सेक्सी नौकरानी के साथ लिया थ्रीसम का मज़ा

ही दोस्तों, मैं हू वरुण बंगलोरे से. मैं 25 साल का हू, और मेरी हाइट 5’10” है. मेरी बॉडी भी अची है. चलिए अब कहानी की तरफ बढ़ते है.

मैं वीकेंड पर अपनी आंटी के यहा जेया रहा था, क्यूंकी वो बुद्धि और बीमार थी. देर रात मैं उनके घर पहुँचा. उन्होने मेरा स्वागत किया और मुझे खाना दिया. खाना बहुत स्वादिष्ट था, और मैने उनसे पूछा की क्या ये उन्होने बनाया था.

उन्होने किचन की तरफ इशारा करते हुए कहा की उनकी नौकरानी ने बनाया था. फिर मैं उधर गया कॉंप्लिमेंट देने, और उसको देखते ही मेरा मूह खुला का खुला रह गया. नौकरानी का रंग सावला था, लेकिन वो क्यूट थी. वो पतली थी, लेकिन उसकी बॉडी सेक्सी थी, जिससे मेरा सख़्त हो गया.

मैने कुछ देर तक उसको घूरा, लेकिन उसको इससे शरम नही आ रही थी. फिर मैने उसको कहा की खाना बहुत अछा था. ये सुन कर उसके चेहरे पर मुस्कुराहट आ गयी. उसका नाम शीला था. उसके चेहरे की एक साइड से पसीना बह रहा था, और वो अपने काम पर दोबारा लग गयी.

फिर मैं लिविंग रूम में वापस गया, और अपनी आंटी से बातें करने लगा. लेकिन मैं नौकरानी के बारे में ही सोचे जेया रहा था. मैं बहुत हॉर्नी महसूस कर रहा था. मुझे अपना लंड हल्का करने की ज़रूरत थी. अब मेरी आंटी का सोने का वक़्त हो गया था, और शीला उनको लेने आई थी.

जाते हुए शीला ने मूड कर पीछे देखा. मुझे उस औरत को छोड़ना था, लेकिन मेरी आंटी के होते हुए ये नामुमकिन सा लग रहा था. इसलिए मैने सोने का सोचा. तभी शीला मेरे लिए कुछ चादर लेके आई, और उनके बेड पर रख दिया. जाते हुए उसने फिरसे मुझे देखा. उसने मुझे “गुड नाइट” कहा और चली गयी.

फिर मैने लाइट्स बंद होने का इंतेज़ार किया, और फिर अपना लॅपटॉप ओं किया. मैं अलग-अलग पॉर्न साइट्स पर गया, लेकिन मुझे मज़ा नही आ रहा था. फिर मैने ग़लती से एक आड़ पर क्लिक कर दिया, जो मुझे एक नयी वेबसाइट पर ले गयी, जहा पर हॉट और सेक्सी इंडियन लड़कियाँ आपके लिए कुछ भी करने को रेडी थी. अपनी हालत को देखते हुए मैने एक बार ट्राइ करने का सोचा.

मैने तब तक स्क्रोल किया जब तक की मुझे भावना नाम की एक सेक्सी औरत नही मिली. भावना पूरी रंडी लग रही थी, साथ में मासूम भी थी. और ये मुझे बहुत अछा लगा. मैने अपना अकाउंट बनाया, और कुछ क्रेडिट्स खरीदे, ताकि मैं उसके साथ मज़ा कर पौ. फिर मैने उसको ऑनलाइन आने का इन्विटेशन भेजा. उसने मेरा इन्विटेशन आक्सेप्ट किया, और कुछ ही देर में ऑनलाइन आ गयी.

भावना ने पिंक लेगैंग्स और एक टाइट जिम टांक-टॉप पहनी थी. उसकी बॉडी पसीने से थोड़ी गीली थी, और वो बॉटल से ठंडा पानी पी रही थी. पाने पीते हुए कुछ पानी की बूंदे मूह की साइड से निकल कर उसकी बॉडी पर बह रही थी. मेरा लंड अभी से खड़ा हो रहा था.

