सुरेखा की कुवारी चूत

हेलो फ्रेंड्स मैं पिछले कई सालो से डीके का पाठक हू और कई बार सोचा की मैं भी अपनी देसी सेक्स स्टोरी आप सब के साथ शेयर करू लेकिन नही कर पाया पर आज मैं अपने प्यार की चुदाई के बारे मे आप सब को बता रहा हू.

मेरा नाम नागेंद है कलर वेथलीस वैसे दिखने मे हॉट और दिखने मे ठीक ठाक हू मैं 25 ईयर और रायपुर से हू.

बात आज से करीब 3 साल पुरानी है जब मैं 22 का था और मेरी जीएफ़ 23 की जो की मुझसे 1 साल बड़ी थी, मेरी जीएफ़ का नाम सुरेखा जो बहोत ही खूबसूरत और गोरी चिट्टी है.

वो गर्मी के दीनो मे अपने मामा के घर आई थी घूमने जो की उनके मामा का घर और मेरा आमने सामने है, तो जब वो हमारे घर बैठने आई थी तो मैने बोला की आपके गाओं मे मेरे लायक कोई लड़की होगी मेरे कास्ट की क्यूकी वो शाहू थी और मैं पटेल.

तो वो बोली की अपना नंबर दे दो फिर मैं बताउंगी फिर वो अपने घर चली गई और जाते ही 2-3 दिन बाद मुझे मिस कॉल की और मैं रिटर्न कॉल किया तो वो बोली की ये एक लड़की है जिसे तुम बोले थे जीएफ़ के लिए तो बात कर लो.

फिर जब जब मैं उस लड़की से बात करता तो सुरेखा उससे मोबाइल छिन लेती और खुद ही मुझसे बात करने लग जाती और जब भी उस लड़की से मेरी बात होते रहती थी तो वो चिढ़ जाती तो मैने पूछा की तुम हम दोनो के बीच बार बार क्यू आ जाती हो तो उसने बोला की वो मुझे चाहने लग गई है तो अब वो उससे बात नई करने को बोली और मुझे भी आई लव यू बोलने पर मजबूर कर दिया, फिर हम रोज ढेर सारी बात करते और मैने उसे एक मोबाइल भी दे दिया था तो हम रात को भी बात देर तक बात करते थे.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त के साथ मिल कर हाईफाई औरत की चूत गांड की चुदाई की-1

अब तो लगभग हमारा प्यार 1 साल हो चुका था तो मैं उससे एकदम से घुल गया था और मैं उससे कुछ भी बात कर देता हज़्बेंड वाइफ के बीच होने वाली सब बात मैं उसे पूछता और कुछ मैं भी बताता.

हम अब फोन सेक्स भी करते थे, क्यूंकी वो मुझसे बड़ी थी और उसके घर वाले उसकी शादी के लिए लड़का भी देख रहे थे जिसके कारण से वो रोज टेन्षन मे रहती थी.

तो मैने उसे किसी तरह समझाया और वो शादी के लिए मान गई, क्यूंकी हम अलग अलग कास्ट के है इस कारण से हमारी शादी नही हो सकती तो अब उनका रिश्ता भी तय हो गया.

अब मैं उनके फॅमिली मे जाता ही रहता था तो मेरा उनसे एक अच्छा रिश्ता भी बन गया था अब उनकी शादी का दिन आया और मेरी सुहाग रात का तो वो दिन था जब शादी स्टार्ट होती है वो दिन जब चुलमाटी लाया जाता है हमारे .गाओ मे उस शाम.

मैं और सुरेखा उसके बगल वाले के घर पे जो डबल मंज़िल का है, उसके घर भी कोई नई था सब शादी मे दूसरे गाओं गये थे और बस एक लड़की ही थी घर मे जिससे सुरेखा का अच्छा जमता था तो उसने बोला की हम कुछ देर उपर वाले रूम मे है अगर कोई आए या हमारे बारे मे पूछे तो मत बताना की हम यहा है.

और हम उपर रूम मे चले गये और जाते ही मैने दरवाजा बंद किया और मेरी जान को अपनी बाहो मे जकड लिया और उसे बेतहाशा हो के चूमने लगा उसके होट को गाल को गर्दन को फिर उसने बोला हमारे पास टाइम नही है जो भी करना है जल्दी करो तो फिर मैने चटाई बिछाई और उसे लिटा दिया और उसके कपड़े उतारदिए जो की उसने पहने थे टी शर्ट और अपने भाई का लोवर.

यह कहानी भी पड़े  गर्लफ्रेंड मेघना का बड़ा ही मस्त ब्लोवजोब

और अब मैं भूखे भेड़िए की तरह उसके उपर बैठ कर उसके होटो को चूमा और और उसके बूब्स दबाते जा रहा था और चूस भी रहा था और वो मेरे पैंट के उपर से ही मेरा लॅंड सहला रही थी अब हम दोनो एकदम गर्म हो चुके थे और वो तो एक बार झड़ चुकी थी.

अब मैने अपने सारे कपड़े उतार फेका और उसकी पैंटी और ब्रा भी उतार दिया अब हम दोनो एकदम नंगे ही थे उस कमरे मे अब मैं सुरेखा को बोला की मेरा लॅंड चूसो तो उसने मना किया क्यूकी वो एकदम देहाती लड़की थी गाओं की तो मेरे कहने पे कुछ देर मूह मे डाला और बोलने लगी अब बस जानू मुझसे और सहन नही होता बस डाल दो अपना लॅंड मुझसे सहन नही हो रहा.

तो मैने उसे बोला रूको मेरी जान कुछ देर तुम्हे जन्नत का सैर और करादु फिर मैं झट से अपना मूह उसकी चुत पे रख दिया कितना गोरा साफ किया हुआ प्यारा और सील भी नही टूटी थी अभी तक.
फिर मैने उसकी चुत को चाटना शुरू किया और वो एक दम मदहोश होती जा रही थी और उसके मूह से आह्ह्ह आह्ह आह्ह उनन्ं, की आवाज़े आने लगी और जब भी मैं उसके दाने के उपर अपनी जीभ चलाता तो वो मचल उठती.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!