो रंगीन बुक थी उस में एक
से बढ़ कर एक फोटो और कई कहानिया थी मेने उस से कहा कि में बुक लेकर अपनी मोम के पास जा रही हूँ क्योंकि अगर वो यहा पे आगाई तो ग़लत समझेंगी तुम थोड़ी देर बाद अपनी सिस्टर को मेरे पास भेजना वो मुझे बुलाकर यहा पे ले कर आएगी तब तक रात भी हो जाएगी और फिर हम सब को फ़ायदा हो जाएगा.इस पर उस ने कहा ठीक है में ऐसा ही करूँगा,

फिर में और मेरा भाई वो बुक लेकर मोम के पास आए, और फिर में उपर के बर्त पे चली गई और उस में रंगीन फोटो देखने लगी, थोड़ी देर में भाई भी उपर आया और मेरे साथ फोटो देखने लगा और मेरी चुचि दबाने लगा, में फोटो देख कर काफ़ी हॉट हो चुकी थी, में ने अपने भाई
का हाथ पकड़ कर सलवार के नारे पर रख दिया.वो समझ गया और धीरे से मेरी  सलवार का नारा खोल कर मेरी बाल रहित योनि के ऊपेर हथेली रख दी. तवा गरम हो चुका था. मेने उसकी हथेली को अपनी चूत के ऊपेर दबाया तो वो मेरी चूत को मुति मे भरने लगा ,फिर चूत मे उंगली करने लगा और मेने भी आहिस्ता से उसका पयज़ामा खोल कर विकराल लंड को थाम लिया. हाए कितना मोटा
और गरम था.मेरे बदन मे मज़े की मद होशी सी छाने लगी.मेने एक बार नीचे झाँक कर देखा,

मोम हमारी बर्त के बिल्कुल नीचे आँखें बंद किए लेटी हुई थी.बेफिकर हो कर मेने भाई के लंड का चुम्मा लिया. मैं लंड को मूह मे भरने लगी तो कुच्छ आहट सी हुई.सर उठा कर देखा तो उस लड़के की बहेन थी .वो मेरी मोम से मिली थोड़ी देर बाद उस ने मुझ से कहा चलो ना वही पे बैठते है तो मेरी मोम ने कहा की हां हां तुम लोग जाओ अपनी फ्रेंड के साथ , भाई को भी साथ ले जाओ मगर जल्दी अजाना और खाना खा लेने फिर खाना खा के चली जाना, हम ने कहा ठीक है, मगर जब हम वाहा पे गये तो वो लड़का वही पे बैठा था उस ने अपनी सिस्टर को थॅंक्स कहा ,

और फिर हम बातें करने लगे, बातो बातो में पता चला कि वो दोनो सगे भाई बहेन है मगर वो भी आपस में चुदाई का मज़ा लेते है, उस लड़की ने मुझ से खुल कर कहा कि “घर पे कई दिन से मौका नही मिल रहा था,मैं आज मेरे भाई से चुदवाउन्गि, मुझे खुशी हुई कि अब कोई डर नही है हम आराम से चुदाई का मज़ा ट्रेन में भी ले सकते हैं,



error: Content is protected !!