भावना (साँस ली): सॉरी मुझे बहुत पसीना आया हुआ है. बेबी मैं अभी वर्काउट करके आई हू (बोलते हुए वो तेज़ साँसे ले रही थी).

मे: क्यूँ ना तुम मुझे अपने बड़े बूब्स दिखाओ. मैं देखना चाहता हू की इस टॉप के नीचे उन पर कितना पसीना है.

भावना हस्सी, और मेरे लिए अपना टॉप उपर खींचा. उसके निपल्स हार्ड थे. उसने पानी की बॉटल उठाई, और उसको अपने निपल्स पर रगड़ने लगी. वो और सख़्त हो गये, और उसने अपनी उंगलियों के बीच लेके उनको मसला. फिर उसने अपना होंठ काटा, और मेरी तरफ देखा. मैने अपनी पंत उतरी, और मेरा लंड स्क्रीन पर दिखने लगा.

उसने आयेज होके कॅमरा को ऐसे लीक किया, जैसे मेरे लंड को लीक कर रही हो. फिर मैने लंड हल्के-हल्के हिलना शुरू कर दिया. उसने अपनी टाइट लेगैंग्स में हाथ डाला, और अपनी छूट रगड़ते हुए मोन करने लगी. उसकी छूट वाली जगह पर गीला-पन्न दिखने लगा था.

फिर मैने उसको लेगैंग्स उतार कर अपनी जुवैसी छूट दिखाने को कहा, और वो कपड़े उतारने लगी. तभी मुझे हॉल की तरफ से कुछ आवाज़ आई. भावना ने मोन किया, और मैं उसको चुप रहने का इशारा करके चेक करने गया. मुझे लगा वो आंटी की आवाज़ थी, लेकिन वो खर्राटे भर रही थी.

किचन की लाइट ओं थी, तो मैने दरवाज़े के पीछे देखा. मैने मोन की आवाज़ सुनी, और दूसरी तरफ शीला खड़ी थी. उसका एक हाथ उसके मूह में था, और दूसरा उसकी गीली पनटी के अंदर था. वो कुटिया फिंगरिंग कर रही थी. मैने इसे उसको अपने साथ इन्वॉल्व करने के मौके की तरह देखा.

मैं उसके सामने गया, और वो चुप-छाप खड़ी रही. अब हम किचन की दीं लाइट में एक-दूसरे को देख रहे थे. ये एक नॉर्मल बात थी की हम दोनो में से कोई भी पीछे नही हटा. मैं उसकी तरफ बढ़ा, और वो पीछे वाले काउंटर से चिपक गयी. फिर मैने बिना बोले उसकी कमर में हाथ डाला, और उसको अपने साथ चिपका लिया.

मैने उसकी गर्दन को चाट-ते हुए उसकी गांद दबाई, और उसने मेरे बालों में अपनी साँस छ्चोढी. उसने मेरे कान में मोन किया, और मैने उसको घुमा लिया. फिर उसने अपना होंठ काटा, और पीछे मेरी आँखों में देखने लगी, क्यूंकी मैं उसकी पनटी के अंदर जेया कर उसकी छूट रगड़ने लगा था.

उसने मेरे उपर के होंठ को किस किया, और मैने उसकी जीभ छाती, और फिर उसको अपनी तरफ घुमा लिया. फिर मैने उसकी गीली पनटी से अपना हाथ बाहर निकाला, और दो उंगलियाँ उसके मूह में डाल दी. वो मुझे हैरानी से देखने लगी, और मैने उसको डीप किस किया.

मे (फुसफुसते हुए): चलो मेरे रूम में चल कर चुदाई करते है.

शीला (मेरे कान को हल्के से काट-ते हुए): ओक (और किस करती रही).

फिर मैने अपने कमरे में जाके भावना को सर्प्राइज़ गेस्ट के बारे में बताया. भावना एग्ज़ाइटेड हो गयी. वो स्क्रीन पर थी, और उसकी लेगैंग्स उसके घुटनो तक थी. उसकी गोरी टांगे दिख रही थी, और वो अपनी छूट में उंगली लिए हुए हमे देख रही थी.

शीला: ये कों है?

मे: मैने इसको हमारी चुदाई देखने के किए पे किया है. क्या मैं इसको जाने को काहु?

शीला ने भावना को उत्तेजना से फिंगरिंग करते देखा. मैने शीला को भी नीचे से नंगा कर दिया, और उसने मुझे रोका नही. फिर मैने उसकी छूट पर हाथ रखा, और उसने मोन किया. मैने उसकी पनटी को उसके घुटनो से नीचे कर दिया, और उसकी साँसे तेज़ हो गयी.

भावना: ओह मी गोद! तुम इसको मेरे सामने छोड़ने वाले हो?

शीला: मुझे यकीन नही हो रहा मैं ये कर रही हू.

मे (उसकी जांघों पर किस करते हुए): क्या मैं रुक जौ शीला (किस करते हुए)?

उसने साँस ली, और मेरा मूह अपनी छूट की तरफ दबाया. फिर मैने उसकी बहती छूट को आराम से लीक किया. भावना ने शीला को देखते हुए अपनी फिंगरिंग की स्पीड बढ़ा दी. फिर मैने अपना तोड़ा ही लंड शीला की छूट में डाला, जिससे उसकी आँखें उपर चढ़ गयी, और मूह से गहरी आहह निकली. फिर पूरा लंड अंदर डालते हुए मैने उसकी टॉप उतार दी.

भावना: ओह मी गोद! तुम्हारे निपल्स बहुत क्यूट है.

शीला: फक! तुम्हारी छूट बहुत गीली है. छोड़ो मुझे, जल्दी करो.

फिर मैने शाइला के मूह में उसकी टॉप डाल दी, और लंड चलाने लगा. भावना ने भी मोन करते हुए अपनी छूट में उंगलियाँ डाल ली, और सेम रिदम में चलाने लगी. शीला की छूट बड़ी सॉफ्ट, और जुवैसी थी. उसको अंधेरे में सिर्फ़ लॅपटॉप की ब्लू लाइट में छोड़ते हुए मेरी आहें निकल रही थी. छोड़ते हुए मैं आहे हुआ, और उसकी गर्दन को छाता, और बाल खींच कर चुदाई करता रहा.

शीला: हा छोड़ो, हा ज़ोर से!

भावना: छोड़ो उसको, पापा!

शीला: हा छोड़ो मुझे पापा!

मैं अब और खुद को नही रोक पाया. मेरा लंड अपने चरम पर था, और उसको मैने उसकी छूट की गहराई में उतार दिया. उसकी पसीने से भारी सेक्सी बॉडी को देख कर कंट्रोल करना बहुत मुश्किल था. उसने पीछे देखा और मोन करते हुए मुझे किस किया. फिर मैने उसकी छूट की गहराई में अपना माल भर दिया, और उसने आहें भरते हुए मेरे लिप्स चूज़.

फिर मैने बाहर निकाला, और माल मेरे लंड से अभी भी निकल रहा था. शीला घूम गयी, और उसने भावना को माल से सन्नी हुई अपनी छूट दिखाई. भावना ने माल देखते हुए अपनी छूट को और ज़ोर से रगड़ना शुरू किया.

भावना: फक! ये बहुत सेक्सी है! मुझे भी ऐसे ही अपने माल से भर दो आ.

भावना की बॉडी झटके मारने लगी, और हमे देखते हुए उसकी छूट का पानी निकालने लगा. मैने शीला को किस किया, और हम दोनो हेस्ट हुए पसीने वाली बॉडीस से कड्ड्ल करने लगे, अंधेरे कमरे में. भावना ने हमे इतने तगड़े ऑर्गॅज़म के लिए थॅंक योउ कहा, और चली गयी.

शीला ने फिरसे मेरे मूह पर आ भारी, और मुझे किस करने मेरी बाहों में सो गयी. हम सुबा जल्दी उठ गये, और एक बार फिरसे ज़ोरदार चुदाई की. अब ड्सcघिर्ल्स.लिव वेबसाइट पर कॉल करना हम दोनो की आदत बन गयी है.

यह कहानी भी पड़े  भाभी मई और सेठी साहब


error: Content is protected !!